Home मोर्चा औरतों से गाली खाता रहा मीडिया लेकिन कैमरे बंद हो चुके थे...

औरतों से गाली खाता रहा मीडिया लेकिन कैमरे बंद हो चुके थे क्‍योंकि सेलिब्रिटी जा चुका था

SHARE

अभिषेक श्रीवास्‍तव


जो लोग 23 अप्रैल, 2017 को जंतर-मंतर पर सुबह आए और दोपहर में निकल गए, ये कहानी उनके लिए है। जो लोग एक रात पहले वहां पहुंचने का आह्वान कर के खुद नहीं आए, ये कहानी उनके लिए है। जो लोग आए, लेकिन शाम सवा छह बजे कुमार विश्‍वास के जाने के साथ ही‍ निकल लिए, ये कहानी उनके लिए है। ये कहानी उनके लिए भी है जो मैदान साफ़ होने तक डटे रहे, लेकिन जिनकी निगाह इधर नहीं गई।

कहानी मंडोला गांव की है। ये मटरू की बिजली वाला मंडोला नहीं, ग़ाजि़याबाद के लोनी वाला मंडोला गांव है। ज़मीन का मसला फिल्‍म में भी था, यहां भी है। मंडोला गांव को मंडोला विहार बनाया गया है जिसके चक्‍कर में कई किसानों की ज़मीन चली गई है। आंदोलन ज़ोर पकड़ रहा है, लेकिन किसानों की आवाज़ सुनने वाला कोई नहीं। ये किसान अपने नेता मनवीर सिंह तेवतिया के साथ तमिलनाडु के किसानों को समर्थन देने आए थे। किसी पत्रकार को और क्‍या चाहिए कि वह एक स्‍टोरी कवर करने आए और लगे हाथ उसे एक ही किस्‍म दो-चार और खबरें मिल जाएं। अब वो समय नहीं रहा। अब कोई भी अतिरिक्‍त स्‍टोरी उनके काम में बाधा है।

इसीलिए सजे हुए कैमरों के सामने मनवीर तेवतिया और उनके लोगों का दर्द सुनने के बजाय कैमरामैनों ने कैमरे ऑफ कर दिए और रिपोर्टराएं कुमार विश्‍वास पर पीटीसी करने लगीं। सामने खड़े होकर मीडिया ग्रामीण औरतों की गाली सुनता रहा, लेकिन उसके कान पर जूं नहीं रेंगी क्‍योंकि मालिक ने कहा था- जो कहा गया है उतना ही करो।

हुआ यों कि जंतर-मंतर पर दिन भर किसानों का मजमा लगा रहा। हरियाणा से भारतीय किसान यूनियन के लोग तमिलनाडु के धरनारत किसानों को समर्थन देने के आए। थोड़ी ही देर में वे छा गए। इसके बाद निकल गए। काफी देर तक सन्‍नाटा बना रहा। लोग टहलते रहे। शाम छह बजे अचानक भगदड़ मची। पता चला मंचीय कवि कुमार विश्‍वास आए हुए हैं। पलक झपकते ही कुमार किसानों के बीचोबीच अगली पंक्ति में पालथी मार कर बैठ गए। पलक झपकते ही दर्जन भर फोटाग्राफर और कैमरामैन और रिपोर्टर और रिपोर्टराएं वहां जाने कहां से इकट्ठा हो गए, जो दिन भर नदारद थे। पलक झपकते ही कुमार के सामने दर्जनों चैनलों की माइक सजा कर रख दी गई।

अचानक आगे खड़ी एक रिपोर्टरा ने किसानों को डांटा कि वे हल्‍ला न मचाएं, शांत रहें। आगे, पीछे, दाएं, बाएं खड़े कुमार विश्‍वास के लठैतों ने मिलकर एक घेरा सा बना लिया और सामान्‍य लोगों को घुसने से मना करने लगे। पीछे खड़े एक दबंग ने एक लड़के का कंधा झटकते हुए गाली दी। छह फुट की काया देखकर वह कट लिया। बाइट शुरू हुई। पिन ड्रॉप साइलेंस।

देखिए पीछे से वीडियो। जितनी रिपोर्टराएं, उतने कैमरे। आदमी एक। कुमार विश्‍वास।

पीली शर्ट पहने कुमार विश्‍वास ने कुछ अच्‍छी बातें किसानों के समर्थन में कहीं। उनके बगल में भट्टा परसौल आंदोलन के नेता मनवीर तेवतिया बैठे थे। किसी रिपोर्टर ने उन्‍हें नहीं पहचाना, न उनसे बात की। कुमार आए, बोले, झटके में उठे और चल दिए। सारा खेल महज 12 से 15 मिनट में पूरा हो गया। इतना तो आम आदमी पार्टी वालों ने भी वीडियो बनाकर डाला है। इसमें कुछ खास नहीं है।

कहानी इसके बाद शुरू होती है। एक पीढ़ानुमा चीज़ पर सारे चैनलों की गनमाइक कतारबद्ध रखी हुई थीं। कुमार विश्‍वास के जाने के बाद छंटी हुई भीड़ को देखते हुए दर्जनों कैमरामैन वैसे ही खड़े थे। कैमरे ऑफ हो चुके थे। वे कुछ समझ पाते, इससे पहले ही कुछ औरतों ने आकर माइक के सामने वाली खाली जगह कब्‍ज़ा ली और पालथी मारकर बैठ गईं। कैमरामैन परेशान, रिपोर्टराएं हैरान। एक ने पूछा, ”हू आर दे?” दूसरी रिपोर्टरा ने कंधे बिचका दिए। एक कैमरामैन आया और अपनी माइक उठाकर ले गया। औरतें कुछ भुनभुनाने लगीं।

उसके बाद कहने पर उन्‍होंने अपनी कहानी बतानी शुरू की। वे सब ग़ाजि़याबाद के लोनी से आई थीं अपने नेता मनवीर तेवतिया के साथ। इनकी ज़मीन हड़प ली गई थी। आई थीं समर्थन देने तमिलनाडु के किसानों को, तो सोचा कैमरे देखकर लगे हाथ अपनी बात भी कह देंगी। कैमरावालों को यह बात समझ में नहीं आई। उन्‍होंने कैमरा ऑन नहीं किया। रिपोर्टराएं कुमार विश्‍वास पर पीटीसी करने की तैयारी करने लगीं। भला हो कुछ युवाओं का, जिन्‍होंने माजरा समझते ही अपने-अपने मोबाइल कैमरे तान दिए और एक समानांतर प्रेस कॉन्‍फ्रेंस वहीं पर हो गई।

औरतों ने अपनी बात कही। फिर मनवीर तेवतिया आए और उन्‍होंने माजरा समझाया। उसके बाद औरतों ने मीडिया को खरी-खोटी सुनाई कि सबने अपने कैमरे बंद कर रखे हैं। कैमरामैन और रिपोर्टर गाली सुनते रहे लेकिन उन्‍होंने कैमरा ऑन नहीं किया। ग़ाजि़याबाद का किसान उनके असाइनमेंट का हिस्‍सा नहीं था। मनवीर तेवतिया को वे नहीं पहचानते थे।

देखिए पूरा वीडियो। ये कहानी आपको और कोई नहीं सुनाएगा। मीडिया तो कतई नहीं।

मंडोला विहार के संघर्ष के बारे में ज्‍यादा जानकारी इस यूट्यूब चैनल से लें।


 

17 COMMENTS

  1. बहुत सही।
    हरियाणा के किसान तो इतना गरिया रहे थे कि डर लगा कोई मीडिया वाला समझकर पीट न दे।
    ये दिन भी आ सकते हैं कि जनता का गुस्सा ये नेता लोग मीडिया की ओर मोड़ दें! मीडिया वाले को ही पीट पब्लिक संतोष कर ले!

  2. My brother recommended I might like this web site. He was entirely right. This post truly made my day. You can not imagine just how much time I had spent for this information! Thanks!

  3. You can certainly see your enthusiasm in the work you write. The sector hopes for more passionate writers like you who aren’t afraid to say how they believe. At all times follow your heart.

  4. Oh my goodness! an astounding write-up dude. Thank you Even so I’m experiencing issue with ur rss . Do not know why Unable to subscribe to it. Is there anybody receiving identical rss dilemma? Any one who knows kindly respond.

  5. This is really interesting, You are an excessively professional blogger. I have joined your feed and stay up for in search of extra of your wonderful post. Also, I have shared your web site in my social networks!

  6. Hello there, I discovered your website via Google even as looking for a comparable topic, your site got here up, it seems great. I’ve bookmarked it in my google bookmarks.

  7. you are actually a good webmaster. The website loading pace is incredible. It seems that you are doing any distinctive trick. In addition, The contents are masterwork. you’ve performed a excellent job in this matter!

  8. I was curious if you ever thought of changing the page layout of your site? Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for only having one or 2 pictures. Maybe you could space it out better?

  9. Hello there! This is my first visit to your blog! We are a group of volunteers and starting a new project in a community in the same niche. Your blog provided us useful information to work on. You have done a outstanding job!

  10. Thanks for sharing excellent informations. Your website is very cool. I’m impressed by the details that you’ve on this site. It reveals how nicely you perceive this subject. Bookmarked this website page, will come back for extra articles. You, my friend, ROCK! I found just the information I already searched everywhere and simply couldn’t come across. What a great website.

  11. I wish to voice my affection for your kind-heartedness for persons who should have assistance with that study. Your very own dedication to getting the solution up and down appeared to be remarkably important and have in most cases permitted many people much like me to achieve their dreams. The informative recommendations can mean a great deal a person like me and especially to my fellow workers. Regards; from all of us.

  12. I have been browsing online greater than three hours these days, but I by no means found any fascinating article like yours. It’s pretty worth sufficient for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the internet will be much more helpful than ever before.

LEAVE A REPLY