Home पड़ताल विघटनकारी है बीजेपी का यूपी घोषणापत्र, ‘मजनूँ विरोधी दल’ में छिपा है...

विघटनकारी है बीजेपी का यूपी घोषणापत्र, ‘मजनूँ विरोधी दल’ में छिपा है लव जिहाद का हल्ला !

SHARE

उत्तरप्रदेश चुनाव 2017: भाजपा का विघटनकारी एजेंडा

 

उत्तरप्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव, न केवल भाजपा, कांग्रेस, सपा, बसपा आदि जैसे राजनीतिक दलों के लिए महत्वपूर्ण हैं वरन देश में धर्मनिरपेक्षता और प्रजातंत्र के भविष्य का निर्धारण करने में भी इस चुनाव की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।  राष्ट्रीय परिदृश्य पर भाजपा का उदय, राममंदिर आंदोलन और उसके बाद हुई सांप्रदायिक हिंसा से शुरू हुआ था। इसके बाद से भाजपा अपने एजेंडे में नए-नए विघटनकारी मुद्दे शामिल करती जा रही है, जिसका मुख्य उद्देश्य चुनावों में लाभ प्राप्त करना है।

उत्तरप्रदेश के चुनाव की घोषणा होने के पहले से ही कई भाजपा नेताओं ने राममंदिर, लव जिहाद व कैराना से हिन्दुओं का पलायन जैसे मुद्दे उठाने शुरू कर दिए थे। सन 2002 में गुजरात में हुई भयावह मुस्लिम-विरोधी हिंसा को राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने, क्रिया की प्रतिक्रिया बताकर औचित्यपूर्ण ठहराया था। उन्होंने यह भी कहा था कि दंगा पीड़ितों के लिए स्थापित शरणार्थी शिविर, बच्चों के उत्पादन के केन्द्र बन गए हैं और इसलिए उन्हें बंद कर दिया जाना चाहिए। समय के साथ उन्होंने अपने मूल सांप्रदायिक एजेंडे को पर्दे के पीछे रखते हुए विकास का नारा बुलंद करना शुरू कर दिया। परंतु यह केवल लोगों की आंखों में धूल झोंकने का प्रयास था। मीडिया और अत्यंत चतुराईपूर्ण प्रचार के ज़रिए उन्होंने अपनी छवि ‘विकास पुरूष’ के रूप में बनाने की कोशिश की और उनकी सरकार ने ऐसी नीतियां बनाईं, जिनसे कुबेरपतियों को लाभ हुआ। परंतु अपने मूल एजेंडे को उन्होंने कभी नहीं छोड़ा। सन 2014 के आम चुनाव के प्रचार के दौरान जहां वे‘अच्छे दिन’ लाने का वायदा करते रहे, वहीं वे ‘पिंक रेव्यूलेशन’ (देश से मांस का निर्यात) और असम में गेंडे के संरक्षण के संदर्भ में बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा भी उठाते रहे।

इसके अलावा, उनके साथियों ने राममंदिर, मुंहजबानी तलाक और संविधान के अनुच्छेद 370 जैसे मुद्दों को भी जिंदा बनाए रखा। विकास के नारे और पर्दे के पीछे से सांप्रदायिक प्रचार से भाजपा को केन्द्र में अपनी सरकार बनाने में सफलता मिल गई। अभी हाल में चुनाव आयोग ने भाजपा सांसद साक्षी महाराज की इस टिप्पणी पर घोर आपत्ति की कि देश की आबादी में वृद्धि के लिए मुसलमान ज़िम्मेदार हैं।

उत्तरप्रदेश चुनाव में ‘राष्ट्रीयता’, ‘राष्ट्रीय गौरव’ और ‘देशभक्ति’ जैसे भावनात्मक मुद्दे उठाए जा रहे हैं। सरकार, पाकिस्तान के विरूद्ध सर्जिकल स्ट्राईक और नोटबंदी को अपनी बड़ी सफलताएं बता रही है परंतु इन दोनों ही मुद्दों की हवा निकल चुकी है। सर्जिकल स्ट्राईक के बाद भी सीमा पर भारतीय सैनिकों के शहीद होने का सिलसिला जारी है और नोटबंदी के कारण आमजन जितने परेशान हुए हैं, उसके चलते इस बात की बहुत कम संभावना है कि वे इस निर्णय का समर्थन करेंगे। भाजपा को भी यह बात समझ में आ गई है और इसलिए उसने अपना विघटनकारी प्रचार फिर से शुरू कर दिया है। भाजपा के चुनाव घोषणापत्र में बड़ी चतुराई से ऐसे मुद्दों का समावेश किया गया है। घोषणापत्र में ‘हिन्दू गौरव’ और ‘संपूर्ण हिन्दू समाज’ जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया है। इसमें राममंदिर के मुद्दे को भी जगह दी गई है। भाजपा के विरोधियों का कहना है कि राममंदिर एक ऐसा मुद्दा है जिसे भाजपा जब चाहे ठंडे बस्ते में डाल देती है और जब चाहे उसे पुनर्जीवित कर जनता को भरमाने की कोशिश करने लगती है। बाबरी मस्जिद के ढहाए जाने के बाद से ही राममंदिर का मुद्दा, भाजपा के एजेंडे में बना हुआ है और यह इस बात के बावजूद, कि यह प्रकरण उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है।

यह स्पष्ट है कि अपने चुनाव प्रचार में जहां मोदी सांप्रदायिक मुद्दों को परोक्ष ढंग से उठाएंगे वहीं उनके अन्य साथी खुल्लमखुल्ला नफरत फैलाने वाली बातें कहेंगे। कुछ समय पूर्व, भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने उत्तरप्रदेश के कैराना से हिन्दुओं के पलायन का मुद्दा उठाया था। अब एक अन्य भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ ने यह कहना शुरू कर दिया है कि पूरा पश्चिमी उत्तरप्रदेश, कश्मीर बनने की राह पर है, वहां रहने वाले हिन्दुओं को डराया-धमकाया जा रहा है और पलायन करने पर मजबूर किया जा रहा है। सच यह है कि राज्य के मुज़फ्फरनगर में हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद से हज़ारों मुसलमानों को अपने गांव छोड़कर भागना पड़ा है। हुकुम सिंह के दावे का खोखलापन उजागर हो चुका है। उन्होंने कैराना से पलायन करने वाले जिन हिन्दू परिवारों की सूची जारी की थी, उनमें से कई अब भी वहां रह रहे हैं और कई ने आर्थिक और सामाजिक कारणों से अन्य स्थानों पर रहना बेहतर समझा। भाजपा के चुनाव घोषणापत्र में इस मुद्दे पर श्वेतपत्र जारी करने की बात कही गई है।

मुज़फ्फरनगर दंगों को भड़काने में लव जिहाद के दुष्प्रचार की महत्वपूर्ण भूमिका रही थी। अब भाजपा‘मजनू-विरोधी दल’ बनाने की बात कर रही है। यह लव जिहाद के मुद्दे को नए कलेवर में प्रस्तुत करने का प्रयास है। गोमांस का मुद्दा भी भाजपा के लिए वोट कबाड़ने का ज़रिया बन गया है। इस मुद्दे पर घोषणापत्र में कहा गया है कि सरकार बड़े बूचड़खानों को बंद करवाएगी। लैंगिक न्याय के मसले पर भाजपा के दोहरे मानदंड सबके सामने हैं। जहां वह मुंहजबानी तलाक के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ हो रहे अन्याय को लेकर बहुत चिंतित है, वहीं दलित, आदिवासी और हिन्दू महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के संबंध में चुप्पी साधे हुए है। यह साफ है कि भाजपा, मुंहजबानी तलाक का विरोध इसलिए नहीं कर रही है क्योंकि वह लैंगिक न्याय की पक्षधर है वरन यह मुद्दा उसके लिए अल्पसंख्यकों के दानवीकरण का उपकरण है। इसके साथ ही,यह कहना भी उचित होगा कि मुंहजबानी तलाक जैसी सड़ीगली परंपराओं से मुक्ति आवश्यक है क्योंकि ये मुसलमानों की प्रगति में बाधक हैं।

हाल में भाजपा विधायक संगीत सोम ने दादरी कांड के बाद दिए गए अपने भाषण का वीडियो प्रसारित किया। इसके बाद उनके खिलाफ एक एफआईआर दर्ज की गई, जिसमें उन्हें आदर्श चुनाव संहिता का उल्लंघन करने का दोषी बताया गया है। इसी तरह, एक अन्य भाजपा विधायक सुरेश राणा को सांप्रदायिक घृणा फैलाने का दोषी ठहराया गया है और उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। राणा ने कहा था कि अगर वे चुनाव जीत जाते हैं तो कैराना, देवबंद और मुरादाबाद में स्थायी कर्फ्यू लगाया जाएगा। योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अपना वोट देने से पहले मतदाताओं को दंगों और बलात्कारों को याद करना चाहिए।

भाजपा नेताओं की मूल रणनीति, समाज को धार्मिक आधार पर ध्रुवीकृत करने की है। उसके सांप्रदायिक एजेंडे में नए-नए मुद्दे जुड़ते जा रहे हैं। अब उसके पास इस तरह के मुद्दों का भंडार है, जिन्हें उसके अलग-अलग नेता, समय-समय पर उठाते रहते हैं। इन नेताओं को अलग-अलग काम सौंपे गए हैं। कुछ विकास की बात करते हैं, कुछ अपरोक्ष रूप से सांप्रदायिकता फैलाते हैं और तो कुछ खुलेआम और अभद्र भाषा में अल्पसंख्यकों के खिलाफ विषवमन करते हैं। उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि चुनाव प्रक्रिया,धर्मनिरपेक्ष होनी चाहिए। हमें सर्वोच्च न्यायालय के इस निर्णय का सम्मान करना चाहिए और चुनाव आयोग को अपनी शक्तियों का प्रभावकारी ढंग से इस्तेमाल करते हुए समाज को बांटने वाली बातें कहने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए।

. राम पुनियानी

(राम पुनियानी आईआईटी, मुंबई के पूर्व प्रोफ़ेसर हैं। मूल अंग्रेजी से हिन्दी रूपांतरण अमरीश हरदेनिया ने किया है) 

27 COMMENTS

  1. Hey there! I could have sworn I’ve been to this site before but after checking through some of the post I realized it’s new to me. Nonetheless, I’m definitely delighted I found it and I’ll be bookmarking and checking back often!

  2. You produced some decent points there. I looked on the web for the concern and found most individuals will go along with with your web site.

  3. I think that is one of the most vital information for me. And i am satisfied studying your article. But should commentary on some general things, The web site style is perfect, the articles is in point of fact nice : D. Just right activity, cheers

  4. You’ll find surely a good deal of particulars like that to take into consideration. That’s a terrific point to bring up. I offer the thoughts above as general inspiration but clearly you will discover questions like the 1 you bring up where the most vital thing might be operating in honest beneficial faith. I don?t know if best practices have emerged around items like that, but I’m sure that your job is clearly identified as a fair game. Each boys and girls feel the impact of just a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

  5. whoah this weblog is wonderful i like reading your articles. Keep up the good paintings! You recognize, a lot of persons are searching around for this information, you could aid them greatly.

  6. Wow! Thank you! I always wanted to write on my website something like that. Can I implement a part of your post to my blog?

  7. excellent publish, very informative. I’m wondering why the other experts of this sector do not understand this. You should proceed your writing. I am confident, you’ve a great readers’ base already!

  8. I would like to get across my passion for your generosity in support of women who require help with that area of interest. Your personal dedication to getting the message throughout turned out to be astonishingly invaluable and has specifically empowered associates like me to reach their targets. Your personal useful advice means this much to me and much more to my office workers. Thanks a lot; from everyone of us.

  9. Hi there, just changed into aware of your weblog thru Google, and found that it’s really informative. I am gonna watch out for brussels. I’ll appreciate for those who continue this in future. Lots of other people might be benefited from your writing. Cheers!

  10. There is obviously a lot to identify about this. I believe you made some good points in features also.

  11. You’ve an excellent blog here! would you like to create some invite posts on my blog?

  12. Aw, this was a really nice post. In idea I want to put in writing like this moreover – taking time and actual effort to make an excellent article… but what can I say… I procrastinate alot and under no circumstances appear to get one thing done.

  13. Generally I do not learn post on blogs, but I would like to say that this write-up very compelled me to check out and do it! Your writing style has been amazed me. Thanks, quite nice post.

  14. obviously like your website but you have to check the spelling on several of your posts. A number of them are rife with spelling issues and I find it very troublesome to inform the reality however I will definitely come again again.

  15. Hello there! I could have sworn I’ve been to this site before but after checking through some of the post I realized it’s new to me. Anyhow, I’m definitely happy I found it and I’ll be book-marking and checking back frequently!

  16. Simply wish to say your article is as surprising. The clearness on your put up is just great and that i can assume you’re knowledgeable in this subject. Well together with your permission allow me to seize your RSS feed to keep updated with approaching post. Thank you 1,000,000 and please keep up the enjoyable work.

  17. Hm. Inhaltlich ist das Video wirklich gut. Aber warum lobt sie das Storrytelling so sehr, trägt aber alles auf Faktenbasis und ohne jegliche Kreativität an ihren Zuschauer heran?

  18. hi!,I love your writing so so much! percentage we keep in touch more approximately your article on AOL? I need an expert on this area to solve my problem. Maybe that is you! Having a look ahead to look you.

  19. Hola! I’ve been reading your blog for some time now and finally got the bravery to go ahead and give you a shout out from Dallas Tx! Just wanted to mention keep up the excellent work!

  20. Hi! Would you mind if I share your blog with my twitter group? There’s a lot of people that I think would really appreciate your content. Please let me know. Thanks

  21. Whats up! I simply want to give an enormous thumbs up for the nice data you might have right here on this post. I might be coming again to your blog for more soon.

  22. Heya this is kinda of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding expertise so I wanted to get advice from someone with experience. Any help would be enormously appreciated!

  23. Hiya very nice web site!! Man .. Excellent .. Wonderful .. I will bookmark your web site and take the feeds also…I am satisfied to search out so many helpful information right here in the publish, we need develop more strategies in this regard, thanks for sharing. . . . . .

  24. Howdy! I just wish to give a huge thumbs up for the great information you will have right here on this post. I might be coming back to your blog for extra soon.

  25. Thanks for another informative website. Where else could I get that kind of information written in such an ideal way? I have a project that I am just now working on, and I’ve been on the look out for such information.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.