Home ख़बर सुप्रीम कोर्ट का अभूतपूर्व फरमान- इक्‍कीस राज्‍यों के दस लाख आदिवासी खाली...

सुप्रीम कोर्ट का अभूतपूर्व फरमान- इक्‍कीस राज्‍यों के दस लाख आदिवासी खाली करें ज़मीन

SHARE

सुप्रीम कोर्ट ने बीती 13 फरवरी को एक बेहद अहम फैसला सुनाते हुए 21 राज्‍यों को आदेश दिए हैं कि वे अनुसूचित जनजातियों और अन्‍य पारंपरिक वनवासियों को जंगल की ज़मीन से बेदखल कर के जमीनें खाली करवाएं। कोर्ट ने भारतीय वन्‍य सर्वेक्षण को निर्देश दिए हैं कि वह इन राज्‍यों में वन क्षेत्रों का उपग्रह से सर्वेक्षण कर के कब्‍ज़े की स्थिति को सामने लाए और इलाका खाली करवाए जाने के बाद की स्थिति को दर्ज करवाए।

ऐसा पहली बार हुआ कि देश की सर्वोच्‍च अदालत ने एक साथ दस लाख से ज्‍यादा आदिवासियों को उनकी रिहाइशों से बेदखल करने और जंगल खाली करवाने के आदेश सरकारों को दिए हैं। यह अभूतपूर्व फैसला है, जिसे जस्टिस अरुण मिश्रा, नवीन सिन्‍हा और इंदिरा बनर्जी की खंडपीठ ने कुछ स्‍वयंसेवी संगठनों द्वारा वनाधिकार अधिनियम 2006 की वैधता को चुनौती देने वाली दायर एक याचिका पर सुनाई करते हुए सुनाया है। इन संगठनों में वाइल्‍डलाइफ फर्स्‍ट नाम का एनजीओ भी है।

वनाधिकार अधिनियम को इस उद्देश्य से पारित किया गया था ताकि वनवासियों के साथ हुए ऐतिहासिक नाइंसाफी को दुरुस्‍त किया जा सके। इस कानून में जंगल की ज़मीनों पर वनवासियों के पारंपरिक अधिकारों को मान्‍यता दी गई थी जिसे वे पीढि़यों से अपनी आजीविका के लिए इस्‍तेमाल करते आ रहे थे।

स्‍वयंसेवी संगठनों ने इस कानून को चुनौती दी थी और वनवासियों को वहां से बेदखल किए जाने की मांग की थी।

बीती 13 फरवरी को हुई सुनवाई में अदालत ने एक विस्‍तृत आदेश पारित करते हुए इक्‍कीस राज्‍यों को आदिवासियों से वनभूमि खाली कराने के निर्देश जारी कर दिए। आइए, देखते हैं इन 21 राज्‍यों में कितने आदिवासियों की जिंदगी तबाह होने जा रही है।

राज्‍य                                      कुल दावा खारिज (आदिवासी और वनवासी)

आंध्र प्रदेश                                                        66,351
असम                                                             27,534
बिहार                                                              4354
छत्‍तीसगढ़                                                       20095
गोवा                                                              10130
गुजरात                                                           182869
हिमाचल प्रदेश                                                 2223
झारखंड                                                          28107
कर्नाटक                                                         176540
केरल                                                              894
मध्‍यप्रदेश                                                        354787
महाराष्‍ट्र                                                         22509
ओडिशा                                                          148870
राजस्‍थान                                                         37069
तमिलनाडु                                                       9029
तेलंगाना                                                          82075
त्रिपुरा                                                             68257
उत्‍तराखंड                                                       51
उत्‍तर प्रदेश                                                     58661
बंगाल                                                             86144
मणिपुर                                                           

कुल खारिज दावे                                                   13,86,549

मणिपुर के सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि राज्‍य सरकार चार हफ्ते के भीतर अनुपालन संबंधी हलफनामा दाखिल करेगी।

Copy of SC order (Courtesy: Bar and Bench)

10 COMMENTS

  1. No comments. But in every country there is a bourgeois judiciary

  2. Sab saale bik chuke h supreme Court bhi…

  3. Aisa nhi hoga… Jab tak BTP he…

  4. Deorao M Nannaware

    Bhartki sarkar our nyayavevsta bhartki punjipatiyonke hato bik chuki hai .yeh des ko our bahujan ko tabah kar chodegi.

  5. Aao sb milkar sarkar aur manu aur brahman aadi en chatto ke virdha me aur suprum court ke hr panel me sc and st ke ek judge ki niyukti ke liye andolan kre…

  6. Dont snatch land from the tribals…it was there much before unified India came into existence ie before 1947…Jungle and hinterlands are the source of livelyhood of these people…give justice to them . dont play in the hands of politicians.

  7. this is unconstitutional … we r nt snatching the land from jungle people …but actually we r going to destroying ourselfes becoz tribe were those people who preserve forest maintain biodiversity…natural livelyhood…
    pround to be a born tribal man…
    जल , जंगल , जमीन ।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.