Home अभी-अभी गाँधी की फुसफुस पर मोदी जी का ओजस्वी भाषण !

गाँधी की फुसफुस पर मोदी जी का ओजस्वी भाषण !

SHARE
राजेश प्रियदर्शी

गांधी के बारे में किसी गांधीवादी ने इतना शानदार भाषण कभी नहीं दिया, जितना मोदी जी ने चंपारण सत्याग्रह की सौवीं वर्षगांठ के मौक़े पर दिया.

कोई गांधीवादी दे भी नहीं सकता. गांधी ख़ुद ही वक्ता नहीं थे, गांधी को सुनिए यूट्यूब पर. मोदी जी को भी उस एंगल से सुनिए, सुनिए तो सही.
संघ की शब्दावली में जिसे ‘ओजस्वी वक्ता’ कहा जाता है गांधी उसके बिल्कुल उलट थे. उनके शिष्य भी ऐसे ही रहे. जेपी-विनोबा-राजमोहन सभी सादगी और नरमी से बोलने वाले.

गांधी और गांधीवादी अंतरात्मा की फुसफुसाहट सुनते थे और उसी स्वर में बोलते थे.

बाद वालों में से अनेक ने अंतरात्मा को बेच खाया जिस पर उनकी भरपूर लानत-मलामत हो चुकी है, फ़िलहाल तो उन पर ध्यान दीजिए जो देश का कुछ बना-बिगाड़ रहे हैं.

प्रधानमंत्री बोलते जानदार हैं और उनकी चुप्पी भी शानदार होती है. यूपी में योगी जी के सत्ता-आश्रम में प्रवेश के बाद से लोग पीएम से कुछ ओजस्वी सुनने के लिए तरस रहे थे.’

चंपारण सत्याग्रह का असल ‘मक़सद’

‘ओजस्वी वक्ता’ की शब्दावली में सिंह-गर्जना, हुंकार, दहाड़, ललकार, शंखनाद, सीने का नाप वगैरह होना ज़रूरी है. ये बातें गांधी के साथ फिट नहीं होतीं, फिर क्या किया जाए?

चंपारण सत्याग्रह का असली मक़सद सफ़ाई था, ये हमें स्कूल-कॉलेज में नहीं पढ़ाया गया, सीधे मोदी जी ने सौ साल बाद बताया. पहली बार पता चला कि असल में गांधी चंपारण में ‘स्वच्छाग्रह’ कर रहे थे.

गांधी-दर्शन में शायद स्वच्छता ही एकमात्र वो विचार है जिससे मोदी जी और उनके प्रेरक-पुरुषों को परहेज नहीं है.

सत्य, अहिंसा और धर्मनिरपेक्षता के बारे में गांधी के जो विचार थे उनका पर्याप्त सम्मान गांधी के गृहराज्य में किया जा चुका है.

गांधी का चंपारण सत्याग्रह संगठित औपनिवेशिक पूंजीवादी शोषण-दमन के ख़िलाफ़ संघर्ष था, आज भी पूरे देश में जल-जंगल और ज़मीन की लड़ाई लड़ रहे वंचितों-दलितों-आदिवासियों का संघर्ष उससे अलग नहीं है.

गांधी के उस संघर्ष को स्वच्छता अभियान में बदल देना, ज़बान की सफ़ाई है, नीयत की नहीं. और ये काम एक ओजस्वी वक्ता ही कर सकता है.

गांधी के असल मूल्य

ओजस्वी वक्ता जो बोलते हैं वही ओजस्वी हो जाता है. सोमवार को संसद में नस्लभेद वाले मामले पर भाजपा सांसद तरुण विजय की क्षमा याचना को, ‘याचना नहीं, अब रण होगा’ वाले सुर में सिर्फ़ राजनाथ सिंह जैसे ओजस्वी वक्ता ही दोहरा सकते थे.

गांधी ने अपने दोनों हाथों से जितना लिखा है, सब दर्ज है. सत्य, अहिंसा, धर्मनिरपेक्षता और पीड़ित-शोषित व्यक्ति के प्रति उनकी करुणा पूरे संसार के सामने है.

जब अल्पसंख्यक हिंदू पूर्वी बंगाल में मारे जा रहे थे तो अक्तूबर 1946 में गांधी नोवाखाली में अनशन कर रहे थे, और जब देश आज़ादी का जश्न मना रहा था तो गांधी उससे दूर पश्चिम बंगाल में मुसलमानों के कत्लेआम को रोकने के लिए उपवास कर रहे थे.

अब जब दादरी और अलवर की घटनाएँ होती हैं तो लोग उम्मीद करते हैं कि ओजस्वी वक्ता कुछ कहेंगे, लेकिन वे या तो मौनव्रत रखते हैं या फिर ‘कुत्ते के पिल्ले’ को लेकर करुणा से भर जाते हैं.

बोलना और चुप रहना सबका मौलिक अधिकार है, प्रधानमंत्री की मर्ज़ी जब चाहें बोलें न बोलें, कौन उन्हें विवश कर सकता है?

लेकिन एक तमन्ना है कि प्रधानमंत्री ने जैसा ओजस्वी भाषण गांधी के बारे में दिया, वैसा ही एक भाषण वे संयुक्त राष्ट्र में गुरू गोलवलकर और हेडगेवार जी के बारे में दे आएँ.

काश कि दुनिया को पता चल जाए कि गोलवलकर और हेडगेवार ने जब अँगरेज़ों के ख़िलाफ़ सत्याग्रह, भारत छोड़ो और सविनय अवज्ञा जैसे आंदोलन छेड़ रखे थे तब गांधी स्वच्छाग्रह में लगे हुए थे..

 

लेखक बीबीसी हिंदी के डिजिटल एडिटर हैं।

13 COMMENTS

  1. What i do not understood is actually how you’re not really much more well-liked than you may be now. You are very intelligent. You realize therefore considerably relating to this subject, made me personally consider it from a lot of varied angles. Its like men and women aren’t fascinated unless it’s one thing to do with Lady gaga! Your own stuffs excellent. Always maintain it up!

  2. Undeniably believe that which you stated. Your favorite justification appeared to be on the web the easiest thing to be aware of. I say to you, I definitely get annoyed while people think about worries that they plainly don’t know about. You managed to hit the nail upon the top as well as defined out the whole thing without having side effect , people could take a signal. Will probably be back to get more. Thanks

  3. Fantastic items from you, man. I’ve take note your stuff prior to and you’re just extremely wonderful. I actually like what you’ve bought here, really like what you are saying and the best way during which you are saying it. You’re making it enjoyable and you continue to care for to stay it wise. I can’t wait to learn far more from you. This is really a terrific site.

  4. In the great scheme of things you’ll receive an A with regard to effort. Where you confused us ended up being on your facts. You know, they say, details make or break the argument.. And that couldn’t be more correct in this article. Having said that, let me say to you what exactly did deliver the results. Your writing is highly engaging which is most likely why I am making an effort in order to comment. I do not really make it a regular habit of doing that. Second, whilst I can easily see the jumps in reason you come up with, I am not really sure of exactly how you seem to connect the details which make the final result. For right now I shall yield to your point however trust in the near future you connect the dots better.

  5. You can certainly see your skills in the work you write. The arena hopes for even more passionate writers like you who are not afraid to say how they believe. All the time go after your heart.

  6. Most of the things you say happens to be supprisingly legitimate and it makes me wonder why I had not looked at this in this light previously. Your piece truly did turn the light on for me as far as this subject goes. Nevertheless at this time there is actually just one position I am not too comfy with so whilst I attempt to reconcile that with the main idea of your point, let me observe exactly what the rest of your visitors have to say.Nicely done.

  7. Terrific work! That is the kind of info that are meant to be shared around the net. Shame on Google for no longer positioning this post upper! Come on over and seek advice from my web site . Thank you =)

  8. Heya this is kind of of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding expertise so I wanted to get guidance from someone with experience. Any help would be enormously appreciated!

  9. The very crux of your writing whilst sounding reasonable initially, did not work perfectly with me after some time. Someplace throughout the sentences you actually were able to make me a believer unfortunately only for a short while. I still have got a problem with your leaps in assumptions and you would do well to fill in all those gaps. In the event you can accomplish that, I could certainly end up being fascinated.

  10. Its like you read my mind! You seem to know a lot about this, like you wrote the book in it or something. I think that you could do with a few pics to drive the message home a bit, but other than that, this is wonderful blog. An excellent read. I will definitely be back.

  11. Thanks for the marvelous posting! I definitely enjoyed reading it, you could be a great author.I will make certain to bookmark your blog and will come back in the foreseeable future. I want to encourage you to continue your great writing, have a nice evening!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.