Home मीडिया Zee News वाले सुधीर चौधरी पर TMC सांसद महुआ ने किया आपराधिक...

Zee News वाले सुधीर चौधरी पर TMC सांसद महुआ ने किया आपराधिक मानहानि का मुकदमा

SHARE

तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने ज़ी न्यूज़ के संपादक सुधीर चौधरी पर आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर किया है. 25 जून को संसद में महुआ मोइत्रा के भाषण के बाद सुधीर चौधरी ने अपने कार्यक्रम ‘डीएनए’ में महुआ की स्पीच को चोरी का करार दिया था. सुधीर ने अपने कार्यक्रम में दावा किया था कि  ‘फासीवाद के लक्षणों’ पर दिया गया उनका भाषण ‘चुराया हुआ’ था.

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट प्रीती परेवा ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए इसकी सुनवाई 20 जुलाई को तय की है. महुआ मोइत्रा का बयान भी इसी दिन दर्ज किया जायेगा.

गौरतलब है कि मोइत्रा ने लोकसभा में 25 जून को जो भाषण दिया था वह पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था. इस भाषण ने सोशल मीडिया पर अच्छी खासी बहस छेड़ दी थी.
जिसके बाद प्राइम टाइम पर आने वाले अपने कार्यक्रम में सुधीर चौधरी ने कहा था कि महुआ का भाषण मार्टिन लॉन्गमैन के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर लिखे गए लेख से ‘चुराया हुआ’ था. उन्होंने यह भी कहा था कि यह महुआ के अपने विचार नहीं थे बल्कि उन्होंने इसे ‘कॉपी-पेस्ट’ किया था. सुधीर चौधरी ने अपने उस कार्यक्रम में ‘बाकायदा स्क्रीन पर पट्टी चलवाया था -‘महुआ मोइत्रा की ‘बौद्धिक बेईमानी’ का विश्लेषण.

वहीं मार्टिन लॉन्गमैन ने ट्विटर पर चौधरी के इस दावे को ख़ारिज करते हुए कहा था कि महुआ ने स्पष्ट बताया था कि उनका भाषण यूएस होलोकॉस्ट म्यूजियम में देखे गए एक पोस्टर से प्रेरित था. लॉन्गमैन ने बाकायदा ट्वीट कर लिखा कि भारत में एक भाषण पर एक सांसद को घेरे जाने के बाद मैं इंटरनेट पर फेमस हो गया हूं. दक्षिणपंथी हर देश में  ही तरह के होते हैं.

महुआ के वकील शादान फरासत ने अदालत को बताया कि उनकी मुवक्किल ने बताया था कि उनका भाषण उस पोस्टर से प्रेरित है. उन्होंने कहा कि पोस्टर में फासीवाद के 14 लक्षणों में से मोइत्रा ने 7 चुने और भारत के परिप्रेक्ष्य में उन्हें जोड़ा.

इससे पहले महुआ मोइत्रा ने 4 जुलाई को लोकसभा में सुधीर चौधरी के खिलाफ गलत रिपोर्टिंग को लेकर विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव पेश किया था, लेकिन इसे लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला द्वारा खारिज कर दिया गया था.

सुधीर चौधरी पर आपराधिक मानहानि का मुकदमा दायर से पहले टीएमसी सांसद मोइत्रा ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि वे संविधान में दी गई अभिव्यक्ति की आजादी का सम्मान करती हैं, लेकिन उन्हें फेक न्यूज़ की ताकत का भी अंदाजा है.

महुआ मोइत्रा द्वारा सुधीर चौधरी पर आपराधिक मानहानि का केस दर्ज़ कराये जाने के बाद सुधीर ने ट्वीट कर लिखा है कि उन्होंने अपनी अभिव्यक्ति की आज़ादी का उपयोग किया था और उनके खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने की कोशिश और अब मानहानि का केस कर कौन किसी की आवाज़ दबाने की कोशिश कर रहा है, कौन फासीवादी है ?

3 COMMENTS

  1. सिकंदर हयात

    ये सब ठीक नहीं हे खासकर पुलिस fir से बचना चाहिए पुलिस जाँच वांच कुछ नहीं करती हे सिर्फ खाने कमाने में लग जाती हे एक से गिरफ्तार करने के पैसे लेते हे दूसरे पक्ष से गिरफ्तार ना करने के आम तौर पर अगर कोई पुलिस में जा रहा हे तो समझ जाओ की उसे न्याय नहीं बदला या उत्पीड़न चाहिए हे कनोजिया गिरफ्तारी में हमने देखा मान भी लिया जाए की उसने गलत ट्वीट किया था तो कोर्ट में केस करके
    आरोप सिद्ध करके सजा दिलाई जानी चाहिए मगर नहीं पुलिस से गिरफ्तार करवाया गया ताकि एक उत्पीड़न की मिसाल कायम हो जाए लोग आलोचना से डरे खासकर छोटे लोग जिनको रगड़ना केला छिलने से भी बेहद आसान काम होता हे , और कोर्ट से भी जहा तक हो सके दूर रहना चाहिए मगर क्या कर सकते हे इन ही लोगो ने ऐसे हालात पैदा किये हे महात्मा गाँधी किसी मुद्दे को न्यायलय में नहीं ले जाते थे

  2. सिकंदर हयात

    नेताओ को थोड़ी मोटी खाल का होना चाहिए बात बात पर fir मुक़दमेबाज़ी के चलन बहुत बुरा हे मगर इस केस में ये हालात इन्ही चौधरियो ने पैदा किये हे fir मुक़दमेबाज़ी नहीं होनी चाहिए सुधीरो को सबक सिखाना भी बहुत जरुरी हे लेकिन गलत मिसाल कायम होगी जिसका फायदा संसधानों वाली बईमान ताकते उठाएगी

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.