JNU में दीपिका: व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी ने खबर चला दी -‘दीपिका पादुकोण मुसलमान है’!

SHARE

कल घूमने में देर हो गई थी और मुझे यह ताजा खबर मालूम नहीं थी कि दीपिका पादुकोण जेएनयू गई है, वहाँ की छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष के पास यह कहने कि मुझे तुम पर गर्व है। मेरे आगे एक प्रेमी- प्रेमिका थे।उन दोनों को यह बात पता रही होगी।उस लड़की ने दीपिका का नाम लिया। उसके प्रेमी ने व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी चला दी फौरन। कहा-‘दीपिका पादुकोण मुसलमान है’।फिर उसने फिल्मी दुनिया के और भी सितारों के नाम लिए,जो धर्म से या नाम से मुसलमान हैं।

वह लड़की भी इतनी बोदी थी कि उसने इस पर आश्चर्य जरूर प्रकट किया मगर अच्छा कहकर चुप हो गई।मुझे संदर्भ मालूम नहीं था,मैं भी चुप रहा।वैसे भी पार्क में कई संघी बूढ़े रोज बकवास करते रहते हैं-जो उनका अधिकार है-मैं चुपचाप सुनता हूँ और निकल जाता हूँ।कोई फायदा तो है नहीं,उन्हें सच बताने का।एक बुजुर्ग कभी- कभी उनसे भिड़ता है तो उसे पागल समझकर उसकी बात पर ये चुप लगा जाते हैं।वह भी ऊबकर उठ जाता है और फिर वही संघी बकवास शुरू हो जाती है।वैसे भी प्रेमी-प्रेमिका के मामले में हम करें भी क्या? वे जानें, उनका काम जाने,उनका ज्ञान जाने!

खैर दीपिका मुसलमान है या हिंदू है या नास्तिक है,इससे फर्क नहीं पड़ता। वह एक बड़ी फिल्मी स्टार है और उसकी जब एक फिल्म रिलीज हो रही है,तब उसका जेएनयू जाना केवल फिल्मी टोटका नहीं हो सकता। वह इससे कुछ अधिक है और साहसिक इस मायने में है कि उसकी फिल्मों का बजट कई-कई करोड़ों में होता है और आज के माहौल में संघी उत्पाती उसकी फिल्म को पिटवाने के लिए गुंडागर्दी से लेकर सरकारी मशीनरी तक का इस्तेमाल कर सकते हैं,जो वे करेंगे ही।शुरू भी हो गया होगा यह अभियान।और यह भी उल्लेखनीय है कि जेएनयू में वह भले कुछ न बोली हों,चुप रही हों,दस मिनट में लौट आई हों मगर इंडिया टुडे टीवी पर वह खुलकर बोलीं।

लेकिन अगर आप पोजीशन लेने की छोटी सी भी कोशिश करते हैं तो आपके साथ क्या- क्या हो सकता है,इसका उदाहरण जेएनयू, एएमयू, समेत तमाम विश्वविद्यालय के छात्र छात्राएँ तो हैं ही,दीपिका भी है। एक छोटी सी कोशिश आपके बारे में सफेद झूठ फैलाने की भी हो सकती है।

ऐसा नहीं है कि उन प्रेमीजी को तुरंत संघ कार्यालय से फोन आया होगा या संदेश मिला होगा मगर संघी प्रेमी का प्रशिक्षण ही इस तरह का हुआ है कि तुरंत उसने दीपिका का धर्मांतरण कर दिया, जो पूरी तरह संघी षड़यंत्र के अनुरूप है।और कोई संघी प्रेमी या प्रेमिका भी हो ही सकते हैं! और आत्मलिप्त युवा इतने बोदे भी हो सकते हैं और इतने संघी भी कि किसी को मुसलमान कह देना उसके अविश्वसनीय होने का स्वतः प्रमाण बन जाए!

यह किया है इन्होंने हमारे देश के साथ पिछले साढ़े पाँच साल में तेजी से मगर अब इससे युवाओं का बड़ा तबका उकताकर तन कर खड़ा हो रहा है,यह शुभ है।और न जाने कितने फिल्मी दुनिया के लोग खड़े हो रहे हैं,यह बड़ी बात है।उस दिशा में एक झिझकता हुआ छोटा सा कदम दीपिका का भी है,इसका स्वागत है।

बेचारे चाणक्य का हर दाँव उल्टा पड़ रहा है।क्यों चाणक्य जी,गलत तो नहीं कहा न ?


विष्णु नागर वरिष्ठ पत्रकार और कवि हैं. 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.