Home अख़बार Mediavigil Impact: ”कश्‍मीर हिंसा@Rs.500″ वाली आज तक की स्‍टोरी फर्जी साबित, पढि़ए...

Mediavigil Impact: ”कश्‍मीर हिंसा@Rs.500″ वाली आज तक की स्‍टोरी फर्जी साबित, पढि़ए बाइट देने वाले का कबूलनामा!

SHARE

उसका हाथ तोड़ा गया, ज़ख्‍मों पर नमक-मिर्च छिड़का गया और बंदूक की नोक पर दिलवायी गयी बाइट

इंडिया टुडे टीवी और आज तक द्वारा 14 जुलाई को प्रसारित एक कश्‍मीरी लड़के की ”500 रुपये लेकर पत्‍थर मारने” वाली ‘एक्‍सक्‍लूसिव’ बाइट आखिरकार फर्जी और पुरानी साबित हो गई है। मीडियाविजिल ने इस संबंध में अगले ही दिन 15 जुलाई को अपनी पोस्‍ट में यह शंका जाहिर की थी कि सूत्रों के मुताबिक बाइट 2010 की हो सकती है, लेकिन अब खुद बाइट देने वाले लड़के बिलाल अहमद डार (25) ने कुबूल किया है कि यह बाइट 2008 की है जो उससे दबाव में दिलवायी गई थी।

राइजि़ंग कश्‍मीर में 28 जुलाई को छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक डार अख़बार के दफ्तर आया था और उसने इंडिया टुडे की रिपोर्ट का खंडन करते हुए बताया कि ”2008 में सीआरपीएफ ने मुझे यातनाएं दीं और मुझसे कैमरे के सामने गीलानी साहब पर आरोप लगाने को कहा गया था।” डार ने कहा, ”वही वीडियो फुटेज 14 जुलाई, 2016 को इंडिया टुडे ने प्रसारित किया।”

अखबार को दिए अपने बयान में डार ने कहा है कि ”श्रीनगर में सीआरपीएफ ने मुझे पकड़ लिया और तब छोड़ा जब मुझसे बंदूक की नोक पर बयान रिकॉर्ड करवा लिया गया। मेरी बायीं बाजू सीआरपीएफ के लोगों ने तोड़ दी और उन्‍होंने मेरे ज़ख्‍मों पर नमक और मिर्च छिड़क दिया। चार घंटे बाद जम्‍मू और कश्‍मीर की पुलिस मुझे अस्‍पताल लेकर गई।”

डार ने ऐसा ही बयान कश्‍मीर के दूसरे मीडिया को भी दिया है जिसमें 14 जुलाई को इंडिया टुडे व आज तक पर चली बाइट को 2008 का फर्जी बताया है। उसके बयान का वीडियो मीडियाविजिल जल्‍द ही अपने पाठकों के सामने लेकर आएगा। ध्‍यान रहे कि 14 जुलाई को जो वीडियो इंडिया टुडे पर चला था, उसमें एंकर पद्मजा जोशी कह रही हैं कि चैनल इसको स्वतंत्र रूप से वेरीफाई नहीं कर सकता है, इसे पुलिस ने दिया है। वहीं रिपोर्टर गौरव सावंत फोनो में दावा कर रहा है कि उसके सोर्स कन्फर्म कर रहे हैं कि इस लड़के को हाल में पकड़ा गया है और गीलानी 500 रुपये पत्थर फेंकने के लिए उसे देते हैं।

http://indiatoday.intoday.in/money/video/stone-pelter-kashmir-geelani/1/714920.html

पिछले दिनों कश्‍मीर के प्रेस पर पाबंदी के विषय पर प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में आयोजित एक कार्यक्रम में इंडिया टुडे टीवी के संपादक राजदीप सरदेसाई ने खुद इस बारे में जिक्र किया था कि कैसे इस किस्‍म की बाइटें उनके बिना वेरिफाई किए यहां चलाई जा रही हैं जिन पर सवाल उठने लगे हैं और जो संदिग्‍ध हो सकती हैं।

मीडियाविजिल का 15 जुलाई को इस बाइट के संबंध में किया दावा और बाद में पत्रकार गौहर गीलानी का इस संबंध में मीडियाविजिल पर छपा लेख डार के ताज़ा बयान के बाद आखिरकार सच साबित हुआ है जिसने देश के सबसे तेज़ चैनलों की पोल खोल कर रख दी है।

15 COMMENTS

  1. F*ckin’ amazing things here. I am very satisfied to look your article. Thanks so much and i’m looking forward to contact you. Will you kindly drop me a mail?

  2. This internet web page is seriously a walk-through for all of the info you wanted about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll absolutely discover it.

  3. Hi I am so grateful I found your web site, I really found you by error, while I was browsing on Google for something else, Anyways I am here now and would just like to say many thanks for a marvelous post and a all round interesting blog (I also love the theme/design), I donít have time to read through it all at the minute but I have saved it and also added your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a lot more, Please do keep up the excellent work.

  4. I would like to express my respect for your kind-heartedness giving support to those who really want assistance with that subject. Your personal commitment to passing the solution all over has been wonderfully insightful and has regularly helped folks just like me to achieve their ambitions. Your amazing important help and advice can mean much a person like me and additionally to my mates. Best wishes; from all of us.

  5. I loved as much as you will receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored subject matter stylish. nonetheless, you command get got an nervousness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come further formerly again as exactly the same nearly very often inside case you shield this increase.

  6. hello there and thank you for your info – I have certainly picked up something new from right here. I did however expertise a few technical issues using this web site, as I experienced to reload the web site many times previous to I could get it to load properly. I had been wondering if your web host is OK? Not that I’m complaining, but sluggish loading instances times will often affect your placement in google and can damage your high quality score if ads and marketing with Adwords. Well I am adding this RSS to my e-mail and can look out for a lot more of your respective interesting content. Make sure you update this again very soon..

  7. Do you mind if I quote a few of your articles as long as I provide credit and sources back to your site? My website is in the very same niche as yours and my users would certainly benefit from a lot of the information you present here. Please let me know if this ok with you. Thanks a lot!

  8. I feel this is one of the most important information for me. And i’m happy reading your article. However wanna statement on some general issues, The web site taste is great, the articles is really nice : D. Excellent process, cheers

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.