Home मोर्चा नोएडा में बैठे ”राष्‍ट्रीय” मीडिया को पड़ोस की LG कंपनी में धरने...

नोएडा में बैठे ”राष्‍ट्रीय” मीडिया को पड़ोस की LG कंपनी में धरने पर बैठे 800 कर्मचारी क्‍यों नहीं दिखाई देते?

SHARE

देश का समूचा राष्‍ट्रीय मीडिया जिस नोएडा शहर में स्थित है, वहां बीते पांच दिनों से करीब 800 लोग एक कंपनी परिसर के भीतर भूखे-प्‍यासे अपनी मांगों को लेकर बैठे हुए हैं लेकिन हज़ारों कैमरों में से किसी की भी निगाह वहां अब तक नहीं पहुंची है। कारण सीधा सा यह है कि मीडिया को ऐसी कंपनियों से विज्ञापन मिलते हैं और इनके खिलाफ़ ख़बर दिखाना उसके वश में नहीं है।

बात नोएडा स्थित दक्षिणी कोरियाई कंपनी एलजी की है जिसके टीवी, फ्रिज़, मोबाइल, वाशिंग मशीन आदि उपकरण आ घर-घर का हिस्‍सा हैं। इस कंपनी में W श्रेणी के करीब 800 कामगार सोमवार सुबह से ही परिसर के भीतर तकरीबन कैद की स्थिति में हैं। शनिवार को कंपनी ने 11 कामगारों को ट्रांसफर ऑर्डर पकड़ा दिया था और उन्‍हें गेट के बाहर बेइज्‍जत कर के निकाल दिया। इन कर्मचारियों ने ट्रांसफर लेटर लेने से इनकार कर दिया था। इन्‍हीं की बहाली की मांग को लेकर बाकी कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया और परिसर में बैठ गए।

शुरुआती एकाध दिन उन्‍हें कंपनी की ओर से खाने-पीने को दिया गया लेकिन कल यानी गुरुवार सुबह से उन्‍हें कुछ भी खाने को नहीं मिला है। कंपनी की कर्मचारी संगीता शुक्‍ला ने फोन पर बताया कि प्रबंधन ट्रांसफर किए गए 11 कर्मचारियों को वापस नहीं लेने पर अड़ा हुआ है। तीन बार उपश्रमायुक्‍त और जिलाधिकारी की मौजूदगी में वार्ता हो चुकी है लेकिन नाकाम रही है।

 

LG2

विवाद की शुरुआत जनवरी में हुई जब यहां के 820 कर्मचारियों ने एलजी इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स कर्मचारी यूनियन बनाने के लिए कानपुर में आवेदन किया और उसके बाद एक मांगपत्र प्रबंधन को सौंपा। उनकी मांगें बहुत मामूली थीं, जैसे वेतन में बढ़ोतरी किया जाना और काम के घंटे आठ किया जाना। ज़ाहिर है, नोएडा जैसे औद्योगिक केंद्रों में काम कर रहीं बहुराष्‍ट्रीय कंपनियां अपने यहां यूनियनों को पनपने नहीं देती हैं। आज से करीब दस साल पहले डेवू मोटर्स में कर्मचारियों के दमन का एक बड़ा उदाहरण हमारे सामने है जिसके यूनियन नेता आज भी मुकदमे झेल रहे हैं और बेरोज़गार हैं।

इन कंपनियों को निवेश के नाम पर प्रशासन की भी छूट मिली होती है और खुलेआम श्रम कानूनों की धज्जियां उड़ाई जाती हैं। इसमें श्रम विभाग की भी मिलीभगत होती है। यूनियन के अध्‍यक्ष मनोज चौबे बताते हैं कि जब पांच कर्मचारियों की ओर से मांगपत्र उपश्रमायुक्‍त कार्यालय भेजा गया, तो वहां से जवाब आया कि इनमें तीन कर्मचारी S यानी सुपरवाइज़र श्रेणी के हैं इसलिए यह मांगपत्र नाजायज़ है। वही रिपोर्ट कानपुर नत्‍थी कर के भेज दी गई।

कंपनी में कर्मचारियों को कानूनी सलाह देने वाले नीरज चिकारा बताते हैं कि इस मामले में सीधे तौर पर श्रम विभाग ने गैरकानूनी काम किया है। दरअसल, यूनियन पंजीकरण के आवेदन के वक्‍त से ही कंपनी ने दांव खेलना शुरू कर दिया था। इस क्रम में उसने 150 कामगारों को जनवरी में बस भत्‍ते के नाम पर अतिरिक्‍त 2000 रुपये देने शुरू कर दिए और श्रम विभाग को सूचित कर दिया कि ये कर्मचारी सुपरवाइज़री ग्रेड के हैं, जबकि उनका वेतनमान आदि सब कुछ वर्कर ग्रेड का ही था।

नीरज कहते हैं, ”उपश्रमायुक्‍त का दो काम होता है- एक समझौता करवाना और दूसरा कोर्ट को अपनी अनुशंसा भेजना। उसने दोनों काम नहीं किया, बल्कि सीधे तीन कर्मचारियों को सुपरवाइज़री ग्रेड का करार देकर अपनी ओर से फैसला सुना दिया।” कुछ यूनियन नेता इशारा करते हैं कि डीएलसी ने कंपनी से पैसे खाए हैं।

फिलहाल, एलजी कंपनी के भीतर और बाहर लगातार तनाव की स्थिति है। सोमवार से आज पांच दिन हो गए हैं और मामले का निपटारा नहीं हुआ है। कर्मचारियों का कहना है कि अगर दो-चार दिन यह धरना और चल गया तो आसपास की औद्योगिक इकाइयों के भीतर खदबदा रहा श्रमिक असंतोष भी फूट पड़ेगा और प्रशासन के लिए इसे संभालना मुश्किल हो जाएगा।

सोमवार से ही यूनियन के नेता कई मीडिया संस्‍थानों को फोन कर चुके हैं और कवर करने के लिए गुज़ारिश कर चुके हैं लेकिन एक भी मीडिया संस्‍थान का कैमरा कंपनी तक नहीं पहुंचा है। इस बारे में केवल दो संक्षिप्‍त खबरें टाइम्‍स ऑफ इंडिया, बिज़नेस स्‍टैंडर्ड और मनीकंट्रोल पर प्रकाशित हुई हैं। ज़ाहिर है, बहुराष्‍ट्रीय कंपनियों में श्रमिकों के दमन पर मीडिया का यह रुख़ पुराना है क्‍योंकि उनसे इन्‍हें विज्ञापन के बतौर भारी आय होती है।

ध्‍यान रहे कि 2013 में एलजी कंपनी ने मीडिया में विज्ञापनों पर इतना पैसा फूंक दिया था कि उसका विज्ञापन व्‍यय कर के दायरे में आ गया था।

20 COMMENTS

  1. In the great design of things you actually receive a B+ for effort and hard work. Where you actually misplaced us was on your facts. You know, people say, details make or break the argument.. And it couldn’t be much more true here. Having said that, permit me reveal to you what did work. The article (parts of it) is certainly quite powerful and that is most likely the reason why I am making an effort to opine. I do not really make it a regular habit of doing that. Second, even though I can see a jumps in reason you make, I am not necessarily certain of just how you appear to connect the details which in turn make the final result. For the moment I shall yield to your point but hope in the foreseeable future you connect the facts much better.

  2. My brother suggested I may like this website. He was once totally right. This submit actually made my day. You can not believe simply how a lot time I had spent for this info! Thank you!

  3. Oh my goodness! an remarkable article dude. Thank you Nonetheless I am experiencing problem with ur rss . Don’t know why Unable to subscribe to it. Is there any person getting identical rss problem? Any one who knows kindly respond.

  4. Howdy, i read your blog occasionally and i own a similar one and i was just curious if you get a lot of spam feedback? If so how do you protect against it, any plugin or anything you can suggest? I get so much lately it’s driving me insane so any assistance is very much appreciated.

  5. Have you ever considered publishing an ebook or guest authoring on other websites? I have a blog based on the same ideas you discuss and would love to have you share some stories/information. I know my subscribers would value your work. If you’re even remotely interested, feel free to send me an e mail.

  6. I really wanted to construct a comment to be able to thank you for all the precious strategies you are posting at this website. My considerable internet search has at the end of the day been rewarded with professional points to share with my contacts. I would declare that we readers actually are really endowed to dwell in a superb site with many perfect professionals with beneficial points. I feel pretty privileged to have encountered your entire web site and look forward to many more enjoyable minutes reading here. Thanks a lot once more for all the details.

  7. Ive never read something like this just before. So good to locate somebody with some original thoughts on this subject, really thank you for beginning this up. this web site is one thing that’s essential on the web, somebody with a small originality. beneficial job for bringing some thing new towards the world wide web!

  8. Hey There. I found your blog using msn. This is a really well written article. I’ll make sure to bookmark it and come back to read more of your useful info. Thanks for the post. I will certainly return.

  9. Wonderful paintings! That is the type of info that are supposed to be shared across the web. Shame on the search engines for not positioning this put up higher! Come on over and talk over with my site . Thanks =)

  10. Can I just say what a relief to find someone who really knows what theyre talking about on the net. You undoubtedly know tips on how to bring an issue to light and make it essential. More persons really need to read this and realize this side of the story. I cant think youre not much more popular simply because you certainly have the gift.

  11. Hi there! I know this is kinda off topic but I was wondering which blog platform are you using for this site? I’m getting fed up of WordPress because I’ve had problems with hackers and I’m looking at options for another platform. I would be fantastic if you could point me in the direction of a good platform.

  12. I carry on listening to the rumor talk about receiving free online grant applications so I have been looking around for the finest site to get one. Could you tell me please, where could i acquire some?

  13. We’re a group of volunteers and opening a new scheme in our community. Your website offered us with valuable information to work on. You’ve done an impressive job and our entire community will be grateful to you.

  14. I’m truly enjoying the design and layout of your site. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your theme? Excellent work!

  15. Gaga, I searched into this concern, and ended up being struggling to reproduce that. When you ended up e-mailing often the picture, were you in a position to start to see the photo in your communication? William

LEAVE A REPLY