Home ओप-एड पढ़िये ‘स्वातंत्र्य वीर’ सावरकर का अंग्रेज़ों से माफ़ी माँगने वाला पत्र

पढ़िये ‘स्वातंत्र्य वीर’ सावरकर का अंग्रेज़ों से माफ़ी माँगने वाला पत्र

SHARE

विनायक दामोदर सावरकर का जन्मदिन है 28 मई। आरएसएस और बीजेपी के प्रेरणापुरुष की वीरता के बारे में तमाम कथाएँ सत्ता पोषित मीडिया में तैर रही हैं। बड़े-बड़े मंत्री और नेता उनके गुण गा रहे हैं, लेकिन कोई ये नहीं बताता कि गाँधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के गुरु सावरकर ने बाकायदा अंग्रेजों से माफी मांगकर जेल से रिहायी पायी थी। यही नही, अगले तीन दशक तक लगातार हिंदू-मुसलमानों के बीच वैरभाव बढ़ाने वाली राजनीति करके अंग्रेजों का हित साधते रहे। यह ऐतिहासिक तथ्य है कि पाकिस्तान का प्रस्ताव पारित होते समय 1940 के मुस्लिम लीग के अधिवेशन में जिन्ना ने सावरकर को द्विराष्ट्रवाद का सिद्धांत देने के लिए धन्यवाद दिया था। 

इसमें शक नहीं कि जेल जाने से पहले सावरकर का जीवन वाकई एक क्रांतिकारी का जीवन था, लेकिन जेल की कठिनाइयों के सामने उनकी वीरता धरी रह गई, जबकि हज़ारों अन्य स्वतंत्रता आंदोलन बहादुरी से हर अत्याचार सह रहे थे और कालापानी से निकलने के लिए उन्होंने माफी नहीं मांगी। कई तो वहीं शहीद हो गये।

सावरकर ने अंग्रेज़ों को तमाम माफ़ीनामे लिखे, अपने अपराधों के लिए क्षमा माँगी, वफ़ादारी का भरोसा दिलाया  और कहा कि सरकार उनका ‘जैसा चाहे वैसा उपयोग ‘कर सकती है। वे नौजवानों को विद्रोह के रास्ते से अलग करके अंग्रेज सरकार के पक्ष में लाएँगे। हुआ भी। उन्हें आज़ाद कर दिया गया और वे जीवन भर हिंदुओं और मुसलमानों को में जुटे रहे जैसा कि अंग्रेज चाहते थे। 

दूसरी तरफ़ भगत सिंह थे जिन्हें फाँसी दी गई तो उन्होंने अंग्रेजों को लिखित प्रतिवेदन दिया कि उन्हें गोली से उड़ाया जाए क्योंकि वे युद्धबंदी हैं। 

सवाल है कि लड़ाई से पीठ दिखाने वाले को ‘स्वातंत्र्य वीर’ क्हने का क्या तुक है?  यह नहीं भूलना चाहिए कि जस्टिस जीवनलाल कपूर कमीशन ने गाँधी जी की हत्या का मुख्य षड़यंत्रकारी सावरकर को ही सिद्द किया था। इसके पहले वायदामाफ़ गवाह की गवाही के बावजूद उसे सिद्ध करने वाले दूसरी गवाही न मिलने की वजह से सावरकर संदेह को  लाभ देकर अदालत ने छोड़ दिया था।  पढ़िए,सावरकर का वह माफ़ीनामा और तय कीजिए कि वे किस कदर ‘वीर’ थे यह 1913 की याचिका है। ऐसी न जाने कितनी याचिकाएँ वे लगातार लिखते रहे-

-संपादक


 


सेवा में, गृह सदस्य, भारत सरकार

मैं आपके सामने दयापूर्वक विचार के लिए निम्नलिखित बिंदु प्रस्तुत करने की याचना करता हूं:(1) 1911 के जून में जब मैं यहां आया, मुझे अपनी पार्टी के दूसरे दोषियों के साथ चीफ कमिश्नर के ऑफिस ले जाया गया. वहां मुझे ‘डी’ यानी डेंजरस (ख़तरनाक) श्रेणी के क़ैदी के तौर पर वर्गीकृत किया गया; बाक़ी दोषियों को ‘डी’ श्रेणी में नहीं रखा गया. उसके बाद मुझे पूरे छह महीने एकांत कारावास में रखा गया. दूसरे क़ैदियों के साथ ऐसा नहीं किया गया. उस दौरान मुझे नारियल की धुनाई के काम में लगाया गया, जबकि मेरे हाथों से ख़ून बह रहा था. उसके बाद मुझे तेल पेरने की चक्की पर लगाया गया जो कि जेल में कराया जाने वाला सबसे कठिन काम है. हालांकि, इस दौरान मेरा आचरण असाधारण रूप से अच्छा रहा, लेकिन फिर भी छह महीने के बाद मुझे जेल से रिहा नहीं किया गया, जबकि मेरे साथ आये दूसरे दोषियों को रिहा कर दिया गया. उस समय से अब तक मैंने अपना व्यवहार जितना संभव हो सकता है, अच्छा बनाए रखने की कोशिश की है.

(2) जब मैंने तरक्की के लिए याचिका लगाई, तब मुझे कहा गया कि मैं विशेष श्रेणी का क़ैदी हूं और इसलिए मुझे तरक्की नहीं दी जा सकती. जब हम में से किसी ने अच्छे भोजन या विशेष व्यवहार की मांग की, तब हमें कहा गया कि ‘तुम सिर्फ़ साधारण क़ैदी हो, इसलिए तुम्हें वही भोजन खाना होगा, जो दूसरे क़ैदी खाते हैं.’ इस तरह श्रीमान आप देख सकते हैं कि हमें विशेष कष्ट देने के लिए हमें विशेष श्रेणी के क़ैदी की श्रेणी में रखा गया है.

(3) जब मेरे मुक़दमे के अधिकतर लोगों को जेल से रिहा कर दिया गया, तब मैंने भी रिहाई की दरख़्वास्त की. हालांकि, मुझ पर अधिक से अधिक तो या तीन बार मुक़दमा चला है, फिर भी मुझे रिहा नहीं किया गया, जबकि जिन्हें रिहा किया गया, उन पर तो दर्जन से भी ज़्यादा बार मुक़दमा चला है. मुझे उनके साथ इसलिए नहीं रिहा गया क्योंकि मेरा मुक़दमा उनके साथ चल रहा था. लेकिन जब आख़िरकार मेरी रिहाई का आदेश आया, तब संयोग से कुछ राजनीतिक क़ैदियों को जेल में लाया गया, और मुझे उनके साथ बंद कर दिया गया, क्योंकि मेरा मुक़दमा उनके साथ चल रहा था.

(4) अगर मैं भारतीय जेल में रहता, तो इस समय तक मुझे काफ़ी राहत मिल गई होती. मैं अपने घर ज़्यादा पत्र भेज पाता; लोग मुझसे मिलने आते. अगर मैं साधारण और सरल क़ैदी होता, तो इस समय तक मैं इस जेल से रिहा कर दिया गया होता और मैं टिकट-लीव की उम्मीद कर रहा होता. लेकिन, वर्तमान समय में मुझे न तो भारतीय जेलों की कोई सुविधा मिल रही है, न ही इस बंदी बस्ती के नियम मुझ पर पर लागू हो रहे हैं. जबकि मुझे दोनों की असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है.

(5) इसलिए हुजूर, क्या मुझे भारतीय जेल में भेजकर या मुझे दूसरे क़ैदियों की तरह साधारण क़ैदी घोषित करके, इस विषम परिस्थिति से बाहर निकालने की कृपा करेंगे? मैं किसी तरजीही व्यवहार की मांग नहीं कर रहा हूं, जबकि मैं मानता हूं कि एक राजनीतिक बंदी होने के नाते मैं किसी भी स्वतंत्र देश के सभ्य प्रशासन से ऐसी आशा रख सकता था. मैं तो बस ऐसी रियायतों और इनायतों की मांग कर रहा हूं, जिसके हक़दार सबसे वंचित दोषी और आदतन अपराधी भी माने जाते हैं. मुझे स्थायी तौर पर जेल में बंद रखने की वर्तमान योजना को देखते हुए मैं जीवन और आशा बचाए रखने को लेकर पूरी तरह से नाउम्मीद होता जा रहा हूं. मियादी क़ैदियों की स्थिति अलग है. लेकिन श्रीमान मेरी आंखों के सामने 50 वर्ष नाच रहे हैं. मैं इतने लंबे समय को बंद कारावास में गुजारने के लिए नैतिक ऊर्जा कहां से जमा करूं, जबकि मैं उन रियायतों से भी वंचित हूं, जिसकी उम्मीद सबसे हिंसक क़ैदी भी अपने जीवन को सुगम बनाने के लिए कर सकता है? या तो मुझे भारतीय जेल में भेज दिया जाए, क्योंकि मैं वहां

(ए) सज़ा में छूट हासिल कर सकता हूं;

(बी) वहां मैं हर चार महीने पर अपने लोगों से मिल सकूंगा. जो लोग दुर्भाग्य से जेल में हैं, वे ही यह जानते हैं कि अपने सगे-संबंधियों और नज़दीकी लोगों से जब-तब मिलना कितना बड़ा सुख है!

(सी) सबसे बढ़कर मेरे पास भले क़ानूनी नहीं, मगर 14 वर्षों के बाद रिहाई का नैतिक अधिकार तो होगा.

या अगर मुझे भारत नहीं भेजा सकता है, तो कम से कम मुझे किसी अन्य क़ैदी की तरह जेल के बाहर आशा के साथ निकलने की इजाज़त दी जाए, 5 वर्ष के बाद मुलाक़ातों की इजाज़त दी जाए, मुझे टिकट लीव दी जाए, ताकि मैं अपने परिवार को यहां बुला सकूं. अगर मुझे ये रियायतें दी जाती हैं, तब मुझे सिर्फ़ एक बात की शिकायत रहेगी कि मुझे सिर्फ़ मेरी ग़लती का दोषी मान जाए, न कि दूसरों की ग़लती का. यह एक दयनीय स्थिति है कि मुझे इन सारी चीज़ों के लिए याचना करनी पड़ रही है, जो सभी इनसान का मौलिक अधिकार है! ऐसे समय में जब एक तरफ यहां क़रीब 20 राजनीतिक बंदी हैं, जो जवान, सक्रिय और बेचैन हैं, तो दूसरी तरफ बंदी बस्ती के नियम-क़ानून हैं, जो विचार और अभिव्यक्ति की आज़ादी को न्यूनतम संभव स्तर तक महदूर करने वाले हैं; यह अवश्यंवभावी है कि इनमें से कोई, जब-तब किसी न किसी क़ानून को तोड़ता हुआ पाया जाए. अगर ऐसे सारे कृत्यों के लिए सारे दोषियों को ज़िम्मेदार ठहराया जाए, तो बाहर निकलने की कोई भी उम्मीद मुझे नज़र नहीं आती.

अंत में, हुजूर, मैं आपको फिर से याद दिलाना चाहता हूं कि आप दयालुता दिखाते हुए सज़ा माफ़ी की मेरी 1911 में भेजी गयी याचिका पर पुनर्विचार करें और इसे भारत सरकार को फॉरवर्ड करने की अनुशंसा करें.

भारतीय राजनीति के ताज़ा घटनाक्रमों और सबको साथ लेकर चलने की सरकार की नीतियों ने संविधानवादी रास्ते को एक बार फिर खोल दिया है. अब भारत और मानवता की भलाई चाहने वाला कोई भी व्यक्ति, अंधा होकर उन कांटों से भरी राहों पर नहीं चलेगा, जैसा कि 1906-07 की नाउम्मीदी और उत्तेजना से भरे वातावरण ने हमें शांति और तरक्की के रास्ते से भटका दिया था.

इसलिए अगर सरकार अपनी असीम भलमनसाहत और दयालुता में मुझे रिहा करती है, मैं आपको यक़ीन दिलाता हूं कि मैं संविधानवादी विकास का सबसे कट्टर समर्थक रहूंगा और अंग्रेज़ी सरकार के प्रति वफ़ादार रहूंगा, जो कि विकास की सबसे पहली शर्त है.

जब तक हम जेल में हैं, तब तक महामहिम के सैकड़ों-हजारें वफ़ादार प्रजा के घरों में असली हर्ष और सुख नहीं आ सकता, क्योंकि ख़ून के रिश्ते से बड़ा कोई रिश्ता नहीं होता. अगर हमें रिहा कर दिया जाता है, तो लोग ख़ुशी और कृतज्ञता के साथ सरकार के पक्ष में, जो सज़ा देने और बदला लेने से ज़्यादा माफ़ करना और सुधारना जानती है, नारे लगाएंगे.

इससे भी बढ़कर संविधानवादी रास्ते में मेरा धर्म-परिवर्तन भारत और भारत से बाहर रह रहे उन सभी भटके हुए नौजवानों को सही रास्ते पर लाएगा, जो कभी मुझे अपने पथ-प्रदर्शक के तौर पर देखते थे. मैं भारत सरकार जैसा चाहे, उस रूप में सेवा करने के लिए तैयार हूं, क्योंकि जैसे मेरा यह रूपांतरण अंतरात्मा की पुकार है, उसी तरह से मेरा भविष्य का व्यवहार भी होगा. मुझे जेल में रखने से आपको होने वाला फ़ायदा मुझे जेल से रिहा करने से होने वाले होने वाले फ़ायदे की तुलना में कुछ भी नहीं है.

जो ताक़तवर है, वही दयालु हो सकता है और एक होनहार पुत्र सरकार के दरवाज़े के अलावा और कहां लौट सकता है. आशा है, हुजूर मेरी याचनाओं पर दयालुता से विचार करेंगे.

वी.डी. सावरकर

(स्रोत — आर.सी मजूमदार, पीनल सेटलमेंट्स इन द अंडमान्स, प्रकाशन विभाग, 1975)

 

 



 

4 COMMENTS

  1. Mediavigil बहुत अच्छा लेख लिखा है और लगे रहिए हम आपके लेख पढ़ते रहेंगे। सावरकर पर और विस्तार से लिखिए ताकि हर कोई जान सके कि किस प्रकार सावरकर ने अंग्रेजों की वफादारी की, हिंदू मुस्लिम सांप्रदायिकता को बढ़ावा दिया, और स्वतंत्रता आंदोलन से गद्दारी की। जो आज सावरकर को देशभक्त मानते हैं उनको बताओं सच , इतिहास के पन्ने खोलो।

  2. पवन डाहाके

    जिस किसी कम्युनिष्ट कामरेड ने लिखा, बहुत सोच समझ कर लिखा, परंतु यदि, सावरकर का वो पत्र भी जोड़ देते, तो लोगो को यह लेख सच भी लगता।
    तब तो, यह महज ख्याली पुलाव से ज्यादा कुछ भी नही लगता।
    वैसे भी कम्युनिष्ट लोग बड़े ही बदनाम है, इतिहास में झूठ फैलाने के लिए। हर झूठ कम्युनिस्टों के माथे का कलंक साबित हो जाता है, फिर, कम्युनिष्ट कहीं मुँह दिखाने लायक नही होता।
    कहीं, ये इतना बड़ा लेख, कोरी बकवास् ना साबित हो जाये।
    भई, कभी तो वो लेटर भी दिखाओ …तभी तो आप सच्चे साबित होंगे।

    • Source bhi diya hai lekin Andbhakt jhopdike kabhi nahi manenge
      आर.सी मजूमदार, पीनल सेटलमेंट्स इन द अंडमान्स, प्रकाशन विभाग, 1975)

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.