Home ख़बर राजस्‍थान: इस गांव के वोटर चुनाव बहिष्‍कार कर के लेंगे सरकार से...

राजस्‍थान: इस गांव के वोटर चुनाव बहिष्‍कार कर के लेंगे सरकार से एक-एक मक्‍खी का हिसाब!

SHARE
ग्रामीणों की ओर से भेजा गया मृतकों का विवरण
मनदीप पुनिया / जितेंद्र चाहर

राजस्‍थान में शुक्रवार को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है और झुंझनूं जिले की एक एक पंचायत में महीने भर से धरने पर बैठे लोगों ने चुनाव का बहिष्‍कार करने का नारा दे दिया है क्‍योंकि उनकी जिंदगी मक्खियों ने तबाह कर दी है। अफसरों से लेकर नेताओ तक सबसके चक्‍कर लग चुके हैं लेकिन कुतुबपुरा के लोग अब भी जिंदा मक्‍खी निगलने को मजबूर हैं।

झुंझुनूं जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर कुतुबपुरा गांव पड़ता है। कुतुबपुरा गांव के पास पहुंचते ही दुर्गंध आने लगती है। यह ऐसी दुर्गंध है जैसे हज़ारों जानवर कई दिन से मरे पड़े हों और सड़ रहे हों। गांव के बाहर खेतों में करीब 100 एकड़ में एक विशाल मुर्गी फार्म है जिसका नाम है नीतू मुर्गी फार्म। पिछले एक महीने से उसके गेट के सामने ही गांव के लोग जमा हैं और मुर्गी फार्म को बंद करने के लिए धरना दे रहे हैं।

पिछले एक महीने से धरने पर बैठे मदनलाल ने बताया,  “इस मुर्गीफ़ार्म की गन्दगी से हमारा तो जीना हराम हो रखा है। एक तो इतनी गंदी बदबू और ऊपर से ये मक्खियां। इतनी मक्खियां हैं कि ना तो हम खाना बना पाते, ना खाना खा पाते, न सो पाते, न लाइट जला सकते हैं। इन मक्खियों की वजह से हमारे बच्चे ठीक से पढ़ भी नहीं सकते। इस दुर्गंध और मक्खियों की वजह से पशु दूध तो कहां देंगे बेचारे जिंदा ही नहीं बच पा रहे। अभी तक सैकड़ों पशु मर चुके हैं हमारे। इन मक्खियों ने इतना भयंकर रोग फैला दिया है कि पिछले कुछ दिनों में ही गांव के छह लोग मर चुके हैं।”

कुतुबपुरा में अब तक मक्खियों से होने वाले संक्रामक रोगों के चलते जिनकी मौत हुई है उनके नाम हैं राजकुमार धानक, दुर्गाराम धानक, अणची देवी, सादा मेघवाल, पोपी देवी, परमेश्‍वरी देवी आर चंद्रावली देवी। मदन बताते हैं कि ये सभी पचास साठ पार के बुजुर्ग थे जिन्‍हें बीमारियां लगी हुई थीं। इनके फेफड़ों में मक्खियों और दुग्रंध के चलते संक्रमण हुआ और बीते कुछ महीनों में इनकी मौत हो गई। वे बताते हैं कि गांव के एक शख्‍स का इलाज अब भी दिल्‍ली में चल रहा है।

मुर्गी फार्म की वजह से फैली मक्खियों और दुर्गंध के खिलाफ गांव वाले कई बार आंदोलन कर चुके हैं लेकिन प्रशासन से आज तक आश्वासन के अलावा कुछ हासिल नहीं हुआ है। यह मुर्गी फार्म साल 2012 में यहां हरियाणा के जींद जिले के एक उद्योगपति ने खोला था।

मदनलाल ने बताया, “गांव वालों से जमीन यह कहकर ली गई थी कि यहां एक कॉलेज और एक स्कूल खोलेंगे। किसे पता था कि हमें बेवकूफ बनाकर ये लोग मुर्गी फार्म खोल देंगे। हमारे खेतों में तो एक भी बोरिंग नहीं, पीने को पानी नहीं और मुर्गी फार्म वाले पूरे 10 बोरवेल कर रखे हैं।‘’

चिड़ावा ब्लॉक में पड़ने वाले इस इलाके को 2005 में डार्क जोन घोषित कर दिया गया था। बावजूद इसके ये सब बोरवेल 2012 के बाद लगे हैं। धरने पर बैठे किसान बजरंगलाल का कहना है, “मुर्गी फार्म वालों के पास पंचायत की NOC नहीं है। पटवारी की गिर्दावरी रिपोर्ट मे इस भूमि को खाली पड़तल  दर्शाया गया है। रिपोर्ट मे यहां पर न बोरवेल है, न बिजली कनेक्शन, न कोई बिल्डिंग, न यहां मुर्गीफ़ार्म। इस मुर्गीफ़ार्म के बिल भी नीतू फ़ार्म जीन्द, हरियाणा के नाम से काटे जाते हैं। इसका मतलब है कि यह फ़ार्म कागजों मे तो जीन्द मे चल रहा है और हकीकत में हमारे गांव में। फ़ार्म पूरा का पूरा फ़र्जी है। प्रशासन को ये सब पता होते हुए भी मुर्गीफ़ार्म के मालिक का ही पक्ष ले रहा है और गांववालों को ही डरा धमका रहा है।‘’

उन्‍होंने बताया कि एक दिन पहले भी प्रशासन के अधिकारी यहां आए थे। ‘’आकर हमारे ऊपर चुनाव का नाम लेकर धरना उठाने की बात कहने लगे। हम सबने धरना उठाने की बजाय उन्हें साफ बता दिया है कि आसपास के सभी गांव 7 तारीख को होने वाले मतदान का विरोध करेंगे और मुर्गी फार्म बन्द नहीं हो जाता तब तक हमारा विरोध जारी रहेगा।” मक्खियेा के कारण अब तक इस क्षेत्र में मुंहपके और खुरपके रोग से सैकड़ो मवेशियों की मौत हो चुकी है जिनमें गायें और भैंसें शामिल हैं।

इस मामले पर चिड़ावा ब्लॉक की एसडीएम अर्पिता सोनी ने मीडियाविजिल को बताया, “हम वहां तीन बार जा चुके हैं लेकिन गांव वाले अपनी ज़िद पर अड़े हुए हैं। हमने उन्हें समझाने की कोशिश की है। प्रशासन अपने काम पर लगा हुआ है। जल्द ही कोई हल निकाल लिया जाएगा।”