Home मोर्चा पत्रकारों के शोषण में जुटे मीडिया से ग़ायब है मई दिवस ?

पत्रकारों के शोषण में जुटे मीडिया से ग़ायब है मई दिवस ?

SHARE

मई दिवस क्या है और इसका क्या महत्व है, आज का मीडिया इसे बताने में नहीं, छिपाने में दिलचस्पी रखता है। संपादक से मैनेजर बन चुके लोगों के लिए इस पर बात करना भी ऐसा ‘पाप’ है जो उन्हें किसी भी क्षण पैदल कर सकता है। ये संयोग नहीं कि दिल्ली से छपने वाले ज़्यादातर अख़बारों में इसका आज कोई ज़िक्र ही नहीं है। टीवी चैनलों की तो बात ही क्या करना। पत्रकारों के काम के घंटे और उनकी सेवा सुरक्षा का प्रावधान संविधान में दर्ज है, लेकिन यह बात करते ही ‘नक्सली’ कहलाए जाने का ख़तरा होता है ‘ गोया न्यू इंडिया की बुनियाद श्रम के शोषण पर ही रखी जाएगी।

इस बुरी स्थिति पर वरिष्ठ पत्रकार और कवि विष्णु नागर ने फ़ेसबुक पर यह टिप्पणी की है-

“आज पहली मई है-मज़दूर दिवस। मैं जो तीन अख़बार पढ़ता हूँ,उनमें से किसी ने इसकी याद दिलाना ज़रूरी नहीं समझा क्योंकि ऐसा करना ख़ुद उनके लिए और सरकार के लिए असुविधाजनक है।  प्रधानमंत्री ने ज़रूर महीन संकेत में बात करके मुद्दे को भटकाने की कोशिश की।  आज के ज़्यादातर पत्रकार भी विशुद्ध मज़दूर हैं -कुछ को मज़दूरी अच्छी मिलती है मगर अधिकतर को न्यूनतम मज़दूरी से भी कम मिलती है और काम के घंटे भी निर्धारित नहीं हैं, उनकी नौकरी पक्की नहीं है, सुबह नहीं तो शाम को वे निकाले जा सकते हैं। उनकी मुक्ति की कामना तो की जा सकती है हालाँकि उनकी मुक्ति की परिस्थियाँ आज दूर दूर तक नहीं हैं। कुछ अपनी इच्छा से और कुछ नौकरी की मज़बूरी के कारण हिंदुत्व और सरकार के भोंपू बने हुए हैं। उन सबके लिए भी मन में सद्भावना है और चूँकि वे ईश्वर को मानते हैं, इसलिए आज ईसामसीह को याद करते हुए यह भी कहना चाहता हूँ कि ईश्वर उन्हें माफ़ करना कि वे नहीं जानते कि वे क्या कर रहे हैं। वे मज़दूर हैं ,इसलिए भी उन्हें माफ़ करना। वे माफ़ी के हक़दार हैं और पत्रकार के रूप में इज़्ज़त पाने और उसे हासिल करने की कोशिश करने के अधिकारी भी। “

आज़ादी के तुरंत बाद यह ख़तरा महसूस किया गया था कि पत्रकारों की नौकरी सुरक्षित नहीं हुई तो वह मालिकों के इशारे पर कम करने को मजबूर होंगे। इसीलिए नेहरू सरकार ने ‘श्रमजीवी पत्रकार ऐक्ट’ बनाकर यह सुनिश्चित करने की कोशिश की कि पत्रकार निर्भय  होकर क़लम चलाएँ। उनकी नौकरी उनके मालिक भी ना ले पाएँ। लेकिन उदारीकरण के साथ मालिकों की ओर से पत्रकारों को ठेके पर रखने का चलन चलाया गया। कॉरपोरेटीकरण ने इस बीमारी को और बढ़ाया। कभी लालच और कभी भय से ज़्यादातर पत्रकारों ने ठेके की व्यवस्था स्वीकार कर ली। अब उनके ऊपर हमेशा नौकरी से निकाले जाने की तलवार लटकती रहती है। इस बात से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि वे अच्छा काम जानते हैं या अनुभवी हैं। उम्र बढ़ना और अधिक अनुभवी होना भी उनके ख़िलाफ़ जा सकता है। समय के साथ वेतन बढ़ जाना भी उन्हें कंपनी के लिए बोझ बना सकता है।

इस बीच सरकार का रवैया भी पूरी तरह बदल गया है। कहाँ तो पत्रकारों की सेवा सुरक्षा उसका दायित्व था, कहाँ वह सीधे मालिकों के साथ खड़ी नज़र आती है। इस या उस पार्टी से राज्यसभा सदस्य बनकर मालिक सरकार पर दबाव डालने की स्थिति में हैं। यह संयोग नहीं कि सुप्रीम कोर्ट के स्पष्ट आदेश के बाद भी मजीठिया वेतन आयोग की सिफ़ारिशें लागू नहीं हुई हैं।

बहरहाल, श्रम सुधार की तमाम कोशिशों के बावजूद श्रमजीवी पत्रकार ऐक्ट अभी तक लागू है। संवाददाताओं की स्थिति विशेष होती है, लेकिन ऐक्ट के मुताबिक डेस्क पर काम करने वाले किसी पत्रकार से-

-छह घंटे से अधिक काम नहीं लिया जा सकता ।

-चार घंटे से अधिक लगातार काम नहीं कराया जा सकता।

-हर चार घंटे के बाद 30 मिनट का अवकाश ज़रूरी है।

-रात्रिकालीन पाली साढ़े पाँच घंटे से ज़्यादा नहीं हो सकती।

-रात में साढ़े तीन घंटे काम के बाद 30 मिनट का अवकाश ज़रूरी है।

-पत्रकार जितने घंटे अतिरिक्त काम करे, उतने घंटे उसे अतिरिक्त अवकाश मिलना चाहिए।

-एक हफ़्ते से ज़्यादा नाइट शिफ़्ट नहीं कराया जा सकता।

-अवकाश के दिन बुलाने पर उस दिन का वेतन भी दिया जाना चाहिए। इसके बदले किसी और दिन अवकाश देना ग़लत है।

-सभी पत्रकारों को साल में 10 सार्वजनिक अवकाश मिलना चाहिए।

लेकिन इन नियमों की प्रबंधन ने धज्जियाँ उड़ा कर रख दी हैंं।  दिक्क़त ये है कि श्रमजीवी पत्रकारों के संगठन भी नहीं बचे। शोषण की यह चक्की तब तक चलती रहेगी जब तक पत्रकार ख़ुद को मज़दूर मानकर संघर्ष के लिए तैयार नहीं होते।

 

 बर्बरीक

 

22 COMMENTS

  1. START CO -OPERATIVE MEDIA SOCIETY .Publish a PROGRESSIVE , REVOLUTIONARY weekly. Rs 5 per copy. All media mazdoors and vendors will work freely. At least 4 beginning. Then advertising may be a source. It will have tremendous power. Why not peoples associated with such press can request public to co operate maximally.

  2. Start a model. Be a mediavigil PRINT EDITION. Besides it will raise all issues buried by corporate media. No distortions. Facts and good CLASS analysis.

  3. I am extremely inspired together with your writing talents as smartly as with the structure to your blog. Is that this a paid topic or did you modify it your self? Anyway stay up the nice high quality writing, it’s uncommon to look a great blog like this one nowadays.
    kurtisKa

  4. Winstrol for sale in usa There are two product forms of Stanozolol – suspension for injection Stanozolol 50 mg and pills for oral use Stanozolol 10 mg. Each of form has its advantages: suspension is injected directly into the bloodstream and gives a greater effect of one steroid dose, whereas tablets lose some properties passing through the digestive tract, but they are more convenient to use. In any case, it’s for you to choose any form you like – we are ready to propose you both of them.

  5. Enanthate There are two product forms of Stanozolol – suspension for injection Stanozolol 50 mg and pills for oral use Stanozolol 10 mg. Each of form has its advantages: suspension is injected directly into the bloodstream and gives a greater effect of one steroid dose, whereas tablets lose some properties passing through the digestive tract, but they are more convenient to use. In any case, it’s for you to choose any form you like – we are ready to propose you both of them.

  6. Hey There. I found your blog using msn. This is an extremely well written article. I will make sure to bookmark it and come back to read more of your useful info. Thanks for the post. I will definitely comeback.

  7. Hey there! Someone in my Facebook group shared this website with us so I came to take a look. I’m definitely enjoying the information. I’m book-marking and will be tweeting this to my followers! Superb blog and great design and style.

  8. Wonderful work! That is the type of info that are meant to be shared around the web. Shame on Google for now not positioning this submit higher! Come on over and consult with my website . Thank you =)

  9. Needed to draft you this little bit of remark to finally thank you yet again for those marvelous advice you’ve featured in this case. It has been certainly unbelievably open-handed with people like you to grant unhampered all that most of us would have sold for an ebook in order to make some cash for themselves, chiefly considering the fact that you might well have tried it in the event you considered necessary. These good ideas as well served to be a easy way to recognize that someone else have the same zeal much like mine to realize whole lot more on the topic of this matter. I am certain there are lots of more fun occasions in the future for folks who view your blog.

  10. I’m so happy to read this. This is the kind of manual that needs to be given and not the accidental misinformation that is at the other blogs. Appreciate your sharing this best doc.

  11. I am very happy to read this. This is the type of manual that needs to be given and not the random misinformation that’s at the other blogs. Appreciate your sharing this greatest doc.

LEAVE A REPLY