Home ख़बर इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के MLA बेटे का ‘दे दना दन,’...

इंदौर: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय के MLA बेटे का ‘दे दना दन,’ निगम अधिकारी को बल्ले से पीटा

SHARE

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर में अवैध निर्माण तोड़ने आये नगर निगम कर्मियों को क्रिकेट बैट से पीटा.आकाश विजयवर्गीय इंदौर से मध्य प्रदेश विधानसभा के विधायक है.भवन निरीक्षण अधिकारियों का कहना है कि खाली मकान जो जर्जर था उसे तोड़ने गए थे, विधायक आकाश और उनके 10 साथियों ने की मारपीट की.

आकाश और 10 अन्य के खिलाफ एमजी रोड थाने में शासकीय कार्य में बाधा, मारपीट और बलवा की धारा 353,294,506,147,148 में केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया है.

ख़बरों के अनुसार,गंजी कंपाउंड स्थित जर्जर मकान तोड़ने के लिए निगम की टीम पहुंची तो इस दौरान विधायक आकाश विजयवर्गीय भी वहां पहुंच गए और उन्होंने निगम अधिकारियों को धमकी देते हुए कहा कि आप 5 मिनट में यहां से नहीं गए तो आगे जो होगा इसकी जिम्मेदारी आपकी होगी.इस दौरान जेसीबी मशीन की चाबी भी निकाल ली.इसके बाद निगम के अधिकारियों और विधायक के बीच विवाद हो गया और मारपीट होने लगी.जब निगम कर्मी पीछे नहीं हटे तो आकाश अपने हाथ में बल्ला लेकर उनकी पिटाई करते दिखे. यह वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो गया. इंदौर में हुए इस घटना के दौरान आकाश को वीडियो में देखा गया कि वह एक क्रिकेट बैट के साथ नगर निगम के अधिकारी की पिटाई कर रहे हैं.

आकाश विजयवर्गीय ने पूरी घटना पर टिप्‍पणी करते हुए कहा कि यह सिर्फ शुरुआत है. हम इस भ्रष्टाचार और गुंडई को खत्म करके रहेंगे.’आवेदन, निवेदन और फिर दना दन’, यह हमारा कदम होगा.

इस मामले में जब एक समाचार चैनल ने आकाश के पिता और भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय से पूछा तो उन्होंने पत्रकार से बोला -तुम जज करने वाले होते कौन हो , तुम्हारी औकात क्या है ?

इस घटना पर मध्य प्रदेश कांग्रेस ने प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है -बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र और इंदौर से बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय एक निगमकर्मी की बल्ले से पिटाई करते हुये.—जिन्हें भाजपा के चाल, चरित्र और चेहरे के अच्छे होने का थोड़ा भी भ्रम हो वो इस वीडियो को देखकर अपनी आँख खोल सकते हैं. “संस्कारों की अर्थी निकल रही है”

 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.