Home मीडिया दिल्ली दंगों पर प्रसार भारती के CEO के पक्ष में उतरे सरकारी...

दिल्ली दंगों पर प्रसार भारती के CEO के पक्ष में उतरे सरकारी पत्रकार, कहा- गर्व है!

SHARE

प्रसार भारती के पूर्व सीईओ जवाहर सरकार की एक टिप्पणी को लेकर प्रसार भारती के सौ से ज्यादा कर्मचारियों और पत्रकारों ने कड़ी निंदा की है। जवाहर सरकार ने अपनी एक टिप्पणी में प्रसार भारती को प्रचार भारती कहा है।

जवाहर सरकार ने यह टिप्पणी प्रसार भारती के मौजूदा सीईओ शशिशेखर वेम्पति के एक कदम पर की है। दरअसल बीबीसी के एक निमंत्रण को ठुकराते हुए शशिशेखर वेम्पत्ति ने दिल्ली दंगों की एक तरफा रिपोर्टिंग पर ध्यान दिलाया था। शशिशेखर बीबीसी का आमंत्रण ठुकराते हुए उसे दिल्ली दंगों की एकतरफा रिपोर्टिंग और बहुत हद तक फेकन्यूज फैलाने के लिए नसीहत दी थी। इस चिट्ठी में वेम्पति ने जान जोखिम में डालकर ड्यूटी निभा रहे महिला और पुरूष पुलिसवालों के खिलाफ भड़काऊ रिपोर्टिंग पर बीबीसी समेत अंतरराष्ट्रीय मीडिया पर सवाल उठाया था।

फरवरी के अंतिम सप्ताह में दिल्ली में हुई हिंसा पर अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने एकतरफा, भड़काऊ भारत विरोधी रिपोर्टिंग की और बहुत हद तक फेक न्यूज़ फैलाई और इनमें बीबीसी भी शामिल था। इस संदर्भ में जब प्रसार भारती के सीईओ शशिशेखर वेम्पति ने बीबीसी के एक निमंत्रण को ठुकराते हुए उसकी एकतरफा रिपोर्टिंग की तरफ ध्यान दिलाया और विशेषकर अपनी जान जोख़िम में डालकर ड्यूटी दे रहे वर्दीधारी पुरुष और महिला पुलिसकर्मियों के खिलाफ भड़काऊ रिपोर्टिंग पर आपति जताई तो जवाहर सरकार ने इसकी आलोचना की।

अपने पूर्व सीईओ की आलोचना से आहत प्रसार भारती के कर्मचारियों और पत्रकारों का कहना है कि प्रसार भारती के सीईओ का बयान उन पत्रकारों/ कर्मचारियों के लिए गर्व का विषय है। कर्मचारियों और पत्रकारों ने जवाहर सरकार के बयान की निंदा करते हुए कहा है कि वे यह कैसे भूल सकते हैं कि दिल्ली की हिंसा में कॉन्स्टेबल रतन लाल और आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा ने अपनी जान गंवाई और सैंकड़ो पुलिसकर्मी घायल हुए, जिनमें से कुछ की हालत अब भी बेहद गंभीर है। प्रसार भारती के पत्रकारों और कर्मचारियों का कहना है कि बीबीसी ने दिल्ली हिंसा की रिपोर्टिंग करते हुए जानबूझ कर इन सब तथ्यों को नज़रंदाज़ किया।

अपने निंदा प्रस्ताव में प्रसार भारती के कर्मचारियों और पत्रकारों ने कहा है कि यह बेहद दुर्भाग्य की बात है कि जब प्रसार भारती के वर्तमान सीईओ ने भारत के हक में इस मुद्दे पर अपना रूख साफ किया तो प्रसार भारती के पूर्व सीईओ जवाहर सरकार ने बजाय इस मुद्दे पर देश के साथ और प्रसार भारती के साथ खड़े होने के उन्होंने प्रसार भारती को प्रचार भारती कह कर उस संस्था का अपमान किया जिसके वे खुद मुखिया रहे। अत: हम प्रसार भारती के सभी पत्रकार/कर्मचारी इस कृत्य के लिए श्री जवाहर सरकार की कड़ी भर्त्सना करते हैं।


प्रेस विज्ञप्ति

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.