Home अख़बार किसानों पर कोड़ा चलाते ‘मोदी की तस्वीर’ हिंदुस्तान अंग्रेज़ी में छपी, हिंदी...

किसानों पर कोड़ा चलाते ‘मोदी की तस्वीर’ हिंदुस्तान अंग्रेज़ी में छपी, हिंदी में नहीं !

SHARE

क़र्ज़माफ़ी की माँग को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर बैठे तमिलनाडु के किसानों ने अपनी रचनात्मकता के ज़रिये मीडिया को तवज्जो देने के लिए मजबूर कर दिया है। 18 अप्रैल को को उनमें से एक ने प्रधानमंत्री मोदी का रूप धरकर बाकी को कोड़ों से पीटने का अभिनय किया। यह केंद्र सरकार की संवेदनहीनता दर्शाने का एक तरीक़ा था और राजनीतिक रूप से शायद सबसे तीखी टिप्पणी।

20 अप्रैल को दिल्ली से निकलने वाले हिंदुस्तान टाइम्स में बॉटम ख़बर की तस्वीर यही प्रधानमंत्री के कोड़ा चलाने वाली थी। लेकिन इसी अख़बार के हिंदी संस्करण में इस तस्वीर का ज़िक्र ही नहीं। यह तो संभव नहीं कि संपादक शशि शेखर की मेज़ पर यह तस्वीर पहुँची ना हो,लेकिन इसे छापने की हिम्मत वे नहीं कर पाए। वैसे भी सारा ‘खेल’ हिंदी का है जिसे बोलने वालों के बीच मोदी को भगवान बनाने का प्रोजेक्ट ही पत्रकारिता का दूसरा नाम हो गया है।

हाँ, हिंदुस्तान ने पेज नंबर पाँच पर कुछ छोटी-तस्वीरों के साथ एक ख़बर लगाई गई थी जिसे पढ़कर लग रहा था कि 37 दिन बाद अख़बार को इस आंदोलन की ख़बर लेने का होश आया है। हिंदुस्तान हिंदी ने पहले पेज पर सोनू निगम के गंजे होने का बॉटम लगाया।

कहना मुश्किल है कि कोड़े मारते प्रधानमंत्री की यह तस्वीर छापने या दिखाने की हिम्मत कितने अख़बार कर पाए।

करीब हफ्ते भर पहले इन किसानों ने प्रधानमंत्री दफ़्तर के सामने नग्न प्रदर्शन किया था तब राष्ट्रीय कहे जाने वाले न्यूज़ चैनलों ने इस सनसनीखेज़ प्रतिवाद को दिखाया था।। इन किसानों को सनसनीखेज़ वीडियो रचने का हुनर मालूम है, इसलिए वे कभी चूहा खाते हैं, कभी नरमुंडों के साथ प्रदर्शन करते हैं और कभी सड़क के डामर पर चावल और साँभर सान कर खाते हैं। उन्हें पता है कि ऐसा ही कुछ करने से उनका मुद्दा ज़िंदा रहेगा, वरना जंतर-मंतर पर कितने आए और गए। जब महीने भर से ज़्यादा वक़्त से चल रहे प्रदर्शन पर प्रधानमंत्री ही नहीं पसीजे तो फिर चैनल क्यों पसीजेंगे।

बुधवार को उनकी थीम पागलपन थी। उन्होंने पागलों की तरह व्यवहार करते हुए प्रदर्शन किया। शायद एक-दो तस्वीरें फिर छप जाएँ, लेकिन क़र्ज और ख़दकुशी के चक्र में फँसे किसानों की समस्याओं का कोई रिश्ता इस देश की आर्थिक नीतियों से भी है, यह कोई चैनल या अख़बार ज़ोर देकर कहने के लिए तैयार नहीं है। एबीपी जैसे चैनल ने अपने एक संवाददाता को तमिलनाडु भी भेजा लेकिन वहाँ से यही बताया गया कि नदियों में पानी नहीं है और किसान क़र्ज़ अदा नहीं कर पा रहे हैं। आख़िर वह दुष्चक्र क्या है और कैसे रचा गया, उस पर बात करने का मतलब है कि दिल्लीश्वर को कठघरे में खड़ा करना।

वैसे तो यह मीडिया का सामान्य दायित्व था, लेकिन अब इसके लिए बड़े साहस की ज़रूरत है। मोदी का कोड़ा किसानों पर ही नहीं मीडिया पर भी चला है।

.बर्बरीक

यह भी पढ़ें-राजा नंगा है या किसान? गांधीजी कह गए हैं बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो!

17 COMMENTS

  1. Iím not that much of a internet reader to be honest but your sites really nice, keep it up! I’ll go ahead and bookmark your website to come back in the future. Many thanks

  2. I think this is among the most important info for me. And i am glad reading your article. But want to remark on few general things, The website style is ideal, the articles is really excellent : D. Good job, cheers

  3. Hello there! I know this is kinda off topic but I was wondering if you knew where I could locate a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having trouble finding one? Thanks a lot!

  4. Great items from you, man. I have remember your stuff previous to and you’re simply too great. I really like what you’ve bought here, really like what you are stating and the best way in which you are saying it. You make it entertaining and you still care for to keep it wise. I can not wait to read much more from you. This is actually a terrific site.

  5. Hi, Neat post. There’s a problem with your site in internet explorer, would check this… IE still is the market leader and a big portion of people will miss your excellent writing because of this problem.

  6. Greetings from Idaho! I’m bored at work so I decided to browse your blog on my iphone during lunch break. I love the knowledge you present here and can’t wait to take a look when I get home. I’m shocked at how quick your blog loaded on my cell phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, great site!

  7. Hiya, I am really glad I’ve found this information. Today bloggers publish just about gossips and net and this is actually irritating. A good site with exciting content, that’s what I need. Thanks for keeping this website, I will be visiting it. Do you do newsletters? Can’t find it.

  8. Howdy! I simply want to give an enormous thumbs up for the great information you’ve gotten right here on this post. I will likely be coming again to your blog for more soon.

  9. Thanks for all your valuable hard work on this website. My mom takes pleasure in doing internet research and it’s really easy to understand why. Many of us notice all of the lively method you offer reliable strategies by means of your website and even welcome contribution from people on this subject matter so our own simple princess is now becoming educated so much. Take pleasure in the remaining portion of the year. You have been conducting a useful job.

  10. Wow, wonderful blog layout! How long have you been blogging for? you make blogging look easy. The overall look of your website is fantastic, as well as the content!

  11. I’m curious to find out what blog platform you’re utilizing? I’m experiencing some minor security issues with my latest blog and I’d like to find something more risk-free. Do you have any suggestions?

  12. obviously like your website but you need to check the spelling on quite a few of your posts. A number of them are rife with spelling issues and I find it very troublesome to tell the truth nevertheless I’ll definitely come back again.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.