Home अख़बार 6 दिसंबर: रिपोर्टर पिटा,अख़बार बढ़ा और मालिक पहुँचा राज्यसभा !

6 दिसंबर: रिपोर्टर पिटा,अख़बार बढ़ा और मालिक पहुँचा राज्यसभा !

SHARE

भाऊ कहिन-5

raghvendraबहरहाल एक हिन्दी अखबार के हिन्दुत्व समर्थक हो जाने का मकसद बहुत बाद में समझ सका । जब उसके मालिक राज्यसभा में सांसद हुए । भाजपा से । (दैनिक जागरण के मालिक संपादक नरेंद्र मोहन-संपादक)  रिपोर्टरों से कार सेवकों का शौर्य लिखवाने का यह रिटर्न ( पारितोषिक ) शायद दो साल बाद । ठीक – ठीक याद नहीं है । इसी परिवार से एक दूसरे प्रभुत्वशाली व्यक्तित्व (महेंद्र मोहन-सं ) समाजवादी पार्टी से राज्यसभा में गए ।

पहले लिख चुका हूं कि आदरणीय स्व. प्रभाष जोशी ने तो खुद को करेक्ट कर लिया था । ( देखें पहले की पोस्ट )। उन्होंने आडवाणी का धतकरम लिखा । बाबरी मस्जिद के ढहे मलबे पर, शाम के धुंधलके में राम लला उन्हें बहुत उदास दिखे। आदरणीय जोशी जी की व्यथा और आहत मन के अक्षरों की तासीर तो ताप की थी , स्पेस काला था । बाद में उन्होंने खूब लिखा , कागद कारे और उसमें धर्म का मर्म परिभाषित किया। प्रभाष जी भी स्व.राजेन्द्र माथुर की तरह हिन्दी में अंग्रेजी से आये थे । आज तक हम सबके स्वाभिमान और गर्व हैं। अपनी यश: काया में । दोनों व्यक्तित्व ।

याद आता है एक बार का वाकया । मैं और अनिल कुमार यादव मीराबाई मार्ग ( लखनऊ ) स्थित राज्य अतिथि गृह गए थे। यहीं अचानक जोशी जी से मुलाकात हो गई।वह हम दोनों को ही बखूबी जानते थे । उन दिनों वह अपने स्तंभ में निहायत एकांतिक और खुद से ही की गई बातचीत ज्यादा लिखने लगे थे ।
—‘ इंसुलिन की कार्टेज लगी देखने में पेन जैसी सूई मुझे स्वीडेन के डॉक्टर ने दी थी …’। (फिर, टहलने के दौरान धोती में खोंसे हुए उस छोटे से मीटर के बारे में , जिससे पता चल जाता था कि अब तक कितनी कैलोरी बर्न हो चुकी है )

एक बार उन्होंने लिखा था – मेरे चसकों में हल्का सा दर्द हो रहा था ..। मैं उठ कर टहलने लगा । रात के समय बच्चे अपने कमरों में सो रहे थे । मैंने कुकिंग रेंज पर खुद के लिए काफी बनाई । पी और अब अपने झबरे के आगे हिज मास्टर्स वॉयस वाली मुद्रा में बैठ गया था ।
हम लोगों ने उनकी लिखी लाइनें उनके सामने करीब – करीब , जस का तस रखते हुए पूछा था – इससे हिन्दी और पत्रकारिता का क्या भला होगा ?
उन्होंने मुस्कराते हुए कहा था – अरे यह बैक गेयर कभी-कभी लग जाता है। उन्हें नमन ।
बाबरी ध्वंस से ठीक पहले और उसके बहुत बाद तक पं.विद्यानिवास मिश्र जी कई बार अयोध्या आये, गए । लेकिन वह लिख रहे थे – कातिक आया बोओ काटो । राधा का लास्य ।
वह भी आखिर राज्यसभा में भाजपा से गए । उन्होंने अटल जी की कविताओं का विमोचन भी किया ।
बहुत पहले मुलायम सिंह यादव जी की पहल पर आयोजित समाजवादियों के विराट सम्मेलन की अध्यक्षता भी कर चुके थे । बद्री विशाल पित्ती की पत्रिका समय का सम्पादन भी ।
गुंबद पर जैसे मधुमक्खियों का छत्ता टूट पड़ा हो। 12 . 15 बजे तक मस्जिद के तीनों गुम्बद पर हिन्दू वीर चढ़ चुके थे और असंख्य मूड़ीयों के बीच भगवाjagaran-ayodhya फहराने लगा ।
नीचे खड़े पुलिस वाले चिल्ला – चिल्ला कर इस बात की हिदायत दे रहे थे कि कार सेवक इतनी तादाद में एक साथ गुम्बद पर न चढ़ें । फिसलने – गिरने का डर है । लेकिन , उनकी यह भी कौन सुन रहा था । जय श्रीराम के उद् घोष से आसमान फटा जा रहा था ।
थोड़ी देर बाद गुबंद पर गैंती और फावड़े चलने लगे । तीनों गुबंद सुर्खी और चूने की धूल में डूब गए । मैं और अनिल कुमार यादव मस्जिद से बस 4 या 5 फुट की दूरी पर थे ।
हवा में इस कारसेवा के संचालकों की सीटी गूंज रही थी । पुलिस और उसके बड़े अफसर तक हतप्रभ खड़े थे । अयोध्या की गलियों में उन्माद नाच रहा था । भाले , त्रिशूल और फरसे क्षितिज पर हिंदुत्व के रक्षा की मंत्रबिद्ध सीमा खींच रहे थे । लोग इतिहास खोदने और उससे और अनबन बढ़ाने आये थे । यह काम फिर शुरू हुआ है ।
इन दो सालों में अकादमिक क्षेत्र में सबसे त्वरित और केंद्रित हमला इतिहास पर हो रहा है । यह बाबरी ढहाये जाने का ही सीक्वल है, नए ढंग का नए फ़ार्मेट में । 6 दिसंबर को सभी हिंदुओं की नहीं , कठमुल्ला ( कट्टर ) हिंदुओं की दखली रामभक्ति ने , एक बड़े समुदाय की आत्मा पर कब्जा कर लेना चाहा था । बड़े समुदाय का आशय किसी एक मजहब से नहीं , सभी तरक्की और अमन पसन्द लोगों से है ।

उधर, 12.55 बजे कारसेवक पत्रकारों और फोटोग्राफरों पर टूट पड़े थे । जमीन पर औंधे गिरे एक पत्रकार को बजरंग दल के कार्यकर्ता कुचलते हुए आगे बढ़ते जा रहे थे । एक विदेशी फोटो पत्रकार को लोहे की रॉड से पीटा जा रहा था । जो पत्रकार जहां मिला, वहीं धुन दिया गया । गर्द – गुबार , चीख – पुकार , आगजनी, अंधी आस्था की आवाज निकालते तुरही , सिँघा की भों … पों और नगाड़े की कड़कड़ …

राजशेखर , 6 दिसम्बर 1992 की अयोध्या की याद दहशत से भर देती है । शाम शायद 4. 30 बजे तक बाबरी का तीसरा गुबंद भी जमींदोज हो चुका था । उसके बाद तो अयोध्या में जो शुरू हो चुका था । लिखना मुश्किल है ।

मुझे अपने और अनिल के जिंदा बचे रह जाने की खबर गोरखपुर भेजने में भी दिक्कत थी । तब गोरखपुर में मेरे घर पर लैण्ड लाइन वाला फोन भी नहीं था । पड़ोसी के यहां फोन करना होता है । धन्यवाद , छोटे लोहिया (स्व. जनेश्वर मिश्र )! जिनकी वजह से गोरखपुर मेरे घर फोन लग सका ।
बस केंद्र की एक खानापूरी बच गई थी। उसे भी हम दोनों ने देख ली । रामलला ढहे मलबे पर रखे जा चुके थे । 6 दिसम्बर की रात 12 बजे के बाद करीब तीन बजे लाठी पटकते रैपिड एक्शन फोर्स के जवान यहां पहुंचे । उनमें से कुछ ने अपने कमर में बंधी चमड़े की बेल्ट अलग की और रामलला के सामने साष्टांग लेट गए ।
हाफ़िजा गर वस्ल ख्वाही सुलहकुन बा खासो आम , बा मुसलमां अल्लाह – अल्लाह , बा बरेहमन राम – राम ।
या
उसके फरोगे हुस्न से झमके है सबमें नूर ,शम्मे हरम हो याकि दिया सोमनाथ का …
किससे कहता ? लोग किससे प्रेरित होते भी ? मैं तो फकीर ( मुस्लिम साधु ) हूं , …… निकल पडूंगा । यह कहने वाला भी तो कोई नहीं था । अब हम दोनों अयोध्या से लखनऊ आने के जुगाड़ में लगे थे ।

.राघवेंद्र दुबे

(वरिष्ठ पत्रकार राघवेंद्र दुबे उर्फ़ भाऊ अपने फ़क्कड़ अंदाज़ और निराली भाषा के लिए ख़ासतौर पर जाने जाते हैं। इन दिनों वे अपने पत्रकारीय जीवन की तमाम यादों के दस्तावेज़ तैयार कर रहे हैं।  भाऊ 6 दिसंबर 1992 को  साथी पत्रकार अनिल कुमार यादव के साथ अयोध्या में दैनिक जागरण रिपोर्टर बतौर मौजूद थे, जब बाबरी मस्जिद तोड़ी जा रही थी। भाऊ अपने संस्मरण में जिन राजशेखर को क़िस्सा सुना रहे हैं वे वरिष्ठ टीवी पत्रकार हैं जिन्होंने बड़े प्यार से भाऊ को यादों की वादियों में धकेल दिया है। )

पहले की कड़ियाँ पढ़ें—भाऊ कहिन-1भाऊ कहिन-2भाऊ कहिन-3भाऊ कहिन-4

18 COMMENTS

  1. Hi there terrific website! Does running a blog similar to this take a great deal of work? I have absolutely no expertise in programming however I had been hoping to start my own blog soon. Anyway, if you have any suggestions or tips for new blog owners please share. I know this is off topic nevertheless I simply had to ask. Thanks a lot!

  2. When I originally commented I clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and now each time a comment is added I get four emails with the same comment. Is there any way you can remove me from that service? Thanks!

  3. You made some first rate points there. I appeared on the internet for the difficulty and found most individuals will go together with along with your website.

  4. Nice post. I was checking constantly this blog and I am impressed! Very helpful information particularly the last part 🙂 I care for such information much. I was looking for this particular information for a long time. Thank you and best of luck.

  5. I’m so happy to read this. This is the type of manual that needs to be given and not the accidental misinformation that is at the other blogs. Appreciate your sharing this best doc.

  6. Hey! Someone in my Facebook group shared this website with us so I came to look it over. I’m definitely enjoying the information. I’m book-marking and will be tweeting this to my followers! Wonderful blog and amazing design and style.

  7. This web site is mostly a walk-by way of for all the information you wished about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll undoubtedly uncover it.

  8. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get four emails with the same comment. Is there any way you can remove people from that service? Bless you!

  9. I actually wanted to construct a quick word in order to appreciate you for some of the stunning points you are sharing at this website. My incredibly long internet research has now been compensated with good content to exchange with my friends and classmates. I ‘d express that we site visitors are extremely lucky to live in a good website with many marvellous professionals with great methods. I feel quite grateful to have discovered your web site and look forward to plenty of more entertaining minutes reading here. Thanks once again for everything.

  10. Greetings! Quick question that’s entirely off topic. Do you know how to make your site mobile friendly? My site looks weird when browsing from my iphone 4. I’m trying to find a theme or plugin that might be able to resolve this issue. If you have any recommendations, please share. Cheers!

  11. Thanks for another great post. The place else may just anybody get that kind of information in such an ideal approach of writing? I have a presentation next week, and I’m at the search for such info.

  12. I do consider all of the ideas you have introduced on your post. They are really convincing and can certainly work. Still, the posts are too quick for newbies. May just you please prolong them a bit from subsequent time? Thanks for the post.

  13. You actually make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be actually something which I think I would never understand. It seems too complicated and very broad for me. I’m looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  14. I’ve been absent for some time, but now I remember why I used to love this site. Thank you, I will try and check back more frequently. How frequently you update your site?

  15. I like what you guys are up also. Such clever work and reporting! Carry on the excellent works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it will improve the value of my web site 🙂

LEAVE A REPLY