Home पड़ताल GUJARAT FILES : सच, साहस और थोड़ी-सी विनम्रता का सत्‍ता-विमर्श

GUJARAT FILES : सच, साहस और थोड़ी-सी विनम्रता का सत्‍ता-विमर्श

SHARE

(यह आलेख जनपथ से साभार है। मीडियाविजिल राणा अयूब की पुस्‍तक और उनके इस साहस को सलाम करता है। चूंकि पुस्‍तक आम तौर से दुकानों पर उपलब्‍ध नहीं है और ऑनलाइन वेबसाइटों से भी तेज़ी से खत्‍म हो रही है, इसलिए हमारी कोशिश होगी कि आगामी दिनों में ‘गुजरात फाइल्‍स’ के चुनिंदा अंश हिंदी के आम पाठकों के लिए किस्‍तवार हम यहां प्रकाशित करें। सोमवार 30 मई को इस कड़ी का पहला अंश मीडियाविजिल डॉट कॉम पर आप हिंदी में पढ़ सकते हैं।)   


अभिषेक श्रीवास्‍तव 

 

ra3

अपने मीडिया अंक के लिए अर्नब गोस्‍वामी से एक बार कारवां पत्रिका ने साक्षात्‍कार लेने की कोशिश की थी। उस वक्‍त अर्नब ने जो जवाब दिया था, वह अब तक याद रह गया- जर्नलिस्‍ट्स आर नॉट स्‍टोरीज़ यानी पत्रकार खुद ख़बर नहीं होते। अर्नब गोस्‍वामी की पत्रकारिता पर सवाल बेशक हो सकते हैं, लेकिन ऐसी निस्‍पृहता एक बुनियादी किस्‍म की ईमानदारी की मांग करती है जहां पत्रकार के लिए ख़बर से ज्‍यादा अहम कुछ नहीं है, अपनी जिंदगी भी नहीं। यह बात अलग है कि शनिवार की शाम इंडिया हेबिटैट सेंटर में पत्रकार राणा अयूब की किताब ”गुजरात फाइल्‍स” का लोकार्पण अर्नब समेत किसी भी मीडिया संस्‍थान के लिए ख़बर नहीं बना।

जिनके लिए यह आयोजन मायने रखता था, जो वहां मौजूद थे, उनकी दिलचस्‍पी भी इस किताब या इसकी सामग्री में उतनी नहीं थी जितनी राणा अयूब के ‘रचनाकार’ या रचना प्रक्रिया में थी। यह दौर ही ऐसा है जहां कोई भी साहसिक अथवा असामान्‍य कार्रवाई व्‍यक्ति केंद्रित हो उठती है। नरेंद्र मोदी धारणा के स्‍तर पर अगर देश को दो पालों में बांटते हैं, तो बेशक यही काम अर्नब भी करते हैं और एक दूसरे छोर पर खड़ी राणा अयूब भी यही करती हैं। इस तरह राजनीति के दोनों सिरे बुनियादी रूप से समाज को बांटने का काम करते हैं जहां क्‍या सच है और क्‍या झूठ, उसका ज्‍यादा मतलब नहीं रह जाता। राणा अयूब की किताब के लोकार्पण समारोह ने और कुछ किया हो या नहीं, पहली नज़र में पत्रकारों के शहरी इलीट उदारवादी तबके को बांटने का काम किया है।

 

ra

राणा की कहानी में उन्हें लगातार छापने वाले तरुण तेजपाल और शोमा चौधरी, उन्‍हें छापने से मना करने वाले 12 प्रकाशक, उनका स्टिंग दिखाने से इनकार करने वाला हर मीडिया संस्‍थान, कार्यक्रम में आने का वादा कर के आखिरी वक्‍त पर छुट्टी मनाने का बहाना करने वाली शख्सियतें (और सबा नक़वी के सवाल पर टालमटोल करने वाले राजदीप सरदेसाई भी) ‘एंटेगोनिस्‍ट’ यानी प्रतिनायक बनकर उभरती हैं। वास्‍तव में, जब राणा रोते हुए कहती हैं कि पूरी पत्रकार बिरादरी ने इन वर्षों में उनका साथ नहीं दिया, तो ऐसा कह कर वे न केवल पत्रकारिता को बल्कि उस व्‍यापक लिबरल समाज को पोलराइज़ कर देती हैं जिसकी गुजरात-2002 के बारे में धारणा उनसे अलग नहीं है। जब-जब कोई पत्रकार ख़बर बनता है, तो ऐसा ही होता है।

 

rs1

राजदीप सरदेसाई इसके खतरे समझते हैं, इसीलिए वे नाम लेने में यकीन नहीं रखते। जल्‍दी में मिस्‍टर ना… बोलकर वे ठहर जाते हैं, लेकिन जनता समझ लेती है कि बात 1984 और 2002 के दंगों की जांच के लिए बने आयोगों के इकलौते अध्‍यक्ष जस्टिस नानावती की हो रही है जिन्‍होंने राजदीप से 2002 के बारे में एक बार कहा था कि ”गुजरात के मुसलमान ऐसे ही हैं… ये तो होना ही था” और राजदीप को अफ़सोस रह गया था कि ‘काश, मेरे पास उस वक्‍त एक स्टिंग कैमरा होता’। बिलकुल इसी तर्ज पर वे सबा नक़वी के इस सवाल पर अपना बचाव करते भी नज़र आते हैं कि क्‍या वे अपने संस्‍थान इंडिया टुडे में राणा के किए स्टिंग को चलाएंगे। राजदीप बुद्ध की मुद्रा में आकर कहते हैं, ”सबा, यह सवाल इंडिविजुअल का नहीं है, सिस्‍टम का है।”

saba1‘गुजरात फाइल्‍स’ की भूमिका में राणा अयूब अपने एक पूर्व संपादक का जि़क्र करती हैं जिनकी बात उन्‍हें आज तक याद रह गई है, ”एक अच्‍छे पत्रकार को स्‍टोरी से खुद को निर्लिप्‍त रखने की कला सीखनी चाहिए और व्‍यावहारिक होना चाहिए।” वे कहती हैं कि ‘मुझे अफ़सोस है कि आज तक मैं इस कला को नहीं सीख पाई’ और अगली ही पंक्ति में वे इसका एक राजनीतिक आयाम खोज निकालती हैं कि ‘अकसर इसी बहाने को लेकर कॉरपोरेट और सियासी ताकतों की शह पर किसी खबर को मारने का काम किया जाता है।’ ज़ाहिर है, मामला सीख नहीं पाने का नहीं है बल्कि अपने पूर्व संपादक के कथन से उनका सैद्धांतिक मतभेद है। दरअसल, यह एक ऐसा आत्‍मसंघर्ष है जो बहुत पुराना है। सच कहने के लिए मार दिए गए सुकरात से लेकर शुक्रवार को रिलीज़ हुई फिल्‍म ‘वेटिंग’ तक फैले हज़ारों सोल के मानवीय इतिहास में परिवर्तन के किसी भी ‘एजेंट’ का यह आत्‍मसंघर्ष आप साफ़ देख सकते हैं। यह संकट अकेले पत्रकारिता का नहीं है, यह संकट सच को कहे जाने में अंतर्निहित है। मसलन, अनु मेनन की फिल्‍म ‘वेटिंग’ में एक सीनियर डॉक्‍टर (रजत कपूर) अपने जूनियर को समझाता है कि ”हमारा काम मरीज़ के दुख में सहभागी बनना नहीं है।” फिर वह उसे बताता है कि मरीज़ के परिजनों को सच कैसे बताया जाए- उसमें कितना अभिनय हो और कितना सच।

सच कहने के मामले में हरतोश कहीं ज्‍यादा खरे हैं, जो कहते हैं कि ‘हमें नाम लेने से नहीं कतराना चाहिए’। तरुण तेजपाल और शोमा चौधरी का नाम वे अंत तक आते-आते ले ही लेते हैं, जिससे राणा बच रही थीं। हरतोश सच को संतुलित करने की कोशिश भी करते हैं जब हर बार वे गुजरात के जि़क्र के बीच में दिल्‍ली-1984 को लाने का प्रयास करते हैं। एक मौके पर तो हरतोश के 1984 बोलते ही राजदीप उनकी बात काट देते हैं। सच को कहने के इस संघर्ष में इंदिरा जयसिंह कहीं ज्‍यादा निर्द्वंद्व दिखती हैं क्‍योंकि उनके पास एक (कानूनी) खांचा है जिसकी सीमाओं से वे परिचित हैं। यह कहना इंदिरा जयसिंह के बस की ही बात थी कि ‘यह सरकार न्‍यायपालिका में आरएसएस के जजों को बैठाकर अगले 20 साल के लिए निश्चिंत हो जाना चाहती है ताकि वह आगे सत्‍ता में रहे या न रहे, उसका काम चलता रहे।’

indira1राणा अयूब की ‘गुजरात फाइल्‍स’ दरअसल सच को कहने और बरतने के संघर्ष का एक उदाहरण है। बुनियादी सवाल अब भी बचा रह जाता है कि सच क्‍या है? क्‍या राणा के लिखे को सच मान लिया जाए? इसका जवाब हमें पुस्‍तक का आमुख लिखने वाले जस्टिस श्रीकृष्‍ण के इस वाक्‍य में मिल सकता है, ”हो सकता है कि इस पुस्‍तक में जो कहा गया है उस सारे को आप वैलिडेट करने की स्थिति में न हों, लेकिन आप उस साहस और शिद्दत की सराहना किए बगैर नहीं रह सकते जिसका मुज़ाहिरा इस लेखिका ने उस चीज़ को अनावृत्‍त करने के प्रयास मे किया है जिसे वह खुद सच मानती है। लगातार बढ़ती हुई बेईमानी, छल-कपट और सियासी हथकंडों के दौर में खोजी पत्रकारिता के उनके इस प्रयास को और उनको सलाम, जिसकी ज़रूरत आज पहले से कहीं ज्‍यादा हो चुकी है।”

बीते चौदह साल के दौरान गुजरात में जो कुछ भी घटा है, उसका सच एकतरफा नहीं है। जो कुछ भी सामने आ सका है, वह सच का एक छोटा सा अंश है। इस सिलसिले में राणा अयूब के स्टिंग और उस पर आधारित उनकी स्‍वप्रकाशित यह किताब किसी अंतिम सच के लिए नहीं, बल्कि सच को सामने लाने के अदम्‍य इंसानी साहस और शिद्दत के लिए पढ़ी जानी चाहिए। आज के दौर में ऐसा साहस दुर्लभ है। जीवित प्राणी हमेशा से साहस के कायल रहे हैं। जो सत्‍ता के खिलाफ़ साहस करता है, वही ताकतवर होता है और सत्‍ता के बरक्‍स एक पावर सेंटर रचता है। उसके बाद सारा मामला दो सत्‍ता-केंद्रों के बीच महदूद होता जाता है और सच एक पावर-डिसकोर्स यानी सत्‍ता-विमर्श में तब्‍दील हो जाता है। आज से चौदह साल पहले गुजरात का जो सच सड़कों पर बिखरा पड़ा था, वह न्‍याय की छन्‍नी से होता हुआ दो साल पहले अचानक सत्‍ता-विमर्श में तब्‍दील हो चुका है। ऐसा विमर्श मोदी बनाम कन्‍हैया या अमित शाह बनाम राणा जैसी कोटियां ही पैदा कर सकता है। कह पाना मुश्किल है कि इन दो ध्रुवों के बीच सामान्‍य लोग कहीं आते भी हैं या नहीं। शनिवार की शाम अमलतास हॉल में मौजूद कांग्रेस के संदीप दीक्षित, पृथ्‍वीराज चव्‍हाण, अहमद पटेल, मणिशंकर अय्यर जैसे चेहरे इस सत्‍ता-विमर्श की पुष्टि करते दिखते हैं।

राणा ने कहा था कि कांग्रेस अब उनके कंधे से बंदूक चलाने की फि़राक में है। कौन किसके कंधे से बंदूक चला रहा है, इसका गुजरात में मारे गए और उजाड़े गए लोगों से क्‍या तनिक भी लेना-देना है? जिनके हाथ में बंदूक नहीं है और जिनके आगे कोई कंधा भी नहीं, चाहे वे आम लोग हों या राणा की प्रतिनायक समूची पत्रकार बिरादरी, उनकी क्‍या इस आख्‍यान में कोई प्रासंगिकता है? इन सवालों के बीच अच्‍छी बात बस यह है कि राणा को अपनी ‘प्रिविलेज्‍ड पोज़ीशन’ का ज़रूरी अहसास है। यह उनकी विनम्रता है कि वे देश के कोने-अंतरे में मारे जा रहे और महानगरों में ईएमआइ के बोझ तले घुट रहे पत्रकारों के बारे में कम से कम एक सहृदय वाक्‍य ज़रूर कहती हैं। झूठ के खिलाफ़ जंग में साहस के साथ यह विनम्रता बची रहे, तो बेहतर।

 

30 COMMENTS

  1. Great – I should definitely pronounce, impressed with your site. I had no trouble navigating through all the tabs and related info ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it at all. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, site theme . a tones way for your customer to communicate. Nice task..

  2. Oh my goodness! a tremendous article dude. Thank you Nevertheless I’m experiencing difficulty with ur rss . Don’t know why Unable to subscribe to it. Is there anybody getting identical rss downside? Anyone who knows kindly respond. Thnkx

  3. Have you ever considered publishing an e-book or writing on other blogs? I have a blog based on the same ideas you discuss and would love to have you share some stories/information. I know my subscribers would enjoy your work. If you’re even remotely interested, feel free to shoot me an e-mail.

  4. This internet web page is genuinely a walk-through for all of the information you wanted about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll absolutely discover it.

  5. I am really impressed with your writing skills as well as with the layout on your blog. Is this a paid theme or did you modify it yourself? Anyway keep up the nice quality writing, it’s rare to see a great blog like this one these days..

  6. Someone essentially assist to make seriously posts I would state. This is the very first time I frequented your website page and so far? I surprised with the research you made to create this particular post incredible. Wonderful activity!

  7. Great info and right to the point. I don’t know if this is truly the best place to ask but do you folks have any ideea where to employ some professional writers? Thanks in advance 🙂

  8. Hello just wanted to give you a quick heads up and let you know a few of the images aren’t loading correctly. I’m not sure why but I think its a linking issue. I’ve tried it in two different web browsers and both show the same outcome.

  9. I’m really impressed with your writing skills and also with the layout on your weblog. Is this a paid theme or did you modify it yourself? Either way keep up the nice quality writing, it is rare to see a great blog like this one today..

  10. Whats up very cool site!! Guy .. Beautiful .. Wonderful .. I’ll bookmark your web site and take the feeds also…I am satisfied to find numerous useful info here within the submit, we want develop more techniques in this regard, thank you for sharing. . . . . .

  11. Great beat ! I wish to apprentice while you amend your website, how can i subscribe for a blog website? The account helped me a acceptable deal. I had been tiny bit acquainted of this your broadcast offered bright clear idea

  12. The core of your writing whilst sounding agreeable initially, did not really settle very well with me personally after some time. Someplace within the paragraphs you were able to make me a believer but only for a while. I however have a problem with your jumps in assumptions and you would do nicely to fill in all those breaks. When you can accomplish that, I will surely be fascinated.

  13. My developer is trying to convince me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the expenses. But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on various websites for about a year and am concerned about switching to another platform. I have heard good things about blogengine.net. Is there a way I can import all my wordpress content into it? Any kind of help would be greatly appreciated!

  14. Hi there, just was alert to your weblog via Google, and found that it’s truly informative. I am gonna watch out for brussels. I’ll be grateful when you continue this in future. A lot of other folks can be benefited from your writing. Cheers!

  15. Howdy! I know this is sort of off-topic however I needed to ask. Does managing a well-established blog such as yours take a lot of work? I am brand new to running a blog however I do write in my journal daily. I’d like to start a blog so I can share my personal experience and thoughts online. Please let me know if you have any ideas or tips for brand new aspiring bloggers. Thankyou!

  16. Hello this is a wonderful post. I’m going to email this to my associates. I stumbled on this while exploring on aol I’ll be sure to come back. thanks for sharing.

  17. A powerful share, I simply given this onto a colleague who was doing just a little analysis on this. And he in truth bought me breakfast as a result of I discovered it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the deal with! But yeah Thnkx for spending the time to debate this, I feel strongly about it and love reading extra on this topic. If possible, as you grow to be experience, would you thoughts updating your blog with extra particulars? It is extremely useful for me. Huge thumb up for this blog publish!

  18. It is truly a nice and helpful piece of information. I’m glad that you shared this helpful info with us. Please stay us informed like this. Thank you for sharing.

  19. This design is wicked! You certainly know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Great job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  20. Right now it seems like Movable Type is the top blogging platform out there right now. (from what I’ve read) Is that what you’re using on your blog?

  21. An interesting discussion is worth comment. I believe that you simply need to write additional on this subject, it could not be a taboo topic but normally folks aren’t enough to speak on such topics. Towards the subsequent. Cheers

  22. I and also my pals have been following the best information found on the website and so at once developed a horrible feeling I never thanked the site owner for those tips. Those young boys are actually glad to see all of them and have now sincerely been loving these things. I appreciate you for being indeed accommodating and for opting for some incredible subject areas millions of individuals are really eager to understand about. My very own honest apologies for not expressing appreciation to sooner.

LEAVE A REPLY