Home न्यू मीडिया पकड़ी गई नूपुर शर्मा की चोरी, फर्जी तस्‍वीरों को बंगाल का बताकर...

पकड़ी गई नूपुर शर्मा की चोरी, फर्जी तस्‍वीरों को बंगाल का बताकर वायरल करवा रहे बीजेपी के नेता

SHARE

पश्चिम बंगाल के बसीरहाट और बदुरिया में सोशल मीडिया सांप्रदायिक दंगे को भड़काने का काम बखूबी कर रहा है। फेसबुक-व्हाट्सअप पर नकली तस्वीरें और वीडियो पोस्ट करके उन्हें वायरल कराया जा रहा है। यह काम केवाल सामान्य लोग ही नहीं कर रहे बल्कि भारतीय जनता पार्टी के तमाम नेता भी इसमें शामिल हैं, जिनमें एक प्रमुख नाम दिल्ली बीजेपी की नेता नूपुर शर्मा का सामने आया है।

शनिवार को सांप्रदायिक हिंसा भड़काने का प्रयास करने के आरोप में एक व्यक्ति को दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर से गिरफ्तार किया गया। उस व्यक्ति ने एक तस्वीर पोस्‍ट करके दावा किया था कि दंगों में हिन्दू महिलाओं के साथ अत्याचार किया जा रहा है। सच्चाई यह है कि तस्वीर फर्जी है और यह तस्वीर 2014 में आई एक भोजपुरी फिल्म के सीन से बनाई गई थी।

आम लोग फर्जी तस्वीरें पोस्‍ट करें तो फिर भी समझ में आता है लेकिन जब केंद्र में सत्‍ताधारी दल के नेता ऐसा करने लगें और उसके दम पर अभियान भी खड़ा करें तो इसे माफ़ नहीं किया जा सकता। दिल्‍ली चुनाव में अरविंद केजरीवाल के खिलाफ नई दिल्‍ली से भाजपा की प्रत्‍याशी रही नूपुर शर्मा ने शनिवार को #SaveBengal और #SaveHindus हैशटैग का इस्‍तेमाल करते हुए बंगाल की सांप्रदायिक घटनाओं के खिलाफ़ लोगों से दिल्‍ली के जंतर-मंतर पर जुटने की अपील ट्विटर पर पोस्‍ट की। उक्‍त अपील में जिस पोस्‍टर का प्रचार के लिए इस्‍तेमाल किया गया, उसमें लगी तस्‍वीर में एक गाड़ी को जलता हुआ दिखाया गया है जिसके आसपास दंगाइयों की भीड़ दिख रही है।

लाइव हिंदुस्‍तान नामक वेबसाइट ने इस तस्वीर की सच्चाई जांचने का दावा किया है जिसमें पता चला है कि यह तस्वीर न्यूज एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस (AP) के फोटोग्राफर ने गुजरात के दंगे 2002 में खींची थी। वेबसाइट अपनी ख़बर में लिखती है, ”गूगल पर गुजरात दंगा या Gujrat Riots सर्च करने पर वह तस्वीर नंबर एक पर दिख रही है। इस फोटो का इस्तेमाल कई वेबसाइटें दंगों की खबरों में सांकेतिक तस्वीर के तौर पर पहले ही कर चुकी हैं।” ट्विटर और फेसबुक समेत वॉट्सऐप पर कई यूजर्स ने इस फोटो को गुजरात दंगों का बताया है।

अकेले नुपुर शर्मा ही क्‍यों, एक दिन पहले ही हरियाणा बीजेपी की नेता विजेता मलिक ने अपनी फेसबुक वॉल पर भोजपुरी फिल्म के एक सीन की तस्वीर पोस्ट करते हुए उसे बंगाल में भड़के सांप्रदायिक दंगे से जोड़ दिया। तस्वीर को शेयर करते हुए विजेता लिखती हैं कि बंगाल में किस तरह से मुसलमान युवक हिंदू महिला का बलात्कार कर रहे हैं। विजेता मलिक हरियाणा राज्य की बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की सदस्य भी हैं।

विवादित बयानों के सरगना और हैदराबाद के गोशमहल से बीजेपी विधायक टी राजा सिंह ने भी एक भड़काऊ वीडियो पोस्ट किया है। आजतक की वेबसाइट पर छपी खबर के अनुसार राजा सिंह ने एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें वह बंगाल को हिंदुओं से एकजुट होने और 2002 में गुजरात के हिंदुओं जैसा ‘जवाब’ देने की बात कहते दिख रहे हैं।

LEAVE A REPLY