Home अख़बार भारतीय मीडिया बनाम कश्‍मीरी मीडिया: पहली बार खड़ी हो रही एक अलंघ्‍य...

भारतीय मीडिया बनाम कश्‍मीरी मीडिया: पहली बार खड़ी हो रही एक अलंघ्‍य दीवार!

SHARE

 

कश्‍मीर में शुक्रवार 15 जुलाई की रात अख़बारों पर छापे की कार्रवाई के बाद आधिकारिक रूप से तीन दिनों तक उनके प्रकाशन पर लगी रोक के बाद अब तक स्‍थानीय पत्रकारों के अलावा कथित मुख्‍यधारा में मीडिया के किसी भी हिस्‍से की ओर से विरोध का स्‍वर नहीं उठा है। दिल्‍ली में अभिव्‍यक्ति की आज़ादी के घोषित उद्देश्‍य को लेकर बैठी संस्‍था प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने अब तक कोई निंदा बयान आदि जारी नहीं किया है।


कश्‍मीर में मीडिया पर पाबंदी के ताज़ा घटनाक्रम में एडिटर्स गिल्‍ड ऑफ इंडिया ने एक बयान जारी करते हुए इसकी निंदा की है।

 

 

 

घाटी में 1990 के बाद से वैसे तो कई बार प्रेस पर राजकीय बंदिश लगाई जा चुकी है, लेकिन पहली बार एक नई चीज़ देखने में सामने आ रही है। इस बार कश्‍मीरी मीडिया बनाम भारतीय मीडिया का एक फ़र्क पैदा हुआ है जिसे आने वाले लंबे समय तक पाटना मुश्किल होगा।

अंग्रेज़ी की पत्रिका कारवां को दिए अपने साक्षात्‍कार में कश्‍मीर रीडर के संपादक हिलाल मीर ने जो बातें कही हैं वे भारतीय मीडिया बनाम कश्‍मीरी मीडिया के अंतर को साफ़ रेखांकित करती हैं:

इसमें (प्रेस पर प्रतिबंध) आश्‍चर्य जैसी कोई बात नहीं है। वे चाहते हैं कि उनका प्रोपगेंडा तंत्र अबाध रूप से काम करता रह सके। स्‍थानीय मीडिया न केवल यहां के संकट को कवर कर रहा था बल्कि भारतीय मीडिया के प्रोपगेंडा पर भी सवाल उठा रहा था। सामान्‍य दिनों में भी वे यही करते हैं लेकिन दूसरे तरीकों से, मसलन मालिकान और संपादकों पर दबाव बनाकर। क्‍या आपको यह आश्‍चर्यजनक नहीं दिखता कि (पत्रकार) बरखा दत्‍त को 1500 लोग घायल दिखाई देते हैं- जिन्‍हें वे खुद अपनी आंखों से एसएचएमएस (श्री महाराजा हरि सिंह) अस्‍पताल में देखती हैं- और उसके बाद वे सेना के अस्‍पताल में जाती हैं जहां 14 सुरक्षाकर्मी उन्‍हें बिस्‍तरों पर आराम से बैठे हुए दिखाई देते हैं, और वे इन दोनों की आपस में तुलना कर देती हैं जैसे कि दोनों बातें समान हों?

CnixxgCWEAAvZYI

अख़बारों के दफ्तरों और छापेखानों पर 15 जुलाई की रात में छापा डाला गया और 16 जुलाई को अख़बारों के संस्‍करण नहीं छप सके। पुलिस ने छपी हुई प्रतियां ज़ब्‍त कर ली थीं। राज्य के सबसे बड़े अखबार ग्रेटर कश्‍मीर ने एक ऑनलाइन रिपोर्ट में बताया कि पुलिस ने उसके उर्दू अख़बार कश्‍मीर उज्‍़मा की 50,000 से ज्‍यादा प्रतियां ज़ब्‍त कर लीं, प्रिंटिंग प्‍लेटों को छीन लिया गया और कर्मचारियों की पिटाई की गई। जिस प्रति को ज़ब्‍त किया गया था, उसकी लीड स्‍टोरी की हेडलाइन थी ”ब्‍लडबाथ कंटीन्‍यूज़” (जारी है खूनी खेल)।

कारवां के मुताबिक शनिवार की दोपहर अख़बारों के संपादकों और मालिकान ने श्रीनगर में एक आपात बैठक बुलाई थी। एक साप्‍ताहिक पत्रिका कश्‍मीर लाइफ ने बाद में रिपोर्ट दी कि बैठक में शामिल समूह ने जब सरकारी प्रवक्‍ता से संपर्क किया तो उन्‍होंने कहा, ”अगले तीन दिनों के दौरान कश्‍मीर घाटी में अमन का माहौल बिगाड़ने की मंशा से पैदा किए जाने वाले गंभीर संकट की आशंका के मद्देनज़र कठोर कर्फ्यू लगाया जाएगा इसलिए अख़बारों के कर्मचारियों की आवाजाही और उनका वितरण मुमकिन नहीं हो पाएगा।”

 

gag

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में शुजात बुखारी की रिपोर्ट कहती है कि कश्‍मीरी प्रेस जिस आपातकाल के दौर से गुज़र रहा है, उसने स्‍वतंत्र आवाज़ों को दबाने के मामले में एक नया पैमाना कायम कर दिया है। वे कहते हैं कि अख़बारों को रोककर राज्‍य सरकार अफ़वाहों के बाज़ार के लिए ज़मीन तैयार कर रही है जो कहीं ज्‍यादा ख़तरनाक साबित हो सकता है। वे लिखते हैं, ”इतना ही नहीं, कुछ राष्‍ट्रीय टीवी चैनलों ने अपने तरीके से आग बुझाने का काम अपने हाथों में ले लिया है और यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं गोया कश्‍मीर की जनता ने एक जंग छेड़ दी है। उनकी रिपोर्ताज और हंगामेदार बहसें आग में घी डालने का काम कर रही हैं जबकि औसत कश्‍मीरी खुद को बेहद दबा हुआ महसूस कर रहा है। स्‍थानीय मीडिया इकलौता औज़ार हो सकता है जो हालात को सामान्‍य करने में मदद कर सकता है। इस फैसले के पीछे का तर्क समझ में नहीं आता कि अख़बारों के मालिकों को आधिकारिक रूप से इसकी सूचना क्‍यों नहीं प्रेषित की गई।

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। कश्‍मीर में जब-जब माहौल खराब हुआ है, कश्‍मीरी मीडिया उसका शिकार बना है। उमर अब्‍दुल्‍ला की सरकार में 2010 में तो सात दिनों तक अखबारों को नहीं छपने दिया गया था और सरकार ने डीएवीपी के विज्ञापनों के माध्‍यम से भी उन्‍हें नियंत्रित करने की कोशिश की थी। इसके अलावा भी अलग-अलग मौकों पर 2008 और 2013 में अखबारों पर रोक लगाई जा चुकी है। पहले भी दिल्‍ली में बैठे अभिव्‍यक्ति के रखवाले संस्‍थानों ने कोई आवाज़ नहीं उठाई थी और इस बार भी वे चुप हैं।

शनिवार को श्रीनगर में हुई अखबार संपादकों और मालिकान की बैठक में जो वक्‍तव्‍य जारी किया गया, वो निम्‍न है:

“कश्‍मीर स्थित अखबारों के संपादकों/मालिकों की एक आपात बैठक शनिवार दोपहर में आयोजित की गई जिसमें प्रिंटिंग प्रेसों पर पुलिस के छापे से उभरे माहौल पर खुलकर चर्चा की गई। अखबारों के प्रसार पर रोक लगाने वाली सरकार की कार्रवाई की कड़ी निंदा की गई। भागीदारों ने इसे प्रेस की आज़ादी पर हमला करार दिया और इसके खिलाफ़ हर कीमत पर लड़ने का संकल्‍प लिया। बैठक ने सरकार के इस औपचारिक प्रतिबंध की कठोर निंदा की जो न केवल निंदनीय है बल्कि एक लोकतांत्रिक ढांचे के मानकों के विपरीत है। संपादकों ने पाठकों को आश्‍वस्‍त किया कि सरकार जैसे ही प्रेस पर लगी इमरजेंसी को हटाएगी, हम अपने प्रकाशनों को चालू कर देंगे।”

इस दौरान 17 जुलाई को इंडियन जर्नलिस्‍ट्स यूनियन (आइजेयू) ने अखबारों पर छापेमारी की घटना की निंदा में एक बयान जारी किया है जिसे राइजि़ंग कश्‍मीर ने यहां छापा है। बयान के मुताबिक आइजेयू ने प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्‍यक्ष जस्टिस सीके प्रसाद को लिखा है कि वे जम्‍मू और कश्‍मीर पुलिस की इस गैर-कानूनी कार्रवाई का स्‍वत: संज्ञान लें और प्रेस की आज़ादी की सुरक्षा के लिए उपयुक्‍त कदम उठाएं।

इंडिया टुडे समूह की वेबसाइट डेलीओ पर अपने लेख में गौहर गीलानी ने नाम लेकर भारतीय टीवी चैनलों के दुष्‍प्रचार का खुलासा किया है और कहा है कि कश्‍मीर में ”इराक की तर्ज पर एम्‍बेडेड पत्रकारिता को प्रोत्‍साहित किया जा रहा है” जहां कई दक्षिणपंथी पत्रकारों को कश्‍मीर में केवल इसलिए भेजा जा रहा है ताकि वे भारत के प्रोपगेंडा को विश्‍वसनीयता प्रदान कर सकें।

गीलानी ने इस संबंध में कई ट्वीट किए हैं जिन्‍हें हम नीचे दे रहे हैं:

 

 

 

 

इस दौरान प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया के अध्‍यक्ष राहुल जलाली ने बरखा दत्‍त की पक्षपातपूर्ण पत्रकारिता पर एक लंबी टिप्‍पणी की है जिसे पढ़ा जाना चाहिए।

 

 

 

 

22 COMMENTS

  1. I just could not depart your website before suggesting that I really enjoyed the standard information a person provide for your visitors? Is gonna be back often to check up on new posts

  2. This is the precise blog for anyone who needs to find out about this topic. You notice so much its nearly onerous to argue with you (not that I actually would need…HaHa). You definitely put a new spin on a topic thats been written about for years. Nice stuff, just great!

  3. Thank you so much for giving everyone an exceptionally memorable possiblity to discover important secrets from here. It really is so beneficial and jam-packed with a lot of fun for me and my office co-workers to search your site more than three times every week to learn the latest stuff you will have. Of course, I’m certainly fascinated with your fantastic tips and hints served by you. Some two areas on this page are surely the most beneficial I’ve had.

  4. Excellent beat ! I wish to apprentice while you amend your web site, how can i subscribe for a blog web site? The account helped me a acceptable deal. I had been tiny bit acquainted of this your broadcast provided bright clear concept

  5. Most of whatever you mention is astonishingly precise and it makes me ponder why I had not looked at this with this light before. This particular piece really did turn the light on for me as far as this specific issue goes. Nonetheless at this time there is one particular issue I am not necessarily too cozy with and while I attempt to reconcile that with the actual core idea of your issue, let me see exactly what all the rest of the readers have to point out.Well done.

  6. Howdy! Quick question that’s entirely off topic. Do you know how to make your site mobile friendly? My blog looks weird when viewing from my iphone 4. I’m trying to find a template or plugin that might be able to resolve this problem. If you have any suggestions, please share. Cheers!

  7. I’m extremely impressed with your writing skills as well as with the layout on your weblog. Is this a paid theme or did you modify it yourself? Anyway keep up the excellent quality writing, it’s rare to see a nice blog like this one today..

  8. I wish to express some appreciation to you for bailing me out of such a setting. As a result of surfing around throughout the search engines and obtaining proposals that were not powerful, I figured my entire life was well over. Living without the answers to the issues you have resolved by way of this short post is a critical case, as well as the kind which might have in a negative way damaged my entire career if I had not noticed your website. Your own understanding and kindness in playing with all the things was excellent. I’m not sure what I would’ve done if I hadn’t come across such a stuff like this. I am able to at this time look forward to my future. Thank you very much for the high quality and results-oriented help. I won’t think twice to suggest the blog to any individual who requires guidelines on this problem.

  9. Thanks a bunch for sharing this with all of us you really know what you’re talking about! Bookmarked. Kindly also visit my site =). We could have a link exchange contract between us!

  10. I like the helpful info you provide in your articles. I will bookmark your blog and check again here regularly. I’m quite sure I will learn a lot of new stuff right here! Best of luck for the next!

  11. I just couldn’t depart your web site prior to suggesting that I extremely enjoyed the standard info a person provide for your visitors? Is gonna be back often to check up on new posts

  12. Its like you read my mind! You seem to know so much about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with a few pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is wonderful blog. A great read. I’ll certainly be back.

  13. It’s a shame you don’t have a donate button! I’d without a doubt donate to this superb blog! I suppose for now i’ll settle for book-marking and adding your RSS feed to my Google account. I look forward to fresh updates and will talk about this site with my Facebook group. Talk soon!

  14. Heya i am for the first time here. I came across this board and I in finding It truly helpful & it helped me out a lot. I am hoping to offer one thing again and aid others like you aided me.

  15. What’s Happening i am new to this, I stumbled upon this I’ve found It absolutely helpful and it has helped me out loads. I hope to contribute & aid other users like its aided me. Great job.

  16. Can I simply say what a relief to search out someone who actually is aware of what theyre speaking about on the internet. You undoubtedly know how you can deliver a difficulty to gentle and make it important. More people must read this and perceive this side of the story. I cant believe youre not more popular because you undoubtedly have the gift.

  17. Whoa! This blog looks exactly like my old one! It’s on a completely different subject but it has pretty much the same layout and design. Excellent choice of colors!

LEAVE A REPLY