Home Corona एटलस साइकिल ने बंद की सबसे बड़ी फ़ैक्ट्री, हज़ारों मज़दूर सड़क पर...

एटलस साइकिल ने बंद की सबसे बड़ी फ़ैक्ट्री, हज़ारों मज़दूर सड़क पर !

एटलस ने कंपनी के गेट पर जो नोटिस लगाई है उसमें लिखा है कि “जैसा कि सभी कर्मचारियों को भली-भांति ज्ञात है कि कंपनी पिछले कई वर्षों से भारी आर्थिक संकट से गुजर रही है। कंपनी ने सभी उपलब्ध फंड खर्च कर दिए हैं और स्थिति यह है कि कोई अन्य आय के श्रोत नहीं बचे हैं। यहां तक कि दैनिक खर्चों के लिए भी धन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। सेवायोजक जब तक धन का प्रबंध नहीं कर लते, तब तक वे कच्चा माल खरीदने के लिए असमर्थ हैं। ऐसी स्थिति में सेवायोजक फैक्ट्री चलाने की स्थिति में नहीं हैं।

SHARE

कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच देश भर में श्रमिकों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। उन्हें लगातार नौकरियों से हाथ धोना पड़ा रहा है। अब देश की सबसे बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी एटलस ने अपनी साहिबाबाद स्थित फैक्ट्री को बंद कर दी। जिससे हजारों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं। बुधवार को जब मज़दूर काम करने पहुंचे तो उन्होंने कंपनी के बाहर एक नोटिस लगा पाया जिसमें लिखा था कि कंपनी के पास फ़ैक्ट्री चलाने का पैसा नहीं है।

एटलस कंपनी के इस फैसले के बाद हजारों कर्मचारी सड़क पर आ गए हैं। उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। फैक्ट्री बंद होने की खबर सुनते ही कर्मचारी गेट पर पहुंचे लेकिन उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। कंपनी की नोटिस से गुस्साए कर्मचारियों ने कंपनी के गेट पर ही प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया।

एटलस ने कंपनी के गेट पर जो नोटिस लगाई है उसमें लिखा है कि “जैसा कि सभी कर्मचारियों को भली-भांति ज्ञात है कि कंपनी पिछले कई वर्षों से भारी आर्थिक संकट से गुजर रही है। कंपनी ने सभी उपलब्ध फंड खर्च कर दिए हैं और स्थिति यह है कि कोई अन्य आय के श्रोत नहीं बचे हैं। यहां तक कि दैनिक खर्चों के लिए भी धन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। सेवायोजक जब तक धन का प्रबंध नहीं कर लते, तब तक वे कच्चा माल खरीदने के लिए असमर्थ हैं। ऐसी स्थिति में सेवायोजक फैक्ट्री चलाने की स्थिति में नहीं हैं”।

नोटिस में आगे लिखा है कि “यह स्थिति तब तक बने रहने की संभावना है,जब तक सेवायोजक धन का प्रबंध ना कर लें। अत: सभी कर्मकार दिनांक 3 जून 2020 से बैठकी (ले-ऑफ) पर घोषित किये जाते हैं। ले-ऑफ की अवधि में कर्मकार निम्न समयानुसार प्रत्येक दिन फैक्ट्री के गेट पर आकर नियमानुसार अपनी हाजरी लगाएं, अन्यथा ये बैठकी (ले-ऑफ) प्रतिकार पाने के अधिकारी नहीं होंगे।“

एटलस की इस सबसे बड़ी फैक्ट्री में करीब एक हजार लोग काम करते थे। इसके पहले एटलस सोनीपत और ग्वालियर स्थित फैक्ट्रियों को भी बंद कर चुका है। ये एटलस कंपनी की एकमात्र फैक्ट्री थी, जिसमें हर महीने करीब 2 लाख साइकिलें बना करती थीं। साहिबाबाद की एटलस फैक्ट्री 1989 से चल रही थी।

लेकिन अब हालत ये हैं कि फैक्ट्री के मजदूरों और कर्मचारियों को मई माह का वेतन भी नहीं दिया गया है। कंपनी का कहना है कि उसके पास रोजमर्रा के खर्चे और कच्चा माल खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं। इसलिए अनिश्चितकाल के लिए काम बंद किया जा रहा है और लोगों को ले-ऑफ पर भेजा जा रहा है।


 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.