Home पड़ताल अल्पसंख्यकों के घर का पैसा पचा गई गुजरात सरकार !

अल्पसंख्यकों के घर का पैसा पचा गई गुजरात सरकार !

SHARE

गुजरात में अल्पसंख्यकों की एक बड़ी आबादी शहरी इलाकों में रहती है। लेकिन गुजरात सरकार ने राज्य के बड़े और छोटे शहरों में रह रहे इस समुदाय के लोगों के घर बनाने में मदद के लिए कोई फंड जारी नहीं किया। जबकि वर्ष 2014-15 में केंद्र की ओर से इनके लिए 2033.08 करोड़ रुपये जारी हुए थे। हालांकि बाद के साल के यानी 2015 के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। लेकिन यह भी सच है कि देश भर में अल्पसंख्यकों को आवास मुहैया कराने के लिए 22346.39 करोड़ रुपये जारी हुए, जिसमें से सिर्फ 5226.47 करोड़ रुपये ही खर्च हुए।

हालांकि इस संबंध में गुजरात के ग्रामीण इलाकों के आंकड़े ज्यादा अच्छे हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत अल्पसंख्यकों के आवास के मद में 2015-16 में 2589 लाभार्थियों का लक्ष्य रखा गया था। हालांकि इसके तहत 2382 लाभार्थियों को फायदा पहुंचाया गया।

गुजरात में अल्पसंख्यक आबादी सबसे ज्यादा कच्छ, राजकोट और भरूच जिले के आठ ब्लॉकों में हैं। कच्छ, जूनागढ़, पंचमहल, भरूच, साबरकांठा, अहमदाबाद, राजकोट, जूनागढ़ और बोरसाड़ जिले के आणंद में सबसे ज्यादा अल्पसंख्यक आबादी है।

यह आंकड़ा अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय ने जारी किए हैं। इसे माइनरिटी को-ऑर्डिनेशन कमेटी, गुजरात के संयोजक मुजाहिद नफीस ने इकट्ठा किया है। इन आंकड़ों से पता चलता है कि केंद्र सरकार ने 2014-15 में अल्पसंख्यक समुदाय के 670 लाभार्थियों को अपना या सामूहिक तौर पर छोटे उद्योग स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया होगा। लेकिन गुजरात सरकार ने इस दिशा में कोई पहल नहीं की।

पूरे भारत में अल्पसंख्यक वर्ग के 9000 लाभार्थियों को स्कीम से फायदा पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया गया था। इनमें से 5668 लाभार्थियों की ‘मदद’ की गई। इसी तरह 4424 अल्पसंख्यक स्वयं-सहायता समुदायों को लाभ पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन एक को भी मदद नहीं मिली। वहीं अखिल भारतीय आंकड़ों के मुताबिक देश भर में ऐसे लाभ पाने वाले लाभार्थियों की संख्या रही 67614। जबकि लक्ष्य 60,000 लोगों का रखा गया था।

गुजरात सरकार ने 2014-15 के दौरान अल्पसंख्यक लाभार्थियों के कौशल विकास के लिए कुछ नहीं किया। जबकि लक्ष्य 5535 लोगों को ट्रेनिंग देने का था। इस मामले में अखिल भारतीय स्तर पर 75,000 लोगों को ट्रेनिंग देने का था। इनमें से अल्पसंख्यक समुदाय के 29,880 लोगों को लाभ हुआ। बाद के वर्षों का आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।

इन आंकड़ों से पता चलता है गुजरात सरकार ने उन जिलों में 2006-07 के दौरान सर्व शिक्षा अभियान के दौरान एक भी प्राइमरी और अपर स्कूल नहीं बनवाया, जहां सबसे ज्यादा अल्पसंख्यक आबादी रहती है। इन जिलों में अल्पसंख्यकों की समस्याएं खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री के 15 सूत्री कार्यक्रम के तहत एक भी काम नहीं हुआ।

राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल प्रोगाम के तहत सघन अल्पसंख्यक आबादी वाले जिलों में कोई फंड प्रवाह नहीं हुआ। हालांकि इस मामले में अखिल भारतीय प्रदर्शन भी कोई अच्छा नहीं है। सिर्फ 22.41 फीसदी आबादी को ही इसके तहत कवरेज मिला है। पूर्व की यूपीए सरकार ने केंद्र प्रायोजित स्कीम के तौर पर मल्टी-सेक्टोरल डेवलपमेंट प्रोग्राम (एमएसडीपी) शुरू किया था । इन कार्यक्रमों को सघन अल्पसंख्यक आबादी वाले 710 ब्लॉकों, सघन अल्पसंख्यक आबादी वाले 66 शहरों और गांवों के 13 कलस्टरों को लागू करने का फैसला किया गया था।

एक आधिकारिक सूत्र के मुताबिक एनडीए के शासन में भी अल्पसंख्यकों की सामाजिक-आर्थिक बुनियाद मजबूत करने और उनका जीवस्तर सुधारने की बेसिक सुविधाएं से जुड़ी योजनाएं जारी रहीं। अल्पसंख्यकों की शिक्षा (जैसे- स्कूल बिल्डिंग, पोलिटेकनिक, आईटीआई, हॉस्टल), हेल्थ सेंटर, पेयजल और सड़क परियोजनाओं के लिए वित्तीय संसाधन मुहैया कराने का प्रावधान है। इन परियोजनाओं को उनके लिए आय सृजन का साधन भी माना जाता है। इनसे जुड़ी परियोजनाएं को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से राज्यों से जुड़ी जरूरतों के मुताबिक मंजूर किया जाता है।

(इस संबंध में दिशानिर्देश यहां पढ़ें)

वर्ष 2016-17 के आखिर में खत्म हो रही तीन साल की अविध के दौरान गुजरात सरकार ने एमएसडीपी की तहत एक भी परियोजना शुरू नहीं की। इसलिए इन परियोजनाओं में एक भी पैसा नहीं दिया गया। हालांकि इस संबंध में इस अवधि में अखिल भारतीय रिकार्ड भी कोई बहुत प्रभावी नहीं रहा। इस दौरान इन परियोजनाओं के लिए 1076.22 करोड़ रुपये मंजूर किए गए। लेकिन इनके लिए सिर्फ 859.56 करोड़ ही दिए गए।

(सबरंग से साभार। )

14 COMMENTS

  1. Fantastic beat ! I would like to apprentice even as you amend your site, how could i subscribe for a weblog web site? The account helped me a appropriate deal. I have been tiny bit acquainted of this your broadcast provided shiny clear idea

  2. Thanks for ones marvelous posting! I certainly enjoyed reading it, you’re a great author.I will be sure to bookmark your blog and will come back from now on. I want to encourage yourself to continue your great job, have a nice evening!

  3. Excellent goods from you, man. I have understand your stuff previous to and you are just too excellent. I really like what you have acquired here, really like what you are stating and the way in which you say it. You make it entertaining and you still care for to keep it smart. I can’t wait to read far more from you. This is really a terrific web site.

  4. you’re in reality a excellent webmaster. The site loading speed is amazing. It sort of feels that you are doing any unique trick. In addition, The contents are masterwork. you’ve performed a magnificent process in this matter!

  5. Hi! Someone in my Facebook group shared this website with us so I came to look it over. I’m definitely loving the information. I’m bookmarking and will be tweeting this to my followers! Great blog and outstanding design.

  6. Let me know if you’re looking for a writer for your weblog. You have some really great articles and I feel I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I’d love to write some content for your blog in exchange for a link back to mine. Please shoot me an email if interested. Kudos!

  7. Hey there, I think your website might be having browser compatibility issues. When I look at your blog in Chrome, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping. I just wanted to give you a quick heads up! Other then that, great blog!

  8. That is the best blog for anybody who wants to search out out about this topic. You understand so much its virtually laborious to argue with you (not that I really would want…HaHa). You undoubtedly put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Great stuff, just nice!

  9. This design is steller! You most certainly know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Wonderful job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  10. An fascinating dialogue is value comment. I feel that you need to write extra on this subject, it might not be a taboo subject however generally individuals are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

  11. Very well written post. It will be beneficial to everyone who usess it, including me. Keep up the good work – looking forward to more posts.

  12. I think that is among the such a lot significant info for me. And i am happy studying your article. But should observation on few general issues, The web site taste is perfect, the articles is really great : D. Good job, cheers

LEAVE A REPLY