Home Corona सरकार को लोगों के कर्ज़ माफ़ करने होंगे, आर्थिक मदद देनी होगी-...

सरकार को लोगों के कर्ज़ माफ़ करने होंगे, आर्थिक मदद देनी होगी- राहुल गांधी से संवाद में अभिजीत बनर्जी

राहुल गांधी और अभिजीत बनर्जी इस प्रसारण में भारतीय अर्थव्यवस्था के सामने खड़ी चुनौतियों और कोरोना के मानवीय संकट से निपटने को लेकर चर्चा करते दिखाई दिए। नोबेल विजेता बनर्जी ने सरकार को सलाह दी कि लोगों के हाथ में नकदी पहुंचाना सबसे ज़रूरी है, क्योंकि उनके पास पैसे होंगे तो ही वो बाज़ार से कुछ खरीदेंगे और बिज़नेस चलेगा।

SHARE

मंगलवार को कांग्रेस ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स और यूट्यूब पर राहुल गांधी की संवाद श्रृंखला की दूसरी कड़ी में नोबेल विजेता भारतीय अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी के साथ राहुल गांधी के संवाद का प्रसारण किया। इस में राहुल गांधी से बात करते हुए, अभिजीत बनर्जी ने कहा कि ये अर्थव्यवस्था के लिए मुश्किल समय है, लेकिन सरकार को सबसे पहले जनता के साथ खड़ा होना होगा।

देखिए पूरी बातचीत वीडियो में

राहुल गांधी और अभिजीत बनर्जी इस प्रसारण में भारतीय अर्थव्यवस्था के सामने खड़ी चुनौतियों और कोरोना के मानवीय संकट से निपटने को लेकर चर्चा करते दिखाई दिए। नोबेल विजेता बनर्जी ने सरकार को सलाह दी कि लोगों के हाथ में नकदी पहुंचाना सबसे ज़रूरी है, क्योंकि उनके पास पैसे होंगे तो ही वो बाज़ार से कुछ खरीदेंगे और बिज़नेस चलेगा। इसलिए सरकार को लोगों की कर्ज माफ़ी के साथ उन तक कैश पहुंचाना होगा।

इस बातचीत में अभिजीत बनर्जी ने यूपीए की मनमोहन सिंह सरकार की आर्थिक नीतियों की तारीफ़ भी की। वे बोले कि पिछली सरकार की आर्थिक नीतियां बेहतर थी, लोगों तक सुविधाएं पहुंचाने पर भी ज़ोर था लेकिन वर्तमान सरकार के दावे, इस मुश्किल समय में सच नज़र नहीं आ रहे हैं।

इस बीच अभिजीत बनर्जी ने विशेष आर्थिक पैकेज पर ज़ोर दिया, जिसमें इस तिमाही का छोटे व्यापार का लोन माफ़ करने की बात कही। अभिजीत बनर्जी ने राहुल गांधी की इस बात से सहमति जताई कि आर्थिक मदद पहुंचाने में थोड़ी सी भी देर, अर्थव्यवस्था के लिए घातक होगी।

इस बीच राहुल गांधी ने जब बनर्जी से ये पूछा कि क्या उनको नोबेल मिलने की उम्मीद थी, तो उन्होंने मुस्कुरा कर कहा कि उनको बिल्कुल उम्मीद नहीं थी कि पिछले साल नोबेल पुरस्कार के लिए उनके नाम का एलान होगा।

इस संवाद में राहुल गांधी ने कहा कि लॉकडाउन से जल्दी बाहर आने की ज़रूरत है, वरना अर्थव्यवस्था चौपट हो जाएगी तो अभिजीत बनर्जी ने कहा कि लॉकडाउन बढ़ाते जाने से बेहतर ये है कि इस महामारी के बारे में समझ बढ़ाई जाए। उन्होंने ये भी कि 3 महीने के लिए अस्थायी राशन कार्ड सभी को जारी कर देने चाहिए, क्योंकि धीरे-धीरे वो आबादी भी आर्थिक मंदी की चपेट में आएगी, जो अभी इससे बाहर है और सभी को राशन की ज़रूरत है-पड़ेगी भी।

बातचीत के अंत तक आते-आते अभिजीत बनर्जी ने इशारों-इशारों में भारत में केंद्र सरकार और उसके नेतृत्व की ओर – अमेरिका और ब्राज़ील के राष्ट्रप्रमुखों के बहाने इशारा करते हुए कह दिया कि वो देश, जहां पर सरकारों के मुखिया बड़ी-बड़ी बातें करते रहे, सबसे ज़्यादा बुरा हाल, उन ही देशों में दिखाई दे रहा है।


हमारी ख़बरें Telegram पर पाने के लिए हमारी ब्रॉडकास्ट सूची में, नीचे दिए गए लिंक के ज़रिए आप शामिल हो सकते हैं। ये एक आसान तरीका है, जिससे आप लगातार अपने मोबाइल पर हमारी ख़बरें पा सकते हैं।  

इस लिंक पर क्लिक करें
प्रिय साथियों,
हम सब कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहे हैं और अपने घरों में बंद रहने को मज़बूर हैं। इस आसन्न संकट ने समाज की गैर-बराबरी को भी सतह पर ला दिया है। पूरे देश में जगह-जगह मज़दूर फंसे हुए हैं। पहले उन्हें पैदल हज़ारों किलोमीटर की यात्रा करते हुए अपने गांव की ओर बढ़ते देखा गया था। ग्रामीण अर्थव्यवस्था पहले ही चौपट हो चुकी है, फसलें खेतों में खड़ी सड़ रही हैं। लेकिन लॉकडाउन के कारण दूर दराज के इलाकों से कोई ग्राउंड रिपोर्ट्स नहीं आ पा रहीं। सत्ता को साष्टांग मीडिया को तो फ़र्क़ नहीं पड़ता, लेकिन हम चाहते हैं कि मुश्किलों का सामना कर रहा ग्रामीण भारत बहस के केंद्र में होना चाहिए। 
हमारी अपील आप लेखकों, पत्रकारों और सजग नागरिकों से है कि अपने-अपने गांवों में लोगों से बात करें, हर समुदाय की स्थितियां देखें और जो समझ आये उसकी रिपोर्ट बनाकर हमें mediavigilindia@gmail.com भेजें। कोशिश करें कि मोबाइल फोन से गांव की तस्वीरें खींचकर भी भेजें। इन रिपोर्ट्स को हम अपने फेसबुक पेज़ पर साझा करेंगे और जो रिपोर्ट्स हमें बेहतर लगेंगी उन्हें मीडिया विजिल की वेबसाइट पर भी जगह दी जायेगी। 

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.