Home मोर्चा ठगी के विज्ञापनों के लिए ज़िम्मेदार ठहराये जायें संपादक !

ठगी के विज्ञापनों के लिए ज़िम्मेदार ठहराये जायें संपादक !

SHARE

 

भारतीय प्रेस परिषद को पत्रकार विष्णु राजगढ़िया का पत्र

सेवा में,
माननीय अध्यक्ष,
भारतीय प्रेस परिषद
सूचना भवन, 8-सी.जी.ओ. काॅम्पलेक्स
लोदी रोड, नई दिल्ली – 110003

पत्रांक 63/2017 दिनांक 08-02-17

संदर्भ – संचिका संख्या 14/191/2016-17 की सुनवाई दिनांक 07.02.2017

विषय – संपादकीय स्वतंत्रता को ठगी के विज्ञापन के दबाव से मुक्त करना तथा ठगी संबंधी विज्ञापनों के संबंध में अखबारों का दायित्व निर्धारित करना

मान्यवर,
कल दिनांक 07.02.2017 को कोलकाता में सुनवाई के क्रम में माननीय जांच समिति द्वारा मुझे बताया गया कि किसी अखबार में नौकरी अथवा प्रशिक्षण के नाम पर ठगी संबंधी विज्ञापनों की जांच करना किसी अखबार के लिए संभव नहीं। ऐसे विज्ञापनों के प्रकाशन से पूर्व और पश्चात बरते जाने लायक सावधानियों के संबंध में मेरे विभिन्न सुझावों के अनुरूप कोई दिशानिर्देश जारी करने पर भी माननीय जांच समिति की सहमति नहीं दिखी। यहां तक कि अखबारों में ठगी संबंधी विज्ञापनों और समाचारों के लगभग पचास से भी ज्यादा उदाहरणों के साथ मेरे द्वारा प्रस्तुत खोजपरक और तथ्यात्मक संचिका को भी माननीय जांच समिति द्वारा मुझे वापस लौटा दिया गया जबकि उस संचिका से इस परिघटना को समझने में काफी मदद मिल सकती थी।

उक्त आलोक में कल रात कोलकाता से निराश लौटते वक्त मैंने निश्चय किया था कि इस मामले में दुबारा भारतीय प्रेस परिषद को कष्ट नहीं दूंगा। लेकिन आज ही सुबह देश के प्रतिष्ठित समाचारपत्र दैनिक जागरण के पटना संस्करण में पेज 18 पर प्रकाशित विज्ञापन “महिला व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थान“ ने मुझे पुनः यह पत्र लिखने को विवश किया है। आशा है, माननीय भारतीय प्रेस परिषद इसे अन्यथा नहीं लेकर देश में पत्रकारिता के समक्ष एक बड़ी चुनौती के तौर पर लेगा।

विषय की गंभीरता स्पष्ट करने के लिए मैं एक विशेष अनुरोध की अनुमति चाहता हूं। मुझे जीवन में अपनी योग्यता/क्षमता के अनुरूप समुचित पद एवं अवसर मिले और कभी किसी जालसाजी का शिकार नहीं होना पड़ा। आपने भी देश की सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश जैसे गरिमामय पद को सुशोभित किया और अब भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष का महती दायित्व है। भारतीय प्रेस परिषद के अन्य माननीय सदस्यों को भी जीवन में अपनी क्षमता एवं योग्यता के अनुरूप महत्वपूर्ण अवसर मिले। हममें से किसी के साथ भी ऐसा नहीं हुआ होगा, जो आज देश के लाखों बेरोेजगारों के साथ हो रहा है। हमें निश्चय ही ऐसे बेरोजगार युवक-युवतियों के साथ खुलेआम अन्याय को रोकना चाहिए।

क्या हम ऐसे मासूम बेरोजगारों से नजरें चुरा लें, जिसने फर्जी नौकरी के विज्ञापन के कारण आवेदन फार्म भरा, पासपोर्ट फोटो खिंचवाकर किसी गजेटेड आफिसर से अभिप्रमाणित कराया हो, किसी इंटरनेट कैफे से आनलाइन भरा हो या पांच-छह सौ रूपये का बैंक ड्राफ्ट बनवाकर स्पीड पोस्ट करना पड़ा हो? इसके बाद महीनों उम्मीद और इंतजार के बाद उसकी पीड़ा क्या होगी, इसकी कल्पना भी मुश्किल है।

कृपया आज 08.02.2017 को दैनिक जागरण (पटना) पेज दो पर प्रकाशित समाचार का संदर्भ लेना चाहेंगे-

समाचार के अनुसार बिहार सरकार ने राज्य में 23 हजार नए आंगनबाड़ी केंद्र खोलने तथा इनके संचालन के लिए 47 हजार पदों पर नियुक्ति का निर्णय लिया है।
चिंताजनक है कि इसी अखबार के इसी अंक यानी 08.02.2017 को दैनिक जागरण (पटना) पेज 18 पर किसी “महिला व्यावसायिक प्रशिक्षण संस्थान“ का विज्ञापन प्रकाशित हुआ है।


आंगनबाड़ी के नए केंद्र खोलने के बिहार सरकार के निर्णय से इस विज्ञापन का सीधा संबंध है। लेकिन इस संस्था की जांच आवश्यक है। इसके वेबसाइट पर संस्था के किसी भी पदाधिकारी का नाम, पता अथवा फोन नबंर नहीं दिया गया है। संपर्क के तौर पर सिर्फ एक ई-मेल आइडी है। संस्था का वैधानिक स्वरूप क्या है, इसकी भी कोई सूचना नहीं। कोई पंजीकरण संख्या भी नहीं दी गई है। कुछ तसवीरें हैं जो पटियाला के किसी काॅलेज के पुराने सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रतीत होती हैं। रिजल्ट्स नामक टैब में छह परीक्षाओं के परिणाम दिखाने का भ्रम पैदा किया गया है, लेकिन उस टैब को खोलें तो कोई परीक्षा परिणाम नहीं दिखेगा।

 

इस वेबसाइट में आंगनबाड़ी और आशा वर्कर के तथाकथित प्रशिक्षण का फार्म भरने के नाम पर पांच सौ/साढ़े तीन सौ रुपया कराया जाता है। संभव है, इसके बाद प्रशिक्षण शुल्क भी लिया जाता हो। लेकिन वास्तव में किसी भी किस्म का प्रशिक्षण दिया जाता है, अथवा नहीं, यह जांच का विषय है।
प्रश्न यह उठता है कि क्या वाकई आज दैनिक जागरण में प्रकाशित यह विज्ञापन आंगनबाड़ी संबंधी प्रशिक्षण हेतु है अथवा इसके नाम पर बिहार, झारखंड, उŸारप्रदेश इत्यादि राज्यों की लाखों गरीब महिलाओं को ठगी का शिकार बना लिया जाएगा। क्या देश के समाचारपत्रों के पास इतनी भी योग्यता/क्षमता नहीं कि एक विज्ञापन में प्रकाशित दावे की जांच कर सके?

मान्यवर, मैंने अपने मूल आवेदन में भी स्पष्ट किया था कि मेरी शिकायत किसी संस्थान विशेष से नहीं बल्कि मैंने रोजगार या प्रशिक्षण के नाम पर ठगी संबंधी विज्ञापनों के मामले में समाचारपत्रों का दायित्व सुनिश्चित करने का आग्रह किया है। मैंने दैनिक हिंदुस्तान में 30.06.2016 को प्रकाशित भारतीय पशुपालन निगम लिमिटेड के नियुक्तियों संबंधी विज्ञापन असलियत की जांच कराने संबंधी निवेदन भारतीय प्रेस परिषद से किया था। उसी मामले की सुनवाई कोलकाता में 07.02.2017 को हुई। सुनवाई में जांच समिति के माननीय सदस्यों ने कहा कि किसी अखबार के लिए ऐसे विज्ञापनों की असलियत की जांच करना संभव नहीं है।

लेकिन सक्रिय पत्रकारिता के अपने अनुभवों के आधार पर पूरी विनम्रता के साथ मैं कहना चाहूंगा कि किसी भी संवाददाता के लिए ऐसे किसी ठगी संबंधी विज्ञापन की जांच करना बेहद आसान है। हर अखबार समूह में ऐसे दूरदर्शी, खोजी पत्रकार हैं जो एक-दो घंटे के अंदर ऐसे किसी ठग गिरोह का भंडाफोड़ कर दें। इससे ठगी की वारदात रूकेगी। जबकि अगर अखबारों ने ऐसे ठगी गिरोहों के विज्ञापन छापकर और उस पर चुप्पी साधकर प्रश्रय दिया, तो समाज में अपराध बढ़ेंगे, हताशा बढ़ेगी। दैनिक हिंदुस्तान में 03.02.2017 को प्रकाशित रिपोर्ट नोएडा के “घर बैठे गैंग ने छह लाख लोगों से 37 अरब रूपये ठगे“ देखी जा सकती है। ऐसे गिरोहों के विज्ञापन आखिर कोई समाचारपत्र कैसे छाप सकता है?

मैं यह भी कहना चाहूंगा कि कई अखबारों के प्रमुख संपादकीय पदों पर आसीन लोगों तथा वरिष्ठ पत्रकारों ने व्यक्तिगत चर्चा में यह बात खुलकर स्वीकारी है कि उनके अखबार में ऐसे विज्ञापनों के प्रकाशन से उनका सिर शर्म से झुक जाता है। लेकिन वे चाहकर भी उस पर रिपोर्ट नहीं कर सकते क्योंकि यह विज्ञापन का मामला है।

स्पष्ट है कि संपादकीय स्वतंत्रता पर ठगी के विज्ञापनों का भारी दबाव है। देश में प्रेस की स्वतंत्रता को बनाए रखने तथा पत्रकारिता का स्तर उन्नत करने के भारतीय प्रेस परिषद के दायित्व के आलोक में समाचारपत्रों की स्वतंत्रता को ठगी के विज्ञापनों के दबाव से मुक्त करने हेतु विशेष कदम उठाने की अपेक्षा है।

यह चिंताजनक है कि ठग कंपनियों को अपना जाल फैलाने में स्वयं हमारे देश के प्रतिष्ठित समाचारपत्र सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन संबंधित समाचारपत्रों के संपादक या पत्रकार को ऐसी किसी कंपनी द्वारा की जाने वाली ठगी की जानकारी होने पर भी उन्हें इस संबंध में कोई तथ्यात्मक रिपोर्ट के संकलन, लेखन और प्रकाशन की अनुमति नहीं होती। ऐसे मामलों में कई अखबारों के प्रबंधन का स्पष्ट निर्देश होता है कि विज्ञापन दाताओं के संबंध में कोई नकारात्मक खबर नहीं लिखनी है।

यह स्पष्ट तौर पर विज्ञापन के दबाव के कारण पत्रकारीय स्वतंत्रता का हनन है। आखिर क्या वजह है कि नोएडा में छह लाख लोगों से 37 अरब रूपये ठगे जाने की लंबी प्रक्रिया के दौरान समाचारपत्रों ने इस संबंध में कोई खोजपरक रिपोर्ट प्रकाशित नहीं की? यहां तक कि उपर दिये गये किन्हीं अन्य अखबारों के दो समाचारों में उस ठग कंपनी को महिमामंडित किया गया है।

मान्यवर,

हमारी टीम की पड़ताल के अनुसार कि देश में विभिन्न फर्जी संस्थाओं द्वारा बेरोजगार नौजवानों से नौकरी के नाम पर ठगी की घटनाएं लगातार की जा रही हैं। ऐसी संस्थाएं किसी एनजीओ या कंपनी के रूप में पंजीकृत होती हैं। इनके द्वारा खुलेआम समाचारपत्रों में विज्ञापन देकर बड़ी संख्या में नौकरियां देने के दावे किए जाते हैं।

आवेदन के साथ 200 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक वसूले जाते हैं। किसी विज्ञापन में तो ऐसी रिक्तियों की संख्या हजारों में होती है। वेतन भी आकर्षक बताया जाता है। प्रशिक्षण के नाम पर भी भारी-भरकम वसूली की जाती है। कुछ कंपनियां तो नौजवानों को फर्जी नियुक्ति पत्र तक थमा देती हैं। कई संस्थाएं तो ऐसा आभास कराती हैं मानो वह कोई केंद्र सरकार या राज्य सरकार की संस्था हो। कुछ संस्थाओं द्वारा कोई वितरण केंद्र खोलने के नाम पर भी ठगी की जाती है।

कुछ संस्थाएं भारत सरकार अथवा राज्य सरकार की लोकप्रिय योजनाओं के नाम का दुरूपयोग करती हैं। जैसे- स्वच्छ भारत मिशन, स्किल इंडिया, राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन, समेकित बाल संरक्षण योजना, मनरेगा, राष्ट्रीय बागवानी मिशन, सर्व शिक्षा अभियान इत्यादि। आम नागरिक इन योजनाओं के नाम से या मिलते-जुलते नाम के फर्क को समझ नहीं पाते और बेहद आसानी से इनकी ठगी का शिकार हो जाते हैं।

दुर्भाग्य यह है कि यह सारा गोरखधंधा खुलेआम होने के बावजूद ऐसी कोई सरकारी मशीनरी या सामाजिक संस्था नहीं है जो इन चीजों पर नजर रखे या रोक लगाए। जब बड़ी संख्या में बेरोजगारों को ठगी का शिकार बना लिया जाता है तब मामला सामने आता है। प्राथमिकी दर्ज होने पर पुलिस सक्रिय होती है। लेकिन तब तक जालसाज गिरोह भारी ठगी करके फरार हो चुके होते हैं।

झारखंड फाउंडेशन की रिसर्च टीम द्वारा ऐसे मामलों की ओर समाज, प्रशासन और मीडिया का ध्यान आकृष्ट करने का प्रयास किया जाता रहा है। लेकिन अब तक हम सरकार की किसी भी एजेंसी को संवेदनशील या सक्रिय करने में असफल रहे हैं।
संबंधित विभिन्न उदाहरण अनुलग्नक- एक में देखे जा सकते हैं।

यहां प्रस्तुत उदाहरणों से स्पष्ट है कि-

कोई भी ठगी गिरोह हमारे देश और राज्य में कोई भी फर्जी विज्ञापन प्रकाशित करके इसके नाम पर भोले-भाले नागरिकों से करोड़ों रुपये की ठगी करने के लिए स्वतंत्र है।
केंद्र और राज्य स्तर पर सरकार की कोई भी एजेंसी ऐसी नहीं है जो इन विषयों का संज्ञान लेकर इस पर स्वतः कार्रवाई करे।
केंद्र अथवा राज्य सरकार के जिन विभागों अथवा लोकप्रिय कार्यक्रमों के नाम पर ऐसे विज्ञापन प्रचारित किए जाते हैं, उन विभागों द्वारा ही ऐसे विज्ञापनों पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।
किसी जागरूक नागरिक अथवा संस्था द्वारा इस संबंध में शिकायत पर भी कोई ध्यान नहीं दिया जाता।
ऐसे विज्ञापन प्रकाशित करते समय समाचार पत्र द्वारा जानबूझकर आंखें मूंद ली जाती हैं। ऐसे विज्ञापन के प्रकाशन के पहले या उसके बाद उस पर कोई जांच पड़ताल नहीं की जाती है।
ऐसे विज्ञापनों के कारण ठगी के शिकार लोग दूर- दूर के तथा असंगठित होते हैं जिसके कारण या तो उनके द्वारा कोई विधिवत शिकायत दर्ज नहीं हो पाती है अथवा शिकायत किए जाने पर भी जितने बड़े पैमाने पर ठगी हुई है, उस अनुपात में कार्यवाही नहीं हो पाती।
ऐसे मामलों में शिकायत दर्ज होने के बावजूद संबंधित ठग भारी वसूली करके फरार हो चुके होते हैं और उनसे राशि की वसूली अथवा दंडात्मक कार्रवाई नहीं हो पाती।

उक्त आलोक में भारतीय प्रेस परिषद से निवेदन है कि

1. इस परिघटना की जांच हेतु भारतीय प्रेस परिषद द्वारा एक विशेष जांच दल का गठन किया जाए। इस जांच दल द्वारा फर्जी संस्थाओं द्वारा रोजगार, प्रशिक्षण, शिक्षा, एजेंसी, चिटफंड आदि के नाम पर अखबारों में प्रकाशित होने वाले ठगी के विज्ञापनों की व्यापक जांच करके एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए।

2. भारतीय प्रेस परिषद द्वारा समाचार पत्रों के लिए एक मार्गदर्शिका जारी की जाए जिसमें बड़े पैमाने पर ऐसी नियुक्तियों या सरकारी योजनाओं हेतु प्रशिक्षण से संबंधी विज्ञापन प्रकाशित करते समय संबंधित संस्था की विश्वसनीयता एवं संसाधनों की जानकारी प्राप्त करना अनिवार्य हो। ऐसे विज्ञापन प्रदाता के नाम, पते संबंधी पूरा रिकार्ड भी सार्वजनिक हो।

3. मार्गदर्शिका में यह स्पष्ट संदेश हो कि कोई अखबार महज यह कहकर अपने दायित्व से पीछे नहीं हट सकता कि हमने पाठकों को स्वयं विज्ञापन की जांच कर लेने की वैधानिक सूचना दे दी है। जब समाचार पत्र अन्य तमाम विषयों की गहन जांच पड़ताल करने में इतनी दिलचस्पी लेते हों, तो भला अपने ही अखबार में प्रकाशित किए गए किसी अपराधमूलक विज्ञापन की मामूली पड़ताल तक का दायित्व लेने से इंकार कैसे कर सकते हैं?

4. प्रत्येक समाचारपत्र में एक वरीय संपादकीय सदस्य को यह दायित्व हो कि उसके अखबार मेें प्रकाशित ऐसे विज्ञापनों का स्वतः संज्ञान लेकर उसकी जांच कराये तथा उसके पास कोई भी नागरिक ऐसी किसी आशंका के आलोक में शिकायत दर्ज कर सके, भले ही वह स्वयं किसी ठगी का शिकार न हुआ हो।

5. अगर जांच समिति के माननीय सदस्यों को ऐसा प्रतीत होता हो कि देश के समाचारपत्रों को स्तर अभी इतना उच्च है कि उन पर ऐसा दायित्व थोपना अनुचित होगा, तब भी अखबारों का स्तर उच्च करने के लक्ष्य के तहत इस संबंध में देश के प्रमुख समाचारपत्रों के संपादकों तथा वरिष्ठ पत्रकारों के सुझाव आमंत्रित किये जा सकते हैं। संभव है, स्वयं संपादकों/पत्रकारों की ओर से ही ऐसा कोई व्यावहारिक सुझाव निकलकर आ जाए, जिससे अखबारों को इस कलंक से मुक्ति मिले और बेरोजगारों से ठगी बंद हो।

मान्यवर, मैं इस पर समुचित चिंतन-प्रक्रिया को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस पत्र को सार्वजनिक मंच पर उपलब्ध करा रहा हूं तथा इस क्रम में कोई महत्वपूर्ण सुझाव आने पर माननीय प्रेस परिषद को भी अग्रसारित करूंगा।
आशा है, देश करोड़ों मासूम बेरोजगारों, गरीब अल्प-शिक्षित महिलाओं और ग्रामीणों के हितों को ध्यान में रखते हुए उक्त आलोक में समुचित कदम उठाने तथा इसकी समुचित जानकारी उपलब्ध कराने की कृपा की जाएगी।

 

  भवदीय

100 COMMENTS

  1. Greate post. Keep writing such kind of information on your site.
    Im really impressed by your site.
    Hello there, You have performed an incredible job. I’ll definitely digg it and individually suggest
    to my friends. I am sure they’ll be benefited from this web site.

  2. I wiⅼl immediatᥱly grasp your rss feed as I can’t find your email suscription hyperlink or e-newsletter service.

    Do you’ve any? Pⅼease permmit me recognise in orԀrer
    that I mmay subscribe. Thanks.

  3. Greetings! Quick question that’s entirely off topic.
    Do you know how to make your site mobile friendly?
    My web site looks weird when browsing from
    my iphone 4. I’m trying to find a template or plugin that might be able to correct
    this issue. If you have any suggestions, please share.
    Appreciate it!

  4. You are so awesome! I don’t think I have read through anything like that
    before. So great to find someone with a few genuine thoughts on this issue.
    Really.. thank you for starting this up. This website is one thing
    that’s needed on the internet, someone with a
    bit of originality!

  5. An outstanding share! I have just forwarded this onto a co-worker
    who was doing a little homework on this. And he in fact ordered me dinner because I found it for him…
    lol. So allow me to reword this…. Thank YOU for
    the meal!! But yeah, thanks for spending the time to talk about this matter here on your internet
    site.

  6. I got this website from my pal who told me about this web page and now
    this time I am browsing this website and reading very
    informative articles at this place.

  7. Greate post. Keep posting such kind of info on your blog.
    Im really impressed by your blog.
    Hi there, You’ve performed an excellent job. I’ll definitely digg it
    and in my view suggest to my friends. I’m confident they will
    be benefited from this site.

  8. I am extremely inspired together with your writing abilities as well as with
    the layout to your weblog. Is this a paid subject matter or did you customize it your self?
    Either way keep up the nice quality writing, it’s uncommon to peer a
    great blog like this one today..

  9. We’re a bunch of volunteers and starting a brand new scheme in our community.

    Your web site offered us with valuable information to work on. You have
    performed a formidable task and our whole group shall be grateful to you.

  10. Have you ever considered about adding a little bit more than just your articles? I mean, what you say is fundamental and everything. Nevertheless just imagine if you added some great graphics or video clips to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with images and videos, this site could undeniably be one of the very best in its field. Superb blog!

  11. You can definitely see your enthusiasm in the work you write. The arena hopes for more passionate writers such as you who are not afraid to say how they believe. At all times go after your heart.

  12. Somebody essentially assist to make seriously articles I’d state. That is the first time I frequented your web page and up to now? I surprised with the analysis you made to create this actual submit incredible. Magnificent process!

  13. My brother recommended I would possibly like this blog.
    He used to be totally right. This post truly made my day.
    You cann’t imagine just how so much time I had spent for this info!
    Thanks!

  14. Thank you for another informative web site. Where else could I get that type of information written in such a perfect way? I’ve a project that I’m just now working on, and I’ve been on the look out for such information.

  15. My partner and I absolutely love your blog and find most of your post’s
    to be precisely what I’m looking for. Would you offer guest
    writers to write content for you? I wouldn’t mind creating a post
    or elaborating on a few of the subjects you write concerning here.
    Again, awesome blog!

  16. Good day I am so glad I found your blog page,
    I really found you by mistake, while I was researching on Askjeeve for something else, Anyways I am here now and would just like to say thanks a lot for a remarkable
    post and a all round exciting blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to read through it all at the moment but I
    have saved it and also added your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a lot more, Please do keep up the great b.

  17. For most up-to-date news you have to pay a quick visit world wide web and
    on world-wide-web I found this web site as a finest web page for newest updates.

  18. There are certainly a lot of particulars like that to take into consideration. That could be a great point to carry up. I supply the thoughts above as normal inspiration however clearly there are questions just like the one you carry up where the most important factor will be working in honest good faith. I don?t know if greatest practices have emerged around issues like that, however I’m positive that your job is clearly identified as a good game. Both girls and boys really feel the impression of only a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

  19. I’m impressed, I need to say. Actually hardly ever do I encounter a blog that’s both educative and entertaining, and let me tell you, you have hit the nail on the head. Your idea is excellent; the problem is something that not enough persons are talking intelligently about. I am very joyful that I stumbled throughout this in my seek for something relating to this.

  20. It is appropriate time to make some plans
    for the longer term and it is time to be happy.
    I’ve learn this submit and if I may I want to suggest you few fascinating issues or advice.

    Perhaps you can write subsequent articles relating to
    this article. I wish to read more issues about it!

  21. Fantastic blog! Do you have any tips and hints for aspiring writers?
    I’m planning to start my own site soon but I’m a little lost on everything.
    Would you propose starting with a free platform
    like WordPress or go for a paid option? There are so many choices out there that I’m totally overwhelmed ..
    Any tips? Kudos!

  22. Terrific work! This is the type of information that should be shared around the web. Shame on Google for not positioning this post higher! Come on over and visit my site . Thanks =)

  23. Its like you read my mind! You appear to know a lot
    about this, like you wrote the book in it or something.
    I think that you can do with a few pics to drive the message home a little
    bit, but instead of that, this is excellent blog.
    A great read. I’ll definitely be back.

  24. Fantastic post however , I was wondering if you could write a litte more on this
    topic? I’d be very thankful if you could elaborate a little bit more.

    Appreciate it!

  25. It’s actually a nice and helpful piece of info. I’m glad that you shared this helpful information with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  26. hello there and thank you for your info – I have certainly picked up anything new from right here. I did however expertise several technical issues using this web site, as I experienced to reload the site many times previous to I could get it to load correctly. I had been wondering if your web host is OK? Not that I’m complaining, but slow loading instances times will sometimes affect your placement in google and can damage your quality score if advertising and marketing with Adwords. Anyway I am adding this RSS to my email and can look out for a lot more of your respective interesting content. Ensure that you update this again very soon..

  27. I think this is among the most significant information for me.
    And i am glad reading your article. But should remark on few general things, The website style is
    wonderful, the articles is really nice : D. Good job, cheers

  28. Hi there, just became aware of your blog through Google,
    and found that it is truly informative. I am going to watch out for brussels.
    I will be grateful if you continue this in future.
    Many people will be benefited from your writing.
    Cheers!

  29. Hi there, simply was alert to your weblog through Google, and located that it’s truly informative. I’m going to watch out for brussels. I’ll be grateful in case you continue this in future. Lots of folks will likely be benefited from your writing. Cheers!

  30. Let me know if you’re looking for a writer for your weblog. You have some really great articles and I think I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I’d really like to write some content for your blog in exchange for a link back to mine. Please send me an e-mail if interested. Cheers!

  31. I in addition to my guys happened to be analyzing the best guides on your web page and so at once I had a horrible feeling I never thanked you for those strategies. All of the ladies are actually certainly glad to read them and now have sincerely been taking pleasure in those things. Thank you for turning out to be really helpful and then for choosing this sort of impressive useful guides most people are really eager to know about. Our own honest regret for not expressing gratitude to earlier.

  32. This is really interesting, You’re a very skilled blogger.
    I’ve joined your feed and look forward to seeking more of
    your great post. Also, I have shared your site in my social networks!

  33. Hey there outstanding blog! Does running a blog like this
    take a great deal of work? I have absolutely no understanding of computer programming but I had been hoping to start my own blog in the near future.
    Anyway, if you have any recommendations or tips for new blog owners
    please share. I know this is off subject nevertheless I simply wanted to ask.
    Appreciate it!

  34. I like the helpful info you provide in your articles.
    I’ll bookmark your blog and check again here frequently.
    I’m quite certain I will learn many new stuff right here!

    Best of luck for the next!

  35. Today, while I was at work, my sister stole my apple ipad and tested to see if it can survive a 25 foot drop, just so she can be a youtube sensation. My iPad is now broken and she has 83 views. I know this is completely off topic but I had to share it with someone!

  36. I just could not go away your site before suggesting that I extremely enjoyed the standard info an individual provide on your visitors? Is going to be again incessantly in order to check out new posts

  37. Hi there, I believe your blog could be having internet browser compatibility problems.
    Whenever I take a look at your site in Safari, it looks fine but when opening in IE, it’s
    got some overlapping issues. I just wanted to give you a quick heads
    up! Other than that, fantastic website!

  38. It’s actually a cool and useful piece of info. I’m happy that you just shared this helpful info with us. Please stay us up to date like this. Thank you for sharing.

  39. Thanks for the good writeup. It in reality was once a leisure account it. Glance advanced to far added agreeable from you! By the way, how could we keep in touch?

  40. My partner and I absolutely love your blog and find a lot of your post’s to be what precisely I’m looking for. can you offer guest writers to write content for you? I wouldn’t mind writing a post or elaborating on most of the subjects you write regarding here. Great web site!

  41. Somebody essentially assist to make severely
    posts I would state. This is the very first time I frequented your website page and so far?
    I amazed with the research you made to create this
    actual post incredible. Wonderful activity!

  42. Hello! I understand this is somewhat off-topic but I had to ask. Does managing a well-established blog like yours require a lot of work? I’m completely new to running a blog however I do write in my diary on a daily basis. I’d like to start a blog so I can easily share my personal experience and views online. Please let me know if you have any kind of suggestions or tips for new aspiring bloggers. Thankyou!

  43. I want to to thank you for this excellent read!!
    I absolutely loved every little bit of it. I have you book marked to look
    at new stuff you post…

  44. Thanks a bunch for sharing this with all of us you actually know what you’re talking about! Bookmarked. Please also visit my site =). We could have a link exchange arrangement between us!

  45. What i don’t understood is in fact how you are no longer actually much more
    smartly-favored than you may be now. You are very intelligent.
    You understand therefore considerably with regards
    to this matter, made me individually imagine it from a lot of various angles.

    Its like women and men don’t seem to be interested except it is something to do with
    Girl gaga! Your own stuffs nice. Always care for it up!

  46. hey there and thank you for your info – I have certainly picked
    up something new from right here. I did however expertise a few technical points using this web site,
    as I experienced to reload the website a lot of times previous
    to I could get it to load properly. I had been wondering if your web host is OK?

    Not that I am complaining, but slow loading instances times will sometimes affect your placement in google and can damage your quality score if advertising and marketing with Adwords.
    Anyway I’m adding this RSS to my email and could look out for
    much more of your respective intriguing content. Ensure that you update
    this again soon.

  47. Heya i’m for the first time here. I found this board and I find
    It truly useful & it helped me out a lot. I hope to give something back and aid others like
    you aided me.

  48. Thanks a lot for sharing this with all of us you actually know what you’re talking about! Bookmarked. Kindly also visit my site =). We could have a link exchange agreement between us!

  49. Somebody essentially help to make seriously articles I would state. This is the very first time I frequented your website page and thus far? I surprised with the research you made to create this particular publish extraordinary. Fantastic job!

  50. Howdy! Do you know if they make any plugins to help with SEO? I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good success. If you know of any please share. Many thanks!

  51. Hi! Do you use Twitter? I’d like to follow you if that would be ok. I’m absolutely enjoying your blog and look forward to new updates.

  52. Hello There. I found your blog using msn. This is an extremely well written article. I will be sure to bookmark it and come back to read more of your useful information. Thanks for the post. I will certainly comeback.

  53. “Wow, wonderful blog layout! How long have you been blogging for? you made blogging look easy. The overall look of your web site is wonderful, let alone the content!”

  54. Hey there! This is kind of off topic but I need some guidance from an established blog. Is it very hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty fast. I’m thinking about setting up my own but I’m not sure where to begin. Do you have any tips or suggestions? Many thanks

  55. whoah this blog is magnificent i love reading your articles. Keep up the great work! You know, many people are searching around for this info, you can aid them greatly.

  56. Good day! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick
    shout out and tell you I genuinely enjoy reading through your articles.
    Can you suggest any other blogs/websites/forums that deal with the same subjects?
    Many thanks!

  57. Hi! I know this is kinda off topic but I was wondering which blog platform are you using for
    this site? I’m getting fed up of WordPress because
    I’ve had issues with hackers and I’m looking at options for another platform.
    I would be great if you could point me in the direction of a
    good platform.

  58. Hey there terrific website! Does running a
    blog such as this require a large amount of work?
    I have absolutely no understanding of coding however I had been hoping to start my own blog in the near future.
    Anyways, if you have any recommendations or tips for new blog owners please share.
    I know this is off topic however I just needed to ask. Thank you!

  59. Hi there! This is kind of off topic but I need some help from an established blog. Is it very difficult to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about making my own but I’m not sure where to begin. Do you have any ideas or suggestions? Appreciate it

LEAVE A REPLY