Home मोर्चा LG Update: अब भी नदारद हैं अभिव्‍यक्ति के रखवाले, कंपनी की भाषा...

LG Update: अब भी नदारद हैं अभिव्‍यक्ति के रखवाले, कंपनी की भाषा बोल रहे पुलिसवाले!

SHARE
SONY DSC

नोएडा स्थित एलजी इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स कंपनी में शुक्रवार को दिन समाप्‍त होने तक कानून व्‍यवस्‍था के मामले में यथास्थिति बनी रही, लेकिन परिसर के भीतर और बाहर धरने पर बैठे कर्मचारियों की हालत रुक-रुक कर हो रही बारिश और पाबंदियों के कारण लगातार बिगड़ती जा रही है। सबसे बड़ी बात है कि सोशल मीडिया पर इस घटना की खबर फैलने के बावजूद शुक्रवार को भी किसी मीडिया का कोई प्रतिनिधि यहां नज़र नहीं आया।

शुक्रवार को दिन में कर्मचारियों को एक बड़ी राहत तब मिली जब कर्मचारी यूनियन के अध्‍यक्ष मनोज चौबे स्‍थानीय अदालत से यथास्थिति का आदेश लेकर वापस लौटे। अब गेट के बाहर धरनारत कर्मचारी 19 जुलाई तक वहां कायम रह सकेंगे, जब तक कि कोर्ट में अगली सुनवाई न हो। दूसरी ओर परिसर की सुरक्षा में लगे करीब 300 निजी सुरक्षाकर्मी पिछले 100 से ज्‍यादा घंटों से लगातार ड्यूटी कर रहे हैं और अपने घर नहीं गए हैं जिसके चलते असंतोष एक नए स्‍तर पर पहुंच रहा है।

कंपनी के गेट के बाहर करीब 200 कर्मचारी डटे हुए हैं जबकि गेट के भीतर 600 के आसपास कर्मचारी सोमवार से ही धरने पर हैं। शुक्रवार को दिन में 12 बजे के आसपास भीतर तनाव की स्थिति पैदा हो गई जब अचानक प्रबंधन की ओर से एक घोषणा की गई। घोषणा में कहा गया कि कर्मचारी काम पर वापस लौट आएं और ”गैर-कानूनी” हड़ताल वापस लें अन्‍यथा कंपनी प्रबंधन को कानूनी कदम उठाने पर बाध्‍य होना पड़ेगा। इस घोषणा के बाद अटकलें लगाई जाने लगीं कि पुलिस परिसर खाली कराने की जबरन कार्रवाई कर सकती है।

SONY DSCदिन में दो बजे के आसपास कंपनी गेट के बाहर कुछ पुलिसवाले ड्यूटी पर तैनात थे जबकि भीतर करीब 100 पुलिसकर्मी डटे हुए थे। एसएचओ प्रवीण यादव एक दरोगा के साथ गेट से बाहर आते दिखे तो इस संवाददाता ने उनसे लंबी बात की। यादव ने कहा, ”हम लोग लिबरल हैं। अभी तो ऊपर से कोई आदेश नहीं है। केवल लॉ एंड ऑर्डर की तामील कराने के लिए हम यहां मौजूद हैं।” यह पूछे जाने पर कि क्‍या कोई कार्रवाई की जा सकती है, उन्‍होंने हंसते हुए कहा, ”हमें कहा जाएगा तो हम एक मिनट में इन 800 लोगों को बाहर कर देंगे। फिर यहां 8000 लोग नौकरी करने आ जाएंगे… इनकी कमी नहीं है। वे लोग खुद इन्‍हें भगा देंगे।”

प्रवीण यादव कंपनी की भाषा बोलते दिखे जब उन्‍होंने कहा, ”आप ही बताओ, कंपनी आपका ट्रांसफर कर दे तो क्‍या आप ड्यूटी पर नहीं जाओगे। हमारा भी ट्रांसफर होते रहता है। अब ट्रांसफर वापस लेने की मांग करना तो गैर-कानूनी है। ये कर्मचारी तो भीतर मजे में हैं। इन्‍हें खाना लाकर दिया जा रहा है और कोई सख्‍ती नहीं की जा रही।”

गेट पर तैनात एक सुरक्षाकर्मी ने निजी बातचीत में अपने कपड़ों पर लगे पसीने के सफेद निशान और बढ़ी हुई दाढ़ी दिखाते हुए जो विवरण बताया, वह पूरी तरह एसएचओ के दावे का खंडन था। उसने कहा, ”108 घंटे से हम लोग लगातार ड्यूटी कर रहे हैं और घर नहीं गए। कहा गया है कि जब तक हड़ताल खत्‍म नहीं होती, हमें नहीं जाना है। भीतर टॉयलेटों पर ताले लगवा दिए गए हैं। केवल चार टॉयलेट खुले हैं। उसी में सब कर्मचारी जा रहे हैं। सबके कपड़े सील गए हैं। बारिश में किसी तरह पांच दिन से ये लोग पड़े हुए हैं। लेडीज़ तो बीमार हो रही हैं।”

इतनी मुसीबतों के बाद भी कर्मचारियों के हौसले पस्‍त नहीं हुए हैं। परिसर के भीतर धरने पर बैठी अपनी पत्‍नी के लिए एक सज्‍जन कपड़े लेकर आए थे लेकिन उन्‍हें भीतर नहीं जाने दिया गया, न ही किसी से कपड़े भिजवाने की इजाज़त दी गई। उनके बच्‍चे की तबीयत पिछले पांच दिनों से खराब है, लेकिन लड़ाई का जज्‍़बा ये है कि उनकी पत्‍नी की ओर से एक संदेश आया कि वे अभी अगले तीन दिन तक अपने साथियों को छोड़कर कहीं नहीं जाने वाली हैं।

एलजी परिसर के बाहर पुलिस का कड़ा पहरा कुछ ऐसा ही जज्‍़बा गेट के बाहर डटी महिलाओं में भी दिख रहा है। वे लगातार बारिश से खुद को बचाते हुए झंडे और बैनर लेकर इस उम्‍मीद में खड़ी हैं कि प्रबंधन शायद ट्रांसफर किए गए 11 कर्मचारियों का ऑर्डर वापस कर ले। यह बात अलग है कि प्रबंधन एक कदम भी पीछे डिगने को तैयार नहीं है। एसएचओ यादव कहते हैं, ”यहां दक्षिण कोरिया का प्रबंधन है। वह समझौता नहीं करेगा। करना भी नहीं चाहिए।” एक निजी सुरक्षाकर्मी बताते हैं कि पांच दिन हो गए लेकिन एलजी फैक्‍ट्री के मालिक अनिल त्‍यागी अब तक एक बार झांकने भी नहीं आए हैं। दूसरी ओर, चमचमाती कारों से गेट के भीतर जाते-आते सुपरवाइज़री और प्रबंधकीय स्‍तर के कर्मचारियों के चेहरे पर कोई शिकन नहीं दिखती। एक ने हड़ताल के बारे में पूछे जाने पर कहा, ”हज़ारों में कुछ सौ लोगों का मामला है। कंपनी चल रही है।”

आठ सौ धरनारत कर्मचारियों की वजह से जो काम रुका हुआ था, उस पर कोई खास असर नहीं पड़ा है क्‍योंकि करीब 3500 ठेका कर्मचारी 250 की दिहाड़ी से 200 रुपये ज्‍यादा पर रख लिए गए हैं जो आठ घंटा लाइन पर काम कर रहे हैं। अदालत के आदेश से हड़ताली कर्मचारियों की कुछ उम्‍मीद बंधी है और यूनियन नेताओं मनोज चौबे, विकास शर्मा आदि की लगातार मौजूदगी उन्‍हें ढांढस दे रही है, लेकिन प्रबंधन के स्‍तर पर गतिरोध कायम है।

प्रशासन के सूत्रों की मानें तो शुक्रवार रात से लेकर शनिवार रात तक का वक्‍त बहुत अहम है। यह बहुत संभव है कि अदालती स्‍टे के बावजूद प्रबंधन और पुलिस प्रशासन मिलकर कर्मचारियों को बाहर खदेड़ने जैसी कोई कार्रवाई कर बैठे। मामले की संजीदगी को देखते हुए नोएडा की कंपनियों में सर्वाधिक सक्रिय ट्रेड यूनियन सीटू ने इस मजदूर आंदोलन को अपना समर्थन दे दिया है। मनोज चौबे ने बताया, ”सीटू वालों ने हमें आश्‍वासन दिया है कि वे अपने लोगों को यहां भेजेंगे। हमारी उनसे लगातार बात चल रही है।”
मजदूरों को बारिश में संबोधित करते मनोज चौबे मजदूरों को बारिश में संबोधित करते मनोज चौबे [/caption]

16 COMMENTS

  1. I feel this is among the most significant info for me. And i am glad reading your article. But want to commentary on few general things, The site taste is great, the articles is actually nice : D. Good task, cheers

  2. Very nice post. I just stumbled upon your blog and wished to say that I have really enjoyed browsing your blog posts. In any case I will be subscribing to your feed and I hope you write again very soon!

  3. Hi there, just became alert to your blog via Google, and located that it is truly informative. I am gonna watch out for brussels. I’ll appreciate if you continue this in future. Many people shall be benefited out of your writing. Cheers!

  4. Hello this is kinda of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding knowledge so I wanted to get guidance from someone with experience. Any help would be greatly appreciated!

  5. Woah! I’m really loving the template/theme of this blog. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s challenging to get that “perfect balance” between superb usability and visual appeal. I must say that you’ve done a excellent job with this. Also, the blog loads extremely fast for me on Safari. Superb Blog!

  6. A powerful share, I just given this onto a colleague who was doing just a little evaluation on this. And he actually purchased me breakfast because I discovered it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the deal with! But yeah Thnkx for spending the time to discuss this, I really feel strongly about it and love studying extra on this topic. If potential, as you turn into experience, would you thoughts updating your weblog with more details? It is highly useful for me. Huge thumb up for this blog put up!

  7. A powerful share, I simply given this onto a colleague who was doing somewhat evaluation on this. And he in truth purchased me breakfast because I found it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the deal with! But yeah Thnkx for spending the time to debate this, I really feel strongly about it and love studying more on this topic. If doable, as you develop into expertise, would you mind updating your blog with more particulars? It’s highly helpful for me. Big thumb up for this blog publish!

  8. Ive in no way read anything like this prior to. So nice to locate somebody with some original thoughts on this topic, really thank you for starting this up. this site is one thing that’s necessary on the net, someone with a small originality. valuable job for bringing some thing new to the net!

  9. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get several emails with the same comment. Is there any way you can remove people from that service? Thanks a lot!

  10. Thank you, I have recently been looking for info about this subject for ages and yours is the best I have discovered till now. But, what about the conclusion? Are you sure about the source?

  11. Great site. A lot of useful info here. I’m sending it to several friends ans also sharing in delicious. And of course, thanks for your sweat!

  12. We are a group of volunteers and starting a new scheme in our community. Your website offered us with valuable info to work on. You’ve done a formidable job and our entire community will be thankful to you.

  13. Appreciating the dedication you put into your blog and detailed information you present. It’s great to come across a blog every once in a while that isn’t the same unwanted rehashed information. Great read! I’ve saved your site and I’m including your RSS feeds to my Google account.

  14. Aw, this was a truly nice post. In idea I would like to put in writing like this furthermore – taking time and actual effort to create a really good article?- but what can I say?- I procrastinate alot and by no indicates appear to get some thing done.

LEAVE A REPLY