Home पड़ताल पंजाब गए पत्रकार भाषा नहीं समझते ! कितनी विश्वसनीय हैं राष्ट्रीय मीडिया...

पंजाब गए पत्रकार भाषा नहीं समझते ! कितनी विश्वसनीय हैं राष्ट्रीय मीडिया की चुनावी ख़बरें ?

SHARE

अभिषेक श्रीवास्‍तव / पंजाब से

पंजाब विधानसभा चुनाव के बारे में मीडिया में आ रही रिपोर्टों पर क्‍या विश्‍वास किया जा सकता है? अंग्रेज़ी और हिंदी के समाचार चैनलों व अखबारों में जो कुछ भी दिखाया जा रहा है, बताया जा रहा है, आखिर वह कितना विश्‍वसनीय है? यह एक ऐसा सवाल है जो पहली बार किसी भी पत्रकार के मन में खड़ा होता है जब वह पंजाब की धरती पर कवरेज करने आता है और पाता है कि उसे कुछ समझ में ही नहीं आ रहा। हो सकता है दूसरे पत्रकारों को समझ में आ रहा हो, लेकिन मेरी समझदारी यदि थोड़ी भी दुरुस्‍त है तो मुझे वाकई कुछ भी समझ नहीं आ रहा। इसकी केवल एक वजह है और वह है गुरमुखी लिपि का ज्ञान न होना।

हिंदी/अंग्रेज़ी पत्रकार के लिए पंजाबी बोलना आसान है, समझना और आसान है लेकिन पढ़ पाना उतना ही मुश्किल। यहां दीवार पर लिखी इबारतों से आप इलेक्‍शन का अंदाजा नहीं लगा पाएंगे क्‍योंकि बैनर, पोस्‍टर, नारे से लेकर कैंडिडेट के नाम तक गुरमुखी में लिखे हुए हैं। लुधियाना में जिस प्रत्‍याशी को लंबे समय तक हम जेटली समझते रहे, वह अंत में चेटली निकला। यह तो केवल एक बानगी भर है। फिर सवाल उठता है कि दिल्‍ली से आए पत्रकार क्‍या खाकर अपनी रिपोर्ट लिख रहे हैं, जबकि मालवा, दोआबा और माझा की बोलियां भी अलग-अलग हैं और उन्‍हें समझना भी इतना आसान नहीं!

इस सब के बीच दिलचस्‍प बात यह है कि दिल्‍ली से पैदा हुई खड़ी हिंदी बोली वाली आम आदमी पार्टी भी यहां पूरी तरह गुरमुखी में काम कर रही है। पार्टी के राष्‍ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल केवल स्‍थानीय पंजाबी पत्रकारों से बात कर रहे हैं और उन्‍हीं को तरजीह दे रहे हैं। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री के मीडिया सलाहकार और चंडीगढ़ वॉर रूम के मीडिया प्रभारी पूर्व पत्रकार अरुणोदय प्रकाश का कहना है कि अरविंद हिंदी के पत्रकारों से बात नहीं करेंगे क्‍योंकि वे जानते हैं कि उससे कोई लाभ नहीं होने वाला। वॉर रूम में मौजूद कार्यकर्ता बताते हैं कि दिल्‍ली के राष्‍ट्रीय मीडिया का पंजाब के मतदाता पर कोई असर नहीं है, जबकि स्‍थानीय मीडिया खासकर टीवी चैनल पूरी तरह बादल परिवार के लिए काम कर रहे हैं।

यहां दो मुख्‍य चैनल ज़ीटीवी और पीटीसी बादलों का प्रचार कर रहे हैं और आम आदमी पार्टी व कांग्रेस के खिलाफ़ हैं। राष्‍ट्रीय अखबारों के स्‍थानीय संस्‍करण भले ही न्‍यूट्रल खबरें दिखा रहे हैं, लेकिन उनके पाठक बेहद कम हैं। स्‍थानीय पंजाबी अखबारों में ज़मीनी खबरें आ रही हैं,लेकिन दिल्‍ली से गए पत्रकारों के लिए काला अक्षर भैंस बराबर है। कुल मिलाकर हिंदी या अंग्रेज़ी के पत्रकारों का प्राइमरी स्रोत शहरी जनता है जो हिंदी/अंग्रेज़ी समझती है या फिर वे एक- दूसरे के कहे-सुने से ज्ञान ले रहे हैं। इसलिए पंजाब के मतदाताओं का मूड राष्‍ट्रीय मीडिया में जो भी दिख रहा है, वह पूरी तरह झूठा हो सकता है।

अंगेज़ी पत्रिका कारवां के पत्रकार अमनदीप बताते हैं कि इस बार पूरा पंजाब तना हुआ है। कोई अपना मुंह नहीं खोल रा। वे कहते हैं, “तुक्‍का लगाने से क्‍या फायदा। पिछले चुनाव में डेढ़ परसेंट वोट नोटा पर पड़े थे। इस बार नोटा पर पांच परसेंट तक वोट पड़ सकते हैं। लोग उदासीन हैं और उन्‍हें किसी भी राजनीतिक दल पर कोई भरोसा नहीं है। हवा की बात दूर रही, आम आदमी पार्टी को तो कोई पूछ भी नहीं रहा।”

इस बीच कुछ स्‍थानीय पंजाबी अखबारों ने पैकेज चला रखे हैं। उनमें प्रत्‍याशियों की खबरें पैसे लेकर छापी जा रही हैं, लेकिन गुरमुखी में होने के कारण उनका भी पता लगा पाना बहुत मुश्किल है। यही वजह है कि पंजाब की सारी कवरेज लुधियाना, जालंधर, पटियाला या अमृतसर जैसे बड़े शहरों से हो रही है जबकि रोपड़, माझा के कुछ इलाके और दलित, भूमिहीन, किसान आदि के मसले सिरे से गायब हैं।

हिंदी के पाठकों को राष्‍ट्रीय मीडिया में आ रही पंजाब की खबरों को आलोचनात्‍मक नज़र से देखना होगा और कोशिश करनी होगी कि वे अपनी समझ बढ़ाने के लिए स्‍थानीय पंजाबी मीडिया को फॉलो करें। वैसे, मतदान में चूंकि एक हफ्ता ही बच रहा है, इसलिए सीधे नतीजों का ही इंतज़ार किया जाए तो बेहतर।

 

28 COMMENTS

  1. Hey there! Would you mind if I share your blog with my facebook group? There’s a lot of people that I think would really enjoy your content. Please let me know. Cheers

  2. Write more, thats all I have to say. Literally, it seems as though you relied on the video to make your point. You clearly know what youre talking about, why throw away your intelligence on just posting videos to your weblog when you could be giving us something enlightening to read?

  3. The very crux of your writing whilst sounding agreeable originally, did not really settle properly with me after some time. Somewhere throughout the paragraphs you managed to make me a believer unfortunately just for a very short while. I still have got a problem with your leaps in assumptions and one might do well to fill in all those breaks. When you can accomplish that, I will certainly end up being impressed.

  4. Greetings! I know this is kinda off topic but I was wondering if you knew where I could find a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having trouble finding one? Thanks a lot!

  5. Hey there, You have done an excellent job. I’ll certainly digg it and personally suggest to my friends. I’m sure they’ll be benefited from this website.

  6. I have been absent for some time, but now I remember why I used to love this blog. Thanks , I will try and check back more often. How frequently you update your website?

  7. Good day! I know this is kinda off topic nevertheless I’d figured I’d ask. Would you be interested in exchanging links or maybe guest writing a blog article or vice-versa? My website covers a lot of the same topics as yours and I think we could greatly benefit from each other. If you are interested feel free to send me an e-mail. I look forward to hearing from you! Great blog by the way!

  8. I’ve read several just right stuff here. Definitely price bookmarking for revisiting. I wonder how much attempt you put to create this kind of excellent informative site.

  9. Awesome website you have here but I was wondering if you knew of any user discussion forums that cover the same topics discussed here? I’d really like to be a part of community where I can get feed-back from other knowledgeable individuals that share the same interest. If you have any recommendations, please let me know. Many thanks!

  10. I’m still learning from you, while I’m trying to achieve my goals. I definitely liked reading everything that is posted on your blog.Keep the posts coming. I enjoyed it!

  11. I’m extremely impressed with your writing skills and also with the layout on your blog. Is this a paid theme or did you modify it yourself? Either way keep up the excellent quality writing, it is rare to see a nice blog like this one these days..

  12. I have been exploring for a little bit for any high quality articles or blog posts on this kind of area . Exploring in Yahoo I at last stumbled upon this website. Reading this info So i’m happy to convey that I’ve an incredibly good uncanny feeling I discovered just what I needed. I most certainly will make certain to do not forget this site and give it a look regularly.

  13. Great – I should definitely pronounce, impressed with your web site. I had no trouble navigating through all the tabs and related information ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it at all. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, web site theme . a tones way for your client to communicate. Nice task..

  14. As I website possessor I believe the content matter here is rattling fantastic , appreciate it for your efforts. You should keep it up forever! Best of luck.

  15. Hello, i feel that i noticed you visited my weblog so i got here to “go back the choose”.I am trying to in finding things to enhance my web site!I assume its ok to use a few of your concepts!!

  16. It is appropriate time to make some plans for the future and it’s time to be happy. I’ve read this post and if I could I want to suggest you few interesting things or advice. Maybe you could write next articles referring to this article. I want to read even more things about it!

  17. I found your weblog site on google and verify a couple of of your early posts. Proceed to maintain up the superb operate. I just further up your RSS feed to my MSN News Reader. Searching for ahead to reading extra from you afterward!…

  18. Write more, thats all I have to say. Literally, it seems as though you relied on the video to make your point. You definitely know what youre talking about, why throw away your intelligence on just posting videos to your weblog when you could be giving us something enlightening to read?

LEAVE A REPLY