Home पड़ताल जेएनयू का मीडिया प्रोपगंडा 16 फरवरी को ही एक्सपोज़ हो जाता अगर…

जेएनयू का मीडिया प्रोपगंडा 16 फरवरी को ही एक्सपोज़ हो जाता अगर…

SHARE

किसी ने कहा था कि सच जब तक घर से चलता है तब तक झूठ दुनिया का चक्कर लगा कर आ चुका होता है. प्रोपगंडा के इस दौर में इसीलिए सही ख़बरों का प्रसारित होना जितना ज़रूरी है, उतना ही ज़रूरी यह भी है कि खबर सही वक़्त पर लोगों तक पहुंचे. पूँजी और मुनाफे पर टिके हमारे समाचार संस्थानों के बीच संसाधनों के अंतर के चलते जो फर्क पैदा होता है, वह न केवल ख़बरों पर असर डालता है बल्कि छोटे संस्थानों के पत्रकारों को उनके सही श्रेय से भी महरूम कर देता है.

कुछ ऐसा ही हुआ है स्टेट टाइम्स के पत्रकार अहमद अली फ़य्याज़ के साथ, जिनकी 16 फरवरी को स्टेट टाइम्स में लिखी खबर पूरे नौ दिन बाद 25 फरवरी को लोगों तक पहुँच सकी जब तक जेएनयू का प्रकरण तकरीबन ठंडा पड़  चुका  था. फ़य्याज़ ने जम्मू और कश्मीर के अखबार स्टेट टाइम्स में जो खबर लिखी थी उसे यहाँ पढ़ा जा सकता है MHA asks DP to spare Jammu & Kashmir students to protect BJP’s possible alliance with PDP

इस खबर में बताया गया था कि जेएनयू में कथित देश विरोधी नारा लगाने वाले कश्मीरी लड़कों को पुलिस इसलिए गिरफ्तार नहीं कर रही क्योंकि उसे गृह मंत्रालय से ”मौखिक आदेश” मिले हैं, जिसकी वजह यह बताई गयी है कि उन लड़कों को गिरफ्तार करने से जम्मू और कश्मीर में पीडीपी के साथ बीजेपी की सरकार बनाने में दिक्कत आ सकती है. यह बात विश्लेषण के तौर पर उसी समय से कही जा रही थी, लेकिन सूत्रों और छात्रों के बयानात के मुताबिक़ एक खबर के आधार पर इसे और पुष्ट किया जा सकता था, यदि यह खबर 16 तारिख को ही ठीक से प्रसारित हो गई होती.

वो तो शुक्र है की दिल्ली के पत्रकार शिवम् विज ने इस खबर के आधार पर huffington post में एक लेख 25 फरवरी को लिख दिया जिसे खूब शेयर किया गया और यह बात लोगों तक तथ्यात्मक रूप से पहुँच सकी, लेकिन तब तक पर्याप्त देर हो चुकी थी. शिवम् विज का लेख यहाँ पढ़ा जा सकता है Why Delhi Police Is Going Soft On Kashmiris Who Actually Raised Anti-India Slogans In JNU

अच्छी बात है की विज ने फ़य्याज़ को उनका बराबर क्रेडिट दिया और स्टेट टाइम्स की मूल खबर से पैरा भी कोट किया है. बुरी बात यह है की उन्होंने ऐसा पूरे नौ दिन बाद किया और ज्यादा बुरी बात यह है कि उन्होंने फ़य्याज़ का ज़िक्र कम से कम दस पैरा के बाद किया है जबकि उनका पूरा आलेख इसी पर आधारित है. इससे समझ में आता है की बड़ी पूँजी और छोटी पूँजी का कितना ज्यादा फर्क सूचनाओं पर होता है. अगर यही खबर huffpost में 16 के आसपास छाप गई होती तो केवल अंदाजा लगाया जा सकता है की दस दिन के भीतर किये गए प्रोपगंडा को कितने असरदार तरीके से रोका जा सकता था.

पहले भी ऐसे मामले सामने आये हैं जहाँ एक छोटे प्रकाशन में छपी खबर को जब बड़े प्रकाशन ने उठाया, तब जाकर वह मुद्दा बन सका. आश्चर्य की बात यह है कि स्टेट टाइम्स की खबर पर और किसी की भी नज़र नहीं पड़ी. इससे यह समझ में आता है की दिल्ली का मीडिया क्षेत्रीय मीडिया को कितना नज़रंदाज़ करता है.

19 COMMENTS

  1. इससे यह तो स्पष्ट हुआ कि जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाये गए थे जो कि पूरे प्रकरण की मुख्य बात है । अब इस खबर को हल्का करने के लिए यह बात कही जा रही है कि कश्मीरी छात्रों को सरकार बनाने के लालच में छोड़ा गया । अब यह भी स्पष्ट कर दिया जाए कि आप ऐसा भ्रम किस लालच में फैला रहे हैं ।

  2. What i don’t understood is in reality how you are now not actually a lot more neatly-appreciated than you might be right now. You are very intelligent. You know therefore considerably relating to this subject, made me in my opinion consider it from numerous varied angles. Its like men and women don’t seem to be involved until it is one thing to accomplish with Lady gaga! Your individual stuffs nice. All the time maintain it up!

  3. magnificent submit, very informative. I’m wondering why the other specialists of this sector don’t notice this. You should proceed your writing. I’m sure, you’ve a great readers’ base already!

  4. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you create this website yourself or did you hire someone to do it for you? Plz answer back as I’m looking to construct my own blog and would like to find out where u got this from. cheers

  5. I am only writing to make you know what a fabulous discovery our daughter gained studying your blog. She noticed such a lot of issues, which include what it is like to have a marvelous teaching mindset to make others with ease master specified problematic subject matter. You undoubtedly did more than her desires. I appreciate you for displaying such interesting, trustworthy, explanatory and unique tips on that topic to Mary.

  6. Woah! I’m really enjoying the template/theme of this website. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s difficult to get that “perfect balance” between user friendliness and visual appearance. I must say you’ve done a awesome job with this. Additionally, the blog loads super quick for me on Safari. Outstanding Blog!

  7. Appreciating the dedication you put into your site and detailed information you provide. It’s awesome to come across a blog every once in a while that isn’t the same unwanted rehashed information. Wonderful read! I’ve bookmarked your site and I’m adding your RSS feeds to my Google account.

  8. Hi! Do you know if they make any plugins to help with SEO? I’m trying to get my blog to rank for some targeted keywords but I’m not seeing very good success. If you know of any please share. Thank you!

  9. Thanks a lot for sharing this with all of us you actually know what you are talking about! Bookmarked. Kindly also visit my web site =). We could have a link exchange agreement between us!

  10. I know this if off topic but I’m looking into starting my own weblog and was curious what all is needed to get set up? I’m assuming having a blog like yours would cost a pretty penny? I’m not very internet smart so I’m not 100 positive. Any recommendations or advice would be greatly appreciated. Appreciate it

  11. This site is mostly a stroll-by way of for all of the information you needed about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and also you’ll definitely discover it.

  12. It’s really a great and helpful piece of info. I’m glad that you shared this helpful information with us. Please keep us up to date like this. Thank you for sharing.

  13. I have been surfing online more than three hours today, yet I never found any interesting article like yours. It is pretty worth enough for me. In my view, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the web will be much more useful than ever before.

  14. I’m curious to find out what blog system you happen to be working with? I’m experiencing some small security issues with my latest blog and I’d like to find something more safeguarded. Do you have any suggestions?

  15. excellent post, very informative. I wonder why the other specialists of this sector do not notice this. You should continue your writing. I am sure, you have a great readers’ base already!

  16. I like what you guys are up too. Such clever work and reporting! Carry on the superb works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my web site 🙂

LEAVE A REPLY