Home मोर्चा असरदार रहा 13 प्वाइंट रोस्टर और आदिवासियों की बेदख़ली के ख़िलाफ़ भारत...

असरदार रहा 13 प्वाइंट रोस्टर और आदिवासियों की बेदख़ली के ख़िलाफ़ भारत बंद

SHARE


ऑल यूनिवर्सिटीज फोरम फॉर सोशल जस्टिस एवं #संविधानबचाओसंघर्ष_समिति तथा विभिन्न संगठनों की ओर से 5 मार्च को शांतिपूर्ण भारत बंद सफल ऐव्ं देश भर में व्यापक असर।

5 मार्च का भारत बंद इन मांगों के समर्थन में किया गया :

  1. केंद्रीय विश्वविद्यालय एवं अन्य शैक्षिक संस्थानों में नियुक्ति हेतु आरक्षण को विषयवार, बिना बैकलॉग के 13 पॉइंट #रोस्टर को तुरंत रद्द करते हुए उसकी जगह पुनः 200 पॉइंट रोस्टर लागू किये जाने के लिए केंद्र सरकार अध्यादेश (Ordinance) या कानून लाए। ऐसा ही अध्यादेश रेलवे में लागू 13 पॉइंट रोस्टर के लिए भी लाया जाए। 

22 जनवरी, 2019 को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2017 के आदेश को चुनौती देने वाले केंद्र द्वारा दायर सभी अपीलों को मंगलवार को खारिज करने के बाद विश्वविद्यालयों में संकाय पद अब किसी विश्वविद्यालय में उपलब्ध कुल पदों के अनुसार आरक्षित नहीं होंगे।  कोर्ट के फैसले के बाद केंद्र विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के 5 मार्च 2018 का आदेश जिससे 200 पॉइंट रोस्टर व्यवस्था को बदल कर 13 पॉइंट विभागवार / विषयवार / बिना बैकलॉग के कर दिया था, जिसे केंद्र सरकार ने संसद में बयान देकर रोक लगाई थी, पुनः प्रभावी हो गयी है। 

अब केंद्रीय एवं अन्य विश्वविद्यालयों तथा महाविद्यालयों की नियुक्तियों में अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए कोटा प्रणाली के तहत आरक्षित शिक्षण पदों को लगभग समाप्त कर दिया जायेगा। यह देखते हुए कि आरक्षित संकाय पद पहले से ही भारी संख्या में खाली हैं, नई नीति से विश्वविद्यालय प्रणाली में हाशिए के वर्गों के प्रतिनिधित्व को लगभग समाप्त कर दिया जायेगा।

दिल्ली विश्वविद्यालय और इससे सम्बद्ध कॉलेजों में, जहाँ पिछले 4 – 5 वर्षों से परमानेंट (स्थायी) नियुक्तियाँ नहीं हुई हैं और लगभग 4 – 5 हज़ार शिक्षक एड -हॉक नियुक्तियों के अंतर्गत काम कर रहें हैं वहाँ करीब इसके आधे यानि लगभग 2000 आरक्षित वर्गों के एसिस्टेंट प्रोफेसर पर गाज गिरने की सम्भावना है। चुकी नियमनुसार इन एड-हॉक एसिस्टेंट प्रोफेसरों की नियुक्ति प्रक्रिया हर 4 महीने पुनः किया जाना चाहिए, तो जैसे ही व्यवस्था 13 पॉइंट रोस्टर लागू होगा, इन वर्गों का आरक्षण समाप्त हो जायेगा और ये सड़क पर होंगे। 

विषयवार 13 पॉइंट रोस्टर को तत्काल वापस लेने की माँग और विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों की नियुक्तियों में सम्पूर्ण पदों को एक साथ लेते हुए, आरक्षित वर्गों को क्रम में पहले रखते हुए 200 पॉइंट रोस्टर को पुनः लागू किये जाने की माँग। 

2. केंद्र सरकार आदिवासियों को विस्थापित करने के आदेश के विरुद्ध तत्काल अध्यादेश लाए

सुप्रीम कोर्ट ने बीती 13 फरवरी को एक बेहद अहम फैसला सुनाते हुए 21 राज्‍यों को आदेश दिए हैं कि वे अनुसूचित जनजातियों और अन्‍य पारंपरिक वनवासियों को जंगल की ज़मीन से बेदखल कर के जमीनें खाली करवाएं। कोर्ट ने भारतीय वन्‍य सर्वेक्षण को निर्देश दिए हैं कि वह इन राज्‍यों में वन क्षेत्रों का उपग्रह से सर्वेक्षण कर के कब्‍ज़े की स्थिति को सामने लाए और इलाका खाली करवाए जाने के बाद की स्थिति को दर्ज करवाए।

ऐसा पहली बार हुआ कि देश की सर्वोच्‍च अदालत ने एक साथ दस लाख से ज्‍यादा आदिवासियों को उनकी रिहाइशों से बेदखल करने और जंगल खाली करवाने के आदेश सरकारों को दिए हैं। यह अभूतपूर्व फैसला है, जिसे जस्टिस अरुण मिश्रा, नवीन सिन्‍हा और इंदिरा बनर्जी की खंडपीठ ने कुछ स्‍वयंसेवी संगठनों द्वारा वनाधिकार अधिनियम 2006 की वैधता को चुनौती देने वाली दायर एक याचिका पर सुनाई करते हुए सुनाया है। इन संगठनों में वाइल्‍डलाइफ फर्स्‍ट नाम का एनजीओ भी है।

वनाधिकार अधिनियम को इस उद्देश्य से पारित किया गया था ताकि वनवासियों के साथ हुए ऐतिहासिक नाइंसाफी को दुरुस्‍त किया जा सके। इस कानून में जंगल की ज़मीनों पर वनवासियों के पारंपरिक अधिकारों को मान्‍यता दी गई थी जिसे वे पीढि़यों से अपनी आजीविका के लिए इस्‍तेमाल करते आ रहे थे।

स्‍वयंसेवी संगठनों ने इस कानून को चुनौती दी थी और वनवासियों को वहां से बेदखल किए जाने की मांग की थी।

बीती 13 फरवरी को हुई सुनवाई में अदालत ने एक विस्‍तृत आदेश पारित करते हुए इक्‍कीस राज्‍यों को आदिवासियों से वनभूमि खाली कराने के निर्देश जारी कर दिए। क्या हम सिर्फ देखते रहेंगे कि इन 21 राज्‍यों में कितने आदिवासियों की जिंदगी तबाह होने जा रही है।

इसके साथ उच्च न्यायपालिका में आरक्षण, 10% सवर्ण आरक्षण का विरोध, 2021 में जतिवार जनगणना, विविपैट पर्ची की गिनती की 2013 सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का चुनाव आयोग द्वारा पालन भी शामिल है।

भारत बंद के माध्यम से उपरोक्त मांगों का समर्थन किया गया। 

संविधान बचाओ संघर्ष समिति की ओर से डॉ.सूरज मंडल द्वारा जारी। 

डॉ सूरज मंडल,
M- 8130710675 /
98 68490170

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.