Home पड़ताल यूपी चुनाव: मीडिया बिका बाज़ार में…

यूपी चुनाव: मीडिया बिका बाज़ार में…

SHARE

(उत्‍तर प्रदेश चुनाव को कवर कर रहे पत्रकारों के कुछ ऐसे अनुभव हैं जो अखबार में तो नहीं छप सकते, इसलिए वे इसे अपने सोशल मीडिया पर साझा कर रहे हैं। ऐसे दो अनुभव पेड न्‍यूज़ को लेकर दो पत्रकारों ने अपने फेसबुक पर लिखे हैं: अजय प्रकाश और ज़ीशान अख्‍़तर। हम नीचे दोनों टिप्‍पणियां छाप रहे हैं ताकि यह पता चल सके कि चुनाव के मौसम में खबरों की सौदेबाज़ी कैसे हो रही है : संपादक)


अजय प्रकाश, वरिष्‍ठ पत्रकार, दिल्‍ली

मैं आजकल उत्तर प्रदेश में ही हूँ और कई मित्र प्रत्याशी हैं जो चुनाव लड़ रहे हैं। तो वे लोग खबर छपवाने के लिए मीडिया भी खरीद रहे हैं। मीडिया का कहना है कि चुनाव के दौरान प्रत्याशी की खबर छापना विज्ञापन है इसलिए पैसा दो। उनमें से दो की मीडिया खरीद के दौरान मैं भी बैठा रहा। एक विधायक प्रतिनिधि मित्र ने कहा, आप ही बात कर लीजिए, देखते हैं कितने पर मानते हैं। मैंने कहा, मुझसे न हो पायेगा, मैं उनको बोल-बाल दूंगा, पर पत्रकार होने के नाते एक सीधी वार्ता देखना चाहता हूँ। पहली खरीद का क्षेत्र शामली मंडल था और दूसरे का इलाहाबाद मंडल। बड़ा ही जबरदस्त अनुभव था, चुनाव बीत जाये तो लिखता हूँ। पर इसमें कोई शक नहीं कि मीडिया की लगाने वाली बोली से आप क्षेत्र की आर्थिकी और सामाजिक हैसियत बहुत अच्छे से समझ जायेंगे।

मीडिया 5 तरह से प्रत्याशियों और पार्टियों से पैसा वसूल रही है…

  1. विज्ञापन के रूप में
  2. खबरनुमा विज्ञापन के रूप में
  3. खबर के रूप में
  4. चुप रहने के रूप- मतलब प्रत्याशी के बारे में न नेगेटिव न पॉज़िटिव
  5. केवल सकारात्मक खबर छापने के रूप में

एक और तरीका है जो टीवी में खूब लोकप्रिय है, ‘कम्प्लीट पैकेज’। इसके तहत चुनाव के दौरान पार्टी को मुश्किल सवालों से बचाया जाता है। पर यह डील चुनाव से साल- छह महीने पहले हो जाती है, जिसे चैनल का रुझान कहा जाता है। रुझान का सबसे चर्चित मॉडल है, मुश्किल सवालों के वक्त उस पार्टी को या उससे जुड़े प्रतिनिधि को ब्रेक के बाद दिखाया जाना।आमतौर पर दर्शक ब्रेक से पहले ही मुश्किल सवालों और उसपर प्रतिनिधि की ओर से आयी राय सुनकर अपना मिजाज बना लेता है। इसका दूसरा फॉर्म है टीवी डिबेट। जिस पार्टी या प्रतिनिधि से पैसा लिया गया है उसके पक्ष के तीन पैनलिस्ट बैठाना और जिससे नहीं लिया है उसके सबसे कमजोर लोगों को बुलाना या 3 के मुकाबले 1 को बुलाना।

ज़ीशान अख्‍़तर, ऑनलाइन पत्रकार, झांसी

अजय प्रकाश साहब मीडिया मंडी का भाव और बेचने-ख़रीदने के तरीके बता रहे हैं. सूखाग्रस्त बुंदेलखंड की स्थिति और खराब है. कुछ दिन पहले किसी के जरिये सूचना पहुंचाई गयी कि एक नेताजी की लिस्ट में मेरा नाम लिखा है. कहा कि नोटबंदी चल रही है इसलिए थोड़ा दिक्कत है. वरना ज़्यादा करते. कहा- चुनाव जीते तो काफी कुछ किया जाएगा. आपका नाम अलग लिस्ट में भी है. हमारे फोटो जर्नलिस्ट ने फ़ोन करने वाले से कहा कि आप बात कर लें. और अगर रुपये की बात करना चाह रहे हैं तो बात न करें.

इस बार मंडी का भाव अच्छा नहीं है. कैंडिडेट नोटबंदी का बहाना बना रहे हैं. इस बहानेबाजी को सुन कई लोग मोदी जी को गरियाते नज़र आये. जाहिर है सीजन पर असर पड़ा है. एक बड़ी न्यूज एजेंसी के पत्रकार को एक करोड़पति प्रत्याशी के यहाँ से 2500 का लिफ़ाफ़ा पकड़ा दिया गया. अगर कोई कुछ साल पुराना है तो 10 हज़ार, थोड़ा सीनियर है तो (चैनल या अखबार की रेपुटेशन के हिसाब से) 20 हज़ार, प्राचीन यानी ज्यादा सीनियर है तो 30 हज़ार. ये खुला रेट है. 100-100 पत्रकारों की लिस्ट बनी है. देकर बाकायदा साइन कराये जाते हैं ताकि फिर से हाथ न मार सकें. कुछ की बात अंदरखाने में इससे ज्यादा की बन रही है.

आप तो 10 हज़ार ले जाओ. बच्चों की मिठाई के लिए. अच्छी बुरी कैसी भी खबर न छापना, कुछ न करना’ कह कर आमंत्रित किया जा रहा है. अधिकतर में हर्ष है. बढ़िया इंतज़ाम हो रहा है. वहीँ बड़े अखबारों का हाल कुछ ठीक नहीं. अखबार हमेशा की तरह चाहते हैं कि 50 लाख से एक करोड़ का पैकेज हो, लेकिन करोड़पति प्रत्याशी नोटबंदी का बहाना बना रहे हैं. खबर वालों की खबर है कि बात बनने में मुश्किल हो रही है तो एक राष्ट्रीय अखबार द्वारा एक को कम और दूसरे को (जिससे डील नहीं भी हुई) ज्यादा छापा जाने लगा. पहले वाले को डराने के लिए ऐसा किया गया.

जो नहीं ले रहे उनके लिए कहा जा रहा है कि नहीं लोगे तो न लो. ईमानदारी में खबर छाप कर भी क्या कर लोगे. कौन सा असर पड़ेगा. ज़्यादा होगा तो चुनाव बाद देख लेंगे.

26 COMMENTS

  1. great post, very informative. I wonder why the other specialists of this sector do not notice this. You should continue your writing. I am sure, you have a great readers’ base already!

  2. What i don’t understood is in reality how you are not really much more smartly-preferred than you may be right now. You are so intelligent. You recognize therefore significantly in the case of this matter, produced me for my part consider it from a lot of varied angles. Its like women and men don’t seem to be involved unless it is something to accomplish with Lady gaga! Your individual stuffs outstanding. Always take care of it up!

  3. Hello there, just turned into aware of your blog thru Google, and located that it is truly informative. I am going to watch out for brussels. I will be grateful when you proceed this in future. Numerous folks shall be benefited from your writing. Cheers!

  4. Someone necessarily help to make severely articles I’d state. This is the very first time I frequented your web page and thus far? I surprised with the analysis you made to make this actual put up extraordinary. Excellent task!

  5. Iím not that much of a internet reader to be honest but your blogs really nice, keep it up! I’ll go ahead and bookmark your website to come back down the road. Cheers

  6. Today, I went to the beach with my children. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I had to tell someone!

  7. Helpful info. Fortunate me I found your website accidentally, and I’m stunned why this twist of fate didn’t happened in advance! I bookmarked it.

  8. I am no longer certain the place you’re getting your info, however great topic. I must spend a while learning much more or figuring out more. Thank you for great information I was looking for this info for my mission.

  9. The heart of your writing while sounding agreeable at first, did not really sit perfectly with me personally after some time. Someplace within the sentences you actually were able to make me a believer but only for a short while. I nevertheless have got a problem with your leaps in assumptions and one might do well to fill in all those gaps. If you can accomplish that, I would certainly be impressed.

  10. Great bewat ! I would ike tto apprentice while you
    amend yokur site, how can i subscribe for a blog
    site? The account helped me a acceptable deal. I hadd been tiny bit acquainted of this yojr
    broadcast offered bright clear idea

  11. This design is wicked! You certainly know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Great job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  12. It’s a shame you don’t have a donate button! I’d most certainly donate to this fantastic blog! I suppose for now i’ll settle for book-marking and adding your RSS feed to my Google account. I look forward to fresh updates and will share this site with my Facebook group. Chat soon!

  13. Superb blog! Do you have any hints for aspiring writers? I’m planning to start my own blog soon but I’m a little lost on everything. Would you advise starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many options out there that I’m totally overwhelmed .. Any ideas? Thanks a lot!

  14. I know this if off topic but I’m looking into starting my own weblog and was wondering what all is needed to get setup? I’m assuming having a blog like yours would cost a pretty penny? I’m not very internet savvy so I’m not 100 positive. Any suggestions or advice would be greatly appreciated. Kudos

  15. I’m amazed, I have to admit. Seldom do I encounter a blog that’s equally educative and engaging, and without a doubt, you have hit the nail on the head. The problem is something that too few men and women are speaking intelligently about. Now i’m very happy that I stumbled across this during my hunt for something relating to this.

  16. There are absolutely a good deal of particulars like that to take into consideration. That’s an incredible point to bring up. I provide the thoughts above as general inspiration but clearly you will find questions like the one you bring up where the most crucial thing will probably be operating in honest very good faith. I don?t know if ideal practices have emerged around issues like that, but I’m positive that your job is clearly identified as a fair game. Both boys and girls feel the impact of just a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

  17. Somebody necessarily assist to make critically articles I’d state. This is the first time I frequented your web page and thus far? I amazed with the analysis you made to make this actual put up amazing. Fantastic activity!

  18. I’m still learning from you, while I’m making my way to the top as well. I absolutely liked reading everything that is posted on your blog.Keep the information coming. I liked it!

  19. Oh my goodness! an astounding write-up dude. Thank you Nonetheless I’m experiencing issue with ur rss . Do not know why Unable to subscribe to it. Is there any one getting identical rss challenge? Any individual who knows kindly respond.

  20. Unquestionably consider that that you said. Your favorite reason seemed to be at the net the simplest factor to take into account of. I say to you, I definitely get annoyed at the same time as other folks consider issues that they plainly don’t recognise about. You managed to hit the nail upon the highest and outlined out the entire thing with no need side effect , people can take a signal. Will probably be back to get more. Thank you

LEAVE A REPLY