Home ख़बर कैंपस मानसून सत्र के पहले दिन 14 सितंबर को होगी वर्चुअल युवा संसद:...

मानसून सत्र के पहले दिन 14 सितंबर को होगी वर्चुअल युवा संसद: युवा हल्ला बोल

14 सिंतबर यानी कल से संसद का मानसून सत्र भी शुरू हो रहा है। मानसून सत्र के पहले दिन जब देश की संसद में चर्चा शुरू होगी ठीक उसी समय बेरोज़गारी पर काम करने वाले दर्जन भर समूहों के प्रतिनिधि एक वर्चुल युवा संसद में हिस्सा ले रहे होंगे। 'युवा हल्ला बोल' के फेसबुक पेज पर आयोजित होने वाले इस 'युवा संसद' में रोज़गार को मौलिक अधिकार बनाने के सवाल पर चर्चा होगी।

SHARE

कोरोना की महामारी के दौर में बढ़ती बेरोज़गारी अत्यंत चिंताजनक है। पिछले कई दिनों से युवाओं का आक्रोश सोशल मीडिया पर दिख रहा है। ट्विटर तो मानो बेरोज़गार युवाओं का धरना स्थल बन गया है। इसी बीच बेरोज़गारी के मुद्दे पर प्रमुखता से काम करने वाले संगठन ‘युवा हल्ला बोल’ के फेसबुक पेज पर ‘युवा संसद’ का आयोजन किया जा रहा है।

बता दें कि कल यानी 14 सिंतबर से संसद का मानसून सत्र भी शुरू हो रहा है। मानसून सत्र के पहले दिन जब देश की संसद में चर्चा शुरू होगी ठीक उसी समय बेरोज़गारी पर काम करने वाले दर्जन भर समूहों के प्रतिनिधि एक वर्चुल युवा संसद में हिस्सा ले रहे होंगे। ‘युवा हल्ला बोल’ के फेसबुक पेज पर आयोजित होने वाले इस ‘युवा संसद’ में रोज़गार को मौलिक अधिकार बनाने के सवाल पर चर्चा होगी।

‘युवा हल्ला बोल’ के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर गोविन्द मिश्रा ने बताया कि बढ़ती बेरोज़गारी के मुद्दे पर सरकार बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। ऐसे में सरकार को उन्हीं की भाषा में समझाने के लिए हम अलग अलग तरीके अपना रहे हैं। पहले ताली-थाली बजाकर सरकार को जगाया, फिर दिया जला कर युवा एकजुटता दिखाई और अब 17 सितंबर को जुमला दिवस मना कर सरकार को अपना संदेश देंगे। इसी के तहत सोमवार 14 सितंबर को ‘युवा संसद’ आयोजित कर मूल समस्या के समाधान को सरकार तक पहुचायेंगे।

इस ‘युवा संसद’ में युवा मंच, महाराष्ट्र समन्वय समिति, युवा शक्ति संगठन, भारत नव जवान सभा, यूपी 181 संघर्ष समिति, महिला समाख्या, बुनकर वाहिनी, जन जागरण अभियान, वर्कर्स फ्रंट और आंगनबाड़ी वर्कर्स समेत कई संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे।

पांच साल संविदा पर रखने के सरकारी प्रस्ताव का होगा विरोध

पांच साल तक सरकारी भर्तियो में कर्मचारियों को संविदा पर रखने के योगी सरकार के प्रस्ताव का कल युवा मंच समेत अन्य संगठनों द्वारा रोजगार अधिकार दिवस में  विरोध किया जायेगा। कल संसद के मानसून सत्र के पहले दिन रोजगार बने मौलिक अधिकार पर आयोजित देशव्यापी कार्यक्रम की तैयारी के लिए आज युवा मंच की प्रदेश समिति की वर्चुअल मीटिंग यह निर्णय हुआ।

बैठक में केंद्र सरकार द्वारा किये जा रहे अंधाधुंध निजीकरण और नई पेंशन स्कीम का विरोध करने, रोजगार व विकास की गारंटी करने, रिक्त 24 लाख पदों को शीघ्र भरने, बेकारी भत्ता समेत सीमा विवाद को हल करने की मांगों को उठाने का भी फैसला हुआ।

बैठक में इलाहाबाद के सलोरी में पीसीएस में चयनित न हो पाने के कारण छात्र द्वारा आत्महत्या करने पर गहरा दुःख व्यक्त किया गया। बैठक में कल युवा हल्ला बोल के फेसबुक पेज पर आयोजित युवा संसद को बड़े पैमाने पर देखने की नौजवानों से अपील की गयी। बैठक में राजेश सचान, अनिल सिंह, विनोवर शर्मा, अम्बुज मलिक,शैलेश मौर्य, स्नेहा राय, करन सिंह, जितेंद्र धांगर, नागेश गौतम, आमिर खान, अमित सिंह, अश्विनी कुमार चंदवन, शहनवाज खान आदि लोगों ने अपनी बात रखी। संचालन आलोक राजभर ने किया।


 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.