Home लोकसभा चुनाव 2019 प्रियंका की जगह अजय राय को खड़ा कर के क्‍या कांग्रेस ने...

प्रियंका की जगह अजय राय को खड़ा कर के क्‍या कांग्रेस ने बनारस से मोदी को वॉकओवर दे दिया?

SHARE

हफ्ते भर से जारी अटकलों को विराम देते हुए आखिरकार बनारस की वीआइपी सीट से पिछली बार के कांग्रेस प्रत्‍याशी अजय राय का नाम ही इस बार भी फाइनल हुआ है। प्रियंका गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नहीं उतर रही हैं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए गोरखपुर और बनारस से क्रमश: मधुसूदन तिवारी और अजय राय के नाम पर मुहर लगा दी है।

पिछले तीन दिन से प्रियंका गांधी के लड़ने के कयास मीडिया में तेज़ हो गए थे। दरअसल, सोमवार को प्रियंका गांधी ने अपनी टीम को ज़मीनी हालात का जायज़ा लेने के लिए बनारस भेजा था। टीम ने प्रियंका गांधी को लौटकर रिपोर्ट दी थी कि नरेंद्र मोदी से कम से कम डेढ़ लाख वोटों का मार्जिन है जिसे पाट पाना कठिन है।

कांग्रेस अगर पटेल समुदाय के वोट में सेंध लगा पाती तो शायद ऐसी स्थिति बनती कि प्रियंका की उम्‍मीदवारी पर सोचा जा सकता था। ये बात अलग है कि सोमवार रात जब टीम ने लौटकर प्रियंका को अपनी रिपोर्ट दी और अगली सुबह सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी ने प्रियंका को बनारस से लड़ने को मना कर दिया, तब भी ओमप्रकाश राजभर और सुरेंद्र पटेल जैसे नेताओं से पार्टी संपर्क में थी और अगले 48 घंटे तक इस मसले पर संशय बना हुआ था।

बुधवार की शाम एनडीटीवी पर मनोरंजन भारती ने सूत्रों के हवाले से खबर चलायी कि प्रियंका बनारस से चुनाव लड़ सकती हैं लेकिन आजतक ने ठीक उलटी खबर चलायी। आज बनारस के अखबारों में इस आशय की खबर छपी है कि प्रियंका उम्‍मीदवार हो सकती हैं। बुधवार को दिन में कांग्रेस के कुछ करीबी सूत्रों ने हालांकि मीडियाविजिल से बातचीत में साफ कह दिया था कि प्रियंका को कांग्रेस खर्च नहीं करना चाहती। उसे अपनी जीत का भरोसा नहीं है।

अब, जबकि अजय राय का नाम पक्‍का हो गया है, राहुल गांधी का बनाया सस्‍पेंस भी खत्‍म हो गया है। बनारस में मोदी विरोधी वोटों को विपक्ष की ओर से बेसब्री से एक बड़े साझा उम्‍मीदवार की उम्‍मीद थी और लोग मानकर चल रहे थे कि नरेंद्र मोदी के नामांकन के बाद प्रियंका का नाम 27 अप्रैल तक घोषित हो सकता है। इन तमाम संभावनाओं पर कांग्रेस की सूची आने के बाद अटकलें बंद हो चुकी हैं।

जिस तरीके से कांग्रेस ने बनारस के आसपास की सीटों पर उम्‍मीदवार उतारे थे और बाबूसिंह कुशवाहा जैसे नेताओं के साथ गठजोड़ किया था, यह माना जा रहा था कि स्‍टार प्रत्‍याशी उतारने से पहले की सजायी यह फील्डिंग है। रमाकांत यादव, शिवकन्‍या कुशवाहा, ललितेश त्रिपाठी जैसे बड़े नेताओं को मैदान में उतारकर कांग्रेस ने अच्‍छा दांव खेला था लेकिन प्रियंका को न उतार कर बनी-बनायी हवा को कांग्रेस ने खराब कर दिया है।

इतना तय है कि आज बनारस में मोदी के रोड शो, तीन हज़ार गणमान्‍य नागरिकों के साथ रात्रिभोज और नामांकन के बाद बनारस के सौ किलोमीटर के वृत्‍त में सियासी हवा बदल जाएगी और गठबंधन सहित कांग्रेस को बड़ा नुकसान होगा। यह नुकसान उन सीटों पर है जहां विपक्ष की संभावनाएं शुरुआत में प्रबल थीं।

प्रियंका गांधी बनारस से लड़ने का मन तकरीबन बना चुकी थीं। इसलिए एक विश्‍लेषण यह भी किया जा रहा है कि राहुल गांधी द्वारा उन्‍हें मना किए जाने की वजह पार्टी में दोध्रुवीय सत्‍ता को बनने से रोकना है। जाहिर है, प्रियंका अगर मोदी के खिलाफ लड़ जातीं तो हार होती चाहे जीत, उनका प्रोफाइल राहुल गांधी से अचानक काफी बड़ा हो जाता। यह पार्टी और कार्यकर्ताओं दोनों के लिए ठीक नहीं होता।

ऐसे में यही माना जा सकता है कि प्रियंका को लॉन्‍च करते वक्‍त राहुल ने जो बात कही थी वही ठीक थी, कि उन्‍हें 2022 के लिए उत्‍तर प्रदेश में लाया गया है। इसका मतलब है कि राहुल गांधी के दिमाग में यह बात स्‍पष्‍ट थी कि प्रियंका को लोकसभा चुनाव में खर्च नहीं करना है।

यह बात अलग है कि अजय राय का नाम सूची में आने से बनारस के कई लाख मतदाताओं की उम्‍मीदों पर पानी फिर गया है। इससे बनारस का चुनाव न केवल बेमज़ा हो जाएगा बल्कि इस आशंका को और बल मिलेगा कि कांग्रेस यह चुनाव जीतने के लिए नहीं ल़ड़ रही है। इस चुनाव का इस्‍तेमाल वह संगठन को मजबूत करने के लिए कर रही है।

ऐसा नहीं है कि अजय राय की अपनी राजनीतिक दावेदारी बहुत कमजोर है लेकिन उन्‍हें कल तक पता नहीं था कि उनका नाम आने जा रहा है। अब जबकि केवल चार दिन नामांकन में बचे हैं तो उसकी तैयारी और प्रचार आदि का वक्‍त भी बहुत कम है। दूसरे, वे पिछली बार चुनाव हार चुके हैं और समाजवादी पार्टी की ओर से शालिनी यादव के खड़ा होने से विपक्ष के किसी संभावित साझा उम्‍मीदवार को जो वोट मिल सकता था वह उन्‍हें नहीं मिलेगा। मोदी विरोधी वोट बंट जाएंगे।

लिहाजा कांग्रेस का अजय राय को मोदी के खिलाफ खड़ा करना एक तरीके से भाजपा को वॉकओवर दे देना ही है। अब यह किस नज़रिये से किया गया, वह सोचने वाली बात है।

लखनऊ में बैठे सूत्रों की मानें तो एक मौके पर प्रियंका की उम्‍मीदवारी के नाम पर रॉबर्ट वाड्रा के केस में सौदेबाजी की बात भी सामने आई थी। कांग्रेस का एक बयान दो दिन पहले आया था कि 23 मई के बाद आयी सरकार पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़ा देगी। जाहिर है यह बात यूपीए के लिए तो नहीं ही कही गई होगी, एनडीए के लिए रही होगी।

इसका अर्थ यह निकलता है कि कांग्रेस मानकर चल रही है कि 23 मई की मतगणना के बाद भाजपा ही केंद्र में सरकार बनाएगी। ऐसे में रॉबर्ट वाड्रा को लेकर प्रियंका की उम्‍मीदवारी से सौदेबाज़ी की बात को नकारना भी मुश्किल है।

अब भी नामांकन में चार दिन बाकी है। राजनीति संभावनाओं का खेल है। बनारस से जो फीडबैक मिल रहा है, उसके मुताबिक प्रियंका गांधी अगर यहां से लड़ गई होतीं तो शायद झटके में वह सीट निकाल भी लेतीं, भले जीत का मार्जिन बहुत कम होता है। बहुत संभव है कि अगले तीन दिनों के दौरान इस संभावना पर कांग्रेस के भीतर फिर से विचार हो।

1 COMMENT

  1. सिकंदर हयात

    एक तरफ काजू की रोटी चांदी के भाव का खाना एक टाइम का और डाइमंड फेशियल से पुता हुआ फ़क़ीर और दूसरी तरफ कनाडा का धूर्त देशभक्त जिसका अपना चौदह साल का लड़का गर्ल्स के साथ घूम रहा होता हे और आपके बच्चो को ये सेना की कठिन लाइफ के लिए प्रेरित करता हे टोटल कहता भी दीवाना सुनता भी दीवाना आँखे फिल्म इल्यास भाई का डायलॉग ————–मुझे किसी के भी गर्ल्स के ( या किसी के भी ) साथ घूमने पर किसी की भी पर्सनल लाइफ से ना कोई ऐतराज़ हे न कोई दिलचस्पी हे मुझे ऐतराज़ हे इनकी सस्ती देशभक्ति से , तीन सौ करोड़ हे इस धूर्त कनाडा के नागरिक के पास उसका क्या करेगा ये देशभक्त — ? दुसरो को सेना में जाने को कहने वाला न अपने बच्चो को सेना में भेजगा न ही कोई खून पसीना बहा कर ओलम्पिक एशियाड में गोल्ड लाने वाला खिलाडी बनाएगा क्योकि मेहनत तपस्या बहुत हे रिटर्न बहुत कठिन न कोई साइंटिस्ट रिसर्चर बनाएगा न अच्छा लेखक न अच्छा इंसान बनाएगा ये अपने अरबो की मदद से अपने आलसी लौंडे को फिल्म स्टार या क्रिकेट का आराम तलब खिलाडी बनाएगा वो भी फ़ास्ट बॉलर नहीं क्योकि उसमे खून पसीना बहता हे यहाँ तक की अच्छा अभिनेता तक नहीं बनाएगा कोई अच्छी और कालजयी फिल्म तक नहीं बनाएगा कोन इतनी मेहनत करे अपने पेसो से उसे फ़र्ज़ी स्टार बनाएगा देख लेना यही तो हे सस्ती और घिनौनी देशभक्ति

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.