Home पड़ताल झूठ बोल रहे हैं रामबहादुर राय, आउटलुक को दिया था इंटरव्यू, रिकॉर्डिंग...

झूठ बोल रहे हैं रामबहादुर राय, आउटलुक को दिया था इंटरव्यू, रिकॉर्डिंग मौजूद- उत्तम सेनगुप्ता

SHARE

मशहूर पत्रकार और  आउटलुक पत्रिका के डिप्टी एडिटर उत्तम सेनगुप्ता ने इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय के इस दावे को सरासर झूठ बताया है कि पत्रिका ने उनका फ़र्ज़ी इंटरव्यू छापा । उन्होंने कहा कि आउटलुक के पास इस इंटरव्यू की पूरी रिकार्डिंग है, फिर भी अगर रामबहादुर राय को लगता है कि आउटलुक गलत दावा कर रही है तो वे अदालती कार्रवाई कर सकते हैं। उत्तम सेनगुप्त ने यह भी जानकारी दी कि रामबहादुर राय ने इंटरव्यू के लिए आउटलुक के फोटोग्राफ़र ने उनके पास जाकर बाक़ायदा फोटोशूट किया था ( मतलब राय साहब ने विभिन्न कोणों से फोटो खिंचवाई थीं )। क्या वे नहीं जानते थे कि फोटोशूट इंटरव्यू में छापने के लिए ही हो रहा है ?

उत्तम सेनगुप्ता यह चुनौती देते हुए ख़ासे उत्तेजित थे। वाक़या 10 अगस्त का है। प्रेस क्लब में आउटलुक पत्रिका में  ‘आरएसएस के बेटी उठाओ अभियान’  की रपट को लेकर पत्रिका और खोजी पत्रकार नेहा दीक्षित के ख़िलाफ़ दर्ज हुई एफ़आईआर और पत्रकारिता पर पड़ रहे सत्ता के दबाव के विरोध में सभा चल रही थी। सभा में संघ संप्रदाय के पत्रकार भी पहुँचे थे। उन्होंने दो सवाल उठाये। एक तो यह कि एफ़आईआर सामान्य कानूनी प्रक्रिया है। इसका विरोध बेमानी है। दूसरा यह कि प्रेस क्लब ने तब सवाल नहीं उठाया जब आउटलुक ने रामबहादुर राय का फ़र्ज़ी इंटरव्यू छापा था।

यह आरोप सुनकर वहाँ मौजूद उत्तम सेनगुप्ता उत्तेजित हो गये। उन्होंने तुरंत हस्तक्षेप करना चाहा, लेकिन संचालक की भूमिका में बैठे प्रेस क्लब के अध्यक्ष राहुल जलालाी ने उन्हें बाद में पूरा वक्त देने का आश्वासन देकर शांत किया। बहरहाल, बाद में मौक़ा मिला तो उत्तम सेनगुप्ता ने वही चुनौती दोहराई जिसका ज़िक्र ऊपर किया जा चुका है।

आख़िर मामला है क्या ?

दरअसल, आउटलुक ने इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय का एक इंटरव्यू छापा  जिसमें उन्होंने कहा कि यह एक मिथ है कि डॉ अंबे़डकर ने संविधान लिखा था। डा.अंबेडकर ने बस भाषा दुरुस्त की थी जैसे कि तमाम एजेंसियों के सिपाही टूटी-फूटे अंग्रेज़ी में सूचनाएँ लिख लाते हैं और बड़े अफ़सर उन्हें दुरुस्त करके रिपोर्ट बना देते हैं। आउटलुक की संवाददाता प्रज्ञा सिंह ने इस इंटरव्यू के सिलसिले में रामबहादुर राय से 27 और 28 मई को दो बार मुलाकात की।  आप इस इंटरव्यू को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

राय साहब ने इस इंटरव्यू में ऐसी तमाम बातें कहीं जो अंबेडकर के योगदान को कमतर बताती हैं तो  बवाल तो होना ही था। रामबहादुर राय संघ संप्रदाय के बड़े पत्रकार माने जाते हैं। वे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महासचिव रह चुके हैं। उनकी गिनती ‘समर्पित’ पत्रकारों में होती है। राजनीतिक उतार-चढ़ाव और सत्ता बनने-बिगड़ने के खेल पर वे रुचिपूर्वक कलम चलाते रहे हैं। पिछले दिनों मोदी सरकार ने उन्हें इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र का अध्यक्ष बनाया, हाँलाकि कला के क्षेत्र में योगदान तो छोड़िये, उसकी रिपोर्टिंग से भी उनका लेना-देना नहीं रहा। शायद यह उन्हें पद्मश्री भर देने की भरपाई थी, क्योंकि विद्यार्थी परिषद से ही जुड़े रहे एक अन्य पत्रकार रजत शर्मा को मोदी सरकार ने एक झटके में पद्मभूषण दे दिया था। इसे ‘महज़ पद्मश्री’ राम बहादुर राय जैसे समर्पित पत्रकार का अपमान बताया गया था। ऐसे भी रजत शर्मा के इंडिया टीवी की ख़्याति का आधार, ‘धरती पर गाय चुराने आये एलियन’ या चुड़ैल का चमत्कार जैसी ख़बरें रही हैं। संविधान कहता है कि अंधविश्वास फैलाना जुर्म है। लेकिन सरकार ऐसी पत्रकारिता करने वालों को सम्मानित करती है !

बहरहाल, कहा जाने लगा कि आउटलुक में रामबहादुर राय का  इंटरव्यू संघ के इशारे पर डा.अंबेडकर का क़द छोटा करने की कोशिश है। बीजेपी को चुनावी हाट में अपनी दुकान फ़ीकी पड़ने का ख़तरा नज़र आया और फिर ऐसा हुआ जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती थी। अपनी ही बनाई छवि को खंडित करते हुए रामबहादुर राय अपनी बात से मुकर गये। उन्होंने साफ़ कह दिया कि आउटलुक को उन्होंने कभी कोई इंटरव्यू नहीं दिया था। तमाम चैनलों के उत्साही पत्रकारों ने इस लपकर कर उनकी बाइट या टिकटैक (सामने खड़े या बैठकर तुरत-फुरत कुछ बातचीत) कर डाला। राय साहब ने इसे राजनीतिक साज़िश बता दिया। अख़बारो के लिए तो यह मुद्दा था ही। रामबहादुर राय का खंडन आप यहाँ पढ़ सकते हैं।

लेकिन आउटलुक भी प्रतिष्ठित पत्रिका है (फ़िल्मी डायलॉाग को याद करें तो कच्ची गोलियाँ नहीं खेलीं टाइप)। उसके पास इस इटरव्यू की रिकार्डिंग है जिसका एक हिस्सा विवाद भड़कने पर यूट्यूब में डाला जा चुका है। फिर भी शाखामृग पत्रकार, इसे आउटलुक की बदनीयती का सबूत बताते घूम रहे हैं। आप रामबहादुर राय का इंटरव्यू नीचे सुन सकते हैं जिसमें वे साफ़-साफ आइडेंटटी पालिटिक्स की ज़रूरत के तहत अंबेडकर का मिथ खड़ा करने की बात कह रहे हैं।


अब थोड़ा पत्रकारों और पत्रकारिता के दमन के ख़िलाफ हुई प्रेस क्लब की सभा का हाल भी जान लीजिए। पत्रकारों के खिलाफ़ एफ़आईआर को सामान्य कानूनी प्रक्रिया बताने वाले शाखामृग पत्रकारों की कई वरिष्ठ पत्रकारों ने कड़ी आलोचना की। कहा गया कि किसी रिपोर्टर के खिलाफ देश भर में रिपोर्ट दर्ज करा देना, उत्पीड़न का पुराना तरीक़ा है। इससे खोजी रिपोर्टिंग को लेकर पत्रकार और संस्थान का उत्साह कम हो जाता है। ख़बर का तथ्यात्मक ढंग से खंडन किया जाना चाहिए। लोगों ने नेहा दीक्षित की मेहनत को सराहते हुए उसकी रिपोर्ट को खोजी पत्रिकारिता का नमूना बताया।
इस मौके पर ट्रेड यूनियनों के कमज़ोर होने पर भी गहरी चिंता जताई गई जिसकी वजह से पत्रकारों की सेवा सुरक्षा का मुद्दा बहुत पीछे चला गया है। माना गया कि मोदी राज में पत्रकारिता करना लगातार मुश्किल होता जा रहा है। ऐसा हाल इमरजेंसी में भी नहीं हुआ था। सभा में वरिष्ठ पत्रकार ज्योति मल्होत्रा, विजय क्रांति, सबीना, एस.के.पांडेय, सी.पी.झा,हरतोष सिंह बल, राजीव रंजन, प्रशांट टंडन, राजेश वर्मा आदि मौजूद थे।

pci new

 

21 COMMENTS

  1. This website online is really a walk-via for all of the info you needed about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll definitely discover it.

  2. I do not even know how I ended up right here, however I believed this post used to be good. I do not realize who you might be however definitely you’re going to a famous blogger should you aren’t already 😉 Cheers!

  3. Excellent post. I used to be checking constantly this weblog and I’m impressed! Extremely helpful info specially the last part 🙂 I take care of such info much. I was seeking this particular information for a very lengthy time. Thanks and best of luck.

  4. Hey I am so delighted I found your weblog, I really found you by accident, while I was searching on Yahoo for something else, Anyhow I am here now and would just like to say cheers for a incredible post and a all round interesting blog (I also love the theme/design), I donít have time to read it all at the minute but I have book-marked it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a great deal more, Please do keep up the fantastic work.

  5. It’s actually a nice and helpful piece of info. I’m happy that you just shared this useful information with us. Please keep us informed like this. Thank you for sharing.

  6. Pretty section of content. I just stumbled upon your web site and in accession capital to assert that I get actually enjoyed account your blog posts. Any way I will be subscribing to your feeds and even I achievement you access consistently fast.

  7. Hi! I just would like to give a huge thumbs up for the wonderful info you have here on this post. I will likely be coming back to your weblog for extra soon.

  8. Most of whatever you state happens to be supprisingly accurate and it makes me ponder why I hadn’t looked at this in this light previously. This article really did turn the light on for me personally as far as this subject matter goes. But at this time there is 1 factor I am not necessarily too cozy with so whilst I try to reconcile that with the main theme of your issue, allow me see exactly what all the rest of your subscribers have to point out.Nicely done.

  9. Can I simply say what a relief to seek out someone who actually knows what theyre speaking about on the internet. You undoubtedly know how to bring a problem to gentle and make it important. More individuals must learn this and perceive this facet of the story. I cant imagine youre not more standard since you definitely have the gift.

  10. Hello, i believe that i saw you visited my web site thus i got here to “return the prefer”.I’m trying to in finding things to enhance my website!I assume its ok to make use of a few of your ideas!!

  11. I’m impressed, I have to say. Truly hardly ever do I encounter a blog that’s both educative and entertaining, and let me let you know, you have got hit the nail on the head. Your concept is outstanding; the issue is something that not sufficient people are speaking intelligently about. I’m incredibly pleased that I stumbled across this in my search for some thing relating to this.

  12. Hi there, I found your blog by way of Google at the same time as searching for a related matter, your website got here up, it appears good. I have bookmarked it in my google bookmarks.

  13. Simply desire to say your article is as astounding. The clarity in your post is just excellent and i could assume you’re an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please continue the gratifying work.

  14. I’m truly enjoying the design and layout of your blog. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your theme? Great work!

  15. hello!,I like your writing very much! share we communicate more about your article on AOL? I need an expert on this area to solve my problem. May be that’s you! Looking forward to see you.

  16. I’m really impressed with your writing skills as well as with the layout on your weblog. Is this a paid theme or did you modify it yourself? Anyway keep up the nice quality writing, it is rare to see a great blog like this one nowadays..

  17. I needed to post you a very little observation to finally say thanks a lot again for these pleasant strategies you’ve documented here. It is remarkably open-handed of you to supply publicly precisely what many individuals could have supplied as an ebook to help make some bucks for themselves, precisely since you might well have tried it if you ever decided. Those pointers as well served to be a fantastic way to know that the rest have the identical interest the same as mine to learn many more related to this matter. I’m certain there are some more pleasurable occasions ahead for folks who looked over your website.

  18. Normally I do not read post on blogs, but I wish to say that this write-up very forced me to check out and do so! Your writing taste has been surprised me. Thank you, quite great article.

  19. I actually wanted to construct a quick message to be able to say thanks to you for these fantastic guides you are posting at this site. My time consuming internet investigation has finally been honored with reputable tips to exchange with my colleagues. I ‘d admit that most of us site visitors actually are unquestionably lucky to be in a fine place with very many special people with very beneficial tactics. I feel really privileged to have used your web pages and look forward to plenty of more pleasurable minutes reading here. Thanks once more for a lot of things.

LEAVE A REPLY