Home संस्मरण …नकली चेहरा सामने आए, असली सूरत छुपी रहे : संदर्भ NDTV

…नकली चेहरा सामने आए, असली सूरत छुपी रहे : संदर्भ NDTV

SHARE

गुरुवार 6 अक्‍टूबर को एनडीटीवी पर बरखा दत्‍त द्वारा पी. चिदंबरम का लिया साक्षात्‍कार न चलाए जाने और राष्‍ट्रीय सुरक्षा संबंधी एक आंतरिक ईमेल की ख़बर जब सिद्धार्थ वरदराजन ने दि वायर पर चलाई, तो चैनल के दर्शकों को हैरत होना स्‍वाभाविक बात थी। दरअसल, एनडीटीवी की पहचान उसके संपादकीय कंटेंट से होती रही है और सामान्‍य विवेकवान व उदारमना दर्शकों के बीच उसकी विश्‍वसनीयता भी इसी वजह से कायम है कि उसने टीआरपी की होड़ में कभी भी निष्‍पक्षता से प्रत्‍यक्षत: समझौता नहीं किया। इस चेहरे के पीछे हालांकि जो दिक्‍कतें हैं, उनसे दर्शकों का वास्‍ता इसलिए नहीं पड़ता क्‍योंकि कारोबारी दुनिया की ख़बरें एक तो अंग्रेज़ी में लिखी जाती हैं। दूसरे, मीडिया के भीतर मीडिया का परदाफाश करने का कोई चलन नहीं रहा है (हालांकि इधर बीच यह बढ़ा है)।

मीडियाविजिल विभिन्‍न प्रकाशित स्रोतों से अपने पाठकों तक एनडीटीवी के संदर्भ में तमाम विवादों को हिंदी में इस श्रृंखला के अंतर्गत पहुंचा रहा है। इसका उद्देश्‍य एनडीटीवी को किसी कठघरे में खड़ा करना नहीं है, न ही इसके पीछे कोई प्रच्‍छन्‍न मंशा है। इसका सीधा सा उद्देश्‍य यह है कि आम दर्शक एक सौम्‍य संपादकीय चेहरे के पीछे की हकीकत को जान-समझ सके और मीडिया के बारे में उसकी समग्र समझदारी विकसित हो सके।



एनडीटीवी चूंकि सबसे पुराना नेटवर्क है, लिहाजा इससे जुड़े विवाद भी उतने ही पुराने हैं। इसकी एक झलक हमें आज से करीब बीस साल पहले 1997 में मिलती है जब एक संसदीय कमेटी ने दूरदर्शन की वित्‍तीय जांच की थी और पाया था कि एनडीटीवी के साथ किए गए सौदों में ”अनियमितताएं” मौजूद थीं- खासकर दूरदर्शन की प्रौद्योगिकी तक कंपनी को दी गई पहुंच के मामले में और उन विज्ञापन रों के मामले में जो उसे लेने की छूट दी गई थी। केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो ने 1998 में पहली बार एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय और दूरदर्शन के अफसरों के खिलाफ़ एक एफआइआर दर्ज की थी जिनमें 1993 से 1996 के बीच दूरदर्शन के महानिदेशक रहे रतिकांत बसु भी शामिल थे। इस मामले में सीबीआइ ने 2013 में अदालत के समक्ष क्‍लोज़र रिपोर्ट दाखिल कर दी थी जिसे अदालत ने मंजूर कर लिया और मुकदमे में लगे सभी आरोपों से सभी को बरी कर दिया।

यह शुरुआती फिसलन बाद के दिनों की आहट थी जिसने एनडीटीवी के स्‍वामित्‍व को लेकर काफी विवाद खड़ा किया जो आज तक कायम है। जुलाई 2009 में रिलायंस इंडस्‍ट्रीज़ लिमिटेड (आरआइएल) से जुड़ी एक कंपनी विश्‍वप्रधान कॉमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड ने बिना किसी ब्‍याज के एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय, उनकी पत्‍नी राधिका रॉय और इनकी प्राइवेट होल्डिंग कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड को 350 करोड़ :पये का कर्ज दिया। यह कर्ज की शक्‍ल में कंपनी को कर्ज के संकट से मुक्ति दिलाकर उसके स्‍वामित्‍व के ऊपर कब्‍ज़ा करने की कवायद थी।

इस कर्ज का इकलौता उद्देश्‍य रॉय दंपत्ति द्वारा लिए गए एक बैंक के कर्ज को चुकाना था। 21 जुलाई 2009 को हसताक्षरित समझौते के तहत रॉय द‍ंपत्ति को एक परिवर्तनीय वॉरंट जारी करना था जो ”परिवर्तन के समय लेनदारों (रॉय दपंत्ति और आरआरपीआर होल्डिंग्‍स) की पूर्ण शेयर पूंजी” के 99.9 फीसदी के बराबर होता और उसके बदले में अम्‍बानी समूह ने अपनी शेयरधारिता को 26 फीसदी तक सीमित करने की सहमति दी थी।

इस समझौते में कुछ ऐसे प्रावधान थे जिनके सहारे अम्‍बानी ने प्रभावी तरीके से कंपनी का स्‍वामित्‍व अपने हक़ में कर लिया।

1. समझौते का उपबंध 6 वॉरंट की बात करता है, जिसमें कहा गया है कि ”देनदार (अम्‍बानी) की मर्जी पर” वॉरंट को शेयरों में तब्‍दील किया जा सकता है ”कर्ज अवधि के किसी भी वक्‍त या उसके बाद जिसमें देनदार की ओर से आगे किसी और कार्रवाई या समझौते की ज़रूरत नहीं होगी”। एक ऐसा समझौता जो देनदार को कर्ज की अवधि समापत होने के बाद भी वॉरंट को शेयरों में तब्‍दील करने की छूट देता हो, बिक्री समझौते के अलावा और कुछ नहीं हो सकता।

2. य‍ह कर्ज वास्‍तव में कंपनी की बिक्री है, इसका एक और संकेत उपबंध 11 से मिलता है, जो कहता है कि देनदार आरआरपीआर में केवल तीन निदेशक होंगे। इनमें एक को लेनदार यानी अम्‍बानी नामित करेगा। इतना ही नहीं, अगर यह निदेशक हर बोर्ड मीटिंग में मौजूद नहीं रहा तो कोरम अधूरा समझा जाएगा। ज़ाहिर तौर पर एक समझौता यह भी किया गया कि देनदार एनडीटीवी की संपादकीय नीतियों में दख़ल नहीं देगा, लेकिन यह सोचने वाली बात है कि ऐसा कैसे प्रभावी होगा।

3. उपबंध 9 कहता है कि अगले तीन से पांच साल तक अम्‍बानी समूह औश्र आरआरपीआर एक ‘स्थिर’ और ‘विश्‍वसनीय’ खरीददार की तलाश आरआरपीआर के लिए करेगा जो ”एनडीटीवी के ब्रांड और विश्‍वसनीयता को कायम रख सके”। पांच साल से ज्‍यादा बीत चुके हैं, इसीलिए इस होल्डिंग की संभावित बिक्री की चर्चा पिछले साल से हो रही है जो कि एनडीटीवी के स्‍वामित्‍व के लिहाज से अहम है।

4. कुछ और दिक्‍कतें हैं। मसलन, विश्‍वप्रधान कॉमर्शियल्‍स की ओर से समझौते पर दस्‍तखत श्री केबआर राजा ने किए थे। श्री राजा वही शख्‍स हैं जिनके कॉरपोरेट लॉबीस्‍ट नीरा राडिया के फोन पर हुए संवादों के कारण जून 2011 में रिलायंस इंडस्‍ट्रीज को तत्‍कालीन गृहमंत्री पी. चिदंबरम के समक्ष माफीनामा जारी करना पड़ा था। राजा का नाम न्‍यूज़ एक्‍स में हिस्‍सेदारी की आरआइएल द्वारा खरीद के संबंध में भी सामने आता है , जिसकी जांच सीरियस फ्रॉड इनवेस्टिगेशन ऑफिस (एसएफआइओ) ने की थी। इस पर मीडिया वेबसाइट दि हूट ने ख़बर की थी।

5. हर कोई जानता है कि कर्ज सौदे का लेना-देना ब्‍याज से होता है, मूल्‍यांकन से नहीं। यह सौदा हालांकि इस मामले में भिन्‍न है क्‍योंकि अनुसूची 3(2) और उपबंध बी, सी और डी का ताल्‍लुक एनडीटीवी और एनडीटीवी समूह के साथ है जिसे अम्‍बानी की कंपनी द्वारा ”पूर्व लिखित मंजूरी” की दरकार होगी। इसमें समूह का न्‍यूनतम मूल्‍यांकन 1346 करोड़ पर किया गया है और इससे नीचे की किसी भी कॉरपोरेट कार्रवाई को देनदार की अनुमति की जरूरत होगी।

6. ये प्रावधान स्‍पष्‍ट करते हैं कि एनडीटीवी के प्रवर्तक अम्‍बानी की मंजूरी के बगैर तकरीबन कुछ भी अपने मन से नहीं कर सकते हैं। चूंकि भारत के प्रत्‍याभूमि विनिमय बोर्ड (सेबी) ने पिछले साल एनडीटीवी पर आयकर के नोटिस के जवाब की घोषणा में चूकने पर दो करोड़ का जुर्माना लगाया था, लिहाजा इस समझौते में क्‍या-क्‍या अघोषित है, वह कहीं ज्यादा गंभीर जान पड़ता है।

(जारी)

Source:

The Caravan

www.moneylife.in 

www.newslaundry.com

 

25 COMMENTS

  1. Hello! I know this is somewhat off topic but I was wondering which blog platform are you using for this site? I’m getting sick and tired of WordPress because I’ve had problems with hackers and I’m looking at alternatives for another platform. I would be awesome if you could point me in the direction of a good platform.

  2. I’ve been exploring for a bit for any high quality articles or blog posts on this sort of area . Exploring in Yahoo I at last stumbled upon this website. Reading this info So i am happy to convey that I’ve a very good uncanny feeling I discovered just what I needed. I most certainly will make sure to do not forget this site and give it a look on a constant basis.

  3. Hey there, You’ve done an incredible job. I will certainly digg it and personally suggest to my friends. I am confident they’ll be benefited from this website.

  4. I am very happy to read this. This is the kind of manual that needs to be given and not the accidental misinformation that’s at the other blogs. Appreciate your sharing this greatest doc.

  5. We are a group of volunteers and opening a brand new scheme in our community. Your site provided us with helpful info to work on. You have done a formidable task and our whole neighborhood shall be grateful to you.

  6. Awesome blog! Do you have any suggestions for aspiring writers? I’m planning to start my own site soon but I’m a little lost on everything. Would you advise starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many choices out there that I’m completely overwhelmed .. Any suggestions? Thank you!

  7. Hello, you used to write great, but the last several posts have been kinda boring… I miss your great writings. Past few posts are just a little out of track! come on!

  8. Great goods from you, man. I’ve understand your stuff previous to and you are just extremely fantastic. I actually like what you’ve acquired here, really like what you’re stating and the way in which you say it. You make it entertaining and you still take care of to keep it smart. I cant wait to read far more from you. This is really a wonderful site.

  9. I found your blog website on google and check several of your early posts. Continue to maintain up the incredibly great operate. I just extra up your RSS feed to my MSN News Reader. Seeking forward to reading much more from you later on!

  10. Generally I do not read article on blogs, but I wish to say that this write-up very forced me to try and do it! Your writing style has been amazed me. Thanks, very nice post.

  11. Howdy I am so grateful I found your blog, I really found you by error, while I was researching on Bing for something else, Anyhow I am here now and would just like to say thanks a lot for a marvelous post and a all round entertaining blog (I also love the theme/design), I donít have time to browse it all at the minute but I have bookmarked it and also added your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a lot more, Please do keep up the fantastic work.

  12. Nice post. I learn one thing extra difficult on various blogs everyday. It’s going to generally be stimulating to read content from other writers and practice slightly one thing from their store. I’d prefer to use some using the content on my blog whether or not you don’t thoughts. Natually I’ll provide you with a link in your web blog.

  13. I have been absent for some time, but now I remember why I used to love this website. Thank you, I will try and check back more frequently. How frequently you update your website?

  14. Ive by no means read anything like this prior to. So nice to locate somebody with some original thoughts on this topic, really thank you for beginning this up. this web site is one thing which is required on the net, an individual having a small originality. helpful job for bringing something new towards the internet!

  15. Hello, you used to write fantastic, but the last several posts have been kinda boring… I miss your super writings. Past several posts are just a bit out of track! come on!

  16. Ive never read anything like this just before. So nice to locate somebody with some original thoughts on this subject, really thank you for beginning this up. this web site is some thing which is needed on the net, somebody with a small originality. useful job for bringing one thing new to the internet!

  17. Hmm it seems like your site ate my first comment (it was super long) so I guess I’ll just sum it up what I wrote and say, I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog blogger but I’m still new to everything. Do you have any tips and hints for first-time blog writers? I’d genuinely appreciate it.

  18. hello!,I like your writing very much! share we communicate more about your post on AOL? I need an expert on this area to solve my problem. May be that’s you! Looking forward to see you.

LEAVE A REPLY