Home अख़बार नभाटा के ‘कुपुत्रों’ को सुपुत्रों के देश में औरंगज़ेब याद रहा, अजातशत्रु...

नभाटा के ‘कुपुत्रों’ को सुपुत्रों के देश में औरंगज़ेब याद रहा, अजातशत्रु नहीं !

SHARE

 “औरंगज़ेब ने अपने पिता शाहजहाँ को आगरा में क़ैद कर दिया था। अगर इस एक किस्से को छोड़ दें तो भारत के इतिहास में बेटों की बग़ावत के बड़े उदाहरण नहीं मिलते। पौराणिक परंपरा तो सुपुत्रों की महिमा से भरी पड़ी है। भारत अज्ञाकारी, बलिदानी, पितृभक्तों की धरती है। बग़ावती बेटों के लिए इसकी यादों में कोई जगह नहीं है । ”  

ऊपर का पैराग्राफ़ गीताप्रेस की किसी बालपोथी को पढ़ने का भ्रम दे सकता है, लेकिन यह दिल्ली के नंबर 1 ‘ राष्ट्रीय अख़बार’ नवभारत टाइम्स’ में (1 जनवरी 2017, पेज नंबर 6, दिल्ली संस्करण) में छपा ‘इतिहास’ है। इसका रिश्ता यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके पिता मुलायम सिंह यादव के साथ तनातनी वाली ख़बर से है। अख़बार के राजनीतिक संपादक नदीम की बाईलाइन से छपी ख़बर के साथ एक रंगीन बक्से में ‘सुपुत्रों के देश में बगावत’ शीर्षक से छपा यह विशेष संदर्भ संपादकों की ग़ैरज़िम्मेदारी का नमूना है। ऐसा लगता है कि किसी ‘शाखा-मृग’ रिपोर्टर की कॉपी को बिना किसी सवाल के छाप दिया गया। भारतीय संस्कृति की महानता का गुणगान करने वाली हेडलाइन किसी उपसंपादक के कौशल का नमूना हो सकती है।

जो भी हो, एक बात तो साफ़ है कि लिखने वाले को न इतिहास का ज्ञान है और भारतीय संस्कृति का। औरंगज़ेब का विशेष उल्लेख उसकी दिमाग़ी बनावट का संकेत भी देती है क्योंकि इतिहास या पौराणिक क़िस्सों में ऐसे चरित्र कई हैं जिन्होंने न सिर्फ़ पिता को क़ैद किया, बल्कि उनकी जान तक ले ली। औरंगज़ेब जैसा सिर्फ़ एक क़िस्सा नहीं है भारतीय इतिहास और पुराणों में।

 

 

आइये पहले बात इतिहास की करें। पता नहीं,ख़बर लेखक महोदय को अजातशत्रु का नाम पता है या नहीं, लेकिन उन्हें यह जानकारी हिंदी विकीपीडिया से भी मिल सकती थी कि ईसापूर्व 544 प्रथम मगध साम्राज्य की स्थापना करने वाले और राजगीर को राजधानी बनाने वाले बिम्बसार की हत्या उनके ही बेटे अजातशत्रु ने की थी। यही नहीं बौद्धग्रंथों में कहा गया है कि अजातशत्रु की हत्या उसके बेटे उदयन ने की थी। यह वही उदयन था जिसने पाटिलपुत्र को बसाया था।

इसके अलावा अशोक को कौन भूल सकता है। मौर्य वंश ही नहीं भारतीय इतिहास के सर्वाधिक सफल शासक कहा जाने वाला अशोक महान अपने 99 भाइयोौं को मारकर सम्राट बना था। सुपुत्रों के देश में अशोक और पिता बिंदुसार में लगातार तनातनी रहती थी। अशोक को निर्वासित भी किया गया था।

चूँकि सुपुत्रों के देश की महानता साबित करने के लिए ख़बर लेखक महोदय ने पुराणों का भी सहारा लिया है और राम, भीष्म से लेकर ययाति तक का ज़िक्र किया है इसलिए इस पर आश्चर्य होता है कि उन्हें कंस की याद न आई। लेखक महोदय यादवों के पूर्वज यदु का ज़िक्र करते हैं लेकिन कंस को भूल गए। औरंगज़ेब की तरह कंस ने भी अपने पिता उग्रसेन को बंदी बनाकर मथुरा का सिंहासन हथिया लिया था। लेकिन लेखक महोदय के मुताबिक पिता विरोधी चरित्र पश्चिम की परंपरा में मिलते हैं, भारत में नहीं।

वैसे,सवाल यह भी उठता है कि महान भारतीय संस्कृति में सुपुत्र का अर्थ केवल पितृभक्त होना ही है क्या? क्या वजह है कि माँ का गला काटने वाले परशुराम को भी अवतार ही माना जाता है? और फिर भक्त प्रह्लाद जैसी कहानियों को किस खाँचे में रखा जाएगा? प्रह्लाद सुपुत्र होते तो पिता हिरण्याकश्यप की बात मानते। बग़ावत न करते।

ग़ौरतलब है कि ऐसे रंगीन बॉक्स काफ़ी पढ़े जाते हैं। ख़बरों से इतर समाज का मानस बनाने में इनका बड़ा योगदान होता है। इसलिए इन पर संपादकों की कड़ी दृष्टि होनी चाहिए, https://www.acheterviagrafr24.com/achat-viagra-en-ligne-suisse/ लेकिन लगता है कि नवभारत टाइम्स के संपादक ‘हैप्पी न्यू इयर’ मनाने में व्यस्त थे और कोई शाखामृग अखिलेश यादव को औरंगज़ेब वाले खेमे में डालकर अपना काम कर गया।

26 COMMENTS

  1. The subsequent time I learn a weblog, I hope that it doesnt disappoint me as a lot as this one. I imply, I do know it was my option to read, but I truly thought youd have something interesting to say. All I hear is a bunch of whining about something that you might fix in case you werent too busy in search of attention.

  2. There are actually lots of particulars like that to take into consideration. That could be a great level to carry up. I provide the ideas above as normal inspiration however clearly there are questions like the one you bring up where the most important factor shall be working in sincere good faith. I don?t know if greatest practices have emerged around things like that, but I am certain that your job is clearly identified as a fair game. Both girls and boys really feel the influence of just a second’s pleasure, for the rest of their lives.

  3. I’ve read several good stuff here. Definitely worth bookmarking for revisiting. I surprise how much effort you put to create such a fantastic informative site.

  4. I’m impressed, I should say. Definitely hardly ever do I encounter a weblog that is both educative and entertaining, and let me let you know, you have got hit the nail on the head. Your notion is outstanding; the problem is some thing that not enough men and women are speaking intelligently about. I’m pretty happy that I stumbled across this in my search for one thing relating to this.

  5. I keep listening to the rumor talk about receiving boundless online grant applications so I have been looking around for the top site to get one. Could you advise me please, where could i acquire some?

  6. Hey very cool blog!! Man .. Beautiful .. Amazing .. I will bookmark your web site and take the feeds also…I’m happy to find numerous useful info here in the post, we need develop more strategies in this regard, thanks for sharing. . . . . .

  7. F*ckin’ awesome things here. I’m very glad to see your article. Thanks a lot and i’m looking forward to contact you. Will you kindly drop me a mail?

  8. After I initially commented I clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and now each time a remark is added I get four emails with the identical comment. Is there any means you can remove me from that service? Thanks!

  9. Unquestionably believe that that you stated. Your favourite reason appeared to be on the internet the easiest thing to have in mind of. I say to you, I definitely get annoyed whilst folks think about worries that they just do not realize about. You managed to hit the nail upon the highest and outlined out the whole thing without having side-effects , folks could take a signal. Will likely be back to get more. Thank you

  10. Do you mind if I quote a couple of your articles as long as I provide credit and sources back to your blog? My blog is in the very same niche as yours and my visitors would truly benefit from some of the information you provide here. Please let me know if this ok with you. Thanks a lot!

  11. This site is known as a stroll-by for all the data you wanted about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll definitely discover it.

  12. An interesting discussion is worth comment. I believe which you really should write more on this subject, it could not be a taboo topic but generally people aren’t sufficient to speak on such topics. To the subsequent. Cheers

  13. My programmer is trying to persuade me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the costs. But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on various websites for about a year and am worried about switching to another platform. I have heard fantastic things about blogengine.net. Is there a way I can transfer all my wordpress posts into it? Any kind of help would be really appreciated!

  14. As I web site possessor I believe the content matter here is rattling wonderful , appreciate it for your hard work. You should keep it up forever! Good Luck.

  15. Do you mind if I quote a couple of your posts as long as I provide credit and sources back to your blog? My blog site is in the very same area of interest as yours and my visitors would certainly benefit from a lot of the information you present here. Please let me know if this okay with you. Many thanks!

  16. Hey there! This is my first visit to your blog! We are a collection of volunteers and starting a new initiative in a community in the same niche. Your blog provided us valuable information to work on. You have done a marvellous job!

LEAVE A REPLY