Home ख़बर दिल्‍ली: रोड शो के दौरान मुख्‍यमंत्री केजरीवाल को फिर पड़ा थप्‍पड़, हमलावर...

दिल्‍ली: रोड शो के दौरान मुख्‍यमंत्री केजरीवाल को फिर पड़ा थप्‍पड़, हमलावर गिरफ्तार

SHARE

दिल्‍ली के मोती नगर में चुनाव प्रचार कर रहे दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक व्‍यक्ति ने उनकी गाड़ी पर चढ़कर थप्‍पड़ मार दिया। यह घटना शाम 6 बजे के आसपास की है।

हमला करने वाले शख्‍स का नाम सुरेश बताया जा रहा है। वह कैलाश पार्क का रहने वाला है और दुकान चलाता है। उसे मोती नगर थाने ले जाया गया है। अभी तक हमले का कारण नहीं पता चल सका है। उससे पूछताछ चल रही है।

केजरीवाल के साथ ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। पिछले लोकसभा चुनाव में उनके ऊपर दिल्‍ली और वाराणसी में हमला हुआ था। अभी कुछ दिन पहले ही इस बात की अपुष्‍ट चर्चा थी कि दिल्‍ली के कुछ विधायकों ने बंद कमरे में हो रही एक बैठक के दौरान मुख्‍यमंत्री से अभद्रता की थी।

 

1 COMMENT

  1. सिकंदर हयात

    इंसान की फ़ितरते हैरान कर देने वाली हे आज पढ़ा की मुंबई जैसे शहर में जहा लोगो को सीरियसली करवट बदलने की जगह नहीं मिलती हे यानी सोओ तो करवट लेने को जगह नहीं उस शहर में अमिताभ के पांच बंगले हे उनका बेटा अभिषेक दुनिया की हर आराइश उसके पास हे विश्वसुंदरी औलाद माँ बाप सब कुछ फिर भी बेचारा दुखी हे टेंशन में रहता हे मजाक बना रहे फालतू लोगो से टिवीटर पर हाथापाई करता हे फ्लॉप हे काम नहीं हे कहता हे फ्लॉप होना दुनिया का सबसे खराब अहसास होता हे लोग फोन उठाना तक बंद कर देते हे सेट पर बड़े सितारों को मिल रही अहमियत से दुखी होता हे अभी हाल ही में विक्की कौशल के सामने कितना दयनीय लग रहा था वो एक्टिंग नहीं उसकी रियल हालत लग रही थी इंसान सिर्फ ऐशो आराम सेक्स पैसा के लिए ही नहीं झूझ रहा होता हे उसे चाहिए होता हे ”सत्ता पावर भीड़ अहमियत अपना सोशल सर्किल फिर उसमे धाक उसमे पूछ ” , अभिषेक के पास सब कुछ हे हर ऐश हे भर भर कर हे पर ये सब नहीं हे ” सत्ता पावर भीड़ चार लोग अहम अहमियत अपना सोशल सर्किल फिर उसमे धाक उसमे पूछ ” इसलिए दुखी हे दूसरी तरफ माफिया विट्ठल कानिया बाबा ह – मदेव हे उसके पास ज़ाहिरन कोई ऐश आराइश अय्याशी नहीं हे दिखती तो नहीं हे ।गेंहू काट रहा था पिछले दिनों मगर सही गलत तरीको से उसने हासिल कर रखा हे पैसा फिर सत्ता पावर भीड़ चार लोग अहम अहमियत अपना सोशल सर्किल फिर उसमे धाक उसमे पूछ ”

    सिकंदर हयात सिकंदर हयात • a day ago
    तारिक फ़तेह को देख लो बढ़िया विद्वान आदमी था बहुत मगर बुढ़ापे में अहमियत का नशा ऐसा चढ़ा की यहाँ आकर संघियो छी nwes दलाल s—- दाना जैसे लोग की गोद में आकर बैठ गया बेअक्ल , और पूरी अपनी मिट्टी प्लीट करवा ली

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.