Home ख़बर क्‍या ‘नरेंद्र मोदी’ IPC से ऊपर हैं कि सुसाइड नोट में नाम...

क्‍या ‘नरेंद्र मोदी’ IPC से ऊपर हैं कि सुसाइड नोट में नाम के बावजूद उनके खिलाफ FIR नहीं हुई?

SHARE

महाराष्‍ट्र के यवतमाल जिले में एक किसान ने मंगलवार को खुदकुशी कर ली और अपनी मौत का जिम्‍मेदार मरने से पहले नरेंद्र मोदी सरकार को ठहरा दिया। अपने सुसाइड नोट में किसान ने कज्र का जिक्र करते हुए लिखा है, ”मैं कर्ज के बोझ से खुदकुशी कर रहा हूं और नरेंद्र मोदी की सरकार मेरी मौत की जिम्‍मेदार है।”

पचास साल के किसान शंकर भाउराव चयारे ने यवतमाल के घंटनजी तालुका के राजूवाड़ी गांव में कीटनाशक खाकर खुदकुशी कर ली। शंकर के तीन बेटियां हैं। पहले शंकर ने लटक कर मरने की कोशिश की। उसमें नाकाम रहने पर उन्‍होंने कीटनाशक खा लिया। उन्‍हें सरकारी अस्‍पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्‍टरों ने दोपहर डेढ़ बजे उन्‍हें मृत घोषित कर दिया।

मृत किसान का सुसाइड नोट जिसमें उसने नरेंद्र मोदी को ख़ुदकुशी की वजह बताया है

इससे पहले भी यवतमाल में पिछले साल प्रकाश मंगांवकर नामक किसान ने खुदकुशी करने से पहले एक पत्‍ते पर लिखा था ”मोदी सरकार” और दूसरे पर लिखा था ”कर्ज से खुदकुशी”। दोनों पत्‍ते उनकी लाश के बगल में पाए गए थे।

ये पहला मामला है कि कोई किसासन अपने सुसाइड नोट में बाकायदे मोदी सरकार को मौत का कारण बताकर मरा है। उनकी मौत के बाद गांववालों ने स्‍थानीय थाने को घेरकर नरेंद्र मोदी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने की मांग की और लाश का पंचनामा कराने से इनकार कर दिया जब तक कि मुकदमा दर्ज नहीं हो जाता।

थाने में जुटे परिजन और किसान

आम तौर से सुसाइड नोट में अगर मौत के लिए उकसाने वाले का नाम लिखा होता है तो उसके खिलाफ मुकदमा कायम किया जाता है, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया। इसके बजाय शंकर की बेटी से उसने एक औपचारिक शिकायत ले ली जिसमें नरेंद्र मोदी के खिलाफ आइपीसी के तहत कार्रवाई की मांग की गई है।


साभार twocircles.net

 

 

 

3 COMMENTS

  1. Article 14 ensures EQUALITY OF JUSTICE TO EVERY MAN , IRRESPECTIVE OF HIS NATIONALITY. THAT’S WHY word Person has BEEN USED . NOT CITIZEN. Why no case against Modi ? There is no CONSTITUTIONAL IMMUNITY for pm. For president ,Judges. Yes.

  2. I DON’T KNOW what STOP S media vigil from covering Sultanpuri fire DEATHS. 4th incidence in 4 month in delhi. GETTING 5 THOUSAND INSTEAD a 13 thousands per month for delhi. INSPITE OF ex card holder Gopal rai alias Cyril RAMAFOSA ( OF SOUTH AFRICA)as REVOLUTIONARY Labour minister. Why NOT Culpable homicide case for cm, Gopal Rai, labor commissioner ALSO. NOT first fire. It’s 302 case Justice Chelmseshwaram !!! Thewirehindi would not cover it. newsclick.com will not show up in Hindi. I know. Otherwise 50 working class may collectively launch a campaign.

  3. Delhi High court justice R s sodhi, governor Rajkhova wanted CBI enquiry for suicide note of Arunachal Pradesh C M Kalikho Pu. Ad Prashant Bhushan raised issue. Even TOP level SC SC judges were named by K pul. READ thewire STORY

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.