Home अख़बार मजीठिया पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, बकाया संबंधी सभी मामले छह...

मजीठिया पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, बकाया संबंधी सभी मामले छह महीने में निपटाए जाएं

SHARE

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मजीठिया वेतन बोर्ड मामले की सुनवाई में एक अहम फैसला सुनाते हुए देश के सभी राज्यों के श्रम विभाग एवं श्रम अदालतों को निर्देश दिया कि वे अखबार कर्मचारियों के मजीठिया संबंधी बकाये सहित सभी मामलों को छह महीने के अंदर निपटाएं।

सुप्रीम कोर्ट के न्‍यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई एवं नवीन सिन्हा की पीठ ने यह निर्देश अभिषेक राजा बनाम संजय गुप्ता/दैनिक जागरण (केस नंबर 187/2017) मामले की सुनवाई करते हुए दिया। गौरतलब है कि मजीठिया की अवमानना के मामले में 19 जून 2017 के फैसले में इस बात का जिक्र नहीं था जिसे लेकर अभिषेक राजा के वकील सीनियर एडवोकेट कॉलिन गोंजाल्विस ने सुप्रीम कोर्ट से इस पर स्पष्टीकरण की गुहार लगाई थी।

स्पष्टीकरण की याचिका गोंजाल्विस की ओर से जुलाई में ही दायर कर दी गई थी मगर इस पर सुनवाई शुक्रवार को हुई और यह निर्देश आया। इससे मीडियाकर्मियों में एक बार फिर खुशी की लहर है।

मजीठिया मंच ने सभी मीडियाकर्मियों से अपील की है कि वे अपना बकाया हासिल करने के लिेए श्रम विभाग में क्लेम जरूर डालें अन्यथा वे इससे वंचित रह सकते हैं। अब अखबार मालिक किसी भी तरह से आनाकानी नहीं कर सकेंगे या फिर मामले को लंबा नहीं खींच सकेंगे। अगर वे ऐसा करते हैं तो इस बार वे निश्चित रूप से ”विलफुल डिफेमेशन” के दोषी करार दिए जाएंगे।


मजीठिया मंच द्वारा जारी

1 COMMENT

  1. What’s up, will be great when you could support me out.
    Let’s say, I am not a perfect student, so I really need to acquire a method to not drop out.
    Saw this although looking http://flag.inspectorpages.com/do-my-essay-service/essays-writing-services-producing-any-task-simplerhttp://joyhandy.com/via-the-web-writing-products-a-blessing-for/http://realtylightpost.com/do-my-coursework/admission-application-and-educational-essays-6/
    Dunno if it is secure to use it or no.
    Can you give me any techniques on this?

LEAVE A REPLY