Home पड़ताल ‘मुस्लिम कार्ड’ दिखा, और एक भी मुसलमान को टिकट न देने वाली...

‘मुस्लिम कार्ड’ दिखा, और एक भी मुसलमान को टिकट न देने वाली बीजेपी का ‘हिंदू कार्ड ?’

SHARE

                     ख़बरों से ‘ख़बरदार’ रहें!

इस समय यूपी समेत 5 राज्यों में चुनाव हो रहे हैं। सभी दल अपने उमीदवार घोषित कर रहे हैं। ख़बरची एक से एक रपटें दे रहे हैं, लेकिन एक अंतर साफ़ है। लिखा जा रहा है कि “मायावती ने मुस्लिम कार्ड खेला”, “अखिलेश ने भी मुस्लिमों पर दांव लगाया”, “कांग्रेस ने भी मुसलमानों को रिझाया” लेकिन कोई यह नहीं लिखता कि “बीजेपी ने हिन्दू कार्ड खेला !” ना यह हेडिंग कहीं दिखती है कि “बीजेपी ने फिर मुस्लिम विरोधी रवैया दिखाया” और न यह कि “बीजेपी की लिस्ट में एक भी मुस्लिम नहीं

बेजेपी टिकट बांटने में घोर हिंदूवादी रवैया अपनाती है। यूपी में बीजेपी ने 403 में से अपने 304 उमीदवारों की घोषणा कर दी है लेकिन उनमे एक भी मुसलमान नहीं। बाक़ी बची सीटों में भी कोई मुसलमान होगा कहना मुश्किल है। बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में भी लगभग यही रवैया अपनाया था, जबकि मोदी जी ने नारा दिया था: सबका साथ-सबका विकास। आज भी वह मंचों से यह नारा दोहराते हैं, लेकिन वह और उनकी पार्टी इस पर यक़ीन करती है, इसका उदाहरण नहीं मिलता। इसके बावजूद आपने किसी प्रेस कांफ्रेंस में अख़बार या टीवी के किसी पत्रकार को इस सम्बन्ध में सवाल पूछते नहीं देखा होगा। वैसे तो मोदी जी से मीडिया को बात करने का मौका कम ही मिलता है, क्योंकि वह एकतरफ़ा संवाद में ही विश्वास रखते हैं और जब कभी सवाल-जवाब की नौबत आए तो वह सवाल भी खुद तय करते हैं, लेकिन बीजेपी की प्रेस कांफ्रेस में भी ऐसे सवाल पूछने की हिम्मत पत्रकार नहीं दिखाते। इसका हमें कोई मलाल भी नहीं है क्योंकि ज़्यादातर पत्रकारों के दिमाग़ में वही ब्राह्मणवाद और सामंतवाद भरा है। हम यानी मीडियाकर्मी। हमारे बीच दलित वर्ग का प्रतिनिधित्व लगभग न के बराबर हैं। मुसलमान भी ज़्यादा नहीं हैं और जो हैं भी, वे एहतियातन ऐसे सवाल नहीं पूछते, क्योंकि वह जानते हैं कि ऐसे सवाल सामने वाले के बजाय उनको ही परेशानी में डाल सकते हैं।

हाँ, अन्य दलों को लेकर हम काफ़ी निष्पक्ष और आक्रमक दिखना चाहते हैं। यही वजह है कि मायावती ने जब 403 में से 401 उम्मीदवार घोषित करते हुए 100 के करीब मुसलमानों को टिकट दिया, तो हमारे कान एकदम खड़े हो गए और हमने इसे मुस्लिम कार्ड बताया। जबकि यूपी की आबादी में प्रतिनिधित्व और पिछड़ेपन के हिसाब से देखें तो इससे ज्यादा ही मुसलमानों की हिस्सेदारी बनती है।

मुसलमानों के सन्दर्भ में हम लोगों में एक अलग ही ग्रंथि काम करती है, लेकिन जैसा मैंने कहा कि मीडिया में किस तरह ब्राह्मणवाद-जातिवाद हावी है इसका अंदाज़ा आप इस बात से भी लगा सकते हैं कि आपने कभी किसी अख़बार या न्यूज़ चैनल में ये हेडिंग-हेडलाइन या बहस-परिचर्चा नहीं देखी होगी कि “अमुक दल ने अगड़ो पर दांव खेला”। मीडिया में यह सवाल कभी नहीं उठता जबकि आबादी में अगड़ो का प्रतिशत बहुत कम है।

आप हिन्दू-मुस्लिम और अगड़ों-पिछड़ों को लेकर इस अंतर को इस तरह साफ-साफ पहचान सकते हैं की बीएसपी ने 401 सीट में से 113 पर अगड़ी जातियों के लोगों को टिकट दिया है (बीएसपी का उदाहरण इसलिए क्योंकि बीएसपी ही बिना छुपाए अपने उम्मीदवारों की जाति की भी घोषणा करती है), जो करीब 28% होता है, जबकि यूपी की आबादी में अगड़ों की आबादी करीब 18 प्रतिशत है। लेकिन “अगड़ों पर दांव लगाया”, “अगड़ा कार्ड खेला” यह हेडिंग नहीं बनी। मगर 97 मुस्लिमों को टिकट देने पर “मुस्लिम कार्ड” हेडिंग बनती है, जबकि यूपी की आबादी में मुस्लिमों की हिस्सेदारी करीब 20 प्रतिशत है।

इतना ही नहीं मीडिया ने किसी चुनाव में कभी यह सवाल नहीं पूछा कि किस दल ने दलितों को सामान्य सीट से भी टिकट दिया है ? और नहीं दिया है तो क्यों नहीं दिया ? क्या दलित सिर्फ़ अपनी आरक्षित सीट पर चुनाव लड़ेगा, क्या आबादी और पिछड़ेपन के हिसाब से उसका ज़्यादा सीटों पर हक़ नहीं बनता? क्या उसे सामान्य सीट से भी मौका नहीं मिलना चाहिए? महिलाओं के सन्दर्भ में भी लगभग ऐसी ही सोच है। कुल मिलाकर इन उदाहरणों से ही साफ़ हो जाता है कि मीडिया का क्या चरित्र है और वह ख़बरों को किस तरह देखता और पेश करता है इसलिए आज के दौर में हर दर्शक या पाठक को ख़बरों से ख़बरदार रहने और उसे अपने तौर पर जांचने-परखने की ज़रूरत है।

हमारे शब्द हमारा आईना हैं। बहुत छुपाने के बाद भी हमारे शब्द हमारी पोल खोल देते हैं। शब्दों का चयन हमारी सोच, हमारी मानसिकता को सामने रख देता है। इस बात को मीडिया के सन्दर्भ में हमें अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि हमारा तथाकथित मुख्यधारा का मीडिया किस कदर ब्राह्मणवादी, जातिवादी और साथ ही मर्दवादी भी है। दलित, मुसलमान और महिलाओं के सन्दर्भ में हमारे मीडिया का रवैया बेहद संकीर्ण और आपत्तिजनक है। इस पर अगर विस्तार से बात की जाए तो एक किताब भी कम होगी।

 

 

 

 

 

  मुकुल सरल

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं)

26 COMMENTS

  1. It is really a nice and helpful piece of info. I’m glad that you shared this useful info with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  2. I think this is among the most important info for me. And i am glad reading your article. But wanna remark on some general things, The web site style is ideal, the articles is really nice : D. Good job, cheers

  3. In the great scheme of things you’ll receive a B- just for hard work. Where you confused me personally was on the details. As people say, details make or break the argument.. And it couldn’t be more correct here. Having said that, let me tell you what did deliver the results. Your authoring can be really powerful which is probably the reason why I am making an effort to comment. I do not make it a regular habit of doing that. 2nd, even though I can certainly see a leaps in reasoning you make, I am definitely not convinced of exactly how you appear to unite the points which in turn produce the actual conclusion. For the moment I will, no doubt subscribe to your position but wish in the near future you actually connect your dots much better.

  4. An interesting discussion is worth comment. I believe that you must write extra on this matter, it may not be a taboo topic however usually persons are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

  5. Hello! I know this is kinda off topic but I was wondering if you knew where I could locate a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having trouble finding one? Thanks a lot!

  6. Hello, i believe that i saw you visited my web site so i came to “go back the choose”.I’m attempting to to find things to improve my web site!I suppose its ok to use a few of your concepts!!

  7. Do you mind if I quote a couple of your posts as long as I provide credit and sources back to your website? My website is in the very same niche as yours and my users would really benefit from some of the information you provide here. Please let me know if this ok with you. Many thanks!

  8. Thanks for another informative blog. Where else could I am getting that kind of information written in such an ideal means? I’ve a challenge that I am just now running on, and I have been at the look out for such info.

  9. I would like to thnkx for the efforts you’ve put in writing this web site. I’m hoping the same high-grade site post from you in the upcoming also. Actually your creative writing abilities has encouraged me to get my own blog now. Really the blogging is spreading its wings rapidly. Your write up is a good example of it.

  10. Just want to say your article is as astounding. The clarity in your post is simply spectacular and i can assume you’re an expert on this subject. Well with your permission allow me to grab your RSS feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please keep up the rewarding work.

  11. Aw, this was a very nice post. In concept I wish to put in writing like this moreover – taking time and precise effort to make an excellent article… but what can I say… I procrastinate alot and certainly not seem to get something done.

  12. It’s a shame you don’t have a donate button! I’d without a doubt donate to this excellent blog! I guess for now i’ll settle for book-marking and adding your RSS feed to my Google account. I look forward to brand new updates and will talk about this website with my Facebook group. Talk soon!

  13. You actually make it appear so easy together with your presentation but I in finding this matter to be really something that I think I’d by no means understand. It seems too complex and extremely extensive for me. I am looking forward for your subsequent put up, I will attempt to get the grasp of it!

  14. This is the suitable blog for anyone who wants to seek out out about this topic. You understand a lot its virtually hard to argue with you (not that I truly would need…HaHa). You undoubtedly put a brand new spin on a topic thats been written about for years. Nice stuff, simply great!

  15. Thanks for any other informative blog. Where else may just I am getting that type of info written in such an ideal approach? I’ve a venture that I’m just now operating on, and I have been on the glance out for such information.

  16. I’m impressed, I have to admit. Rarely do I encounter a blog that’s both educative and amusing, and without a doubt, you have hit the nail on the head. The problem is an issue that not enough folks are speaking intelligently about. Now i’m very happy that I found this in my hunt for something regarding this.

  17. Great – I should certainly pronounce, impressed with your web site. I had no trouble navigating through all tabs and related info ended up being truly simple to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, web site theme . a tones way for your customer to communicate. Excellent task..

  18. After study some of the weblog posts on your site now, and I really like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark internet site list and might be checking back soon. Pls check out my web site at the same time and let me know what you believe.

  19. Wow! This can be one particular of the most useful blogs We have ever arrive across on this subject. Basically Fantastic. I’m also an expert in this topic so I can understand your effort.

  20. Wonderful blog you have here but I was wanting to know if you knew of any user discussion forums that cover the same topics talked about here? I’d really like to be a part of online community where I can get advice from other experienced people that share the same interest. If you have any recommendations, please let me know. Thanks!

  21. Hello my loved one! I wish to say that this post is awesome, great written and come with almost all important infos. I would like to see extra posts like this .

LEAVE A REPLY