Home ख़बर PMC BANK: तीन खाताधारकों की मौत, दो को हार्ट अटैक, एक डॉक्टर...

PMC BANK: तीन खाताधारकों की मौत, दो को हार्ट अटैक, एक डॉक्टर ने की आत्महत्या!

SHARE

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक घोटाले से पीड़ित एक और खाताधारक की मौत हो गई है. 59 साल के फत्तोमल पंजाबी की मंगलवार को हार्ट अटैक के कारण मौत हुई है. पीएमसी बैंक घोटाले के कारण बीते 24 घंटे में यह दूसरे खाताधारक की मौत है.

इससे पहले ओशिवारा के तारापोरेवाला गार्डन में रहने वाले संजय गुलाटी की मौत हो गई थी. पीएमसी बैंक में उनके करीब 90 लाख रुपये जमा थे. सोमवार को वे बैंक पर लगाई गई पाबंदियों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. इस प्रदर्शन के बाद जब वे घर पहुंचे तो उन्हें हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई.

गुलाटी के पीछे उनकी पत्नी और दो बच्चे बचे हैं. संजय की पहले जेट एयरवेज से नौकरी चली गई थी, और अब सभी जमा पूंजी फंस गई थी. जिसका सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाए. सोमवार को संजय किल्ला कोर्ट के सामने प्रदर्शन में भी शामिल थे. लेकिन दोपहर को जब वह घर आए तो उन्हें दिल का दौरा पड़ गया.

वहीं एक खबर के मुताबिक मुंबई में एक महिला डॉक्टर खाताधारक ने अपने घर पर कथित रूप से आत्महत्या कर ली है. वह वरसोवा इलाके में रहती थीं. खबर के मुताबिक, वरसोवा के मॉडल टाउन इलाके में अपने पिता के साथ रह रही डॉक्टर निवेदिता बिजलानी (39) ने सोमवार रात को नींद की अधिक गोलियां खा लीं. हालांकि पुलिस ने बैंक संकट से इसका संबंध होने से इनकार किया है.

पीएमसी बैंक में लाखों ग्राहकों की रकम फंसी हुई है. बैंक की आखिरी एनुअल रिपोर्ट के मुताबिक बैंक में ग्राहकों के 11 हजार 617 करोड़ रुपये जमा हैं. इनमें टर्म डिपॉजिट 9 हजार 326 करोड़ रुपये के करीब है जबकि डिमांड डिपॉजिट के तौर पर 2 हजार 291 करोड़ रुपये जमा हैं.

गौरतलब है कि आरबीआई ने 23 सितंबर को पीएमसी बैंक पर कई तरह की पाबंदियां लगाई थी. उस समय प्रति ग्राहक छह माह में केवल 1,000 रुपये निकासी की सीमा तय की गई थी. बाद में इसे बढ़ा कर बैंक के बचत खाताधारकों के लिए छह माह में निकासी की सीमा 25,000 रुपये फिर बढ़ाकर 40,000 रुपये कर दी.

एक ओर जहां लोग अपने पैसों के लिए जान दे रहे हैं महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री का कहना है कि वे चुनाव के बाद केंद्र से इस बारे में बात करेंगे!

लोगों के पास दवा के लिए पैसे नहीं है , वे पाई -पाई को मोहताज हैं पर मंत्री के पास उनकी वेदना सुनने का भी समय नहीं है.

1 COMMENT

  1. गरीबों के बाद अब मिडल क्लास का नंबर आ गया है ।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.