Home पड़ताल श्मशान से लेकर बिजली तक, मोदीवाणी केवल झूठ !

श्मशान से लेकर बिजली तक, मोदीवाणी केवल झूठ !

SHARE

प्रधानमंत्री मोदी चुनाव में जिस भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह उनकी शख्सियत का पता देती है, लेकिन श्मशान से लेकर बिजली तक में भेदभाव का जो आरोप वह अखिलेश सरकार पर लगा रहे हैं, वह या तो उनके अज्ञान का एक और नमूना है या फिर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की हताश कोशिश ।

पहले बात बिजली की। मोदी जी ने कहा है कि अगर रमज़ान में बिजली दी जाती है तो दीवाली में भी मिले। इस वाक्य में एक स्थिति का बयान है। यानी यूपी की सरकार हिंदू त्योहारों पर बिजली नहीं देती। जबकि तुष्टिकरण की नीति पर चलते हुए मुसलमानों के त्योहारों पर भरपूर बिजली देती है। पर क्या सचमुच ?

तथ्य बिलकुल उलट हैं। उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड के आँकड़ों के मुताबिक पिछले साल ईद (6 जुलाई 2016) पर पूरे राज्य को 13,500 मेगावॉट बिजली दी गई। रमज़ान के महीने में इस दिन सबसे ज़्यादा बिजली सप्लाई हुई। मौसम गरमी का था लिहाज़ा बिजली की ज़रूरत भी ज़्यादा थी। लेकिन अपेक्षाकृत ठंडे मौसम में दीवाली (धनतेरस से लेकर भैयादूज के पाँच दिनों के बीच)बिजली सप्लाई हुई 15400 मेगावॉट। यानी रमज़ान की तुलना में 1900 मेगावॉट ज़्यादा। बिजली आपूर्ति 24 घंटे हुई।

यही बात कब्रिस्तान और श्मशान के मामले में भी है। यूपी सरकार ने कब्रिस्तान नहीं बनवाए, बल्कि उनकी चहारदीवारी बनवाने के लिए करीब 400 करोड़ रुपये का बजट दिया। यह ज़रूरी था ताकि भूमाफ़िया कब्रिस्तान की ज़मीन कब्ज़ा ना कर लें। वहीँ श्मशानों के भी जीर्णोद्धार करने के लिए सरकार ने 200 करोड़ से ज़्यादा का बजट दिया।

हास्यास्पद तो यह है कि मोदी जी गाँव में श्मशान की बात कर रहे हैं, जबकि हिंदुओं का अंतिम संस्कार आमतौर पर गंगा या किसी पवित्र नदी किनारे ही होता है। बड़ी मजबूरी हो तो ही लोग गाँव के बाहर कहीं शवदाह करते हैं। लेकिन मोदी जी ने गाँव-गाँव श्मशान की बात को चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश की जिसकी ना कोई माँग है और ना तुक।

सरकार इलाहाबाद कुंभ के आयोजन पर भी अरबों ख़र्च करती है। पिछले इलाहाबाद अर्धकुंभ के आयोजन की ज़िम्मेदारी नगर विकास मंत्री ‘आज़म खाँ’ के हाथ थी, जिन्हें बेहतर इंतज़ाम के लिए साधुओं ने सम्मानित भी किया था।

आख़िर मोदी जी ऐसा क्यों कर रहे हैं ? इसका जवाब वरिष्ठ पत्रकार प्रशांट टंडन ने अपनी फ़ेसबुक वॉल पर लिखा है। प्रशांत लिखते हैं-

“क्यों श्मशान याद आया मोदी को:

ज्यादा मेहनत नही करनी है बस इन दो नक्शो को देखना है.

बाईं तरफ उत्तर प्रदेश के सांप्रदायिक हिंसा से प्रभावित इलाके हैं (ये 2015 तक के आंकड़ो के आधार पर है). आप देख सकते हैं जहॉ ज्यादा घटनाये हुई हैं वो गाढ़े रंग से दिखाये गये हैं. वारदातो में कमी के हिसाब से इलाको का रंग हल्का दिखाया गया है.

दाहिनी तरफ मतदान के चरणो का नक्शा है. इसमे पहले तीन चरण निबट चुके हैं और ये वो इलाके हैं जहॉ सांप्रदायिक तनाव अपेक्षाकृत ज्यादा रहा है.

अब इन दोनो नक्शो को एक साथ देखिये – बात बिलकुल समझ में आ जायेगी कि बीजेपी की सांस क्यों फूल रही है और क्यो मोदी सांप्रदायिक हवा देने की कोशिश कर रहे हैं.

इनके लिये बुरी खबर ये है जो सांप्रदायिक हिंसा से सबसे प्रभावित इलाके थे वहॉ इस बार ध्रुवीकरण हो नही पाया.”

.बर्बरीक 

 

 

19 COMMENTS

  1. I discovered your weblog site on google and examine a couple of of your early posts. Continue to keep up the very good operate. I simply further up your RSS feed to my MSN News Reader. Searching for forward to studying extra from you in a while!…

  2. Excellent post. I was checking continuously this blog and I am impressed! Extremely useful information particularly the last part 🙂 I care for such information much. I was looking for this certain info for a long time. Thank you and best of luck.

  3. I would like to thank you for the efforts you’ve put in writing this blog. I am hoping the same high-grade web site post from you in the upcoming as well. Actually your creative writing skills has inspired me to get my own site now. Actually the blogging is spreading its wings quickly. Your write up is a great example of it.

  4. Howdy! Would you mind if I share your blog with my facebook group? There’s a lot of people that I think would really enjoy your content. Please let me know. Many thanks

  5. You will find some exciting points in time in this post but I do not know if I see all of them center to heart. There’s some validity but I will take hold opinion until I appear into it further. Very good post , thanks and we want more!

  6. Today, I went to the beach front with my children. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She placed the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I had to tell someone!

  7. Thanks , I’ve just been looking for information approximately this topic for ages and yours is the greatest I have came upon till now. However, what in regards to the conclusion? Are you sure concerning the source?

  8. Pretty component of content. I simply stumbled upon your website and in accession capital to say that I get actually loved account your blog posts. Anyway I will be subscribing for your feeds or even I achievement you access persistently quickly.

  9. My husband and i have been very relieved that Chris managed to finish off his investigation through the entire precious recommendations he made using your blog. It’s not at all simplistic to simply possibly be releasing tips and hints which men and women have been trying to sell. Therefore we recognize we’ve got the website owner to give thanks to for this. All the explanations you made, the easy website navigation, the relationships you will aid to instill – it’s got most fabulous, and it’s facilitating our son in addition to us reason why the issue is exciting, and that’s highly important. Thanks for the whole thing!

  10. Get exercise. Countless suppliers in fact provide exercise courses about how to safely and properly operate a smartphone marketing strategy. These people will instruct you on anything from how frequently to email out messages and deals, towards the regulations you will need to observe although your system is continuous. Utilize this.

  11. Youre so cool! I dont suppose Ive read anything like this before. So nice to seek out anyone with some original thoughts on this subject. realy thanks for beginning this up. this web site is something that is wanted on the internet, somebody with a bit of originality. useful job for bringing something new to the internet!

  12. Howdy! This is my first visit to your blog! We are a collection of volunteers and starting a new initiative in a community in the same niche. Your blog provided us beneficial information to work on. You have done a extraordinary job!

  13. After I initially commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now each time a remark is added I get four emails with the same comment. Is there any means you can take away me from that service? Thanks!

  14. I cling on to listening to the newscast speak about receiving boundless online grant applications so I have been looking around for the best site to get one. Could you tell me please, where could i find some?

LEAVE A REPLY