Home ख़बर प्रदेश भोजपुर से सिवान तक सामंतों का तांडव, बिहार अपराधियों के चंगुल में:...

भोजपुर से सिवान तक सामंतों का तांडव, बिहार अपराधियों के चंगुल में: माले

भाकपा माले ने कहा कि कोरोना काल में जब आम लोग अपनी जिंदगी बचाने के जद्दोजेहद से गुजर रहे हैं, दलितों-पिछड़ों पर सामंती अपराधियों के हमले बढ़ते ही जा रहे हैं. जो बेहद चिंताजनक हैं. इनपर रोक लगाने की बजाए बिहार सरकार वर्चुअल रैली में व्यस्त हो गई है. न तो उसे कोरोना की चिंता है और न ही दलितों-गरीबों पर बढ़ते हमले की.

SHARE

भाकपा-माले के बिहार राज्य सचिव कुणाल ने कहा है कि भोजपुर से लेकर सिवान तक सामंती-अपराधियों का तांडव देखा जा रहा है और वे दलितों-पिछड़ों पर बर्बर किस्म के हमले कर रहे हैं. इस कोरोना काल में जब आम लोग अपनी जिंदगी बचाने के जद्दोजेहद से गुजर रहे हैं, सामंती अपराधियों के हमले बढ़ते ही जा रहे हैं. जो बेहद चिंताजनक हैं. इनपर रोक लगाने की बजाए बिहार सरकार वर्चुअल रैली में व्यस्त हो गई है. न तो उसे कोरोना की चिंता है और न ही दलितों-गरीबों पर बढ़ते हमले की.

भाकपा-माले के पोलित ब्यूरो सदस्य व सिवान के प्रभारी धीरेन्द्र झा ने कहा है कि सिवान में आए दिन भाजपा-जदयू समर्थित सामंती ताकतें गरीबों पर लगातार हमला कर रही हैं. सबसे हालिया हमले में जिले के असांव थाना क्षेत्र के खरादरा यादव व दुदही टोली पर सामंतों ने महज इसलिए हमला कर दिया कि उस टोली के लोगों ने रोड पर यादव टोल का बोर्ड लगा रखा था. सामंतों के हमले में दर्जनों लोग घायल हुए हैं, जिनमें 5 का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है.

धीरेंद्र झा ने आगे कहा कि यह हमला भाजपा संरक्षित हिंदू युवा वाहिनी के जरिए किया गया है. घटना में घायल हुए लोगों से मिलने माले के पूर्व विधायक अमरनाथ यादव, विधायक सत्यदेव राम व स्थानीय नेता घटनास्थल पर पहुंचे और सभी हमलावरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग उठाई. हमलावरों ने निरंजन यादव को गोली मार दी है. हमले में राहुल यादव, साहब यादव, सचिव यादव और कमलेश यादव बुरी तरह घायल हो गए हैं.

धीरेंद्र झा ने कहा कि मैरवां में भी हिंदू युवा वाहिनी की लंपटता देखी गई, जिसका जनप्रतिरोध करते हुए करारा जवाब दिया गया है. दलित-वंचितों पर बढ़ते सामंती, साम्प्रदायिक और पुलिसिया हमले के खिलाफ पूरे सिवान जिले में प्रतिवाद अभियान तेज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 19 से 21 जुलाई के बीच 300 गावों में धरना और सभाएं आयोजित की जाएंगी।

भोजपुर में विगत दिनों गड़हनी में राजपूत जाति से आने वाले दबंगों ने 50 वर्षीय गिराली प्रसाद की घर में घुसकर राॅड व डंडे से पीट-पीट कर हत्या कर दी. गिराली प्रसाद कोरोना व लाॅकडाउन की वजह से दबंगों से लिए गए कर्ज की राशि नहीं चुका पा रहे थे.

उसी प्रकार, विगत 11 जुलाई को उदवंतनगर प्रखंड के एडौरा गांव के रहने वाले गुड्डू पासवान की हत्या सिलिंग से फाजिल जमीन को लेकर चल रहे विवाद में कर दी गई. इस मामले में कमलेश ओझा पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. पहले से सिलिंग की जमीन को लेका चल रहा विवाद कल 11 जुलाई को रोपनी के दौरान बहुत बड़ा हो गया और गुड्डू पासवान को गोली मार दी गई, जिन्हें अंततः बचाया नहीं जा सका. घटना की जानकारी मिलते ही माले नेता घटनास्थल पर पहुंचे  और अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग उठाई.

माले नेताओं ने कहा है कि बिहार सरकार सामंतों का मनोबल बढ़ाना बंद करे और दलित-गरीबों के हक-अधिकार की रक्षा की गारंटी करे.


विज्ञप्ति पर आधारित

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.