Home अख़बार 6 दिसंबर: अख़बार हिंदू एजेंडा पर चल पड़े थे, पत्रकार अब उसकी...

6 दिसंबर: अख़बार हिंदू एजेंडा पर चल पड़े थे, पत्रकार अब उसकी ही पुतरी थे !

SHARE

भाऊ कहिन-3

raghvendraयह बेहद अमानवीय और सेक्यूलर – सोशलिस्ट इंडिया में , अब तक के सबसे बड़े साम्प्रदायिक गुंडागर्दी की तस्वीर है । जिससे बहुत कुछ कुचल दिया गया ।
हम नंगी तलवारों , भालों के साथ एक टांग पर नाचते दढ़ियल साधुओं और हिंसक लफंगई वाली भीड़ में निरुपाय फंसे थे । कुछ के हाथ भोंपू था । वे कुछ भी कह सकते थे , कुछ भी मनवा सकते थे । यह मुस्टंडे , खूंखार और गुर्राते लोगों का हुजूम था जो अयोध्या की तंग गलियों तक में अंड़स गया था ।

मेरी अबतक की नींद में यह कभी – कभी का ही सही लेकिन सबसे भयानक जातीय दु;स्वप्न रहा है । जिसे ,

राजशेखर तुमने कोंच दिया । 30 नवम्बर ( 2016 ) की शाम तुमने मुझसे अचानक ही कहा और मैंने लिखना शुरू कर दिया ।

इसमें क्रमबद्धता मत देखना । इसे सिंक्रोनाइज करने की जरूरत भी नहीं है । हादसे इसी तरह लिखे जाते हैं ।

ज 24 साल बाद न तो अपनी लिखी रपटों की कतरनें हैं , न डायरी । दरअसल मैंने उसे सहेजा भी नहीं । फिर भी यह मुझमें कील सा ठुका था , उसी दिन पता चला , जब तुम्हारा फोन आया । उन्हीं यादों के सहारे लिख रहा हूं । दुःस्वप्न के साथ चलते ।

कड़कड़ … कड़कड़ ठुम्म .. बन जायेगा मन्दिर बनवाने वाला चाहिए ..। एक तरफ : जिस हिन्दू का खून न खौला , खून नहीं वह पानी है ..। कुछ नागा मस्जिद की ओर भाला दिखा रहे थे । यह उसकी नोक पर पूरा मध्यकालीन इतिहास ही टांग लेने जैसा दिख रहा था ।
मैं शेषावतार टीले या मन्दिर से कुछ आगे बढ़ आया था । अचानक पीछे से सिर से टकराती डायरी मेरे सामने गिरी । मैंने उसे उठाया । देखा तो लिखावट अनिल कुमार यादव की थी । पीछे मुड़ा तो देखा अनिल को 8 – 10 कारसेवकों ने घेर लिया था । वह भी उनसे भिड़े थे । डकेन हेराल्ड की एक रिपोर्टर का कपड़ा फाड़ डाला गया । बीबीसी के फोटो पत्रकार की धुनाई शुरू हो चुकी थी । स्व. जयप्रकाश शाही पर छत पर खड़े कुछ कारसेवक , एक बड़ा सा पत्थर गिराने ही वाले थे । उन्हें धक्का मार कर आगे किया । बाल – बाल बचे । कुछ पत्रकार अपनी कार पर लिखे प्रेस में से p और e खुरचने लगे थे । लेकिन , हम सब जिन – जिन अखबारों से थे , उन्होंने अपना कुछ और ही एजेंडा बना लिया । ज्यादातर पत्रकार अब उसकी ही पुतरी थे । अनिल कुमार यादव सा लोहा कितने लोगों में होता है ।

हिन्दू जैसी अलग कटेगरी ( वर्ग या कोटि ) तो , 6 दिसम्बर 1992 के बाद , हिन्दी अखबारों ने फिर से पूरी तरह स्थापित कर दी । जो अंग्रजों के पहले हिन्दुस्तान में थी ही नहीं । जिसकी नींव पड़ी दशहरे के दिन नागपुर में 1925 में । हिंदुत्व ही स्वयंसिद्ध राष्ट्रीयता हो गई । राष्ट्रीयता की संकल्पना को एकधर्मी , एकसांस्कृतिक बनाने में कुछ हिन्दी अखबार तो प्रसार संख्या के लीडर भी होते गए । 1977 में जब जनता पार्टी की सरकार में लालकृष्ण आडवाणी सूचना – प्रसारण मंत्री थे , तब से 80 के दशक तक , हाथ पकड़ कर अखबारों में लाये या सिफारिश से रखवाए गए , स्वयंसेवक (नगर या जिला प्रचारक ) अपना रंग दिखा रहे थे । जो कुछ अखबारों में निर्णायक हैसियत में थे ।
बेहतर इंसान जाने जाने से बढ़कर क्या कोई खब्त है इस जिंदगी में ….? किससे पूछता ?

6 दिसम्बर 1992 : जाड़े ( शरद ) में भगवा विस्फोट । और हिन्दू होने का गर्व शीर्ष पर था । लेकिन , मुझे यहां भी कैफ़ी आजमी की अयोध्या पर लिखी कविता – राम का वनवास या दूसरा वनवास ही क्यों याद आ रही थी ?

राघवेंद्र दुबे

(वरिष्ठ पत्रकार राघवेंद्र दुबे उर्फ़ भाऊ अपने फ़क्कड़ अंदाज़ और निराली भाषा के लिए ख़ासतौर पर जाने जाते हैं। इन दिनों वे अपने पत्रकारीय जीवन की तमाम यादों के दस्तावेज़ तैयार कर रहे हैं। भाऊ 6 दिसंबर 1992 को साथी पत्रकार अनिल कुमार यादव  के साथ अयोध्या में दैनिक जागरण के रिपोर्टर बतौर मौजूद थे जब बाबरी मस्जिद तोड़ी जा रही थी। भाऊ अपने संस्मरण में जिन राजशेखर को क़िस्सा सुना रहे हैं वे वरिष्ठ टीवी पत्रकार हैं जिन्होंने बड़े प्यार से भाऊ को यादों की वादियों में धकेल दिया है। )

पहले की कड़ियाँ पढ़ें—भाऊ कहिन-1, भाऊ कहिन-2

25 COMMENTS

  1. Do you mind if I quote a couple of your posts as long as I provide credit and sources back to your weblog? My blog is in the very same area of interest as yours and my users would really benefit from some of the information you present here. Please let me know if this alright with you. Cheers!

  2. Hi there very nice web site!! Guy .. Beautiful .. Superb .. I’ll bookmark your web site and take the feeds additionally…I am glad to find a lot of helpful information here in the submit, we want develop extra techniques in this regard, thank you for sharing. . . . . .

  3. Today, I went to the beachfront with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She placed the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is entirely off topic but I had to tell someone!

  4. My brother recommended I might like this web site. He was once entirely right. This submit truly made my day. You cann’t consider simply how so much time I had spent for this information! Thank you!

  5. I loved as much as you’ll receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored material stylish. nonetheless, you command get bought an nervousness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come further formerly again as exactly the same nearly a lot often inside case you shield this hike.

  6. Does your blog have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to send you an email. I’ve got some creative ideas for your blog you might be interested in hearing. Either way, great site and I look forward to seeing it expand over time.

  7. Hi there, just became alert to your blog through Google, and found that it is truly informative. I am gonna watch out for brussels. I will appreciate if you continue this in future. A lot of people will be benefited from your writing. Cheers!

  8. Terrific work! This is the type of information that should be shared across the net. Disgrace on Google for no longer positioning this submit higher! Come on over and visit my website . Thanks =)

  9. After I originally commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now every time a remark is added I get four emails with the identical comment. Is there any means you may remove me from that service? Thanks!

  10. What’s Taking place i am new to this, I stumbled upon this I have found It positively helpful and it has helped me out loads. I’m hoping to contribute & help other customers like its helped me. Great job.

  11. When I originally commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now each time a remark is added I get 4 emails with the same comment. Is there any approach you can remove me from that service? Thanks!

  12. We’re a gaggle of volunteers and opening a new scheme in our community. Your site offered us with useful info to paintings on. You have done a formidable task and our entire group will probably be thankful to you.

  13. I’d need to verify with you here. Which isn’t something I normally do! I enjoy studying a publish that may make individuals think. Additionally, thanks for allowing me to comment!

  14. Hello, you used to write excellent, but the last several posts have been kinda boring… I miss your tremendous writings. Past few posts are just a bit out of track! come on!

  15. We’re a group of volunteers and starting a new scheme in our community. Your site offered us with helpful info to paintings on. You’ve done an impressive job and our whole community shall be thankful to you.

  16. I think other web-site proprietors should take this website as an model, very clean and wonderful user genial style and design, as well as the content. You are an expert in this topic!

  17. Its like you read my mind! You appear to know so much about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message home a little bit, but instead of that, this is excellent blog. A fantastic read. I will certainly be back.

LEAVE A REPLY