Home अख़बार TOI के मालिक विनीत जैन को देख अखिलेश यादव को याद आया...

TOI के मालिक विनीत जैन को देख अखिलेश यादव को याद आया सुल्ताना (डाकू) !

SHARE

उत्तर प्रदेश के ‘समाजवादी’ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के एम.डी विनीत जैन को देखकर सुल्ताना डाकू की याद क्यों आई ? क्या 16 महीने के रिकॉर्ड समय में तैयार हुई ग्रेटर नोएडा की बेनेट युनवर्सिटी को वे वाक़ई ‘कॉरपोरेट दुकान’ मानते हैं जहाँ बड़े पैमाने पर शिक्षा की ख़रीद फ़रोख़्त होगी। क्या उन्होंने किसी किताब में डॉ.लोहिया का वह नारा पढ़ लिया है जिसमें कहा गया था कि ‘राष्ट्रपति का बेटा हो या चपरासी की सन्तान, सबको शिक्षा एक समान !

क़िस्सा 21 अगस्त का है, जब लखनऊ के 5, कालीदास मार्ग यानी अपने आवास पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बैनेट युनिवर्सिटी का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में यूपी के मुख्य सचिव दीपक सिंघन ने युनिवर्सिटी के चांसलर और टाइम्स ग्रुप के एमडी विनीत जैन का यूपी से पुराना रिश्ता बताते हुए उनके कुल को बिजनौर के नजीबाबाद से जोड़ा। जब बारी आई अखिलेश यादव की तो उन्होंने हँसते हुए कहा कि नजीबाबाद का ‘सुल्ताना’ भी था। किसी ने नीचे से आवाज़ लगाई कि पूरा नाम लीजिए लेकिन अखिलेश सुल्ताना के आगे ‘डाकू’ कहने से परहेज़ कर गये। वहाँ तमाम पत्रकार मौजूद थे और अखिलेश का यह तंज चर्चा का विषय बन गया।

तो क्या अखिलश की नज़र में बतौर पत्रकारिता संस्थान इस ग्रुप की कोई इज़्ज़त नहीं है ? टाइम्स ग्रुप को युनिवर्सिटी के लिए ग्रेटर नोएडा में बेशकीमती ज़मीन देने वाले अखिलेश http://www.achaten-suisse.com/ ने देखा है कि कैसे इस मेहरबानी के बाद अख़बार के सुर पूरी तरह बदल गये। जैसे-जैसे युनिवर्सिटी का काम बढ़ा, अख़बार सरकार के सामने बिछता चला गया। टाइम्स ऑफ इंडिया के लखनऊ संस्करण में तो प्रदेश सरकार के ख़िलाफ एक शब्द भी छपना कुफ़्र समझा जाने लगा। ख़ुद विनीत जैन ने ट्वीट करके अखिलेश यादव की तारीफ़ की और मुख्यमंत्री के तमाम ‘एवज़ी’ इंटरव्यू टाइम्स ऑफ इंडिया में छपे। नतीजा, कभी सरकार का गिरहबान पकड़ने वाले इस अख़बार की पहचान सरकारी भोंपू की बन गई।

बहरहाल, विनीत जैन कुशल व्यापारी हैं। वे ऐलानिया बता चुके हैं कि उनका अखबार विज्ञापन के लिए छपता है। ख़बरें तो बीच की खाली जगह भरने के लिए होती हैं। यही वजह है कि टाइम्स ग्रुप, समाजवादी पार्टी के साथ-साथ बीजेपी को भी साधने में कोताही नहीं करता। बीजेपी और समाजवादी पार्टी की कोशिश यह बताने की है कि यूपी में 2017 के विधानसभा चुनाव में उनके बीच ही सीधा मुक़ाबला है और अख़बार इसी लाइन पर काम कर रहा है।

times pathak entry

 

23 अगस्त को छपा लखनऊ एडिशन इसका सबूत है। पहले पन्ने पर ब्रजेश पाठक के बीएसपी छोड़ने की ख़बर को लीड बनाया गया है। ब्रजेश पाठक बीएसपी के मौजूदा विधायक और सांसद भी नहीं हैं और न ही संगठन में उनकी कोई ख़ास हैसियत रही है, लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया उन्हें पार्टी का ब्राह्मण चेहरा बताते हुए पहले पन्ने की लीड बनाता है जबकि आगरा में पाँच लाख लोगों की रैली करने वाली मायावती की ख़बर पेज नंबर चार पर औपचारिकता की तरह छापी जाती है। यह ‘संपादकीय विवेक’ ऐसा है जिस पर अखिलेश यादव और अमित शाह, दोनों शाबाशी देंगे।

वैसे, विनीत जैन की सुल्ताना डाकू से तुलना करना सरासर ग़लत है।  लोकजीवन में सुल्ताना की छवि रॉबिनहुड सरीखे नायक की है जो अमीरों को लूटकर ग़रीबों में बाँट देता था। जबकि बेनेट युनवर्सिटी में ग़रीबों के लिए कोई जगह नहीं है। टाइम्स ग्रुप की चिंता में ग़रीब नहीं, अमीर और अमीरी ही है।

जनता के अपार समर्थन की वजह से अंग्रेज़ लंबे समय तक सुल्ताना को गिरफ़्तार नहीं कर सके थे। इसके लिए फ्रायड यंग नाम के एक पुलिस अधिकारी को लंदन से बुलाया गया था। यंग ने 300 जवानों के साथ महीनों की मेहनत के बाद 14 दिसंबर 1923 को नजीबाबाद के जंगल में सुल्ताना गिरफ्तार किया। बाद में सुल्ताना को फाँसी दे दी गई थी। टाइम्स ऑफ इंडिया तब भी छपता था और भारत में अंग्रेज़ी राज को ईश्वर का वरदान बताता रहता था।

 

वैसे पकड़े तो बेनेट एंड कोलमेन वाले भी गए हैं। 1946 में कंपनी खरीदने वाले कारोबारी रामकृष्ण डालमिया को हेराफेरी के जुर्म में दो साल तिहाड़ जेल में बिताने पड़े। उनके दामाद और कंपनी के सर्वेसर्वा शांति प्रसाद जैन न्यूज़प्रिंट की कालाबाज़ारी के मामले में जेल गए और उनके बेटे अशोक जैन (विनीत जैन और समीर जैन के पिता) पर मनी लांड्रिग का आरोप लगा। प्रवर्तन निदेशालय पीछे पड़ा तो वे विदेश भाग गए और कहा जाता है कि वहीं उनकी मृत्यु भी हो गई। बहरहाल, इस सबके बावजूद टाइम्स ग्रुप दिन दूनी-रात चौगुनी तरक्की करता रहा और आज वह देश की सबसे बड़ी मीडिया कंपनी है।

 

टाइम्स की तुलना सुल्ताना से कैसे हो सकती है। उसे तो फाँसी लगी थी। नीचे देखिये, गिरफ़्तारी के बाद बेड़ियों में जकड़े सुल्ताना डाकू की एक दुर्लभ तस्वीर जो अमीरों को लूटता था और ग़रीबो में बाँटता था —

sultana

24 COMMENTS

  1. Can I just say what a relief to locate someone who basically knows what theyre talking about on the web. You definitely know the best way to bring an concern to light and make it crucial. Much more persons need to read this and have an understanding of this side of the story. I cant think youre not a lot more popular due to the fact you definitely have the gift.

  2. Greetings from California! I’m bored to tears at work so I decided to check out your site on my iphone during lunch break. I really like the knowledge you provide here and can’t wait to take a look when I get home. I’m shocked at how quick your blog loaded on my cell phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyhow, superb site!

  3. Hi there! Do you know if they make any plugins to assist with Search Engine Optimization? I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good results. If you know of any please share. Cheers!

  4. I’m impressed, I should say. Actually hardly ever do I encounter a weblog that is each educative and entertaining, and let me tell you, you have got hit the nail on the head. Your concept is outstanding; the problem is some thing that not sufficient men and women are speaking intelligently about. I’m incredibly pleased that I stumbled across this in my search for one thing relating to this.

  5. Can I just say what a relief to find an individual who really knows what theyre talking about online. You certainly know tips on how to bring an issue to light and make it vital. More individuals really need to read this and realize this side of the story. I cant think youre not more favorite simply because you undoubtedly have the gift.

  6. I think this is among the most significant information for me. And i am glad reading your article. But should remark on few general things, The web site style is perfect, the articles is really great : D. Good job, cheers

  7. Do you have a spam problem on this website; I also am a blogger, and I was wondering your situation; we have created some nice methods and we are looking to exchange solutions with other folks, be sure to shoot me an email if interested.

  8. This can be the correct blog for everyone who desires to locate out about this topic. You realize so much its pretty much difficult to argue with you (not that I in fact would want…HaHa). You certainly put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Fantastic stuff, just good!

  9. Great goods from you, man. I have consider your stuff previous to and you are just extremely wonderful. I actually like what you have received here, really like what you are saying and the way in which wherein you assert it. You are making it enjoyable and you continue to take care of to keep it smart. I cant wait to read far more from you. That is actually a tremendous website.

  10. An intriguing discussion is worth comment. I think which you must write extra on this topic, it could not be a taboo topic but frequently people aren’t sufficient to speak on such topics. Towards the next. Cheers

  11. An attention-grabbing discussion is price comment. I believe that you should write extra on this topic, it might not be a taboo topic however typically individuals are not enough to talk on such topics. To the next. Cheers

  12. There are some interesting cut-off dates in this article however I don’t know if I see all of them heart to heart. There’s some validity but I’ll take maintain opinion till I look into it further. Good article , thanks and we would like extra! Added to FeedBurner as properly

  13. The post is absolutely fantastic! Lots of great info and inspiration, both of which we all need! Also like to admire the time and effort you put into your blog and detailed info you offer! I will bookmark your website!

  14. I haven’t checked in here for a while because I thought it was getting boring, but the last several posts are good quality so I guess I will add you back to my everyday bloglist. You deserve it my friend 🙂

  15. Hey There. I found your weblog using msn. This is a really neatly written article. I’ll make sure to bookmark it and come back to read more of your helpful information. Thank you for the post. I will definitely comeback.

  16. I cling on to listening to the news speak about getting free online grant applications so I have been looking around for the most excellent site to get one. Could you tell me please, where could i find some?

  17. I cherished as much as you’ll receive carried out right here. The comic strip is tasteful, your authored material stylish. however, you command get bought an nervousness over that you wish be delivering the following. in poor health for sure come further before again since precisely the similar nearly very frequently inside of case you shield this increase.

  18. I’ve been exploring for a little for any high quality articles or blog posts in this sort of space . Exploring in Yahoo I at last stumbled upon this web site. Reading this information So i’m satisfied to show that I’ve an incredibly just right uncanny feeling I found out exactly what I needed. I such a lot no doubt will make certain to don’t disregard this website and give it a glance regularly.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.