Home अख़बार चौबीस घंटे पहले उठाए गए पत्रकार प्रभात सिंह पर बस्तर पुलिस ने...

चौबीस घंटे पहले उठाए गए पत्रकार प्रभात सिंह पर बस्तर पुलिस ने लादे चार मुक़दमे, गिरफ्तारी आज दिखाने की योजना

SHARE

दैनिक ‘पत्रिका’ के दक्षिणी बस्तर स्थित दंतेवाड़ा कार्यालय से सोमवार शाम 5 बजे उठाए गए पत्रकार प्रभात सिंह के बारे में 24 घंटे बाद अब तक कोई आधिकारिक सूचना नहीं है, लेकिन स्थानीय पत्रकारों के मुताबिक प्रभात पर चार मुकदमे लगाए गए हैं और पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी मंगलवार को बस्तर से दिखाने की योजना बनाई है। 

स्क्रॉल डॉट कॉम पर छपी पिछली खबर के मुताबिक सारे मामले की जड़ में बीते 1 मार्च को प्रभात द्वारा एक संगठन सामाजिक एकता मंच के खिलाफ दंतेवाड़ा पुलिस को भेजी गई लिखित शिकायत थी। मामले को जानने वाले बताते हैं कि वॉट्स ऐप के एक समूह के भीतर कुछ लोगों से हो रही परिचर्चा के दौरान अंग्रेज़ी का शब्‍द GOD हिंदी में लिखते वक़्त गलती से प्रभात से ‘ग’ के ऊपर चंद्रबिंदु लग गया था जिसके चलते अर्थ का अनर्थ हो गया और सारा फसाद वहीं से शुरू हुआ। इसके बाद ही उन्हें ”राष्ट्रद्रोही” कहा जाना शुरू हुआ और वॉट्स ऐप ग्रुप पर धमकियां मिलने लगीं, जिसके बाद 1 मार्च को प्रभात ने लिखित शिकायत की।

प्रभात की शिकायत पर तो पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की लेकिन बताया जाता है कि सामाजिक एकता मंच की ओर से प्रभात के खिलाफ पलट कर एक शिकायत दर्ज करवाई गई है। पुलिस ने इसी सिलसिले में प्रभात सिंह को कल उनके दफ्तर से उठाया है, लेकिन अब तक इस बारे में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। दोपहर बाद मीडिया विजिल को मिली जानकारी के मुताबिक प्रभात सिंह की गिरफ्तारी आज यानी मंगलवार को दिखाने की कोशिश पुलिस करेगी और उनके ऊपर कुल चार मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें एक मामला वॉट्स ऐप ग्रुप के संदेशों के संबंधित है जो आइटी कानून की धारा के तहत है। एक और मामले का किसी आधार कार्ड से लेना-देना है।

प्रभात सिंह को जान01_mediafreedominChhattisgarh_Vantage_The-Caravan_15-Febryuary-2016-580x435ने वाले पत्रकारों का कहना है कि चारों मामले फर्जी हैं और यह गिरफ्तारी दरअसल इसलिए हुई है क्योंकि प्रभात सिंह, सोनी सोरी और लिंगाराम कोडोपी का सहयोग करते थे और उनकी ताकत थे। प्रभात सिंह पुलिस अधीक्षक कल्लूरी के कटु आलोचक थे। वे सोनी और लिंगा को रेवाली और नहाड़ी नामक गांवों में लेकर गए थे और वहां हुए कथित ”मुठभेड़ों” का परदाफाश करने वाली रिपोर्ट लिखी थी। प्रभात ने पत्रकार सुरक्षा कानून के समर्थन में पत्रकारों को एकजुट करने में बड़ी भूमिका निभाई थी। इसी वजह से लंबे समय से वे कल्लूरी और उनके समर्थित लोगों के निशाने पर थे।

मासिक पत्रिका Caravan के मुताबिक सामाजिक एकता मंच नाम का संगठन कुख्यात सलवा जुडूम का ही दूसरा संस्करण है और बस्तर पुलिस व कल्लूरी से उसके करीबी रिश्ते हैं. इसी संगठन के माध्यम से बस्तर पुलिस सच लिखने वाले पत्रकारों को धमकाने का काम करती है.

प्रभात सिंह की गिरफ्तारी ने एक बार फिर यह साबित किया है कि बस्तर में पूरी तरह पुलिस और उसके समर्थित गिरोहों का राज है। इससे पहले संतोष यादव और सोमारू नाग फर्जी मामलों में जेल में हैं जबकि मालिनी सुब्रमण्यम और आलोक पुतुल जैसे पत्रकारों को रिपोर्टिंग करने से रोका गया है और धमकी दी गई है।

3 COMMENTS

  1. Like many other ailments, people are not properly informed about the reality of sleep apnea, especially if they have never dealt with it before. Many people begin to develop this issue later in life and are unaware of how to reduce problems with it- that is where this article comes in with useful tips!

    For people who are using a CPAP machine, you need to take notes to give to your doctor. If you experience any symptoms, like snoring, that were eliminated when you started using the CPAP machine and they come back, you need to let your doctor know. Only your doctor can properly assess any problems.

    If you have sleep apnea, try sleeping on your side. If you are a back or stomach sleeper, gravity is working against you all night. Your airway is much more likely to collapse if you are facing straight up or down. Sleeping on your side instead makes it much easier for your body to maintain your airway as you sleep.

    If you have sleep apnea, be sure to ask your doctor every five years if you should have a follow-up sleep study. As your weight and health change, your CPAP pressure may need to be adjusted. The most accurate way to reassess your needs is to have another sleep study with CPAP so the appropriate pressure can be determined.

    Sleeping at a high altitude can worsen your sleep apnea because of the lower levels of oxygen. If you are going to a place located higher than what you are used to, take a CPAP machine with you. The best thing to do would be to completely avoid high altitude.

    Get a chin strap to keep your mouth closed when you are sleeping with a CPAP or BIPAP machine. This minor fabric piece and make sure that your chin stays up and your mouth closed. CPAP machines do not function with open mouths, so a chin strap can really save you.

    Remember to keep your medical ID upon your person if you make use of a CPAP for your sleep apnea. If you are in need of medical attention, it is important that the people helping you realize you have sleep apnea and use CPAP therapy. With your ID you can inform medical personnel about your sleep apnea and your CPAP device.

    A great way to know if you are experiencing severe apnea is to keep a sleep journal. Write down all the times that you wake up in the night and also record how you feel in the morning. This will help you to have a record to see your progress.

    If you are a trucker who has sleep apnea, take precautions to stay safe on the road. First of all, get yourself properly diagnosed and treated. If your doctor prescribes a CPAP, use it. They are small and easily portable and can run on battery power if necessary. Try to stay fit and get regular sleep to keep your condition under control.

    Make no mistake, sleep apnea is one of the most disruptive conditions a person can have, largely due to its ability to rob sufferers of the sound sleep they need to stay healthy. The best way to effectively deal with the condition is to understand it completely. Keep the information in this article handy in order to stay on top of this dangerous condition and reclaim peace of mind.

    viagrasansordonnancefr.com

  2. Aus den Zitaten von Adorno wird nicht deutlich, ob es sowas wie Vollbildung gäbe. Auch bleibt der Begriff “halb” schwammig. Die Hälfte von was? Der ganzen Bildung. Wirkungsästhetisch müsste man sagen, dass der Begriff wenig nützlich ist, da nicht operationalisierbar. Das klingt dann eher wie Gräfs Idiotae (man beachte das lateinische Plural-ae).

  3. Das ist bei uns die Mittagspause für Eltern und Kind – in der Praxis eine halbe bis dreiviertel Stunde nach dem Mittagessen, in der ruhig gelesen oder gespielt wird. Das machen die Kids bei uns im Kindergarten genauso, und es ist ein nettes Ritual, das wir beibehalten haben, obwohl unsere gar nicht mehr so kleine Tochter schon lange keinen Mittagsschlaf mehr hält. Ich hoffe mal, dass wir das beim Zweitkind auch hinkriegen.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.