Home अख़बार जनसत्‍ता के संपादकीय विभाग में कौन है असंवैधानिक सलवा जुड़ुम का हमदर्द?

जनसत्‍ता के संपादकीय विभाग में कौन है असंवैधानिक सलवा जुड़ुम का हमदर्द?

SHARE

जनसत्‍ता में आजकल पहला संपादकीय कौन लिख रहा है, इसका जवाब जानना दिलचस्‍प हो सकता है। वैसे हो कोई भी, लेकिन पक्‍का है कि उस आदमी को न तो ख़बर की जानकारी है, न संविधान का ज्ञान और न ही इस देश की न्‍यायपालिका का सम्‍मान है। वह कोई विशुद्ध लंपट भक्‍त होगा जो सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना अपने लिखे संपादकीय में कर रहा है और वो इतना नादान भी है कि उसे इसका अंदाज़ा तक नहीं है।


संदर्भ के लिए गुरुवार यानी आज का जनसत्‍ता देखें जिसका पहला संपादकीय है ”नक्‍सली नासूर”। शुरुआती छह पंक्तियों के बाद यह संपादकीय कहता है, ”छत्‍तीसगढ़ में नक्‍सली प्रभाव समाप्‍त करने के मकसद से सलवा जुड़ुम जैसे प्रयोग किए गए, सुरक्षा बलों को अधिक चौकस बनाने का प्रयास किया गया, मगर इन सबका कोई खास असर नहीं दिखा।”

इस संपादक (जो अधिकतम सहायक संपादक या सह-संपादक के पद पर होगा) को सलवा जुड़ुम एक ”प्रयोग” दिखता है और इसे दुख है कि ऐसे ‘प्रयोग’ का ”कोई खास असर नहीं दिखा”। लगता है इसने बरसों पहले अख़बार पढ़ना छोड़ दिया है, वरना इसे पता होता कि सुप्रीम कोर्ट पांच साल पहले सलवा जुड़ुम को ”गैर-कानूनी और असंवैधानिक” ठहरा चुका है।

jan

प्रोफेसर नंदिनी सुंदर और अन्‍य द्वारा सु्प्रीम कोर्ट में सलवा जुड़ुम के खिलाफ़ दाखिल एक रिट याचिका पर जस्टिस सुदर्शन रेड्डी और एसएस निज्‍जर ने जुलाई 2011 में ही फैसला सुनाते हुए इस अभियान को ”गैर-कानूनी और असंवैधानिक” ठहरा दिया था और इसके तहत भर्ती किए गए एसपीओ यानी ‘कोया कमांडो’ को तुरंत निरस्‍त्र करने का राज्‍य सरकार को आदेश दिया था।

एक राष्‍ट्रीय अखबार के संपादकीय में सुप्रीम कोर्ट द्वारा असंवैधानिक ठहराए गए एक कृत्‍य को ‘प्रयोग’ का नाम देना और उसके नाकाम रहने पर अफ़सोस  की शैली में बात करना संवैधानिक अपराध माना जाना चाहिए। यह संपादकीय प्रेस परिषद में एक औपचारिक शिकायत की मांग करता है।

बहरहाल, इतने बड़े ब्‍लंडर के बाद ज़ाहिर है कि संपादक को आगे और फिसलना था, सो वे फिसले हैं। वे दूसरे पैरा में कहते हैं, ”नक्‍सलियों की लड़ाई सैद्धांतिक स्‍तर पर शुरू हुई थी, पर अब वह अपनी दिशा खो चुकी है। उनके विभिन्‍न संगठनों से तालमेल हो चुके हैं जहां से उन्‍हें गुरिल्‍ला प्रशिक्षण और साजो-सामान उपलब्‍ध हो रहे हैं।” नक्‍सलियों की लड़ाई की दिशा जब ‘खोई’ नहीं थी तब क्‍या यह संपादक नक्‍सलियों के समर्थक हुआ करते थे जो वे अफ़सोस जता रहे हैं? जैसा कि ठीक पहले की पंक्ति में इन्‍होंने कहा है, अगर ”नक्‍सल समस्‍या पर काबू न पाए जा सकने का बड़ा कारण सरकार का उनके साथ बातचीत का व्‍यावहारिक सिलसिला शुरू न कर पाना है और उन्‍हें विश्‍वास में न ले पाना है” तो अचानक उछलकर सिद्धांत बनाम व्‍यवहार के सवाल आ जाने का क्‍या मतलब है।

एक पंक्ति में संवादहीनता के लिए सरकार को दोषी ठहराते हुए दूसरी पंक्ति में नक्‍सलियों के सिद्धांतच्‍युत होने की बात करना एक बेहद भ्रमित मस्तिष्‍क की ही उपज हो सकता है जो अपने लिखे को लीपने-पोतने की कोशिश में सब गुड़गोबर कर देता है।

खैर, नक्‍सलियों के किन संगठनों से तालमेल हो चुके हैं जो उन्‍हें प्रशिक्षण और साजो-सामाना मुहैया करा रहे हैं? इसका स्रोत क्‍या है लेखक के पास? क्‍या उन्‍हें इन संगठनों के नाम पता हैं? एक संपादकीय में ऐसी हलकी बात बिना स्रोत के कहने की छूट कैसे ली जा सकती है? चूंकि उन्‍हें स्रोत नहीं बताना, इसलिए वे अगली ही पंक्ति में कहते हैं, ”यह भी छिपी बात नहीं है…।” यानी वे मानकर चल रहे हैं कि वे जो कह रहे हैं वह पब्लिक डोमेन का हिस्‍सा है और सारे पाठक उसे जानते हैं। इसे कहते हैं विशुद्ध प्रोपगेंडा लेखन, जिसमें जो बात दिमाग में डाली जानी होती है उसका स्रोत बताए बगैर यह कह दिया जाता है कि यह तो सर्वज्ञात तथ्‍य है।

आगे देखिए, ”सुरक्षा बल उनकी लड़ाई को कमज़ोर करने में स्‍थानीय लोगों का विश्‍वास नहीं जीत पा रहे हैं…।” ऐसा लिखकर चुपके से यह संदेश दिया जा रहा है कि लड़ने वाले स्‍थानीय लोग नहीं, बाहरी हैं। वे बाहरी कौन हैं इस पर लेखक चुप है।

अंत तक आते-आते संपादकजी एक नादान जिज्ञासा उछालते हैं, ”पूर्वोत्‍तर के कई विद्रोही संगठन जब बातचीत के जरिए अपना हिंसक रास्‍ता छोड़ने को तैयार हो सकते हैं तो नक्‍सलियों को बातचीत के जरिए समझाना क्‍यों कठिन होना चाहिए।” कोई प्रशिक्षु पत्रकार भी बता सकता है कि पूर्वोत्‍तर और मध्‍य भारत की लड़ाई में क्‍या फ़र्क है। अगर लड़ाई का फ़र्क है, तो समाधान एक कैसे हो सकता है भला? लेकिन दिक्‍कत ये है कि संपादक महोदय ने पूर्वोत्‍तर के मामले में राष्‍ट्रीयता और जातीयता के संघर्ष का नाम ही नहीं सुना होगा। न ही उन्‍हें यह पता होगा कि मध्‍य भारत के आदिवासियों का मसला दरअसल जल, जंगल और ज़मीन की लूट का मसला है, राष्‍ट्रीयता का नहीं।

वे पूरे देश को एक लाठी से हांकने की फिराक में हैं, लेकिन उन्‍हें यह नहीं पता कि अपने ज़खीरे में से कौन सी लाठी निकालनी है। इसीलिए आरंभ में वे सलवा जुड़ुम के हिंसक प्रयोग की पैरवी करते दिखते हैं, बीच में सरकारी संवाद की बात पर आते हैं और उसके बाद सुरक्षा बलों के इंटेलिजेंस आदि से होते हुए फिर से ”व्‍यावहारिक रास्‍ता” निकालने लग जाते हैं।

सबसे दिलचस्‍प पंक्ति इस संपादकीय की आखिरी पंक्ति है, ”अगर नक्‍सल समस्‍या का बारीकी से अध्‍ययन कर व्‍यावहारिक रास्‍ता निकाला जाए तो इस हिंसक प्रवृत्ति पर काबू पाना शायद कठिन नहीं होगा।” संपादकजी को लगता है कि अब तक बारीकी से किसी ने अध्‍ययन किया ही नहीं। उन्‍हें बता दिया जाए कि 2008 में योजना आयोग की संस्‍तुति पर ग्रामीण विकास मंत्रालय ने वामपंथी चरमपंथ से प्रभावित इलाकों का एक बारीक अध्‍ययन कर के अपनी रिपोर्ट आयोग को सौंपी थी जिसमें सरकारी विकास नीतियों को माओवाद की पैदाइश का कारण बताया गया था। वह रिपोर्ट अब भी गूगल पर है, बशर्ते संपादकजी को गूगल करना आता हो। इससे ज्‍यादा बारीक सरकारी अध्‍ययन आज तक नहीं हुआ है।

बहरहाल, ऐसा लगता है कि जनसत्‍ता का यह पत्रकार संपादकीय लिखते वक्‍त बारीकी के चक्‍कर में इतना उलझ गया है कि नक्‍सली हमलों को समस्‍या बताने से शुरू कर के वह अंत में इसे ”हिंसक प्रवृत्ति” करार देता है। ”प्रवृत्ति” एक मनोवैज्ञानिक कोटि है। अगर नक्‍सली हमले सामाजिक-राजनीतिक ”समस्‍या” नहीं बल्कि ”प्रवृत्ति” हैं, तब तो बड़ी मुश्किल है। प्रवृत्तियां मरते दम तक ठीक नहीं होतीं, चाहे कुछ कर लीजिए। बेहतर होता कि संपादकजी अंत में नक्‍सलियों की मनोचिकित्‍सा का भी नुस्‍खा बतला ही देते।

एक राष्‍ट्रीय अख़बार में चाय की दुकान जैसी चर्चा की शैली में पहला संपादकीय लिखने वाले इस गैर-जिम्‍मेदार पत्रकार के ऊपर क्‍या कार्रवाई हो, यह पाठक खुद तय करें। क्‍या संपादक की शिकायत प्रेस परिषद में की जाए? क्‍या अखबार को इसकी औपचारिक शिकायत भेजी जाए? क्‍या इस पर चुप रहा जाए यह मानते हुए कि ऐसे पत्रकार भांग खाकर हर अखबार में पड़े हुए हैं और दरअसल अपनी अज्ञानता के चलते निर्दोष हैं?

29 COMMENTS

  1. You could definitely see your skills in the work you write. The world hopes for even more passionate writers like you who are not afraid to say how they believe. Always follow your heart.

  2. Hey would you mind letting me know which hosting company you’re utilizing? I’ve loaded your blog in 3 different browsers and I must say this blog loads a lot faster then most. Can you recommend a good web hosting provider at a honest price? Thank you, I appreciate it!

  3. obviously like your web-site however you need to check the spelling on several of your posts. A number of them are rife with spelling problems and I find it very troublesome to tell the truth then again I’ll surely come again again.

  4. Nice post. I used to be checking constantly this weblog and I’m inspired! Extremely helpful info particularly the last section 🙂 I handle such info a lot. I used to be seeking this particular information for a long time. Thanks and best of luck.

  5. Good info and right to the point. I am not sure if this is really the best place to ask but do you folks have any thoughts on where to hire some professional writers? Thanks in advance 🙂

  6. First off I want to say superb blog! I had a quick question which I’d like to ask if you don’t mind. I was interested to find out how you center yourself and clear your mind prior to writing. I have had trouble clearing my thoughts in getting my ideas out. I do enjoy writing but it just seems like the first 10 to 15 minutes are lost just trying to figure out how to begin. Any recommendations or tips? Many thanks!

  7. It’s really a nice and helpful piece of information. I’m glad that you shared this helpful information with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  8. Good day! I know this is kinda off topic but I was wondering if you knew where I could get a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having problems finding one? Thanks a lot!

  9. You could definitely see your skills within the paintings you write. The world hopes for even more passionate writers such as you who are not afraid to say how they believe. Always go after your heart.

  10. Howdy! I realize this is kind of off-topic however I had to ask. Does managing a well-established blog such as yours take a lot of work? I am completely new to blogging but I do write in my journal every day. I’d like to start a blog so I will be able to share my own experience and feelings online. Please let me know if you have any kind of ideas or tips for brand new aspiring bloggers. Thankyou!

  11. Valuable info. Lucky me I found your web site by accident, and I’m shocked why this accident did not happened earlier! I bookmarked it.

  12. As I website possessor I believe the content matter here is rattling fantastic , appreciate it for your hard work. You should keep it up forever! Good Luck.

  13. Hello there! This is kind of off topic but I need some guidance from an established blog. Is it hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about making my own but I’m not sure where to start. Do you have any points or suggestions? Thank you

  14. Hello this is somewhat of off topic but I was wanting to know if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding experience so I wanted to get advice from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  15. You have some really good posts and I believe I would be a good asset. I’d really like to write some content for your blog in exchange for a link back to mine. Please blast me an email if interested. Kudos!

  16. Hello everyone,. . I am looking to buy a new computer to run an Adobe CS4 Suite. Let just say the Master Suite. I’m mostly going to be running Premiere, Illustrator and Photoshop. I want a computer that is going to completely dominate without any problems whatsoever. Price is not an issue, I want to do this right. . . I want the computer to run as many applications I need at the same time flawlessly without slowing down or crashing. Any ideas?.

  17. Howdy! I’m at work surfing around your blog from my new iphone 3gs! Just wanted to say I love reading through your blog and look forward to all your posts! Keep up the excellent work!

  18. I’m extremely inspired together with your writing talents and also with the structure on your weblog. Is this a paid topic or did you customize it your self? Anyway keep up the nice quality writing, it’s uncommon to see a nice weblog like this one nowadays..

  19. I will immediately snatch your rss feed as I can’t to find your email subscription link or e-newsletter service. Do you’ve any? Please permit me understand so that I may subscribe. Thanks.

  20. hello!,I like your writing so much! share we communicate more about your article on AOL? I require an expert on this area to solve my problem. Maybe that’s you! Looking forward to see you.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.