Home पड़ताल “यूपी का चुनाव परिणाम सामाजिक न्याय के नेताओं की राजनीति की हार...

“यूपी का चुनाव परिणाम सामाजिक न्याय के नेताओं की राजनीति की हार है”

SHARE
जितेंद्र कुमार

कहा जाता है कि इतिहास सबसे क्रूर होता है. कुछ लोग इसे सुधार कर कहते हैं कि इतिहास आपको एक बार सुधरने का अवसर देता है और अगर आप नहीं सुधरते हैं तो वह क्रूरतम रूप में आपके सामने आता है. 2014 के लोकसभा चुनाव में जब बिहार में नीतीश और लालू को मोदी ने धूल में मिला दिया था तो इतिहास ने उन्हें सुधरने का एक मौका भी दिया था जो 2015 के राज्य विधानसभा चुनाव परिणाम में दिखा भी. 2014 के लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा की वही गत हुई थी लेकिन अखिलेश और मायावती ने इतिहास से सीखने की कोई कोशिश नहीं की और आज दूसरी बार मोदी ने उन्हें नेस्तनाबूद कर दिया.

देश में सामाजिक न्याय की लड़ाई की एक कड़ी मंडल आयोग को लागू करके पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने अगस्त 1990 में जोड़ी थी, उसके बिखरने में बस चंद वर्ष ही लगे थे.

लेकिन दूसरी कड़ी उत्तर प्रदेश में जब कांशीराम ने 1993 में मुलायम सिंह को अपने साथ लाकर जोड़ी थी तो उसे बिखरने में कुछ महीने ही लगे थे. नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनते ही इतिहास ने एक बार फिर करवट बदली और बिहार के दोनों पिछड़े नेता लालू और नीतीश ठीक 24 साल बाद कुछ ही महीनों के बाद एकजुट होकर मंच पर विराजमान हुए.

इसी तरह जब 1992 में बाबरी मस्जिद ढहाई गई थी तो उस समय इससे भी बड़ी गोलबंदी उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के बीच हुई थी. वह गोलबंदी इतनी कारगर थी कि दोनों दलों ने मिलकर न सिर्फ भाजपा को जमींदोज कर दिया था बल्कि मुलायम सिंह दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री भी बने थे.

लेकिन अहं का टकराव और ‘दूरदृष्टि की कमी’ की वजह से सरकार ज़्यादा दिनों तक नहीं चल पाई और भाजपा फिर से सत्ता में लौट आई. लेकिन मुलायम-मायावती के बीच आई कड़वाहट भारतीय राजनीति में गिने-चुने कुछ गंदे राजनीतिक उदाहरण हैं.

हालांकि इस चुनाव परिणाम ने फिर से कुछ सवाल छोड़े हैं जिसका जवाब सामाजिक न्याय की राजनीति करने वाले नेताओं से पूछना लाज़मी हो जाता है. थोड़ी देर के लिए मान लेते हैं कि जिस तरह लालू-नीतीश गठबंधन को 2015 के विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत मिल गया था उसी तरह यूपी में अखिलेश यादव या मायावती को पूर्ण बहुमत मिल जाता तो राज्य की जनता, खासकर उनके करोड़ों वोटरों को क्या मिलता?

आख़िर तथाकथित समाजिक न्याय का नारा गरीबी-भुखमरी-बेरोज़गारी और विकास रहित जाति व्यवस्था से पीड़ित अवाम को कुछ मिलने के आसार थे क्या? जिस रूप में बीजेपी ने सामाजिक ताने-बाने को क्षत-विक्षत किया है उसे पाटने का सामाजिक न्याय के इन तथाकथित पुरोधाओं के पास कुछ था क्या?

पिछले 25-26 वर्षों से जिस रूप में इन नेताओं को जनता समर्थन देती आती रही थी और जितनी राजनीति उससे प्रभावित हुई थी, सामाजिक न्याय के ‘चैंपियनों’ ने सिर्फ़ उसका दुरुपयोग किया है. उनके कार्यकलापों को देखने से लगता है कि सामाजिक न्याय का मतलब सिर्फ़ और सिर्फ़ नेताओं, उनके बाल-बच्चों और रिश्तेदारों की सत्ता और प्रतिष्ठान में भागीदारी व राजकीय ख़जाने की लूट में हिस्सेदारी ही रह गया है जिसके दायरे में कम से कम आम जनता तो कतई नहीं आती है.

बिहार और उत्तर प्रदेश में लगभग 26 वर्षों से अधिक समय से ‘सामाजिक न्याय’ की सरकार है जिसका नेतृत्व पूरी तरह पिछड़ों और दलितों के हाथ में ही है भले ही किसी भी पार्टी की सरकार हो (यूपी में राजनाथ सिंह के छोटे कार्यकाल को छोड़ दिया जाए तो).

बिहार में लालू-राबड़ी लगभग 15 वर्षों तक सत्ता में रहे जबकि पिछले 10 वर्षों से नीतीश कुमार वहां काबिज़ हैं (लोकसभा चुनाव में भीषण हार के बाद नीतीश ने महादलित जीतनराम मांझी को थोड़े दिनों के लिए मुख्यमंत्री नियुक्त कर दिया था) और परिणाम आने तक अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में काबिज़ हैं.

लेकिन जिन जातियों और सामाजिक गठबंधन के वोट से लालू-राबड़ी,नीतीश, मुलायम, मायावती और अखिलेश मुख्यमंत्री बने वे मुख्य रूप से पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यक समुदाय से आते थे.

उनके पास न शिक्षा थी, न रोजगार था और न ही संसाधन थे. हां, जातीय व्यवस्था से वे इतने बदहाल थे कि वे ठीक से उस सामाजिक ताने-बाने में सांस भी नहीं ले पाते थे. लालू-मुलायम और मायावती ने 1990 के दशक के शुरुआती सालों में सत्ता संभालने के बाद सबसे बड़ी चुनौती उसी जाति व्यवस्था को दी जिससे दलित-पिछड़े और अल्पसंख्यक त्रस्त थे.

कुछ सीमित अर्थों में कहा जाए तो इन नेताओं ने सामाजिक जड़ता को जबरदस्त झटका दिया था. लालू-राबड़ी ने अपने 15 साल के शासनकाल में सांप्रदायिक ताकतों को कड़ी चुनौती दी थी, जिसके चलते सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की कई कोशिशों के बावजूद राज्य में सांप्रदायिक हिंसा की अपवादों को छोड़ दें तो, कोई बड़ी घटना नहीं घटी थी.

इसके अलावा लालू-राबड़ी के शासनकाल में ऐसा कोई काम नहीं हुआ जिससे उनके मतदाता वर्ग को आर्थिक लाभ पहुंचा हो. इसी तरह मुलायम सिंह यादव का पहला कार्यकाल सांप्रदायिकता को ज़ोरदार चुनौती देने वाला था.

उन्होंने संविधान की रक्षा के लिए कारसेवकों के ऊपर गोली चलवाई और जब सत्ता से बाहर हुए तो मायावती के साथ मिलकर फिर से उग्र सांप्रदायिक हिंदुवादियों से लोहा लिया. बसपा के साथ आने से राजनीतिक स्तर पर भले ही दलितों और पिछड़ों के बीच समीकरण बने लेकिन कुछ ही दिनों के बाद दोनों नेताओं के बीच के अलगाव ने जमीनी स्तर पर दोनों के बीच बन रहे बेहतर सामाजिक समीकरण को बनने नहीं दिया.

नेता चाहे लालू रहे हों या मायावती या फिर मुलायम रहे हों- थोड़ा बहुत अंतर के साथ सभी सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक (नीतीश व अखिलेश को छोड़कर) रूप से एक जैसे थे.

उन नेताओं को सत्ता पर काबिज़ कराने वाली जनता गरीबी, बेरोज़गारी और अशिक्षा से जूझ रही थी. उनके लिए ‘नई सोच या विज़न’ के साथ स्कूल खोले जाने की जरूरत थी, उन पुराने सरकारी स्कूलों को बचाए रखने की जरूरत थी जिसकी बदौलत वे भविष्य में बेहतर रोज़गार पा सकते थे.

इसके अलावा किसी नई योजना के तहत उनके लिए शिक्षा के बेहतर अवसर भी मुहैया कराए जाने की ज़रूरत थी लेकिन वैसा कुछ नहीं किया गया और कुल मिलाकर शिक्षा व्यवस्था में आ रही गिरावट के चलते शिक्षा पूरी तरह नष्ट हो गई.

यही हाल स्वास्थ्य क्षेत्र का रहा. सरकारी अस्पताल और स्वास्थ्य व्यवस्था ख़त्म हो गई और सरकारी अस्पताल के डॉक्टर अस्पतालों के अहाते में ही निजी क्लीनिक चलाने लगे. नतीजा ये हुआ कि आम लोगों और गरीबों को स्वास्थ्य और शिक्षा की सुविधा मिलनी बंद हो गई.

अगर दोनों राज्य सरकारों के आंकड़ों पर नज़र डालें तो पाएंगे कि पिछले दो-ढाई दशक में सरकारी अस्पतालों और सरकारी स्कूलों से ज़्यादा निजी अस्पताल और स्कूल खुले हैं. जबकि बिहार-उत्तर प्रदेश के सामाजिक न्याय के जितने भी पुरोधा हैं (अखिलेश को छोड़कर) लालू, नीतीश, मुलायम और मायावती, (रामविलास भी)- जब वे पैदा हुए होंगे तो पहली बार इलाज के लिए सरकारी अस्पताल गए होंगे.

ठीक उसी तरह जब वे पढ़ने के लिए स्लेट लेकर निकले होंगे तो सरकारी स्कूल ही गए होंगे लेकिन जिस रूप में इन लोगों ने आम जनता से सीधे तौर पर जुड़ी इन दोनों संस्थानों को नष्ट किया है या होने दिया है. इसका उदाहरण लोकत्रांतिक इतिहास में आसानी से दिखाई नहीं देगा.

सामाजिक न्याय की पृष्ठभूमि से आने वाले नेताओं को प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले स्कूलों और अस्पतालों को बचाना था क्योंकि वहीं ये दोनों संस्थाएं हैं जिनसे दलित-आदिवासी-पिछड़े, अल्पसंख्यक और हर तरह से पिछड़े लोगों का भविष्य निर्माण होता है.

हालांकि उन नेताओं की प्राथमिकता में ये दोनों ही चीज़ें कभी नहीं रहीं. सामाजिक न्याय के इन तथाकथित कर्णधारों की सबसे बड़ी परेशानी यह भी है कि वे हमेशा सवर्ण सत्ताधारी नेताओं की नकल आंख मूंदकर करते हैं.

चूंकि सामाजिक न्याय से इतर के नेतृत्व ने सरकारी स्कूल और सरकारी अस्पताल के समानांतर निजी स्कूलों और अस्पतालों का जाल खड़ा कर दिया है और इसका लाभ कोई भी अमीर ले सकता है, इसलिए उनके लिए अब इन सरकारी संस्थानों का कोई मायने ही नहीं रह गया है. लेकिन जिन वर्गों या जातियों का प्रतिनिधित्व सामाजिक न्याय के वे नेतागण करते हैं उनके लिए सरकारी संस्थानों के अलावा दूसरा कोई रास्ता ही अब तक तैयार नहीं हुआ है.

पिछले 25 वर्षों के कृषि विकास को देखने से पता चलता है कि कहीं-कहीं पैदावार में बढ़ोतरी भले ही हुई है लेकिन अधिकतर किसानों ने खेती करना छोड़ दिया है जिसके चलते कृषि पर निर्भर रहने वाले लोगों को अब रोज़गार की तलाश में बाहर पलायन करना पड़ रहा है.

दोनों ही राज्यों के नेताओं को इस क्षेत्र पर सबसे अधिक ध्यान देने की ज़रूरत थी क्योंकि उनके समर्थक किसान भी थे और मजदूर भी, लेकिन कृषि क्षेत्र की तरफ ध्यान ही नहीं दिया गया.

सामाजिक न्याय के एक भी महारथी ने कभी भी अपने मतदाता वर्ग को स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार से जोड़ने का काम नहीं किया. फलस्वरूप जो मतदाता उनको वोट देते रहे, उनकी ज़िंदगी में कोई सकारात्मक परिवर्तन नहीं आया.

अगर लगातार 25 वर्षों तक वोट देने के बाद भी किसी की ज़िंदगी में कोई सकारात्मक परिवर्तन नहीं आए तो वह मतदाता कितने दिनों तक पुराने नारे पर वोट डालता रहेगा? उन मतदाताओं को जब कोई दूसरा नारा आकर्षक लगेगा वह उधर वोट दे देगा! और यही उत्तर प्रदेश में इस बार हुआ है.

जब 1997 में लालू यादव ने राष्ट्रीय जनता दल बनाया था और राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री नियुक्त कर दिया था तो पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने बिना किसी का नाम लिए कहा था,‘लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा ख़तरा परिवारवाद है, क्योंकि जब लगता है कि लोकतंत्र ठीक से चल रहा है तो तंत्र पर परिवार का कोई सदस्य आकर बैठ जाता है और लोकतंत्र कमजोर हो जाता है.’

निश्चित रूप में वीपी सिंह के दिमाग में उस समय की वही घटना ताज़ा रही होगी, लेकिन सामाजिक न्याय के योद्धाओं ने येन-केन प्रकारेण सिर्फ़ अपने परिवार को स्थापित करने के लिए ही काम किया है.

बिहार और उत्तर प्रदेश के सामाजिक न्याय के नेताओं को देख लीजिए, ‘लोकतंत्र को बचाने में’ लालू-मुलायम, रामविलास के परिवार के सभी लोग जी-जान से जुटे हुए हैं. नहीं तो लालू या मुलायम, रामविलास को यह कैसे लगा जब तक उनके परिवार के सदस्य चुनाव नहीं लड़ेंगे, लोकतंत्र नहीं बचेगा!

दुखद यह है कि इन नेताओं के लिए सामाजिक न्याय का मतलब इनका परिवार, इनके रिश्तेदार और अगर उन नेताओं में से किसी के पास ‘परोपकार’ जैसे शब्द बचे हैं तो अपनी जाति के मलाईदार तबके तक जाकर ख़त्म हो जाती है.

नीतीश इस मामले में अकेले व्यक्ति हैं जो परिवारवाद से मुक्त हैं, लेकिन विज़न की कमी उनको भी लालू-मुलायम और मायावती की श्रेणी में खड़ा कर देता है. आख़िर इन नेताओं को यह बात समझ में क्यों नहीं आई कि सरकारी स्कूल और सरकारी अस्पताल का बचना उनके अपने ही मतदाताओं के लिए सबसे ज़रूरी और मज़बूती का उपाय है.

अगर ये दोनों संस्थाएं बची रहेंगी तो उनके मतदाता सजग रहेंगे और आगे चलकर उनके कट्टर समर्थक और वोटर भी बनेंगे, लेकिन इन लोगों ने दूरदृष्टि के अभाव में अपने मतदाता को सबसे ज्यादा छला है और उन्हें नुकसान भी पहुंचाया है.

जब कर्पूरी ठाकुर पहली बार मुख्यमंत्री बने थे तो सातवीं तक की शिक्षा मुफ्त कर दी थी और दूसरी बार जब वे मुख्यमंत्री बने तो मैट्रिक तक की शिक्षा मुफ्त की. इतना ही नहीं उन्होंने मैट्रिक परीक्षा में अंग्रेजी में फेल होने वाले परीक्षार्थियों को पास होने का कानून बना दिया, जिसे आज भी कर्पूरी डिवीज़न (पीडब्ल्यूई) कहा जाता है.

कर्पूरी ठाकुर के इस फैसले से हजारों दलितों और पिछड़े को नौकरी मिली थी और वही आज भी लालू-नितीश के सबसे बड़े समर्थक हैं.

अखिलेश यादव न किसी आंदोलन की पैदाइश हैं और न ही उन्होंने पिछड़ों और दलितों के सामाजिक संघर्ष को देखा है. यही कारण है कि उन्होंने सबसे पहले दलितों को प्रमोशन में मिलने वाले आरक्षण को ख़त्म करने का समर्थन कर दिया.

यही कारण था कि जब आरएसएस के प्रवक्ता मनमोहन वैद्य ने आरक्षण ख़त्म करने की बात कही थी तो अखिलेश चुप्पी साध गए थे. वे मुगालते में थे कि आरक्षण पर चुप्पी साधकर और ‘विकास’ की बात करके सर्वणों का वोट पाया जा सकता है (जो मिथ साबित हुआ).

लोकतंत्र में हर पल अपने समाज और वोटरों के बारे में सोचते रहना पड़ता है, लेकिन दुखद यह है कि उत्तर भारत के सामाजिक न्याय के सभी बड़े नेता सिर्फ अपने परिवार और रिश्तेदार के बारे में सोचते हैं, उन जनता के बारे में नहीं जिनके वोट से ये मसीहा बने थे.

यही कारण है कि किसी भी पार्टी में परिवार से बाहर का दूसरे लेयर की लीडरशिप तैयार नहीं हुई है. सामाजिक न्याय के इन मसीहाओं को देखकर पता नहीं बरबस प्रेमचंद के उपन्यास ‘गबन’ का एक पात्र याद या जाता है जिसमें वह ट्रेन में जाते समय पूछता है, ‘मान लो, सुराज आ जाता है तो क्या होगा? यही न कि मिस्टर जॉन की जगह पर श्रीमान जगदीश आ जाएंगे, लेकिन इससे हमारी ज़िंदगी में कोई तब्दीली तो नहीं आएगी.’

फिलहाल सामाजिक न्याय की अपेक्षा रखने वाली जनता के लिए तो यह महज़ दूसरा सुराज है जिसमें जनता किसी दूसरे बहेलिये के जाल में फंस गई है जिसने नारे के रूप में बेहतर चारा फेंका है. अब मायावती और अखिलेश के सामने सबसे बड़ी चुनौती यही है कि वे कैसे अपने खिसके हुए जनाधार को वापस पाएंगे जिनके पास कोई ‘विज़न’ ही नहीं है.


वरिष्‍ठ पत्रकार जितेंद्र कुमार सामाजिक न्‍याय की राजनीति पर काफी गंभीर काम कर चुके हैं। लंबा समय ग्रामीण पत्रकारिता में बिता चुके हैं और पूर्व प्रधानमंत्री विश्‍वनाथ प्रसाद सिंह के साथ इन्‍होंने कई साक्षात्‍कार किए हैं। यूपी विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के तुरंत बाद उन्‍होंने यह लेख दि वायर के लिए लिखा है. यह लेख दि वायर से साभार प्रकाशित है.

73 COMMENTS

  1. Hi! I could have sworn I’ve been to this website before but after checking through some of the
    post I realized it’s new to me. Anyways, I’m definitely glad I found it and I’ll
    be book-marking and checking back often!

  2. Hi there would you mind stating which blog platform you’re working with?
    I’m going to start my own blog in the near future but I’m having a hard time choosing between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.

    The reason I ask is because your design and style seems different
    then most blogs and I’m looking for something completely unique.
    P.S Apologies for being off-topic but I had to ask!

  3. Hey! Someone in my Myspace group shared this site with us so I came
    to check it out. I’m definitely enjoying the information. I’m bookmarking and will be tweeting this
    to my followers! Great blog and fantastic design and style.

  4. I’m extremely inspired together with your writing talents as smartly as with the
    structure in your blog. Is that this a paid theme or did you customize it your self?

    Either way stay up the nice high quality writing, it is uncommon to look a nice weblog like this one today..

  5. Hiya! Quick question that’s completely off topic. Do you know
    how to make your site mobile friendly? My weblog looks weird when browsing from my iphone.
    I’m trying to find a theme or plugin that might be able to fix this problem.
    If you have any recommendations, please share.

    Many thanks!

  6. Howdy exceptional blog! Does running a blog like this take
    a lot of work? I’ve virtually no expertise in computer programming
    however I was hoping to start my own blog in the near future.
    Anyways, if you have any suggestions or techniques for new blog owners please share.
    I understand this is off subject nevertheless I simply had
    to ask. Thanks a lot!

  7. Nice post. I was checking continuously this blog and I’m impressed!

    Extremely useful information specifically the last part 🙂 I care for such info a
    lot. I was seeking this particular info for a very long time.
    Thank you and best of luck.

  8. Heya i am for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out a lot. I hope to give something back and aid others like you helped me.

  9. It is really a great and helpful piece of information. I am glad that you shared this helpful information with us. Please keep us informed like this. Thank you for sharing.

  10. Hello there, I found your blog via Google whilst
    looking for a related topic, your site came up, it seems great.

    I’ve bookmarked it in my google bookmarks.
    Hello there, just become alert to your blog
    thru Google, and located that it’s really informative.
    I’m gonna be careful for brussels. I will be grateful in the
    event you continue this in future. Lots of people might be benefited from
    your writing. Cheers!

  11. Thank you for any other informative blog. The place else may just I am getting that kind of information written in such a perfect approach? I’ve a project that I’m just now running on, and I’ve been on the glance out for such information.

  12. Hello there! This is my first visit to your blog! We are a collection of volunteers and starting a new project in a community in the same niche. Your blog provided us beneficial information to work on. You have done a wonderful job!

  13. Helpful information. Lucky me I discovered your site by accident, and I’m surprised
    why this coincidence didn’t came about earlier! I bookmarked it.

  14. Hello there! This post could not be written any better!

    Going through this article reminds me of my previous roommate!
    He always kept preaching about this. I will forward this post to him.
    Pretty sure he’ll have a great read. Thank you for sharing!

  15. Somebody necessarily help to make seriously articles I would state. This is the first time I frequented your website page and so far? I amazed with the research you made to create this particular publish incredible. Fantastic task!

  16. Good day! This is my first visit to your blog! We are a group of volunteers and starting a new project in a community in the same niche. Your blog provided us valuable information to work on. You have done a wonderful job!

  17. Do you have a spam issue on this blog; I also am a blogger, and
    I was wondering your situation; many of us have created some
    nice practices and we are looking to swap techniques with other folks, please shoot me an email if interested.

  18. Excellent beat ! I wish to apprentice while you amend your website,
    how could i subscribe for a blog web site? The account helped me a acceptable deal.
    I had been tiny bit acquainted of this your broadcast offered bright clear
    concept

  19. You really make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be actually something that I think I would never understand.
    It seems too complicated and very broad for me. I am looking forward for your next post, I will try
    to get the hang of it!

  20. I absolutely love your blog and find most of your post’s to be exactly what
    I’m looking for. can you offer guest writers to write content available for you?
    I wouldn’t mind composing a post or elaborating on most
    of the subjects you write about here. Again, awesome
    blog!

  21. Hi there! This article could not be written much better!
    Reading through this article reminds me of my previous roommate!
    He constantly kept talking about this. I am going to forward this information to him.
    Fairly certain he’ll have a very good read. Thank you for sharing!

  22. This is very interesting, You are a very skilled blogger.

    I’ve joined your rss feed and look forward to
    seeking more of your excellent post. Also, I’ve shared your website in my
    social networks!

  23. I’m pretty pleased to find this web site. I need to to thank you for your time due to
    this wonderful read!! I definitely appreciated every bit of it and I have you
    book-marked to look at new stuff in your site.

  24. I do enjoy the way you have framed this concern plus it does indeed give me some fodder for consideration. On the other hand, coming from just what I have experienced, I simply just hope when the responses pack on that individuals continue to be on issue and don’t embark upon a tirade associated with some other news du jour. Anyway, thank you for this exceptional piece and whilst I do not go along with the idea in totality, I regard the viewpoint.

  25. I love what you guys are up too. This kind of clever
    work and exposure! Keep up the good works guys I’ve incorporated you guys to our blogroll.

  26. Nice post. I was checking continuously this blog and I’m impressed!
    Very helpful information particularly the last part :
    ) I care for such info a lot. I was seeking this certain info for a long time.
    Thank you and good luck.

  27. Great beat ! I wish to apprentice at the same time as you amend your web site, how could i subscribe for a weblog site?
    The account helped me a appropriate deal. I have been a little
    bit familiar of this your broadcast provided vibrant clear concept

  28. Wow, awesome weblog structure! How lengthy have you ever been running a blog for? you make blogging look easy. The overall glance of your website is magnificent, let alone the content material!

  29. hey there and thank you for your information – I have certainly picked up something new from right here. I did however expertise a few technical points using this site, as I experienced to reload the site lots of times previous to I could get it to load properly. I had been wondering if your web host is OK? Not that I’m complaining, but slow loading instances times will sometimes affect your placement in google and could damage your high quality score if advertising and marketing with Adwords. Anyway I’m adding this RSS to my e-mail and can look out for a lot more of your respective intriguing content. Make sure you update this again soon..

  30. Excellent blog here! Additionally your site loads up very fast!
    What web host are you the use of? Can I am getting your
    affiliate link for your host? I wish my website loaded up as fast as yours lol

  31. This is very attention-grabbing, You are an excessively skilled blogger.

    I have joined your rss feed and look forward
    to in quest of more of your fantastic post.
    Additionally, I have shared your website in my social networks

  32. This is very interesting, You’re a very skilled
    blogger. I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more of your fantastic post.
    Also, I’ve shared your website in my social networks!

  33. Hmm it appears like your website ate my first comment (it was super long)
    so I guess I’ll just sum it up what I submitted and say,
    I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog blogger but I’m still new to everything.
    Do you have any points for newbie blog writers? I’d certainly appreciate it.

  34. Thanks for ones marvelous posting! I actually enjoyed reading it, you’re a
    great author.I will be sure to bookmark
    your blog and will come back from now on. I want to encourage you continue your great
    writing, have a nice day!

  35. I cling on to listening to the news lecture about getting boundless online grant applications so I have been looking around for the finest site to get one. Could you advise me please, where could i find some?

  36. you are actually a good webmaster. The site loading pace is amazing.

    It seems that you’re doing any distinctive trick.

    In addition, The contents are masterwork. you have done a wonderful task on this matter!

  37. Hello There. I found your weblog using msn. This is a very smartly
    written article. I will be sure to bookmark it and return to
    learn extra of your useful information. Thank you for the
    post. I will certainly comeback.

  38. Fantastic website you have here but I was curious if you knew of any forums that
    cover the same topics discussed in this article?
    I’d really like to be a part of community
    where I can get suggestions from other knowledgeable individuals that share
    the same interest. If you have any suggestions, please let me
    know. Thank you!

  39. Hello there! Quick question that’s totally off topic. Do you know how to make your site mobile friendly?
    My weblog looks weird when viewing from my iphone4.
    I’m trying to find a template or plugin that might be able to fix this problem.
    If you have any suggestions, please share. Thank you!

LEAVE A REPLY