Home अख़बार ABP ने सैकड़ों निकाले, पर ठेका मज़दूर बन चुके पत्रकार लड़ें तो...

ABP ने सैकड़ों निकाले, पर ठेका मज़दूर बन चुके पत्रकार लड़ें तो कैसे ?

SHARE
                                 पत्रकारों को कमज़ोर बनाकर रखने की ‘साज़िश’ का ज़िम्मेदार कौन ?
                                                                  प्रियभांशु रंजन

हाल में खबर आई कि देश के प्रमुख मीडिया समूह आनंद बाजार पत्रिका (ABP) ग्रुप ने अपने बांग्ला अखबार आनंद बाजार पत्रिका और अंग्रेजी अखबार The Telegraph से करीब 120 पत्रकारों की छंटनी कर दी ।

बीते दिसंबर महीने में भी Hindustan Times ग्रुप और ABP ग्रुप ने सैकडों पत्रकारों और गैर-पत्रकारों को रातोंरात नौकरी से निकाल ​दिया था ।

ऐसा नहीं है कि मीडिया में ऐसे वाकये पहली बार हुए हों । मीडिया में काम करने वालों को बखूबी पता है कि नियम-कायदों को ताक पर रखकर पत्रकारों को नौकरी से निकालने की घटनाएं आए दिन सामने आती रहती हैं ।

हैरान करने वाली बात है कि सैकडों पत्रकारों को नौकरी से निकालने की घटनाएं हो जाती हैं, लेकिन कहीं कोई इस पर खुलकर चर्चा नहीं करता । सोशल मीडिया या मुख्यधारा के मीडिया से बाहर के लोगों को कोई क्यों कोसे, जब मीडिया में काम करने वाले ही ऐसे गंभीर मुद्दों पर चर्चा से कतराते हैं ।

आखिर ऐसा क्या है कि दूसरों की हक की आवाज उठाने वाले पत्रकार अपनी हकमारी पर चुप रह जाते हैं ? क्या ये ​बेफिक्री है ? क्या ये बेबसी है ?

ये बेफिक्री नहीं बल्कि बेबसी है । इस बेबसी की शुरूआत तब हुई जब पत्रकारों को ठेके पर काम करने वाला मजदूर समझा जाने लगा ।

एक दौर था जब किसी बडे अखबार या न्यूज एजेंसी का रिपोर्टर भी प्रधानमंत्री और सरकार के ताकतवर मंत्रियों से बराबर के स्तर पर बात करता था । लेकिन आज हालत ऐसी हो गई है कि रिपोर्टर तो क्या, एडिटर भी प्रभावशाली लोगों से कोई तीखी बात करने से पहले 10 बार सोचता है ।

दरअसल, उस दौर में ज्यादातर पत्रकारों की नौकरी पक्की होती थी । तो उसे पता होता ​था कि वो किसी प्रभावशाली नेता या कारोबारी से कोई तीखे सवाल कर भी ले और कोई निगेटिव खबर चला भी दे तो उसका कुछ नहीं बिगडेगा । उसकी नौकरी खतरे में नहीं पडेगी ।

लेकिन आज के 90 फीसदी से ज्यादा पत्रकार ठेके यानी CONTRACT पर काम करने को मजबूर हैं । उन्हें हमेशा ये डर सताता रहता है कि कहीं ज्यादा ‘क्रांतिकारी’ बनने पर नौकरी से हाथ न धोना पड जाए ।

इसके अलावा, आजकल राजनीतिक पार्टियों से लेकर कारोबारी घरानों और फिल्मी हस्तियों तक की अपनी जनसंपर्क यानी PUBLIC RELATIONS टीमें हैं, जो पहले ही ये तय कर देती हैं कि रिपोर्टर कौन से सवाल करेगा और उसे क्या जवाब देना है । ऐसे में पत्रकारिता में धार रह कहां जाती है ? पत्रकारिता तो एक ऐसा औजार बनकर रह गई है कि जिसका इस्तेमाल ‘सेलेब्रिटीज’ अपने मनमाफिक खबरें छपवाने के लिए करते हैं ।

तो क्या इसमें सारा दोष मीडिया घरानों का ही है ? क्या वे ही पत्रकारों को कमजोर करके रखना चाहते हैं ? नहीं । ऐसा कतई नहीं है ।

ठेके पर नौकरी कराकर पत्रकार को ‘दीन-हीन’ बनाने के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हमारी सरकारें हैं । किसी और ने नहीं बल्कि हमारी संसद ने 1955 में श्रमजीवी पत्रकार कानून (Working Journalist Act) पारित करके मीडिया की आजादी की दिशा में एक बडा कदम उठाया था ।

लेकिन किसी मीडिया प्रशिक्षण संस्थान में पत्रकारिता के छात्र या किसी प्रशिक्षु पत्रकार से इस कानून के बारे में पूछकर देखिए । ज्यादा ‘आशंका’ इसी बात की है कि उसे इस अहम कानून के बारे में कुछ पता ही नहीं होगा ।

श्रमजीवी पत्रकार कानून ने न सिर्फ पत्रकारों को नौकरी की सुरक्षा दी थी, बल्कि उनके काम के घंटे तक तय कर दिए थे ।

दुर्भाग्य की बात है कि समूची प्रिंट मीडिया पर लागू होने वाला यह कानून Press Trust of India (PTI) और United News of India (UNI) जैसे कुछ मीडिया घरानों तक सीमित होकर रह गया है । हालांकि, अब PTI में भी ज्यादातर पत्रकार ठेके पर ही काम कर रहे हैं ।

सरकार अपने कर्मचारियों के लिए जिस तरह वेतन आयोग गठित करती है, उसी तरह सरकार को श्रमजीवी पत्रकार कानून के दायरे में आने वाले पत्रकारों के लिए ‘वेज बोर्ड’ गठित करना होता है । पिछले वेज बोर्ड की सिफारिशें सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ही लागू हो पाईं । हालांकि, आज भी ज्यादातर मीडिया घरानों ने उन सिफारिशों को लागू नहीं किया है ।

गौर करने वाली बात है कि नए वेज बोर्ड के गठन का वक्त आ चुका है, लेकिन इसकी सुगबुगाहट कहीं नहीं है । न तो सरकार को नए वेज बोर्ड के गठन की कोई चिंता दिखती है, न मीडिया घरानों को और न ही श्रमजीवी पत्रकारों को इसकी परवाह है । ठेके पर काम करने वाले पत्रकारों को तो छोड ही दें ।

जरूरत इस बात की है कि पत्रकारों को नौकरी की सुरक्षा दी जाए । तभी इस देश में मीडिया सही मायने में आजाद हो पाएगा । वरना, दिनों-दिन पत्रकारों की विश्वसनीयता घटती ही चली जाएगी । आम जनता तो विश्वसनीयता में कमी के लिए पत्रकार को ही जिम्मेदार ठहराती है । लेकिन जनता को इसकी असल वजह कहां पता?

दूसरों की हक की आवाज उठाने वाले पत्रकारों को अब अपने लिए भी सोचना चाहिए । कहीं ऐसा न हो कि लोकतंत्र के चौथे खंभे की जिम्मेदारी निभाने वाला पत्रकार 8-10 घंटे की ‘नौकरी’ करने वाला शख्स बनकर रह जाए । यदि ऐसा हुआ तो लोकतंत्र के लिए इससे बुरा कुछ नहीं होगा ।

 

 

( लेखक युवा पत्रकार हैं )

22 COMMENTS

  1. 1955 mein bana qanoon agar aaj bhi prabhaavi hai to ise dhaardaar banaaye rakhane ke liye sarkaar par jan dabaaw banaae jaane kee tatkaal zuroorat hai. Kuchh karo, logon ko jodo, jan andolan hone chaahiye. Swaraaj party se bhee sahayog lena theek ho shaayad.

  2. Thanks for ones marvelous posting! I genuinely enjoyed reading it, you might be a great author.I will make sure to bookmark your blog and may come back in the future. I want to encourage continue your great work, have a nice holiday weekend!

  3. I’d must check with you here. Which is not some thing I typically do! I appreciate reading a post that may make people today believe. Also, thanks for permitting me to comment!

  4. Oh my goodness! an incredible article dude. Thanks However I’m experiencing issue with ur rss . Don’t know why Unable to subscribe to it. Is there anyone getting similar rss problem? Anyone who is aware of kindly respond. Thnkx

  5. I would like to thank you for the efforts you have put in writing this website. I’m hoping the same high-grade website post from you in the upcoming as well. In fact your creative writing abilities has inspired me to get my own blog now. Really the blogging is spreading its wings quickly. Your write up is a great example of it.

  6. Excellent read, I just passed this onto a colleague who was doing some research on that. And he actually bought me lunch since I found it for him smile So let me rephrase that: Thanks for lunch!

  7. Hello there, You have done a fantastic job. I’ll definitely digg it and personally suggest to my friends. I’m confident they’ll be benefited from this web site.

  8. Hi there, just turned into aware of your blog via Google, and located that it’s really informative. I am gonna be careful for brussels. I will appreciate if you happen to proceed this in future. Numerous folks shall be benefited out of your writing. Cheers!

  9. Normally I don’t read article on blogs, but I would like to say that this write-up very forced me to try and do it! Your writing style has been surprised me. Thanks, very nice article.

  10. There are actually numerous particulars like that to take into consideration. That may be a great level to convey up. I supply the thoughts above as normal inspiration however clearly there are questions just like the one you bring up where an important thing can be working in trustworthy good faith. I don?t know if finest practices have emerged around things like that, but I’m certain that your job is clearly identified as a good game. Both girls and boys really feel the impact of just a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

  11. I do not even know how I finished up right here, but I believed this post used to be great. I don’t understand who you’re however certainly you are going to a well-known blogger should you aren’t already 😉 Cheers!

  12. I am now not positive the place you’re getting your information, however great topic. I must spend a while finding out much more or understanding more. Thanks for excellent information I was on the lookout for this information for my mission.

  13. Heya i’m for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out much. I hope to give something back and aid others like you aided me.

  14. excellent post, very informative. I wonder why the other experts of this sector don’t notice this. You should continue your writing. I am confident, you have a huge readers’ base already!

  15. What’s Taking place i’m new to this, I stumbled upon this I’ve discovered It positively helpful and it has helped me out loads. I’m hoping to contribute & help different users like its helped me. Great job.

  16. Hey there fantastic blog! Does running a blog similar to this take a great deal of work? I’ve no knowledge of computer programming however I was hoping to start my own blog in the near future. Anyways, if you have any recommendations or tips for new blog owners please share. I know this is off subject nevertheless I simply needed to ask. Many thanks!

  17. I’m not sure where you are getting your info, but good topic. I needs to spend some time learning more or understanding more. Thanks for great information I was looking for this information for my mission.

  18. Soon after study a number of of the blog posts in your web-site now, and I genuinely like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web page list and will likely be checking back soon. Pls have a look at my website at the same time and let me know what you feel.

LEAVE A REPLY