Home मीडिया लेह प्रेस क्लब ने भाजपा पर पत्रकारों को रिश्वत देने का लगाया...

लेह प्रेस क्लब ने भाजपा पर पत्रकारों को रिश्वत देने का लगाया आरोप

SHARE

सरकार द्वारा मीडिया को पालतू बनाने की कोशिशों में एक और ख़बर सामने आ रही है। लेह प्रेस क्लब के पत्रकारों को भाजपा ने अपने में प्रचार और कवरेज के लिए ‘पैसों से भरे लिफाफों’ की पेशकश कर रिश्वत देने की कोशिश की है।

ख़बरों के अनुसार भाजपा के खिलाफ प्रेस क्लब लेह (लद्दाख) द्वारा शिकायत दर्ज किए जाने के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा जांच का आदेश दिया गया है।

अपनी शिकायत में लेह प्रेस क्लब ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रविंदर रैना पर गुरुवार को लेह के होटल सिंगेज पैलेस में पत्रकारों को रिश्वत देने की कोशिश करने का आरोप लगाया. पत्र के अनुसार भाजपा के गुरुवार को लेह के होटल सिंगेज पैलेस में प्रदेश अध्यक्ष रविंदर रैना की एक प्रेस कांफ्रेंस के बाद पत्रकारों को बंद लिफ़ाफे में रिश्वत देने की कोशिश की।

शिकायत पत्र में कहा गया है कि “प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म होने के बाद, प्रदेश अध्यक्ष रविंदर रैना और विधान परिषद के सदस्य विक्रम रंधावा सहित भाजपा नेताओं ने चुनाव के परिणामों को प्रभावित करने के लिए हमारे मंच का उपयोग करने के प्रयास में लिफाफे में पैसे देकर पत्रकारों को रिश्वत देने की कोशिश की,” ।

शिकायत में आगे कहा गया है, “हमने इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया और हम इस तरह की कोशिश में लगे रहे.” पत्र में भाजपा पर चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है और पार्टी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई का आग्रह किया गया है।

लेह प्रेस क्लब के सदस्य रिनचेन एंगमो, उन पत्रकारों में से एक जिन्हें पार्टी के नेताओं ने कथित रूप से रिश्वत देने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि प्रेस निकाय ने भी पुलिस में शिकायत दर्ज की है। उन्होंने दावा किया कि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने राज्य भाजपा प्रमुख के सामने, उसके सहित चार पत्रकारों को लिफाफे सौंपे। नेता ने उनसे आग्रह किया कि वे हॉल में लिफाफे न खोलें।

उन्होंने बताया कि लिफाफे के भीतर पांच सौ रुपए थे।भाजपा के एक नेता ने इस आरोप से इंकार करते हुए कहा कि दावों में कोई सच्चाई नहीं है. “हम किसी को रिश्वत देने में विश्वास नहीं करते हैं। हम पत्रकारों को उच्च सम्मान में रखते हैं। भाजपा ने कभी ऐसा नहीं किया है और हम ऐसा कभी नहीं करेंगे।”

जिला निर्वाचन अधिकारी एवीवी लवासा द्वारा इस मामले की जांच का आदेश दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने लेह प्रेस क्लब का पत्र शेयर करते हुए इस पूरे मामले में कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग और जम्मू-कश्मीर पुलिस को लेह प्रेस क्लब के पत्र का संज्ञान लेना चाहिए।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.