Home ओप-एड दस्तावेज़ ‘क्रांतिकारी शिव वर्मा मीडिया अवार्ड्स’ की स्थापना, प्रविष्टियाँ आमंत्रित

‘क्रांतिकारी शिव वर्मा मीडिया अवार्ड्स’ की स्थापना, प्रविष्टियाँ आमंत्रित

पुरस्कार के लिए भारत का कोई भी नागरिक वर्ष 2020 के अब तक के काम के आधार पर 10 अगस्त तक नॉमिनेशन पीपुल्स मिशन के रांची कार्यालय के डाक के पता पर पत्र भेज कर, उसके व्हाट्स ऐप फोन नंबर पर फोन कर, उसके ई -मेल आईडी पर, उसके फेसबुक पेज पर या फिर उसकी घोषित  ज्यूरी के किसी भी मेंबर के जरिए दे सकते हैं.

SHARE

पीपुल्स मिशन भारत के  स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रथम वार्षिक  ‘ क्रांतिकारी कामरेड शिव वर्मा मीडिया पुरस्कार ‘  की घोषणा करेगा.

शिव वर्मा (1904- 1997) शहीद भगत सिंह के सहयोगी थे। ब्रिटिश हुक्मरानी ने उन्हें लाहौर षडयंत्र केस -2 में ‘काला पानी’ की सजा देकर अंडमान निकोबार द्वीपसमूह के सेलुलर जेल में बंद कर दिया था. वो वहां से जीवित बचे आखिरी स्वतंत्रता संग्रामी थे.

पीपुल्स मिशन अलाभकारी उद्देश्यों से हाल में स्थापित विशेष कम्पनी है जिसकी विधिक औपचारिकताएं प्रगति पर हैं. इसका कॉरपोरेट मुख्यालय झारखंड की राजधानी रांची में है. इसके प्रस्तावित अध्यक्ष भाषा प्रकाशन (रांची) के उपेन्द्र प्रसाद सिंह और प्रबंध निदेशक पत्रकार-लेखक चन्द्र प्रकाश झा है. दोनों जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र हैं.

इसके निदेशक मंडल में जेएनयू के ही पूर्व छात्र एवं द इकोनोमिक टाइम्स के पूर्व एसोसियेट एडिटर जी.वी.रमन्ना, हिन्दू कॉलेज (दिल्ली) के पूर्व प्रोफेसर ईश मिश्र,रांची में बसे चिकित्सक डॉक्टर राज चन्द्र झा, विशाखापत्तनम की महिला उद्ममी एवं जेएनयू की पूर्व छात्र रेणु गुप्ता, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की पूर्व शिक्षक विद्या छाबड़ा, प्रसिद्ध पत्रकार रुचिरा गुप्ता, पंजाब बस गए वरिष्ठ पत्रकार एवं कृषि विशेषज्ञ जसपाल सिंह सिद्धू और यूएनआई वर्कर्स यूनियन, दिल्ली  के अनेक बार महासचिव रहे मजदूर नेता एम.वी.शशिधरण (केरल) शामिल हो रहे हैं. बोर्ड के प्रस्तावित अन्य निदेशकों की सहमति प्रतीक्षित है.

पुरस्कारों के  निर्णय के  लिए गठित ज्यूरी के अध्यक्ष माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविदयालय (मध्य प्रदेश) के प्रति-कुलपति रह चुके अग्रणी पत्रकार, लेखक एवं विचारक रामशरण जोशी  है.

ज्यूरी में शामिल होने के लिए जिन मीडिया ऑर्गन के संपादकों  और अन्य ने अब तक सहमति दी है उनमें मीडिया दरबार के संपादक सुरेन्द्र ग्रोवर, हार्ड न्यूज के संपादक एवं जेएनयू  छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष अमित सेनगुप्ता, मीडिया विजिल के संस्थापक संपादक पंकज श्रीवास्तव, जनचौक के संपादक महेंद्र मिश्र, जन मीडिया के संपादक अनिल चमडिया,  सत्य हिंदी डॉट कॉम के शीतल पी.सिंह, शहरनामा  (लखनऊ) के सैय्यद हुसैन अफ़सर, मजदूर बिगुल के सत्यम वर्मा, कोलकाता विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर एवं सोशल मीडिया विशेषज्ञ जगदीश्वर प्रसाद चतुर्वेदी, सांची प्रकाशन के विनोद विप्लव, जन ज्वार के पीयूष पंत शामिल हैं. पीपुल्स  मिशन के अध्यक्ष  उपेन्द्र प्रसाद सिंह  ज्यूरी के पदेन उपाध्यक्ष होंगे. श्री ग्रोवर, ज्यूरी के  बाहरी उपाध्यक्ष के रूप में श्री जोशी के काम में हाथ बटाएं गे.
इन पुरस्कारों की प्रारंभिक चरण में  5 श्रेणी है-
1. सोशल मीडिया
2. प्रिंट मीडिया
3. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
4. कार्टून /  ग्राफिक्स / प्रेस फोटोग्राफी
5. महिला पत्रकार

महिलाओं को सभी श्रेणियों में नॉमिनेट किया जा सकता है.

अवार्ड की घोषणा 15 अगस्त 2020 को होनी  है. अवार्ड वितरण समारोह बाद में दिल्ली में तब की जाएगी  ब कोरोना महामारी से निपटने के लिए भारत सरकार द्वारा  लागू लॉक डाउन ख़तम या कम हो जाए. पुरस्कार के रूप में भगत सिंह की एक प्रतिमा, शॉल, कलम और सम्मान राशि बतौर 10-10 हज़ार रुपए दिए जाएंगे

 पुरस्कार के लिए भारत का कोई भी नागरिक वर्ष 2020 के अब तक के काम के आधार पर 10 अगस्त तक नॉमिनेशन पीपुल्स मिशन के रांची कार्यालय के डाक के पता पर पत्र भेज कर, उसके व्हाट्स ऐप फोन नंबर पर फोन कर, उसके ई -मेल आईडी पर, उसके फेसबुक पेज पर या फिर उसकी घोषित  ज्यूरी के किसी भी मेंबर के जरिए दे सकते हैं.

जो नॉमिनेट करेंगे और वो इन पांच श्रेणियों के लिए अधिकतम जिन एक -एक का नॉमिनेशन करेंगे उनका पूरा नाम, आयु, संपर्क का पता, मेल आईडी और मोबाइल अथवा लैंडलाइन नंबर देना अनिवार्य है. नॉमिनेशन के आधार के रूप में कुछ पंक्तियां भी अपेक्षित है. जिनके नॉमिनेशन किए गए हैं उनकी सहमति प्राप्त होने के बाद ही पीपुल्स मिशन कार्यालय अंतिम निर्णय के लिए ज्यूरी को भेजेगा .

पता और फोन नंबर इस तस्वीर से प्राप्त करें–

 



LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.