Home अख़बार TOI का नागपुरिया इंटेलिजेंस: CPI, CPI(M), NAPM, NBA, NGO’s- सब नक्‍सलियों के...

TOI का नागपुरिया इंटेलिजेंस: CPI, CPI(M), NAPM, NBA, NGO’s- सब नक्‍सलियों के ‘फ्रंटल संगठन’ हैं!

SHARE

टाइम्‍स ऑफ इंडिया में आज यानी 8 जुलाई को नागपुर की डेटलाइन से एक भ्रामक ख़बर छपी है। खबर अहमदाबाद में ”जल, जंगल, ज़मीन” पर अगले सप्‍ताह होने वाले एक राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन से जुड़ी है जिसे इंटेलिजेंस स्रोतों के आधार पर रिपोर्टर सौमित्र बोस ने नक्‍सलियों के ”फ्रंटल समूहों” द्वारा आयोजित करार दिया है। दिलचस्‍प यह है कि इस सम्‍मेलन में शामिल तमाम समूह और संगठन दरअसल उस ”भूमि अधिकार आंदोलन” का हिस्‍सा हैं जिसने दिल्‍ली समेत देश भर में भू-अधिग्रहण अध्‍यादेश का विरोध किया था जिसके चलते मोदी सरकार को यह अध्‍यादेश वापस लेने को मजबूर होना पड़ा था। इन संगठनों में भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी और मार्क्‍सवादी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के किसान संगठन, नर्मदा बचाओ आंदोलन, जनांदोलनों का राष्‍ट्रीय समन्‍वय (एनएपीएम), भारतीय किसान यूनियन, समाजवादी समागम समेत कई ऐसे एनजीओ शामिल हैं जो व्‍यावहारिक और सैद्धांतिक स्‍तर पर नक्‍सलियों की राजनीति से न केवल विरोध रखते हैं बल्कि कुछ ने तो अपने-अपने काम के इलाकों में नक्‍सलियों के खिलाफ़ सरकारी नीतियों तक का समर्थन किया है।

सौमित्र बोस द्वारा लिखी गई यह ख़बर इसलिए भी दिलचस्‍प है क्‍योंकि आयोजन अहमदाबाद में होना है जबकि ख़बर नागपुर से फाइल की गई है और महाराष्‍ट्र के गुप्‍तचर स्रोतों का इसमें हवाला दिया गया है। पढकर साफ़ दिख रहा है कि यह ख़बर प्‍लांटेड है। नीचे यह ख़बर देखें:

Times of India 08.07.2016

ख़बर कहती है कि ”गुप्‍तचर एजेंसियों के माध्‍यम से हाथ लगा एक दस्‍तावेज बताता है कि गुजरात स्थित एक संगठन ने देश भर के बिरादराना संगठनों से भूमि अधिग्रहण, एफडीआइ, कॉरपोरेट के हित कुदरती संसाधनों की लूट व वंचितों और मजदूरों की बदहाली के मसलों पर राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में शामिल होने का न्‍योता दिया था…।” दरअसल, इसके लिए किसी गुप्‍तचर एजेंसी के दस्‍तावेज़ की ज़रूरत ही नहीं थी क्‍योंकि इस सम्‍मेलन का आमंत्रण करीब दस दिन पहले से ही भूमि अधिकार आंदोलन” की ओर से खुले में सर्कुलेट हो रहा है जिसे कुछ वेबसाइटों ने प्रकाशित भी किया है।

”जल-जंगल-ज़मीन-जनतंत्र की रक्षा में जनसंघर्षों का राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन” जो 16 से 18 जुलाई के बीच अहमदाबाद के गुजरात विद्यापीठ में आयोजित होना है, उसके स्‍थानीय आयोजकों में प्रसिद्ध सामाजिक-सांस्‍कृतिक कार्यकर्ता हीरेन गांधी का नाम है जो शहर में दर्शन नामक एक सांस्‍कृतिक संगठन चलाते हैं। जनसंघर्षों की खबरें देने वाली वेबसाइट संघर्ष संवाद पर 30 जून को प्रकाशित भूमि अधिकार आंदोलन के आमंत्रण में शामिल सह-आयोजकों के नामों को टाइम्‍स ऑफ इंडिया द्वारा ”नक्‍सलियों के फ्रंटल संगठन” करार दिया जाना ख़बर की असली मंशा पर सवाल उठाताा है। आयोजन के सह-आयोजक निम्‍न हैं:

जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय (एनएपीएम), अखिल भारतीय किसान सभा (36 केनिंग लेन), अखिल भारतीय वन श्रमजीवी यूनियन, अखिल भारतीय किसान सभा (अजॉय भवन), भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक असली), अखिल भारतीय कृषक खेत मजदूर संगठन, जन संघर्ष समन्वय समिति, इन्साफ, अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन, नर्मदा बचाओ आन्दोलन, किसान संघर्ष समिति, छत्तीसगढ़ बचाओ आन्दोलन, माइन मिनरल एंड पीपुल्स (एमएमपी), मध्य प्रदेश आदिवासी एकता महासभा, समाजवादी समागम, किसान मंच, विन्ध्य जन आन्दोलन समर्थक समूह, लोक संघर्ष मोर्चा, संयुक्त किसान संघर्ष समिति, दर्शन, गुजरात सोशल वाच, पर्यावण मित्र, गुजरात किसान संगठन, आदिवासी एकता विकास आंदोलन, लोक कला मंच, स्वाभिमान आंदोलन, गुजरात लोक समिति, और अन्य जन संगठन

जनवादी राजनीति और एनजीओ के दायरे में परिचित कोई भी व्‍यक्ति दावे के साथ कह सकता है कि उपर्युक्‍त में से किसी भी संगठन का नक्‍सली राजनीति के साथ न अतीत में कोई लेना-देना रहा है और न अब है। इसके उलट, बंगाल में वाम मोर्चे की सरकार में शामिल सीपीएम और सीपीआइ ने तो बाकायदा नक्‍सलियों के खिलाफ अभियान चलाया था, जिनके अपने-अपने किसान संगठन ऊपर की सूची में दिखाई दे रहे हैं। नर्मदा बचाओ आंदोलन, एनएपीएम, समाजवादी समागम आदि समूह गांधीवादी और समाजवादी राजनीति से ताल्‍लुक रखते हैं।

ख़बर में लिखा गया है कि अहमदाबाद के संगठन द्वारा जो आमंत्रण बाकी संगठनों को भेजा गया है, उसकी प्रति टाइम्‍स ऑफ इंडिया के पास है। इससे ज्‍यादा हास्‍यास्‍पद बात और कुछ हो ही नहीं सकती क्‍योंकि न तो यह आयोजन गुप्‍त है और न ही इसका आमंत्रण कोई गोपनीय दस्‍तावेज़ है। ख़बर में आमंत्रण से जो ‘एक्‍सक्‍लूसिव’ पंक्ति उद्धृत की गई है, वह संघर्ष संवाद पर प्रकाशित आमंत्रण में हिंदी में यह है: ”गुजरात देश के सबसे बड़े समुद्र तटीय क्षेत्र वाले राज्यों में से एक है। इस पूरे तटीय क्षेत्र में थर्मल पावर प्लांट व रसायनिक संयंत्र को मंजूरी देकर इस क्षेत्र के पर्यावरण व मछुआरा समुदाय की आजीविका को समाप्त कर दिया गया है।” ज़ाहिर है, गोपनीयता और इंटेलिजेंस स्रोत का इससे बड़ा मज़ाक और कुछ नहीं हो सकता कि जिस आयोजन के बारे में दस दिन से इंटरनेट पर सामग्री उपलब्‍ध है, उसे देश के सबसे बड़े अख़बार का प्रतिनिधि गुप्‍तचर स्रोत से हासिल बताकर दस दिन बाद छाप रहा है।

ज्‍यादा चिंताजनक हालांकि खबर की प्रस्‍तुति है जिसमें हाथ में बंदूक लिए हुए एक नकाबपोश की तस्‍वीर बीच में चिपका दी गई है जिसके पीछे हंसिया-हथौड़े का चिह्न दिख रहा है। ख़बर का शीर्षक कहता है, ”Naxal fronts bring their fight to Gujarat: To hold Meet against Modi Govt Policies”. इसे पढ़ने पर एक नजर में ऐसा आभास होता है कि नक्‍सली अब गुजरात में घुस गए हैं और वहां कोई गोपनीय बैठक करने जा रहे हैं। भीतर पढने पर हालांकि ख़बर का फर्जीवाड़ा खुल जाता है।

सवाल उठता है कि टाइम्‍स ऑफ इंडिया द्वारा इस फर्जी ख़बर को कथित रूप से गुप्‍तचर स्रोतों से छापने का असली मकसद क्‍या है। क्‍या टाइम्‍स ऑफ इंडिया यह मानता है कि किसानों की, मज़दूरों की, मछुआरों की, गरीबों की, दलितों की बात करना नक्‍सलवाद है? क्‍या उसे गांधीवाद, समाजवाद, दलितवाद, आदि तमाम विचार नक्‍सलवाद के संस्‍करण लगते हैं? अगर नहीं, तो फिर सौमित्र बोस द्वारा लिखी गई यह ख़बर विशुद्ध दलाली है। संघ के नागपुर मुख्‍यालय और उसके इंटेलिजेंस की घुटनाटेक दलाली।

 

24 COMMENTS

  1. Great post. I used to be checking constantly this blog and I’m inspired! Extremely helpful info specially the remaining section 🙂 I deal with such info much. I used to be seeking this particular info for a very long time. Thank you and best of luck.

  2. A lot of thanks for your whole efforts on this web page. Kim enjoys getting into investigations and it’s really simple to grasp why. A lot of people hear all concerning the powerful ways you present invaluable solutions by means of the blog and encourage participation from the others on this matter so my child is certainly starting to learn so much. Enjoy the remaining portion of the year. Your carrying out a superb job.

  3. We are a group of volunteers and opening a new scheme in our community. Your website offered us with valuable information to work on. You have done a formidable job and our entire community will be grateful to you.

  4. Hi there! I just wanted to ask if you ever have any problems with hackers? My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing many months of hard work due to no backup. Do you have any methods to stop hackers?

  5. Hey there! I know this is kinda off topic however , I’d figured I’d ask. Would you be interested in trading links or maybe guest writing a blog article or vice-versa? My site covers a lot of the same topics as yours and I believe we could greatly benefit from each other. If you might be interested feel free to send me an email. I look forward to hearing from you! Terrific blog by the way!

  6. Very nice post. I just stumbled upon your weblog and wanted to say that I have truly enjoyed browsing your blog posts. After all I will be subscribing to your feed and I hope you write again soon!

  7. Excellent website. Plenty of helpful info here. I’m sending it to some buddies ans additionally sharing in delicious. And of course, thank you in your sweat!

  8. This is the appropriate blog for anybody who desires to search out out about this topic. You realize a lot its almost laborious to argue with you (not that I really would want…HaHa). You positively put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Nice stuff, simply great!

  9. fantastic post, very informative. I wonder why the other specialists of this sector do not notice this. You should continue your writing. I’m sure, you have a great readers’ base already!

  10. After I originally commented I clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and now every time a comment is added I get 4 emails with the same comment. Is there any way you may take away me from that service? Thanks!

  11. Hi there I wanted to give you a quick heads up. The text in your post seem to be running off the screen in Opera. I’m not sure if this is a formatting issue or something to do with web browser compatibility but I figured I’d comment to let you know. The layout look great though! Hope you get the issue resolved soon. Cheers!

  12. I’m truly enjoying the design and layout of your website. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a developer to create your theme? Great work!

  13. Thanks for sharing superb informations. Your site is so cool. I’m impressed by the details that you have on this website. It reveals how nicely you understand this subject. Bookmarked this website page, will come back for extra articles. You, my friend, ROCK! I found just the info I already searched all over the place and simply could not come across. What an ideal web site.

  14. I will immediately snatch your rss feed as I can’t find your e-mail subscription link or e-newsletter service. Do you have any? Kindly allow me know in order that I may subscribe. Thanks.

  15. certainly like your web site but you have to check the spelling on quite a few of your posts. Many of them are rife with spelling issues and I find it very troublesome to tell the truth nevertheless I’ll definitely come back again.

  16. hey there and thanks to your info – I have definitely picked up something new from proper here. I did then again experience some technical issues using this web site, as I skilled to reload the website a lot of times previous to I may just get it to load correctly. I had been pondering if your web host is OK? Now not that I’m complaining, however sluggish loading instances instances will sometimes have an effect on your placement in google and can harm your high-quality score if advertising with Adwords. Well I’m adding this RSS to my email and can glance out for a lot extra of your respective exciting content. Make sure you replace this again soon..

  17. Attractive component to content. I just stumbled upon your weblog and in accession capital to say that I get in fact enjoyed account your weblog posts. Any way I will be subscribing on your feeds or even I success you get entry to consistently fast.

  18. Nice weblog here! Additionally your website rather a lot up fast! What host are you the use of? Can I am getting your affiliate hyperlink for your host? I want my site loaded up as fast as yours lol

LEAVE A REPLY