Home पड़ताल “कारवाँ” में छपी सरकारी भूखंड लेने वाले पत्रकारों की सूची पर सवाल...

“कारवाँ” में छपी सरकारी भूखंड लेने वाले पत्रकारों की सूची पर सवाल !

SHARE

मीडिया विजिल ने पिछले दिनों आभार सहित चर्चित पत्रिका ‘कारवाँ’ की उस स्टोरी का अनुवाद छापा था जिसमें दावा किया गया था कि मध्यप्रदेश सरकार ने दो आवासीय समितियों के ज़रिये 300 से ज़्यादा पत्रकारों को बेहद कम दाम पर आवासीय भूखंड उपलब्ध कराये। कारवाँ ने पत्रकारों की सूची भी छापी थी और दावा किया था कि सभी पत्रकारों से उनके संवाददाताओं ने पक्ष जानने की की कोशिश की थी। लेकिन मध्यप्रदेश के कुछ पत्रकारों ने कारवाँ के दावे का खंडन किया है। वरिष्ठ पत्रकार अभिलाष खांडेकर ने मीडिया विजिल को भेजे खंडन में कहा है कि उन्होंने कभी कोई भूखंड नहीं लिया है और न ही वे किसी समिति के सदस्य हैं। यह स्टोरी कारवाँ की है और अगर कोई तथ्यात्मक ग़लती है तो उसे इसका खंडन छापना चाहिए। मीडिया विजिल को उम्मीद है कि कारवाँ किसी न किसी रूप में पत्रकारो ंकी ओर से उठ रही उँगलियों का जवाब देगी। फिलहाल पढ़िये कि मीडिया विजिल को क्या लिखते हैं अभिलाष खांडेकर—

मैं ‘अभिव्यक्ति हाउसिंग कोआपरेटिव सोसायटी’ का सदस्य था जो तब दैनिक चौथा संसार में काम करने वाले एक साथी पत्रकार दिनेश गुप्ता ने बनाई थी। यह 10-12 साल पहले की बात है। उनके दिमाग़ में पत्रकारों का भला करने का विचार था। लेकिन जब सोसायटी का कामकाज उम्मीद के मुताबिक गति नहीं पकड़ सका तो मैंने मीटिंगों में जाना बंद कर दिया जो यूँ भी कभी-कभार ही बुलाई जाती थीं। बाद में मैं इससे पूरी तरह अलग हो गया।

मैंने सोसायटी के सदस्य बतौर कोई भूखंड प्राप्त नहीं किया है। न ही सरकार से ही रियायती दर पर या आउट ऑफ टर्न आधार पर कोई आवासीय भूखंड लिया है। इसकी जाँच किसी भी एजेंसी से कराई जा सकती है। मेरे पास पूरे मध्यप्रदेश में पत्रकारों की किसी भी आवासीय समिति से प्राप्त कोई भूखंड नहीं है।

कारवाँ की ख़बर से मेरी प्रतिष्ठा पर आँच आई है। ख़बर छापने के पहले पत्रिका के किसी रिपोर्टर ने मुझसे कभी संपर्क नहीं किया।

अभिलाष खांडेकर  
उधर, एबीपी के मध्यप्रदेश ब्यूरो प्रमुख ब्रजेश राजपूत ने भी कारवाँ की स्टोरी पर सवाल उठाये हैं। उपकृत होने वाले पत्रकारों की लिस्ट में उनका भी नाम है। ब्रजेश ने फ़ेसबुक पर लिखा है–

Brajesh Rajput कारवाँ की ये कहानी जजों पर सरकार की ओर से की गयी मेहरबानी पर है। पत्रकारों की सोसायटी को बेवजह घसीट लिया गया है। कहानी में जिस वक़ील को हीरो की तरह पेश किया गया है उस पर कोर्ट ग़लत तथ्य पेश करने पर जुर्माना लगा चुका है। तथ्यों को ग़लत पेश करने पर सोसयटी नोटिस दे रही हैं।

Like · Reply · 1 · June 25 at 8:34am

17 COMMENTS

  1. Thank you for the good writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to far added agreeable from you! However, how could we communicate?

  2. Great beat ! I wish to apprentice even as you amend your site, how can i subscribe for a weblog website? The account helped me a acceptable deal. I were tiny bit familiar of this your broadcast offered bright clear idea

  3. I know this if off topic but I’m looking into starting my own blog and was wondering what all is needed to get setup? I’m assuming having a blog like yours would cost a pretty penny? I’m not very internet smart so I’m not 100 positive. Any suggestions or advice would be greatly appreciated. Cheers

  4. I definitely wanted to send a word to say thanks to you for all of the superb guidelines you are giving at this site. My prolonged internet look up has now been compensated with extremely good details to talk about with my great friends. I ‘d state that that we visitors actually are extremely blessed to live in a good website with many perfect professionals with very helpful principles. I feel very privileged to have used the website page and look forward to many more exciting moments reading here. Thank you once more for everything.

  5. Heya i’m for the primary time here. I found this board and I in finding It truly helpful & it helped me out much. I’m hoping to give one thing back and help others like you aided me.

  6. Good web site! I truly love how it is easy on my eyes and the data are well written. I am wondering how I might be notified whenever a new post has been made. I’ve subscribed to your RSS feed which must do the trick! Have a great day!

  7. The other day, while I was at work, my sister stole my apple ipad and tested to see if it can survive a forty foot drop, just so she can be a youtube sensation. My iPad is now broken and she has 83 views. I know this is entirely off topic but I had to share it with someone!

  8. After I initially commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now each time a remark is added I get four emails with the same comment. Is there any approach you’ll be able to remove me from that service? Thanks!

  9. “Hey there! Would you mind if I share your blog with my facebook group? There’s a lot of folks that I think would really appreciate your content. Please let me know. Cheers”

LEAVE A REPLY