Home मीडिया बनारस: ‘घास’ खाते बच्चों की ख़बर पर बोले DM- कल तक छापो...

बनारस: ‘घास’ खाते बच्चों की ख़बर पर बोले DM- कल तक छापो खंडन वरना मुकदमा!

ज्यादा अहम यह है कि पूर्व विधायक और कांग्रेस के नेता अजय राय ने जिलाधिकारी को गुरुवार को ही एक पत्र लिखा जिसमें यह बात दोहरायी कि कोइरीपुर के बच्चे “असहाय स्थिति में अंकरी घास खाते दिखे”। इसके बावजूद प्रशासन के नोटिस में अंकरी की घास को “दाल” लिखा गया है।

SHARE

कोरोना का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा किये गये देशव्यापी लॉकडाउन के बीच बनारस से पहला मामला आया है जहां एक अख़बार के सपादक और संवाददाता को भुखमरी के चलते एक समुदाय के बच्चों के घास खाने की ख़बर छापने पर प्रशासन से विधिक कार्यवाही का नोटिस मिला है। दिलचस्प है कि इस ख़बर को राष्ट्रीय मीडिया में पहली बार उठाने वाले वेब पोर्टल “दि वायर” ने अपनी स्टोरी में नोटिस का जिक्र ही नहीं किया है। 

मामला जनसंदेश टाइम्स में बुधवार को छपी एक रिपोर्ट का है जिसमें बताया गया है कि बनारस के पिंडरा तहसील बड़ागांव थानांतर्गत कोइरीपुर गांव में मुसहरों के बच्चे अंकरी की घास खा रहे हैं। जनसंदेश में विजय विनीत और मनीष मित्र के संयुक्त बाइलाइन से छपी ख़बर पर गुरुवार को प्रशासन ने संपादक सुभाष राय और संवाददाताओं को कानूनी कार्यवाही का नोटिस थमा दिया। नोटिस में कहा गया है कि वे खबर का खंडन छापें अन्यथा उन पर कार्यवाही की जाएगी।

विजय विनीत ने बताया कि उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है और जिलाधिकारी ने शुक्रवार तक उनके खिलाफ एफआइआर करवाने और उन्हें गिरफ्तार करने का निर्णय ले लिया है।

शासन का भेजा नोटिस कहता है कि “बच्चों के घास खाने का प्रकाशित समाचार एवं तथ्य वास्तविकता के विपरीत है। इस गांव में बच्चे फसल के साथ उगने वाली अखरी दाल और चने की बालियां तोड़कर खाते हैं व ये बच्चे भी अखरी दाल की बालियां खा रहे थे।” नोटिस में लिखा है, “घास खाना लिखकर मुसहर जाति के परिवारों पर लांछन लगाने का कुत्सित प्रयास किया गया है”।

खुद वाराणसी के डीएम कौशल राज शर्मा ने पत्रकारों के पूछने पर बताया कि शुक्रवार तक यदि अखबार ने खंडन नहीं छापा तो उस पर क्रिमिनल कॉन्सपिरेसी और महामारी कानून के तहत मुकदमा किया जाएगा।

इस वीडियो में कौशल राज शर्मा को यह कहते सुना जा सकता है कि उन्होंने अपने बच्चे के साथ अंकरी खाते हुए फोटो डाली थी यह दिखाने के लिए कि इसे खाया जाता है और यह सामान्य बात है।

अपने बच्चे और अंकरी की “दाल” के साथ फोटो में जिलाधिकारी शर्माबार 

सबने कहा ‘घास’, डीएम ने कहा ‘दाल’

ध्यान देने वाली बात ये है कि इस ख़बर को समाजवादी पार्टी ने भी अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया था और आज जब नोटिस की खबर आयी, तब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर के इसकी निंदा की है।

इससे ज्यादा अहम यह है कि पूर्व विधायक और कांग्रेस के नेता अजय राय ने जिलाधिकारी को गुरुवार को ही एक पत्र लिखा जिसमें यह बात दोहरायी कि कोइरीपुर के बच्चे “असहाय स्थिति में अंकरी घास खाते दिखे”। इसके बावजूद प्रशासन के नोटिस में अंकरी की घास को “दाल” लिखा गया है।

इधर समाचार वेबसाइट दि वायर ने गुरुवार की रात एक ख़बर प्रकाशित की जिसमें लिखा कि जैसे ही जिलाधिकारी को प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र में बच्चों के घास खाने की बात पता चली, वे मदद के लिए दौड़ पड़े। इस खबर में कहीं भी मूल स्रोत जनसंदेश टाइम्स का ज़क्र नहीं है बल्कि खबर किसी स्थानीय पत्रकार राजकुमार तिवारी के माध्यम से लिखी गयी है जिन्होंने वायर को बताया है कि उन्नहोंने बच्चों को घास खाते हुए देखा है।

एक ओर वेबसाइट बच्चों के घास खाने की पुष्टि राजकुमार तिवारी के माध्यम से करती है, तो दूसरी ओर मूल खबर पर जनसंदेश के संपादक सुभाष राय और वरिष्ठ संवाददाता विजय विनीत को मिले नोटिस की खबर दबा जाती है। विडम्बना यह है कि खबर किसी स्टाफर ने नहीं लिखी है, किसी पेशेवर पत्रकार ने भी नहीं और यह खबर बनारस से भी फाइल नहीं की गयी। खबर लेखक इस्मत आरा को परिचय में जामिया मिलिया का छात्र बताया गया है।

अंकरी- घास या दाल?

अंकरी का बोटैनिकल नाम विसिया हृष्टा (vicia hirsuta) है। इसकी दो प्रजातियां हैं। एक है लाल और दूसरी सफेद। मूलतः यह घास है। इस घास को कोई नहीं खाता। यह घास बीज के साथ मिलकर खेतों में पहुंच जाती है। इसे खाने के लिए कृषि वैज्ञानिकों ने संस्तुति नहीं दी है। आमतौर पर यह घास गेहूं, चना, मसूर, खेसारी, मटर के साथ उगती है। जिस फसल में उगती उसका उत्पादन चालीस फीसदी कम कर देती है।

बीएचयू के कृषि विज्ञान संस्थान के प्रोफेसर रमेश कुमार सिंह के अनुसार अंकरी एक घास है। कृषि वैज्ञानिक इसे खर-पतवार की श्रेणी में रखते हैं। सरकार ने इसे खाने के लिए रिकमेंड नहीं किया है। यह इंसान के खाने योग्य नहीं है। मवेशियों को अधिक खिलाने पर डायरिया की समस्या हो जाती है। उन्होंने बताया कि अंकरी में कैनामिनीन पाया जाता है, जो अमीनो एसिड बनाने वाले प्रोटीन को प्रभावित कर देता है। इसे खाने से लीवर और फेफड़ों में सूजन की समस्या आ जाती है।

अगर ये घास किसी फसल में उग जाती है तो उसे उखाड़ना ही एकमात्र विकल्प है। इस घास को खत्म करने के लिए अलग से कोई दवा नहीं बनी है बीएचयू के कृषि विज्ञान संस्थान के प्रोफेसर पवन कुमार सिंह के अनुसार करइल मिट्टी में अंकरी घास बहुतायत मात्रा में उग जाती है। लोग इसे जानवरों को खिला देते हैं, लेकिन खाता कोई नहीं। इसे पचा पाना हर किसी के लिए आसान नहीं है। उन्होंने कहा इसे खाने से शरीर में सुस्ती आती है और लगातार खाने ये बड़े रोग का कारण बन सकती है।

7 COMMENTS

  1. एक संस्था के बारे मे पता चला है। इनके नम्बर ये है।

    9811807558 , 9811137421,
    9810146649
    9971155627
    9810358179

    ये पता नहीं कहाँ कहां मददगार हैं।
    इसलिए मैं कल सुबह आपको वर्कर यूनिटी के साथी का नम्बर दूंगा ।
    मुझे काल करें । या मैं पोस्ट करूंगा
    मेरा नम्बर है
    9719689540

  2. ऊपर कुछ नम्बर हैं

    अमन कुमार की रिपोर्ट
    —जम्मू से बिलासपुर….देख ले।
    इसमें दिल्ली के परेशान दिहाड़ी मजदूरों के बारे मे दिया था ।
    उसी के बारे मे ऊपर भी एक कमेंट है।
    —-उमेश

  3. dr umesh chandola

    न द वायर आपकी तरह मजदूरों का यार है न ये जिल्लाद कारी 1956 बैच के IAS डॉक्टर बी डी शर्मा है।
    शरमाते कहाँ हैं ये लोग ।

  4. बहुत महत्वपूर्ण सूचना

    प्लीज आगे फारवर्ड करें।

    दिल्ली में किसी भी मजदूर साथी को खाने या रहने की दिक्कत हो तो इन नंबरों पर संपर्क करें
    श्यामवीर 9540886678

    खालिद खान 8920794944

    ऑफिस का नंबर 8506929429

    —– उमेश चन्दोला

  5. ईश्वर शरण उपाध्याय

    डीम साहेब सच्चाई स्वीकार कीजिए अंकरी घास ही है और बच्चे कभी कभी फलने पर फली खा भी लेते हैं इसकी खेती नहीं होती है।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.